आपने जीवन में बहुत देर से क्या सीखा? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैंने जीवन में एक तू ही सीख सीखिए हमेशा मां-बाप चोदते हैं और वह हमेशा अपने बच्चों की खुशी के लिए सब काम करते हैं क्या था कि जब मैं छोटा मेरी मम्मी पापा ने मुझे दूसरे बड़े इसकी कहा लेकिन मैं नहीं गया तू बॉडी स्कूल जापान मुझे वहां अकेले रहना परदेसी सोचकर मैं नहीं गया मैं क्योंकि मेरे दोस्त नहीं देते दोस्त नहीं जा रहे थे तो चल ठीक है बात ही कि बाद में ठीक लेकिन इसके बाद मुझे पता चला कि गांव की खराब है और मुझे यह ध्यान बढ़ना है तो मुझे कहीं बाहर पढ़ना ही पड़ेगा लेकिन यह बात तो जब मैं छोटा था तो मुझे समझ में नहीं आई और अब जब यहां पर हूं अब मुझे समझ में आ जाए कि मैंने कितनी बड़ी गलती कर दी थी क्योंकि जो मेरे कुछ साथी वहां पर यार जो यानी कि जिन्हें मैं जानता हूं तू वह बहुत ही ऊंचे पद पर हैं बहुत बढ़िया भी पद पर नहीं कह सकते तो मुझे उन्हें देखकर ऐसा लग मैंने कुछ गलती कर दी थी तो आप ही मुझे पछतावा होता है और मैं नहीं रखी मां-बाप हमेशा ही सही अच्छे चाहते हैं हमारे भलाई चाहते हैं जीवन में किसी भी परिस्थिति में हमेशा वह अपने को दे सकते हैं लेकिन अपने बच्चों को नहीं दे सकती मैं हमेशा सोचता हूं कि काश यह बात में पहले समझ जाओ
Romanized Version
मैंने जीवन में एक तू ही सीख सीखिए हमेशा मां-बाप चोदते हैं और वह हमेशा अपने बच्चों की खुशी के लिए सब काम करते हैं क्या था कि जब मैं छोटा मेरी मम्मी पापा ने मुझे दूसरे बड़े इसकी कहा लेकिन मैं नहीं गया तू बॉडी स्कूल जापान मुझे वहां अकेले रहना परदेसी सोचकर मैं नहीं गया मैं क्योंकि मेरे दोस्त नहीं देते दोस्त नहीं जा रहे थे तो चल ठीक है बात ही कि बाद में ठीक लेकिन इसके बाद मुझे पता चला कि गांव की खराब है और मुझे यह ध्यान बढ़ना है तो मुझे कहीं बाहर पढ़ना ही पड़ेगा लेकिन यह बात तो जब मैं छोटा था तो मुझे समझ में नहीं आई और अब जब यहां पर हूं अब मुझे समझ में आ जाए कि मैंने कितनी बड़ी गलती कर दी थी क्योंकि जो मेरे कुछ साथी वहां पर यार जो यानी कि जिन्हें मैं जानता हूं तू वह बहुत ही ऊंचे पद पर हैं बहुत बढ़िया भी पद पर नहीं कह सकते तो मुझे उन्हें देखकर ऐसा लग मैंने कुछ गलती कर दी थी तो आप ही मुझे पछतावा होता है और मैं नहीं रखी मां-बाप हमेशा ही सही अच्छे चाहते हैं हमारे भलाई चाहते हैं जीवन में किसी भी परिस्थिति में हमेशा वह अपने को दे सकते हैं लेकिन अपने बच्चों को नहीं दे सकती मैं हमेशा सोचता हूं कि काश यह बात में पहले समझ जाओMaine Jeevan Mein Ek Tu Hi Seekh Sikhiye Hamesha Maa Baap Chhodate Hain Aur Wah Hamesha Apne Bacchon Ki Khushi Ke Liye Sab Kaam Karte Hain Kya Tha Ki Jab Main Chota Meri Mummy Papa Ne Mujhe Dusre