चुनावों में मीडिया की भूमिका क्या है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बी के चुनाव में मीडिया की भूमिका होती है मैं चाहे जितने भी इसे बंगाल में बहुत बड़ा क्वेश्चन आया था मीडिया ने इसको इंसाइड इस चीज को दर्शाया था अपने चैनल के थ्रू पंचायत चुनाव में बंगाल में बहुत सारे हथि...
जवाब पढ़िये
बी के चुनाव में मीडिया की भूमिका होती है मैं चाहे जितने भी इसे बंगाल में बहुत बड़ा क्वेश्चन आया था मीडिया ने इसको इंसाइड इस चीज को दर्शाया था अपने चैनल के थ्रू पंचायत चुनाव में बंगाल में बहुत सारे हथियार यूज किए गए तुम मीडिया ऐसा काम करती है जो देश के कोने-कोने तक जहां पर कोई माध्यम नहीं है न्यूज़ पहुंचने का वह मीडिया माध्यम से न्यूज़ पहुंचाती है वह भी निष्पक्ष रुप से ना कोई बाय शुभ से तो मीडिया का बहुत हैं उनका में चुनाव में निकली चुनाव के टाइम जो सबसे बड़ी अहमियत होती है कि जो पिछली सरकार ने जो रूलिंग पार्टी थी पिछले टाइम उन्होंने क्या किया क्या अच्छा नहीं हुआ और क्या होना चाहिए था और उन्होंने क्या कहा इन तीनों के बीच दूरियां हैं उन्हें उन्हें डिफाइन करती है कि क्या क्या और होना चाहिए और क्या-क्या एक गलत कर रहे हैं आप कुछ बोल कुछ और रहे हैं तो जिस को पूरी तरह से मीडिया अपने आप के सामने रखती है जिसके जिसके भी चीज का पानी चेंज कर के सामने वाली पार्टी को अब उन्हें वोट देते उनका पोजिशन को तो मीडिया का बहुत ही अहम रोल है इस चुनावी रैली में ऐसे नावेद दंगल में तो मीडिया को निष्पक्ष तौर से मेरा मानना मैं अपनी न्यूज़ को रखना चाहिए और अपने सूचनाओं को रखना चाहिए रिकॉर्डिंग से जनता को एक न्यूटन में का निष्पक्ष जन्माष्टमी में फैसला लेने का अधिकार ब्राइट है एंड वन ब्वॉय स्टोरी फैसला देने की कोशिश करते हैं और चाहते हैं कि वह किसी से वन बाय टू के फैसलेBe Ke Chunav Mein Media Ki Bhumika Hoti Hai Main Chahe Jitne Bhi Ise Bengal Mein Bahut Bada Question Aaya Tha Media Ne Isko Insaid Is Cheez Ko Darshaya Tha Apne Channel Ke Through Panchayat Chunav Mein Bengal Mein Bahut Sare Hathiyar Use Kiye Gaye Tum Media Aisa Kaam Karti Hai Jo Desh Ke Kone Kone Tak Jahan Par Koi Maadhyam Nahi Hai News Pahuchne Ka Wah Media Maadhyam Se News Pahunchati Hai Wah Bhi Nishpaksh Roop Se Na Koi By Shubha Se To Media Ka Bahut Hain Unka Mein Chunav Mein Nikli Chunav Ke Time Jo Sabse Badi Ahamiyat Hoti Hai Ki Jo Pichali Sarkar Ne Jo Ruling Party Thi Pichhle Time Unhone Kya Kiya Kya Accha Nahi Hua Aur Kya Hona Chahiye Tha Aur Unhone Kya Kaha In Teenon Ke Bich Duriya Hain Unhen Unhen Define Karti Hai Ki Kya Kya Aur Hona Chahiye Aur Kya Kya Ek Galat Kar Rahe Hain Aap Kuch Bol Kuch Aur Rahe Hain To Jis Ko Puri Tarah Se Media Apne Aap Ke Samane Rakhti Hai Jiske Jiske Bhi Cheez Ka Pani Change Kar Ke Samane Wali Party Ko Ab Unhen Vote Dete Unka Position Ko To Media Ka Bahut Hi Aham Roll Hai Is Chunavi Rally Mein Aise Naved Dangal Mein To Media Ko Nishpaksh Taur Se Mera Manana Main Apni News Ko Rakhna Chahiye Aur Apne Suchanaon Ko Rakhna Chahiye Recording Se Janta Ko Ek Newton Mein Ka Nishpaksh Janmastmi Mein Faisla Lene Ka Adhikaar Bright Hai End Van Bway Story Faisla Dene Ki Koshish Karte Hain Aur Chahte Hain Ki Wah Kisi Se Van By To Ke Faisle
Likes  59  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चुनाव में मीडिया का भूमिका बहुत ज्यादा है क्योंकि मीडिया लोगों की ओपिनियन और डिसिशन मेकिंग को प्रभाव करता है...
