गुस्सा होने पर हम खाना क्यों छोड़ देते हैं ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुड मॉर्निंग अभी सुबह सुबह का टाइम है साथ में आप आए सब लोग उतना अच्छा नहीं लगे तो मैं यह कहना चाहता हूं कि गुस्सा होने पर खाना ही क्यों हम लोग बहुत कुछ छोड़ देते हैं हां उस टाइम कुछ देर के लिए ही लेकिन हमने अपना सोच जो है वह लोग कर लेते हैं आ रहा है कल कभी गुस्सा में तो हम लोग बहुत ज्यादा गाली भी देते हैं किसी को तो अपना संस्कार छोड़ दिया ना वहां पर हम किसी को क्यों गाली देते हो उसे गाली से क्या होता है और रही बात खाना छोड़ने की तो यह एक लिमिट एज तक ही होता है जैसे कि आप 7:00 8 ईयर से लेकर 80 तक ही खाना छोड़ने का प्रॉब्लम आता है किसी के भी सामने मैं भी बचा था तो ऐसा करता था कराने का खाना नहीं खाता था जब भी कुछ भी तो यह काम कौन करता है जिसके सामने कोई दूसरा ऑप्शन नहीं हो जैसे कि वह घर छोड़ने के लायक नहीं है घर नहीं छोड़ सकता है हो जाए तो जाए कहां वह अभी कुछ से कमाने के लायक नहीं है वह किसी को डांट नहीं सकता है भूल नहीं सकता है मतलब तो अगर चारों तरफ से उसको कोई ऑप्शन है दिखता है ना तो सोचता जो मेरे बस की बात है कम से कम मैं वह तो करूं मैं खाना नहीं खाऊंगा सबक समझेगा मैं गुस्सा हूं मुझे कोई ना कोई मना नहीं आएगा और लोगों को लगेगा कि हां यह भी कुछ है इसलिए लोग खाना पर ही अपना सारा गुस्सा उतार देते हैं लेकिन दरअसल यह बात ठीक नहीं है खाना नहीं खाने से किसको प्रॉब्लम होगा हम भी लोगों को ना प्रॉब्लम होगा तुझे एक लिमिट तक ही होता है उसके बाद सब नॉर्मल होता है मेरे हिसाब से ही लगा
Romanized Version
गुड मॉर्निंग अभी सुबह सुबह का टाइम है साथ में आप आए सब लोग उतना अच्छा नहीं लगे तो मैं यह कहना चाहता हूं कि गुस्सा होने पर खाना ही क्यों हम लोग बहुत कुछ छोड़ देते हैं हां उस टाइम कुछ देर के लिए ही लेकिन हमने अपना सोच जो है वह लोग कर लेते हैं आ रहा है कल कभी गुस्सा में तो हम लोग बहुत ज्यादा गाली भी देते हैं किसी को तो अपना संस्कार छोड़ दिया ना वहां पर हम किसी को क्यों गाली देते हो उसे गाली से क्या होता है और रही बात खाना छोड़ने की तो यह एक लिमिट एज तक ही होता है जैसे कि आप 7:00 8 ईयर से लेकर 80 तक ही खाना छोड़ने का प्रॉब्लम आता है किसी के भी सामने मैं भी बचा था तो ऐसा करता था कराने का खाना नहीं खाता था जब भी कुछ भी तो यह काम कौन करता है जिसके सामने कोई दूसरा ऑप्शन नहीं हो जैसे कि वह घर छोड़ने के लायक