Bade Iski Kaha Lekin Main Nahi Gaya Tu Body School Japan Mujhe Wahan Akele Rehna Pardesi Sochkar Main Nahi Gaya Main Kyonki Mere Dost Nahi Dete Dost Nahi Ja Rahe The To Chal Theek Hai Baat Hi Ki Baad Mein Theek Lekin Iske Baad Mujhe Pata Chala Ki Gav Ki Kharab Hai Aur Mujhe Yeh Dhyan Badhana Hai To Mujhe Kahin Bahar Padhna Hi Padega Lekin Yeh Baat To Jab Main Chota Tha To Mujhe Samajh Mein Nahi Eye Aur Ab Jab Yahan Par Hoon Ab Mujhe Samajh Mein Aa Jaye Ki Maine Kitni Badi Galti Kar Di Thi Kyonki Jo Mere Kuch Sathi Wahan Par Yaar Jo Yani Ki Jinhen Main Jaanta Hoon Tu Wah Bahut Hi Unche Pad Par Hain Bahut Badhiya Bhi Pad Par Nahi Keh Sakte To Mujhe Unhen Dekhkar Aisa Lag Maine Kuch Galti Kar Di Thi To Aap Hi Mujhe Pachtava Hota Hai Aur Main Nahi Rakhi Maa Baap Hamesha Hi Sahi Acche Chahte Hain Hamare Bhalai Chahte Hain Jeevan Mein Kisi Bhi Paristhiti Mein Hamesha Wah Apne Ko De Sakte Hain Lekin Apne Bacchon Ko Nahi De Sakti Main Hamesha Sochta Hoon Ki Kash Yeh Baat Mein Pehle Samajh Jao
Likes  5  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

ques_icon

ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैंने अपने जीवन में बहुत देर से एक बहुत अच्छी चीज सीखी मुझे शायद बहुत पहले सीख लेनी चाहिए थी और अगर मैं बहुत पहले सीख लेती तो शायद मेरी जिंदगी कुछ और होती जो मैंने अब सीखा वह मुझे बहुत पहले सीख लेना चाहिए था क्योंकि वह एक बहुत जरूरी है और अच्छी चीज है जो हमारे जीवन की दिशा और दशा दोनों को सही कर देती है मैंने माफ करना लोगों को अब सीखा मैं पहले ऐसी नहीं थी मुझे लगता था कि अगर किसी ने गलती की है तो उसे माफ क्यों किया जाए मुझे कोई चीज गलत लगती थी तो मैं सामने वाले को कभी भी माफ नहीं करती थी और हमेशा अपने मन में उसके लिए मेरे मन में दूरी आ जाती थी और मैं हमेशा उसको ऐसी नजर से देखती थी कि इसने यह गलती करी है मैं कभी भी उसे माफ नहीं कर पाती थी लेकिन अब ऐसा नहीं है पिछले 10 सालों से मैंने अपने आप को बहुत पतला है और मैंने हर इंसान को माफ करने की कोशिश की है चाहे उसने कितनी भी बड़ी गलती करी हो चाहे उसे बहुत छोटी सी गलती करी हो जिंदगी के इस मुकाम पर पहुंच कर मुझे समझ में आया कि सामने वाला कोई गलती करता है तो वह उसकी परिस्थितियां होती है कुछ परिस्थितियां ही ऐसी बन जाती है कि वह ऐसी ही निर्णय लेने पर मजबूर हो जाता है जो हमें गलत लगते हैं लेकिन उसके हिसाब से वह मैंने वह कहना वह करना सब कुछ सही होता है लेकिन हमें वह गलत लगता है तो यह हमारी प्रॉब्लम है इसकी हमें उसकी परिस्थितियों को उसकी सोच को समझना चाहिए और उसे माफ कर देना चाहिए क्योंकि माफ़ करके हम अपने आप को बहुत हल्का महसूस करते हैं जबकि जब हम किसी को माफ नहीं करते हैं तो हमेशा उस व्यक्ति को देखकर हम कृषि होते रहते हैं और अपने आप को भी ज्यादा उसका पनिशमेंट देते हैं इसलिए यह एक अच्छी चीज़ मैंने अपनी
