जातिवाद को खत्म करने के लिए क्या किया जाए जिस तरह लोगों की सोच में बदलाव हो जाति प्रथा खत्म हो जाते बिरादरी के भेदभाव खत्म हो सकें? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन मित्र आप का कहना है कि यह जो जातिवाद खत्म करना चाहते हैं आप यह तो जल्दी खत्म नहीं होने वाला क्योंकि यह लोगों के धर्म संस्कृति मानसिकता सब कुछ यही होती है कि सब से पैदा होते मुसलमान मुसलमान धर्म ...जवाब पढ़िये
लेकिन मित्र आप का कहना है कि यह जो जातिवाद खत्म करना चाहते हैं आप यह तो जल्दी खत्म नहीं होने वाला क्योंकि यह लोगों के धर्म संस्कृति मानसिकता सब कुछ यही होती है कि सब से पैदा होते मुसलमान मुसलमान धर्म की सबसे बड़ा उनकी मानसिकता वैसे ही देखते देखते वह अपनी जाट जाट की पढ़ाई की जाए तो धीरे-धीरे उसमें मन खुश होने लगते हैं उनकी बुराई करने को दुखी होने लगते हैं उनकी मानसिकता हो जाती है तो मेरे साथ मनोवैज्ञानिक जल्दी खत्म हो सकती क्योंकि यह लोगों की सोच होती है इतना जल्दी बदलाव नहीं आ सकता लेकिन यह लोग यह धीरे-धीरे बदल रहा है या नहीं कहूंगा क्योंकि देश बड़ी तेजी से पश्चिम सभ्यता की तरह समझ रहे हैं कि अब जातिवाद से जब तक यह सोच उनकी सोच रहेगी कि खत्म होने देश के विकास नहीं हो सकता जब यह लोगों को मालूम हो जाएगा वह जागरूक होने लगेंगे और सबसे पहली बार जीवन साथी का यह जो चुनाव जो होता है बने हर लड़की लड़कियों का यह रूप से करने लगे तुम्हें ज्यादा जागरूकता हुई क्योंकि जब हिंदू मुसलमान मुसलमान और को छोड़कर लोग अच्छे और सच्चे प्यार को ज्यादा महत्व देने लगे तेरे कमरे दे रहा है लेकिन एकदम से खत्म होना नामुमकिन है क्योंकि लोगों की मानसिकता नहीं बदली जा सकती थोड़ा बदलाव हो सकता है कि अभी पहुंच साल मैंने बहुत मेहनत करना पड़े क्योंकि आप अकेले बदलाव तो नहीं ला सकते जब तक लोगों की मानसिकता ना बदलेLekin Mitra Aap Ka Kehna Hai Ki Yeh Jo Jaatiwad Khatam Karna Chahte Hain Aap Yeh To Jaldi Khatam Nahi Hone Vala Kyonki Yeh Logon Ke Dharm Sanskriti Mansikta Sab Kuch Yahi Hoti Hai Ki Sab Se Paida Hote Musalman Musalman Dharm Ki Sabse Bada Unki Mansikta Waise Hi Dekhte Dekhte Wah Apni Jaat Jaat Ki Padhai Ki Jaye To Dhire Dhire Usamen Man Khush Hone Lagte Hain Unki Burayi Karne Ko Dukhi Hone Lagte Hain Unki Mansikta Ho Jati Hai To Mere Saath Manovaigyanik Jaldi Khatam Ho Sakti Kyonki Yeh Logon Ki Soch Hoti Hai Itna Jaldi Badlav Nahi Aa Sakta Lekin Yeh Log Yeh Dhire Dhire Badal Raha Hai Ya Nahi Kahunga Kyonki Desh Badi Teji Se Paschim Sabhyata Ki Tarah Samajh Rahe Hain Ki Ab Jaatiwad Se Jab Tak Yeh Soch Unki Soch Rahegi Ki Khatam Hone Desh Ke Vikash Nahi Ho Sakta Jab Yeh Logon Ko Maloom Ho Jayega Wah Jaagruk Hone Lagenge Aur Sabse Pehli Baar Jeevan Sathi Ka Yeh Jo Chunav Jo Hota Hai Bane Har Ladki Ladkiyon Ka Yeh Roop Se Karne Lage Tumhein Zyada Jagrukta Hui Kyonki Jab Hindu Musalman Musalman Aur Ko Chodkar Log Acche Aur Sacche Pyar Ko Zyada Mahatva Dene Lage Tere Kamre De Raha Hai Lekin Ekdam Se Khatam Hona Namumkin Hai Kyonki Logon Ki Mansikta Nahi Badli Ja Sakti Thoda Badlav Ho Sakta Hai Ki Abhi Pahunch Saal Maine Bahut Mehnat Karna Pade Kyonki Aap Akele Badlav To Nahi La Sakte Jab Tak Logon Ki Mansikta Na Badle
Likes  7  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Jaatiwad Ko Khatam Karne Ke Liye Kya Kiya Jaye Jis Tarah Logon Ki Soch Mein Badlav Ho Jati Pratha Khatam Ho Jaate Biradari Ke Bhedbhav Khatam Ho Saken