भारत का प्रधानमंत्री सांसद के द्वारा ना चुना जाना चाहिए, ब्लके सीधे जनता द्वारा चुना जाना चाहिए। ऐसा क्यों नही हो सकता है ? ...

Likes  0  Dislikes

3 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
बी के दो तरीके के गवर्नमेंट होती है क्या प्रेसीडेंशियल फॉर्म ऑफ गवर्नमेंट और दूसरा होता है जो हमारा पालम एंट्री सिस्टम ऑफ गवर्नेंस है यह दो जो मॉडल्स है वह डेमोक्रेसी में पॉपुलर हैं इंडिया जो है वह पालम एंट्री डेमोक्रेसी को फॉलो करता है और पाल अमेठी डेमोक्रेसी का सिस्टम नहीं होता है कि सबसे पहले जनता जो है वह मेंबर पार्लियामेंट को चुनती है और उसके बाद में वह फिर जो है प्रधानमंत्री का अगर हमें प्रधानमंत्री को डायरेक्टरी चलना है तो हमें सिस्टम बदलना पड़ेगा और हमें प्रेसीडेंशियल सिस्टम में जाना पड़ेगा जैसा कि अमेरिका में हैं और तभी जो है वह डायरेक्ट इलेक्शन जो है वह प्रसिडेंट का हो सकता है
Likes  37  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

अतिरिक्त विकल्प यहां दिखाई देते हैं!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
कौन कहता है कि हमारे देश के प्रधानमंत्री सांसद के द्वारा चुने जाते हैं जनता के द्वारा द्वारा नहीं चुने जाते हैं देखिए प्रधानमंत्री का चुनाव जनता के द्वारा ही होता है यह थोड़ा सोचने का तरीका आपका अलग है जो प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार होते हैं उन्हीं को देखकर सांसदों को वोट दिया जाता है अगर प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार सही नहीं रहेगा तू कभी जीत नहीं पाएगा वह प्रधानमंत्री नहीं बन पाएगा और बहुत सारी जनता ऐसी होती है जो सिर्फ क्षेत्रीय नेता को देख कर आज के डेट में कोई वोट नहीं दे रहा है आज के देश आज के डेट में नेशनल पार्टी को देखकर वोट दिया जाता है और प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार कौन है उसको देखकर सांसदों को वोट दिया जाता है धन्यवाद
Likes  11  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
भारत के प्रधानमंत्री जो जनता के द्वारा चुना जाना चाहिए ज्यादा सटीक और ज्यादा अच्छा फैसला होगा लेकिन जनता को जागरूक होना पड़ेगा उन्हें बिना किसी भी तरह के जो अवैध रिश्ते होते राजनेताओं के साथ उनसे किसी भी तरह का लाभ ना लेकर जो देश के सहयोग से आदमी को चुनना होगा तभी यह जो सिस्टम है अच्छा कहलायेगाBharat Ke Pradhanmantri Jo Janata Ke Swara Chuna Jana Chahiye Zyada Sateek Aur Zyada Accha Faisla Hoga Lekin Janata Ko Jaagruk Hona Padega Unhen Bina Kisi Bhi Tarah Ke Jo Awaidh Rishte Hote Rajnetao Ke Saath Unse Kisi Bhi Tarah Karne Labh Na Lekar Jo Desh Ke Sahyog Se Aadmi Ko Chunana Hoga Tabhi Yeh Jo System Hai Accha Kehlayega
Likes  8  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Bharat Karne Pradhanmantri Saansad Ke Swara Na Chuna Jana Chahiye Balki Seedhe Janata Swara Chuna Jana Chahiye Aisa Kyon Nahi Ho Sakta Hai ?, Prime Minister Of India Should Not Be Chosen By The MP, Blake Should Be Chosen Directly By The Public. Why Can Not This Happen?





मन में है सवाल?