Romanized Version
मैंने अपने जीवन में बहुत देर से एक बहुत अच्छी चीज सीखी मुझे शायद बहुत पहले सीख लेनी चाहिए थी और अगर मैं बहुत पहले सीख लेती तो शायद मेरी जिंदगी कुछ और होती जो मैंने अब सीखा वह मुझे बहुत पहले सीख लेना चाहिए था क्योंकि वह एक बहुत जरूरी है और अच्छी चीज है जो हमारे जीवन की दिशा और दशा दोनों को सही कर देती है मैंने माफ करना लोगों को अब सीखा मैं पहले ऐसी नहीं थी मुझे लगता था कि अगर किसी ने गलती की है तो उसे माफ क्यों किया जाए मुझे कोई चीज गलत लगती थी तो मैं सामने वाले को कभी भी माफ नहीं करती थी और हमेशा अपने मन में उसके लिए मेरे मन में दूरी आ जाती थी और मैं हमेशा उसको ऐसी नजर से देखती थी कि इसने यह गलती करी है मैं कभी भी उसे माफ नहीं कर पाती थी लेकिन अब ऐसा नहीं है पिछले 10 सालों से मैंने अपने आप को बहुत पतला है और मैंने हर इंसान को माफ करने की कोशिश की है चाहे उसने कितनी भी बड़ी गलती करी हो चाहे उसे बहुत छोटी सी गलती करी हो जिंदगी के इस मुकाम पर पहुंच कर मुझे समझ में आया कि सामने वाला कोई गलती करता है तो वह उसकी परिस्थितियां होती है कुछ परिस्थितियां ही ऐसी बन जाती है कि वह ऐसी ही निर्णय लेने पर मजबूर हो जाता है जो हमें गलत लगते हैं लेकिन उसके हिसाब से वह मैंने वह कहना वह करना सब कुछ सही होता है लेकिन हमें वह गलत लगता है तो यह हमारी प्रॉब्लम है इसकी हमें उसकी परिस्थितियों को उसकी सोच को समझना चाहिए और उसे माफ कर देना चाहिए क्योंकि माफ़ करके हम अपने आप को बहुत हल्का महसूस करते हैं जबकि जब हम किसी को माफ नहीं करते हैं तो हमेशा उस व्यक्ति को देखकर हम कृषि होते रहते हैं और अपने आप को भी ज्यादा उसका पनिशमेंट देते हैं इसलिए यह एक अच्छी चीज़ मैंने अपनीMaine Apne Jeevan Mein Bahut Der Se Ek Bahut Acchi Cheez Sikhi Mujhe Shayad Bahut Pehle Seekh Leni Chahiye Thi Aur Agar Main Bahut Pehle Seekh Leti To Shayad Meri Zindagi Kuch Aur Hoti Jo Maine Ab Seekha Wah Mujhe Bahut Pehle Seekh Lena Chahiye Tha Kyonki Wah Ek Bahut Zaroori Hai Aur Acchi Cheez Hai Jo Hamare Jeevan Ki Disha Aur Dasha Dono Ko Sahi Kar Deti Hai Maine Maaf Karna Logon Ko Ab Seekha Main Pehle Aisi Nahi Thi Mujhe Lagta Tha Ki Agar Kisi Ne Galti Ki Hai To Use Maaf Kyun Kiya Jaye Mujhe Koi Cheez Galat Lagti Thi To Main Samane Wale Ko Kabhi Bhi Maaf Nahi Karti Thi Aur Hamesha Apne Man Mein Uske Liye Mere Man Mein Doori