गंधर्व विवाह क्या होता है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्राचीन भारतीय स्मृति कारों ने विवाह के जो आठ प्रकार मारने किए थे गंधर्व विवाह उनमें से एक है इस व्यवहार में वर-वधू को अपने अभिभावकों की अनुमति लेने की जरूरत नहीं पड़ती थी युवक युवती के परस्पर राजी हो...
जवाब पढ़िये
प्राचीन भारतीय स्मृति कारों ने विवाह के जो आठ प्रकार मारने किए थे गंधर्व विवाह उनमें से एक है इस व्यवहार में वर-वधू को अपने अभिभावकों की अनुमति लेने की जरूरत नहीं पड़ती थी युवक युवती के परस्पर राजी होने पर किसी क्षेत्रीय के घर से लाई अग्नि से हवन करने के बाद हवन कुंड के 3 फेरे परस्पर गठबंधन के साथ कर लेने मात्र से इस प्रकार का विवाह संपन्न मान लिया जाता था इस आधुनिक प्रेम विवाह का प्राचीन रूप भी कह सकते हैं इस प्रकार का विवाह करने के पश्चात वर वधु दोनों अपने अभिभावकों को अपने विभाग की निरसन कुछ सूचना दे सकते थे क्योंकि अग्नि को साक्षी मानकर किया गया विवाह भंग नहीं किया जा सकता था अभिभावक भी इस विवाह को स्वीकार कर लेते थे किंतु किस प्रकार का विवाद जातिगत पूर्व अनुमति या लोक भवन के विरुद्ध समझा जाता है जाता था अभी लोग इस प्रकार किए गए विवाह को उतावली में किया गया विवाह ही बनते थे कुछ अर्थशास्त्रियों की धारणा थी कि इस प्रकार के विवाह का परिणाम अच्छा नहीं होता है भारतीय परिप्रेक्ष्य में शकुंतला दुष्यंत पुरुरवा उर्वशी वासवदत्ता उदयन के विवाह गंधर्व विवाह के प्रख्यात उदाहरण हैPrachin Bharatiya Smruti Kaaron Ne Vivah Ke Jo Aath Prakar Maarne Kiye The Gandharv Vivah Unmen Se Ek Hai Is Vyavhar Mein War Vadhu Ko Apne Abhibhavakon Ki Anumati Lene Ki Zaroorat Nahi Padhti Thi Yuvak Yuvati Ke Paraspar Raji Hone Par Kisi Kshetriya Ke Ghar Se Lai Agni Se Hawan Karne Ke Baad Hawan Kund Ke 3 Fere Paraspar Gathbandhan Ke Saath Kar Lene Matra Se Is Prakar Ka Vivah Sanpann Maan Liya Jata Tha Is Aadhunik Prem Vivah Ka Prachin Roop Bhi Keh Sakte Hain Is Prakar Ka Vivah Karne Ke Pashchat War Vadhu Dono Apne Abhibhavakon Ko Apne Vibhag Ki Nirasan Kuch Soochna De Sakte The Kyonki Agni Ko Sakshi Manakar Kiya Gaya Vivah Bhang Nahi Kiya Ja Sakta Tha Abhibhavak Bhi Is Vivah Ko Sweekar Kar Lete The Kintu Kis Prakar Ka Vivad Jaatigat Purv Anumati Ya Lok Bhavan Ke Viruddha Samjha Jata Hai Jata Tha Abhi Log Is Prakar Kiye Gaye Vivah Ko Utavali Mein Kiya Gaya Vivah Hi Bante The Kuch Arthashastriyon Ki Dharan Thi Ki Is Prakar Ke Vivah Ka Parinam Accha Nahi Hota Hai Bharatiya Pariprekshya Mein Shakuntala Dushyant Pururava Urvashi Vasavdatta Udayan Ke Vivah Gandharv Vivah Ke Prakhyaat Udaharan Hai
Likes  10  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गंधर्व विवाह हमको शिवा को बोलते हैं जिसमें जो लड़की होती है वह अपना पर खुद ही चुनती है और वह दोनों एक दूसरे से मिलते हैं और एक दूसरे के साथ रहते हैं और इसके लिए वह किसी भी तरह से बड़े बुजुर्गों के आशी...
जवाब पढ़िये
गंधर्व विवाह हमको शिवा को बोलते हैं जिसमें जो लड़की होती है वह अपना पर खुद ही चुनती है और वह दोनों एक दूसरे से मिलते हैं और एक दूसरे के साथ रहते हैं और इसके लिए वह किसी भी तरह से बड़े बुजुर्गों के आशीर्वाद की उनको जरूरत नहीं होती है तथा कोई रीति-रिवाजों की जरूरत नहीं होती है इसे गंदर विवा कहते हैंGandharv Vivah Hamko Shiva Ko Bolte Hain Jisme Jo Ladki Hoti Hai Wah Apna Par Khud Hi Chunati Hai Aur Wah Dono Ek Dusre Se Milte Hain Aur Ek Dusre Ke Saath Rehte Hain Aur Iske Liye Wah Kisi Bhi Tarah Se Bade Bujurgoan Ke Ashirvaad Ki Unko Zaroorat Nahi Hoti Hai Tatha Koi Riti Rivajon Ki Zaroorat Nahi Hoti Hai Ise Gandar Viva Kehte Hain
Likes  9  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Gandharv Vivah Kya Hota Hai

vokalandroid