जवाब पढ़िये
चुनाव में मीडिया का भूमिका बहुत ज्यादा है क्योंकि मीडिया लोगों की ओपिनियन और डिसिशन मेकिंग को प्रभाव करता हैChunav Mein Media Ka Bhumika Bahut Zyada Hai Kyonki Media Logon Ki Opinion Aur Decision Making Ko Prabhav Karta Hai
Likes  12  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चुनाव में मीडिया की भूमिका सत्य और असत्य का पता लगाना और जनता के पक्ष में फैसला करना नेताओं द्वारा किए गए कार्यों की गतिविधियों को जनता के सामने रखना मीडिया की समाधि मूर्ति जो नेताओं द्वारा किए गए कार...
जवाब पढ़िये
चुनाव में मीडिया की भूमिका सत्य और असत्य का पता लगाना और जनता के पक्ष में फैसला करना नेताओं द्वारा किए गए कार्यों की गतिविधियों को जनता के सामने रखना मीडिया की समाधि मूर्ति जो नेताओं द्वारा किए गए कार्यों की गतिविधियों को जनता देख सकती अगर किसी देश में मीडिया नहीं होगा तो वह देश लोकतंत्र नहीं माना जाएगा क्योंकि मीडिया के द्वारा हम पक्ष और विपक्ष के माध्यम से किसी भी गतिविधि का पता लगा सकते हैंChunav Mein Media Ki Bhumika Satya Aur Asatya Ka Pata Lagana Aur Janta Ke Paksh Mein Faisla Karna Netaon Dwara Kiye Gaye Kaaryon Ki Gatividhiyon Ko Janta Ke Samane Rakhna Media Ki Samadhi Murti Jo Netaon Dwara Kiye Gaye Kaaryon Ki Gatividhiyon Ko Janta Dekh Sakti Agar Kisi Desh Mein Media Nahi Hoga To Wah Desh Loktantra Nahi Mana Jayega Kyonki Media Ke Dwara Hum Paksh Aur Vipaksh Ke Maadhyam Se Kisi Bhi Gatividhi Ka Pata Laga Sakte Hain
Likes  10  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए चुनाव में मीडिया की बहुत ही अहम भूमिका है अगर मीडिया नहीं होती तो हमें शायद किसी चीज की जानकारी भी नहीं मिल पाती मीडिया के होने से हमें हर पल जानकारी मिलती रहती है देश-विदेश के चुनाव में तो बहुत...
जवाब पढ़िये
देखिए चुनाव में मीडिया की बहुत ही अहम भूमिका है अगर मीडिया नहीं होती तो हमें शायद किसी चीज की जानकारी भी नहीं मिल पाती मीडिया के होने से हमें हर पल जानकारी मिलती रहती है देश-विदेश के चुनाव में तो बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका है मीडिया की क्योंकि अगर मीडिया नहीं होती तो शायद किसी के कामकाज को बताया बताना भी मुश्किल होता आज मोदी जी ने 5 साल में क्या किया हमें मीडिया के माध्यम से पता चल जाता है कि मोदी जी ने क्या कार्य किया व से देखिए जो कार्य होता है वह जमीनी स्तर पर दिखाई देता है मोदी जी ने जीएसटी लागू किया जिससे देश को बहुत फायदा मिला मोदी जी ने नोटबंदी किया डी मोनेटाइजेशन किया जिससे हमारे देश की आर्थिक स्थिति मजबूत हुई और पाकिस्तान जैसा देश गरीब हो गया क्योंकि पाकिस्तान में पाकिस्तान अभी तक मजबूत स्थिति में इसलिए था क्योंकि जाली नोटों का कारोबार वहां के आतंकवादी संगठन करते थे और मोदी जी ने नोट बंदी कर के पार पाकिस्तान को कंगाल बना दिया तो जितने भी फैसले लिए गए उसका अगर उसके बारे में हमें जानकारी मिलती है तो मीडिया के माध्यम से मीडिया यह बताती है कि उन्होंने 5 साल में क्या किया और 70 सालों में