Aa Jati Thi Aur Main Hamesha Usko Aisi Nazar Se Dekhti Thi Ki Isane Yeh Galti Kari Hai Main Kabhi Bhi Use Maaf Nahi Kar Pati Thi Lekin Ab Aisa Nahi Hai Pichle 10 Salon Se Maine Apne Aap Ko Bahut Patla Hai Aur Maine Har Insaan Ko Maaf Karne Ki Koshish Ki Hai Chahe Usne Kitni Bhi Badi Galti Kari Ho Chahe Use Bahut Choti Si Galti Kari Ho Zindagi Ke Is Mukam Par Pahunch Kar Mujhe Samajh Mein Aaya Ki Samane Wala Koi Galti Karta Hai To Wah Uski Paristhiyaan Hoti Hai Kuch Paristhiyaan Hi Aisi Ban Jati Hai Ki Wah Aisi Hi Nirnay Lene Par Majboor Ho Jata Hai Jo Hume Galat Lagte Hain Lekin Uske Hisab Se Wah Maine Wah Kehna Wah Karna Sab Kuch Sahi Hota Hai Lekin Hume Wah Galat Lagta Hai To Yeh Hamari Problem Hai Iski Hume Uski Paristhitiyon Ko Uski Soch Ko Samajhna Chahiye Aur Use Maaf Kar Dena Chahiye Kyonki Maaf Karke Hum Apne Aap Ko Bahut Halka Mahsus Karte Hain Jabki Jab Hum Kisi Ko Maaf Nahi Karte Hain To Hamesha Us Vyakti Ko Dekhkar Hum Krishi Hote Rehte Hain Aur Apne Aap Ko Bhi Jyada Uska Punishment Dete Hain Isliye Yeh Ek Acchi Cheese Maine Apni
Likes  5  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैंने यह चीज अपने जीवन में बहुत देर से समझी कि जो होना है वह होगा हम उसे रोक नहीं सकते हम उसके लिए कुछ कर नहीं सकते कुछ कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो आपको सिर्फ एक्सेप्ट करनी पड़ती है चाहे आपको पसंद हो या ना हो कुछ कुछ चीजें ऐसी भी होती हैं जो आप चेंज कर भी सकते हैं लेकिन नहीं कर पाते हैं किसी ना किसी रीजन की वजह से और वह भी आपको एक्सेप्ट करनी पड़ती है तो मैंने यह चीज मुझे लगता है बहुत देर से सीखी कि आप हर चीज कंट्रोल नहीं कर सकते हैं इंसाफ ज्यादातर चीजे कंट्रोल नहीं कर सकते हैं दुनिया जैसी चलती है वैसे ही चलेगी लोग जैसे चलते हैं वैसे ही चलेंगे आप सिर्फ अपना एटीट्यूड कंट्रोल कर सकते हैं उन सिचुएशन उन लोगों के बारे में तो एक चीज है जो मैंने काफी देर से सीखी
Romanized Version
मैंने यह चीज अपने जीवन में बहुत देर से समझी कि जो होना है वह होगा हम उसे रोक नहीं सकते हम उसके लिए कुछ कर नहीं सकते कुछ कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो आपको सिर्फ एक्सेप्ट करनी पड़ती है चाहे आपको पसंद हो या ना हो कुछ कुछ चीजें ऐसी भी होती हैं जो आप चेंज कर भी सकते हैं लेकिन नहीं कर पाते हैं किसी ना किसी रीजन की वजह से और वह भी आपको एक्सेप्ट करनी पड़ती है तो मैंने यह चीज मुझे लगता है बहुत देर से सीखी कि आप हर चीज कंट्रोल नहीं कर सकते हैं इंसाफ ज्यादातर चीजे कंट्रोल नहीं कर सकते हैं दुनिया जैसी चलती