नहीं है घर नहीं छोड़ सकता है हो जाए तो जाए कहां वह अभी कुछ से कमाने के लायक नहीं है वह किसी को डांट नहीं सकता है भूल नहीं सकता है मतलब तो अगर चारों तरफ से उसको कोई ऑप्शन है दिखता है ना तो सोचता जो मेरे बस की बात है कम से कम मैं वह तो करूं मैं खाना नहीं खाऊंगा सबक समझेगा मैं गुस्सा हूं मुझे कोई ना कोई मना नहीं आएगा और लोगों को लगेगा कि हां यह भी कुछ है इसलिए लोग खाना पर ही अपना सारा गुस्सा उतार देते हैं लेकिन दरअसल यह बात ठीक नहीं है खाना नहीं खाने से किसको प्रॉब्लम होगा हम भी लोगों को ना प्रॉब्लम होगा तुझे एक लिमिट तक ही होता है उसके बाद सब नॉर्मल होता है मेरे हिसाब से ही लगाGood Morning Abhi Subah Subah Ka Time Hai Saath Mein Aap Aaye Sab Log Utana Accha Nahi Lage To Main Yeh Kehna Chahta Hoon Ki Gussa Hone Par Khana Hi Kyon Hum Log Bahut Kuch Chod Dete Hain Haan Us Time Kuch Der Ke Liye Hi Lekin Humne Apna Soch Jo Hai Wah Log Kar Lete Hain Aa Raha Hai Kal Kabhi Gussa Mein To Hum Log Bahut Zyada Gaali Bhi Dete Hain Kisi Ko To Apna Sanskar Chod Diya Na Wahan Par Hum Kisi Ko Kyon Gaali Dete Ho Use Gaali Se Kya Hota Hai Aur Rahi Baat Khana Chodane Ki To Yeh Ek Limit Age Tak Hi Hota Hai Jaise Ki Aap 7:00 8 Year Se Lekar 80 Tak Hi Khana Chodane Ka Problem Aata Hai Kisi Ke Bhi Samane Main Bhi Bacha Tha To Aisa Karta Tha Karane Ka Khana Nahi Khaata Tha Jab Bhi Kuch Bhi To Yeh Kaam Kaon Karta Hai Jiske Samane Koi Doosra Option Nahi Ho Jaise Ki Wah Ghar Chodane Ke Layak Nahi Hai Ghar Nahi Chod Sakta Hai Ho Jaye To Jaye Kahaan Wah Abhi Kuch Se Kamane Ke Layak Nahi Hai Wah Kisi Ko Dant Nahi Sakta Hai Bhul Nahi Sakta Hai Matlab To Agar Charo Taraf Se Usko Koi Option Hai Dikhta Hai Na To Sochta Jo Mere Bus Ki Baat Hai Kam Se Kam Main Wah To Karun Main Khana Nahi Khaunga Sabak Samjhega Main Gussa Hoon Mujhe Koi Na Koi Mana Nahi Aaega Aur Logon Ko Lagega Ki Haan Yeh Bhi Kuch Hai Isliye Log Khana Par Hi Apna Saara Gussa Utar Dete Hain Lekin Darasal Yeh Baat Theek Nahi Hai Khana Nahi Khane Se Kisko Problem Hoga Hum Bhi Logon Ko Na Problem Hoga Tujhe Ek Limit Tak Hi Hota Hai Uske Baad Sab Normal Hota Hai Mere Hisab Se Hi Laga
Likes  12  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

