जैविक आपदा से बचाव होने के उपाय बताइए ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैविक आपदा जो है यानी कि इनको नेचुरल डिजास्टर बोला जाता है तो यह कभी भी कहीं भी आ सकता है और इसके कुछ प्रकार होते हैं जैसे कि भूकंप चक्रवात और भूकंप लेट जो कभी-कभी भूकंप जाता बहुत जोरों से आता है एक स...जवाब पढ़िये
जैविक आपदा जो है यानी कि इनको नेचुरल डिजास्टर बोला जाता है तो यह कभी भी कहीं भी आ सकता है और इसके कुछ प्रकार होते हैं जैसे कि भूकंप चक्रवात और भूकंप लेट जो कभी-कभी भूकंप जाता बहुत जोरों से आता है एक सुनामी आपदा होता है बादल फटना होता है तो इनके जू प्रबंधन है देखिए विभिन्न प्रकार के प्रबंधन की दो प्रकार के बंधन होते हैं जो महत्वपूर्ण होता है बहुत ज्यादा जरूरी होता है मैं जानने के लिए तो जो जैसे की जमा लिया डिजास्टर आने वाला है जो भी आपदा आने वाली है उसके लिए हमें पहले से कैसे तैयार होना चाहिए और उसके बाद क्या उसके लिए हमने तैयारी कर रखी है उसके आने के बाद वह दो प्रबंधन होते तो आपदा प्रबंधन को जोखिम प्रबंधन प्रबंधन के नाम से भी जाना जाता है आपदा के जोखिम भयंकर था वह संवेदनशीलता के संगम से पैदा होते हैं जो मौसमी विविधता व समय के साथ बदलता रहता है जोखिम बंधन के तीन अंग है जो कि इनकी पहचान जोखिम में कमी व जोखिम का स्थानांतरण किसी भी आपदा के जोखिम को प्रबंधित करने के लिए एक प्रभाव कारी रणनीति की शुरुआत जोखिम की पहचान से ही होती है तो इसमें प्रकृतिक ज्ञान और बहुत सीमा तक उसमें जोखिम के बारे में सूचना शामिल होती है इसमें विशेष स्थान के प्राकृतिक वातावरण के बारे में जानकारी के अलावा वहां आ सकने कपूर निर्धारण शामिल है इस प्रकार एक उचित निर्णय लिया जा सकता है कि कहां वह कितना निवेश करना है एक ऐसी परियोजना को डिजाइन करने में मदद मिल सकती है जो आपदाओं के गंभीर प्रभाव के सामने स्थिर रह सके अतः जोखिम प्रबंधन में इससे जुड़े पेशेवरों का कार्य जोखिम क्षेत्रों का पूर्वानुमान उसके खतरे के निर्धारण का प्रयास करना तथा उनके अनुसार सावधानी बरतना होता हैJaivik Aapada Jo Hai Yani Ki Inko Natural Disaster Bola Jata Hai To Yeh Kabhi Bhi Kahin Bhi Aa Sakta Hai Aur Iske Kuch Prakar Hote Hain Jaise Ki Bhukamp Chakrawat Aur Bhukamp Let Jo Kabhi Kabhi Bhukamp Jata Bahut Joroon Se Aata Hai Ek Tsunami Aapada Hota Hai Badal Phatana Hota Hai To Inke Zoo Prabandhan Hai Dekhie Vibhinn Prakar Ke Prabandhan Ki Do Prakar Ke Badhan Hote Hain Jo Mahatvapurna Hota Hai Bahut Zyada Zaroori Hota Hai Main Jaanne Ke Liye To Jo Jaise Ki Jama Liya Disaster Aane Vala Hai Jo Bhi Aapada Aane Wali Hai Uske Liye Hume Pehle Se Kaise Taiyaar Hona Chahiye Aur Uske Baad Kya Uske Liye Humne Taiyari Kar Rakhi Hai Uske Aane Ke Baad Wah Do Prabandhan Hote To Aapada Prabandhan Ko Jokhim Prabandhan Prabandhan Ke Naam Se Bhi Jana Jata Hai Aapada Ke Jokhim Bhayankar Tha Wah Samvedansheelata Ke Sangam Se Paida Hote Hain Jo Mausamee Vividhata V Samay Ke Saath Badalta Rehta Hai Jokhim Badhan Ke Teen Ang Hai Jo Ki Inki Pehchaan Jokhim Mein Kami V Jokhim Ka Sthanantaran Kisi Bhi Aapada Ke Jokhim Ko Prabandhit Karne Ke Liye Ek Prabhav Kaari Rananiti Ki Shuruvat Jokhim Ki Pehchaan Se Hi Hoti Hai To Isme Prakritik Gyaan Aur Bahut Seema Tak Usamen Jokhim Ke Bare Mein Soochna Shaamil Hoti Hai Isme Vishesh Sthan Ke Prakritik Vatavaran Ke Bare Mein Jankari Ke Alava Wahan Aa Sakane Kapur Nirdharan Shaamil Hai Is Prakar Ek Uchit Nirnay Liya Ja Sakta Hai Ki Kahaan Wah Kitna Nivesh Karna Hai Ek Aisi Pariyojana Ko Design Karne Mein Madad Mil Sakti Hai Jo Apadao Ke Gambhir Prabhav Ke Samane Sthir Rah Sake Atah Jokhim Prabandhan Mein Isse Jude Peshevaron Ka Karya Jokhim Kshetro Ka Parvaanuman Uske Khatre Ke Nirdharan Ka Prayas Karna Tatha Unke Anusar Savadhani Baratana Hota Hai
Likes  9  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Jaivik Aapada Se Bachav Hone Ke Upay Bataiye ?

vokalandroid