है वैसे ही चलेगी लोग जैसे चलते हैं वैसे ही चलेंगे आप सिर्फ अपना एटीट्यूड कंट्रोल कर सकते हैं उन सिचुएशन उन लोगों के बारे में तो एक चीज है जो मैंने काफी देर से सीखीMaine Yeh Cheez Apne Jeevan Mein Bahut Der Se Samjhi Ki Jo Hona Hai Wah Hoga Hum Use Rok Nahi Sakte Hum Uske Liye Kuch Kar Nahi Sakte Kuch Kuch Cheezen Aisi Hoti Hain Jo Aapko Sirf Except Karni Padhti Hai Chahe Aapko Pasand Ho Ya Na Ho Kuch Kuch Cheezen Aisi Bhi Hoti Hain Jo Aap Change Kar Bhi Sakte Hain Lekin Nahi Kar Paate Hain Kisi Na Kisi Reason Ki Wajah Se Aur Wah Bhi Aapko Except Karni Padhti Hai To Maine Yeh Cheez Mujhe Lagta Hai Bahut Der Se Sikhi Ki Aap Har Cheez Control Nahi Kar Sakte Hain Insaaf Jyadatar Cheeje Control Nahi Kar Sakte Hain Duniya Jaisi Chalti Hai Waise Hi Chalegi Log Jaise Chalte Hain Waise Hi Chalenge Aap Sirf Apna Attitude Control Kar Sakte Hain Un Situation Un Logon Ke Baare Mein To Ek Cheez Hai Jo Maine Kafi Der Se Sikhi
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मेरे जीवन में सबसे ज्यादा देर से यह सीखा कि तू आपको लोगों को मत दिखाओ क्योंकि अगर आपने किसी भी पॉइंट पर लोगों को यह दिखा दिया कि आपको क्या तुम उसका फायदा उठाएंगे आजकल हम उस पीढ़ी में जी रहे हैं जहां पर आपका दोस्त भी आपसे आपका दूसरों रहना चाहते पर वह आपसे आगे भी बनना चाहता है चाहे उसके लिए उसको वह आपको क्यों न पीछे धकेल दे अगर आप उसको अपनी कमजोरी को अपनी फ्रेंड सब कुछ बता दोगे तो उसका वह गलत फायदा किसी भी फोन टॉक टाइम तो उठा सकता है और यह भी नहीं तोड़ना दिन छोटी-छोटी लड़कियों पर आजकल के रिश्ते नाते किसी में सब्र नहीं है किसी के अंदर पेशंस नहीं किसी से बात करने का किसी के पास टाइम नहीं है शॉट आउट करना नहीं है गलती हुई ने आपको रिलेशनशिप खत्म आपकी दोस्ती खत्म आपका जो भी बंद था तब वह खत्म हो तो आपकी दो चीजें बताओ उनको गलत टेंशन ना लो प्लेट कर सकते हैं तो इतना मुझे लगता क्यों सावधान हो ना दिमाग से हर चीज को सोचना हर चीज को दिल से नहीं सोचना क्योंकि अब यह भी नहीं जिसके साथ आप दिल से अच्छे बुध स्तोत्र 30 को प्रदर्शित होता तो आप क्यों हर बार दिल से सोच रहे हैं तो मैं आप ही का नुकसान होगा
Romanized Version
देखिए मेरे जीवन में सबसे ज्यादा देर से यह सीखा कि तू आपको लोगों को मत दिखाओ क्योंकि अगर आपने किसी भी पॉइंट पर लोगों को यह दिखा दिया कि आपको क्या तुम उसका फायदा उठाएंगे आजकल हम उस पीढ़ी में जी रहे हैं जहां पर आपका दोस्त भी आपसे आपका दूसरों रहना चाहते पर वह आपसे आगे भी बनना चाहता है चाहे उसके लिए उसको वह आपको क्यों न पीछे धकेल दे अगर आप उसको अपनी कमजोरी को अपनी