मेरे भाई को बहुत ज़्यादा ग़ुस्सा आता है, ऐसा क्या करना चाहिए की उसका ग़ुस्सा होना कम हो जाए? ...

ओके तो जहां पर आप अपनी प्रॉब्लम नहीं पर अपनी भाई की प्रॉब्लम के बारे में शेयर कर रहे हैं और जो कि बहुत अच्छा है कि आप उनके लिए भी इतने कंसर्न्ड है तुझे आपके भाई को बहुत ज्यादा गुस्सा आता है तो आप पहलेजवाब पढ़िये
ques_icon

मेरे सीनियर है मेरे ऊपर गुस्सा करते रहते हैं ऐसा क्यों होता है कोई भी काम गलत नहीं भी करते तब भी गुस्सा करते रहते हैं? ...

हेलो फ्रेंड्स देखिए अगर आपके सीनियर आपके ऊपर गुस्सा कर रहे हैं और आपको लगता है कि आप कोई गलती नहीं कर रहे हैं बेवजह का गुस्सा है बार-बार वह आपको अंडरस्टैंड नहीं कर रहे हैं कुछ भी आपको कहीं भी बोल देतेजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुस्से में इंसान का 50 तक का दिमाग है वह काम नहीं करता है और वह ज्यादा सोच नहीं सकता सिर्फ गुस्से में रहता है उसकी वजह से वह खाना पीना भी छोड़ देता है और खाने-पीने पर गुस्सा हो दर्द है कुछ लोग तो ऐसे भी है जो खाने पीने की थाली फेंक देते तो यह गलत है गुस्सा होने पर भी दिमाग शांत रखना जरूरी है गुस्सा किस बात का उसका प्रकार अलग अलग होता है तो खाना छोड़ दिया तो ठीक है आदमी इंसान एक बार दो बार खाना छोड़ देता है फिर तो वापस आने लग जाता है तो गुस्सा कर खाने बहुत आ रहा है तो वह नॉर्मल बातें ज्यादा कर लो कैसे करते हैं तुझको ज्यादा सोच नहीं सकते गुस्से में इसलिए सही बात सही है कि इंसान ने गुस्सा करना नहीं चाहिए और गुस्सा किया भी तो अपना दिमाग जो है हमारे वश में होना चाहिए नहीं तो फिर दिक्कत आ सकती है
Romanized Version
गुस्से में इंसान का 50 तक का दिमाग है वह काम नहीं करता है और वह ज्यादा सोच नहीं सकता सिर्फ गुस्से में रहता है उसकी वजह से वह खाना पीना भी छोड़ देता है और खाने-पीने पर गुस्सा हो दर्द है कुछ लोग तो ऐसे भी है जो खाने पीने की थाली फेंक देते तो यह गलत है गुस्सा होने पर भी दिमाग शांत रखना जरूरी है गुस्सा किस बात का उसका प्रकार अलग अलग होता है तो खाना छोड़ दिया तो ठीक है आदमी इंसान एक बार दो बार खाना छोड़ देता है फिर तो वापस आने लग जाता है तो गुस्सा कर खाने बहुत आ रहा है तो वह नॉर्मल बातें ज्यादा कर लो कैसे करते हैं तुझको ज्यादा सोच नहीं सकते गुस्से में इसलिए सही बात सही है कि इंसान ने गुस्सा करना नहीं चाहिए और गुस्सा किया भी तो अपना दिमाग जो है हमारे वश में होना चाहिए नहीं तो फिर दिक्कत आ सकती हैGusse Mein Insaan Ka 50 Tak Ka Dimag Hai Wah Kaam Nahi Karta Hai Aur Wah Zyada Soch Nahi Sakta Sirf Gusse Mein Rehta Hai Uski Wajah Se Wah Khana Peena Bhi Chod Deta Hai Aur Khane Peene Par Gussa Ho Dard Hai Kuch Log To Aise Bhi Hai Jo Khane Peene Ki Thali Fenk Dete To Yeh Galat Hai Gussa Hone Par Bhi Dimag Shaant Rakhna Zaroori Hai Gussa Kis Baat Ka Uska Prakar Alag Alag Hota Hai To Khana Chod Diya To Theek Hai Aadmi Insaan Ek Baar Do Baar Khana Chod Deta Hai Phir To Wapas Aane Lag Jata Hai To Gussa Kar Khane Bahut Aa Raha Hai To Wah Normal Batein Zyada Kar Lo Kaise Karte Hain Tujhko Zyada Soch Nahi Sakte Gusse Mein Isliye Sahi Baat Sahi Hai Ki Insaan Ne Gussa Karna Nahi Chahiye Aur Gussa Kiya Bhi To Apna Dimag Jo Hai Hamare Vash Mein Hona Chahiye Nahi To Phir Dikkat Aa Sakti Hai
Likes  9  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लगी सभी लोगों की अपनी अपनी प्रवृत्ति होती है अपनी अपनी पसंद होती है और इच्छाएं होती है यदि कोई गुस्सा होता है तो उसे कुछ मिलता नहीं है यदि वह गुस्सा अपना व्यक्त कर सके और दूसरों को बता सके कि वह काफी गुस्सा है तो खाना त्याग देता है
Romanized Version
लगी सभी लोगों की अपनी अपनी प्रवृत्ति होती है अपनी अपनी पसंद होती है और इच्छाएं होती है यदि कोई गुस्सा होता है तो उसे कुछ मिलता नहीं है यदि वह गुस्सा अपना व्यक्त कर सके और दूसरों को बता सके कि वह काफी गुस्सा है तो खाना त्याग देता हैLagi Sabhi Logon Ki Apni Apni Pravritti Hoti Hai Apni Apni Pasand Hoti Hai Aur Ichhaen Hoti Hai Yadi Koi Gussa Hota Hai To Use Kuch Milta Nahi Hai Yadi Wah Gussa Apna Vyakt Kar Sake Aur Dusron Ko Bata Sake Ki Wah Kafi Gussa Hai To Khana Tyag Deta Hai
Likes  11  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Gussa Hone Par Hum Khana Kyon Chhod Dete Hain ?,


vokalandroid