फ्रेंड सब कुछ बता दोगे तो उसका वह गलत फायदा किसी भी फोन टॉक टाइम तो उठा सकता है और यह भी नहीं तोड़ना दिन छोटी-छोटी लड़कियों पर आजकल के रिश्ते नाते किसी में सब्र नहीं है किसी के अंदर पेशंस नहीं किसी से बात करने का किसी के पास टाइम नहीं है शॉट आउट करना नहीं है गलती हुई ने आपको रिलेशनशिप खत्म आपकी दोस्ती खत्म आपका जो भी बंद था तब वह खत्म हो तो आपकी दो चीजें बताओ उनको गलत टेंशन ना लो प्लेट कर सकते हैं तो इतना मुझे लगता क्यों सावधान हो ना दिमाग से हर चीज को सोचना हर चीज को दिल से नहीं सोचना क्योंकि अब यह भी नहीं जिसके साथ आप दिल से अच्छे बुध स्तोत्र 30 को प्रदर्शित होता तो आप क्यों हर बार दिल से सोच रहे हैं तो मैं आप ही का नुकसान होगाDekhie Mere Jeevan Mein Sabse Jyada Der Se Yeh Seekha Ki Tu Aapko Logon Ko Mat Dikhaao Kyonki Agar Aapne Kisi Bhi Point Par Logon Ko Yeh Dikha Diya Ki Aapko Kya Tum Uska Fayda Uthayenge Aajkal Hum Us Pidhi Mein Ji Rahe Hain Jahan Par Aapka Dost Bhi Aapse Aapka Dusron Rehna Chahte Par Wah Aapse Aage Bhi Banana Chahta Hai Chahe Uske Liye Usko Wah Aapko Kyun N Piche Dhakal De Agar Aap Usko Apni Kamjori Ko Apni Friend Sab Kuch Bata Doge To Uska Wah Galat Fayda Kisi Bhi Phone Talk Time To Utha Sakta Hai Aur Yeh Bhi Nahi Todana Din Choti Choti Ladkiyon Par Aajkal Ke Rishte Naate Kisi Mein Subra Nahi Hai Kisi Ke Andar Peshans Nahi Kisi Se Baat Karne Ka Kisi Ke Paas Time Nahi Hai Shot Out Karna Nahi Hai Galti Hui Ne Aapko Relationship Khatam Aapki Dosti Khatam Aapka Jo Bhi Band Tha Tab Wah Khatam Ho To Aapki Do Cheezen Batao Unko Galat Tension Na Lo Plate Kar Sakte Hain To Itna Mujhe Lagta Kyun Savdhan Ho Na Dimag Se Har Cheez Ko Sochna Har Cheez Ko Dil Se Nahi Sochna Kyonki Ab Yeh Bhi Nahi Jiske Saath Aap Dil Se Acche Buddha Stotra 30 Ko Pradarshit Hota To Aap Kyun Har Baar Dil Se Soch Rahe Hain To Main Aap Hi Ka Nuksan Hoga
Likes  2  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरविंद जी मैं कहूंगी कि जिंदगी में मैंने बहुत देर से जो सीखा वह लोगों को पहचानना और याद में आज भी नहीं पहचान पाती मैं कैसे इंसान हूं जो हर किसी पर ट्रस्ट कर लेती है सोचती है कि सब अच्छे होंगे अच्छा करोगे तो सबके साथ अच्छा ही होगा तुम्हारे साथ भी और मैं मेरा नाम संजय लोगों की हेल्प कर दिया करती मुझे जरूरत पड़ी तो बोलो सामने नहीं आए तब मुझे समझ में आया कि यह लोग कैसे हैं दिखने में कुछ और और रियलिटी में कुछ और और मुझे देखने में तो बोलोगे उतने इनोसेंट हो इतने अच्छे लगते थे कि भाई हमसे कोई हो ही नहीं सकता पर उनकी हरकतें देखिए और कई लोगों के साथ जब मतलब यह चीज मैंने देखी कि लोग कैसे होते हैं तब वह को पहचानना शुरू किया धीरे-धीरे सब पर मतलब समझ कर और नाप तोल के ट्रेस करना शुरू किया तब जाकर थोड़ा बहुत समझदार हो गई हो इस मामले में बल्कि आज तक भी पूरा नहीं कर पाएंगे बट फिर भी थोड़ा-बहुत है जो ठीक-ठाक अब चल रहा है तुम लोगों को पहचाना मैंने बहुत लेट देखा
Romanized Version
अरविंद जी मैं कहूंगी कि जिंदगी में मैंने बहुत देर से जो सीखा वह लोगों को पहचानना और याद में आज भी नहीं पहचान पाती मैं कैसे इंसान हूं जो हर किसी पर ट्रस्ट कर लेती है सोचती है कि सब अच्छे होंगे अच्छा करोगे तो सबके साथ अच्छा ही होगा तुम्हारे साथ भी और मैं मेरा नाम संजय लोगों की हेल्प कर दिया करती मुझे जरूरत पड़ी तो बोलो सामने नहीं आए तब मुझे समझ में आया कि यह लोग कैसे हैं दिखने में कुछ और और रियलिटी में कुछ और और मुझे देखने में तो बोलोगे उतने इनोसेंट हो इतने अच्छे लगते थे कि भाई हमसे कोई हो ही नहीं सकता पर उनकी हरकतें देखिए और कई लोगों के साथ जब मतलब यह चीज मैंने देखी कि लोग कैसे होते हैं तब वह को पहचानना शुरू किया धीरे-धीरे सब पर मतलब समझ कर और नाप तोल के ट्रेस करना शुरू किया तब जाकर थोड़ा बहुत समझदार हो गई हो इस मामले में बल्कि आज तक भी पूरा नहीं कर पाएंगे बट फिर भी थोड़ा-बहुत है जो ठीक-ठाक अब चल रहा है तुम लोगों को पहचाना मैंने बहुत लेट देखाArvind Ji Main Kahungi Ki Zindagi Mein Maine Bahut Der Se Jo Seekha Wah Logon Ko Pahachanana Aur Yaad Mein Aaj Bhi Nahi Pehchaan Pati Main Kaise Insaan Hoon Jo Har Kisi Par Trust Kar Leti Hai Sochti Hai Ki Sab Acche Honge Accha Karoge To Sabke Saath Accha Hi Hoga Tumhare Saath Bhi Aur Main Mera Naam Sanjay Logon Ki Help Kar Diya Karti Mujhe Zaroorat Padi To Bolo Samane Nahi Aaye Tab Mujhe Samajh Mein Aaya Ki Yeh Log Kaise Hain Dikhne Mein Kuch Aur Aur Reality Mein Kuch Aur Aur Mujhe Dekhne Mein To Bologe Utne Innocent Ho Itne Acche Lagte The Ki Bhai Humse Koi Ho Hi Nahi Sakta Par Unki Harkatein Dekhie Aur Kai Logon Ke Saath Jab Matlab Yeh Cheez Maine Dekhi Ki Log Kaise Hote Hain Tab Wah Ko Pahachanana Shuru Kiya Dhire Dhire Sab Par Matlab Samajh Kar Aur Naap Tol Ke Trays Karna Shuru Kiya Tab Jaakar Thoda Bahut Samajhdar Ho Gayi Ho Is Mamle Mein Balki Aaj Tak Bhi Pura Nahi Kar Paenge But Phir Bhi Thoda Bahut Hai Jo Theek Thak Ab Chal Raha Hai Tum Logon Ko Pehchana Maine Bahut Let Dekha
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Aapne Jeevan Mein Bahut Der Se Kya Seekha,What Have You Learned In Life So Long?,


vokalandroid