कांग्रेस ने क्या किया तो मीडिया के होने से अवेयरनेस काफी ज्यादा है और आने वाले टाइम में और भी ज्यादा मीडिया का प्रभाव होगा तो मीडिया का होना बहुत जरूरी है धन्यवादDekhie Chunav Mein Media Ki Bahut Hi Aham Bhumika Hai Agar Media Nahi Hoti To Hume Shayad Kisi Cheez Ki Jankari Bhi Nahi Mil Pati Media Ke Hone Se Hume Har Pal Jankari Milti Rehti Hai Desh Videsh Ke Chunav Mein To Bahut Hi Mahatvapurna Bhumika Hai Media Ki Kyonki Agar Media Nahi Hoti To Shayad Kisi Ke Kamkaj Ko Bataya Batana Bhi Mushkil Hota Aaj Modi G Ne 5 Saal Mein Kya Kiya Hume Media Ke Maadhyam Se Pata Chal Jata Hai Ki Modi G Ne Kya Karya Kiya V Se Dekhie Jo Karya Hota Hai Wah Zameeni Sthar Par Dikhai Deta Hai Modi G Ne Gst Laagu Kiya Jisse Desh Ko Bahut Fayda Mila Modi G Ne Notebandi Kiya D Monetization Kiya Jisse Hamare Desh Ki Aarthik Sthiti Mazboot Hui Aur Pakistan Jaisa Desh Garib Ho Gaya Kyonki Pakistan Mein Pakistan Abhi Tak Mazboot Sthiti Mein Isliye Tha Kyonki Jaali Noton Ka Karobaar Wahan Ke Aatankwadi Sangathan Karte The Aur Modi G Ne Note Bandi Kar Ke Par Pakistan Ko Kangal Bana Diya To Jitne Bhi Faisle Liye Gaye Uska Agar Uske Bare Mein Hume Jankari Milti Hai To Media Ke Maadhyam Se Media Yeh Batati Hai Ki Unhone 5 Saal Mein Kya Kiya Aur 70 Salon Mein Congress Ne Kya Kiya To Media Ke Hone Se Awareness Kafi Zyada Hai Aur Aane Wali Time Mein Aur Bhi Zyada Media Ka Prabhav Hoga To Media Ka Hona Bahut Zaroori Hai Dhanyavad
Likes  11  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चुनाव में मीडिया का बहुत ही इंपॉर्टेंट रोल प्ले होता है यूपी चुनाव से एक 2 महीने पहले ही ऐसा समय होता है कि मीडिया का रोल बढ़ जाता है क्योंकि नए-नए गीत इलेक्शन होने वाले होते हैं नई सरकार का चयन होन...
जवाब पढ़िये
चुनाव में मीडिया का बहुत ही इंपॉर्टेंट रोल प्ले होता है यूपी चुनाव से एक 2 महीने पहले ही ऐसा समय होता है कि मीडिया का रोल बढ़ जाता है क्योंकि नए-नए गीत इलेक्शन होने वाले होते हैं नई सरकार का चयन होने वाला होता है तो सब की सभी पार्टियों की अपनी-अपनी परीक्षा होती है सत्ता पक्ष की भी और विपक्ष की तो सत्ता पक्ष द्वारा जो पावर में है रूलिंग पार्टी के और अपोजिशन पार्टी दोनों के कामों को उसे जनता के समक्ष रखना होता है जो रूलिंग पार्टी है उसकी पॉलिसीज रही है जो योजनाएं हैं उनको रखना होता है उसकी क्या अच्छाइयां रही क्या इंपैक्ट रहा क्या बुराइयां रही किसी योजना ने कहां तक सफलता पाई किस कौन से फैसले गलत हुए यह सारे आंकड़ों सहित फिगर सहित कितना बदलाव आया कितना परिवर्तन आया 5 साल में उन सब को रखना होता है जनता को समझ इससे की जनता के समक्ष तस्वीर सच्चाई की तस्वीर पहुंच सके वास्तविकता से परिचित हो सके जनता का यही एक काम होता है और इसके अलावा बताएं कि किस नेता के पास का क्रिमिनल बैकग्राउंड है क्या कैसा इसके पास कितनी संपत्ति है क्या है यह है जिससे कि एक जनता को आईडिया लग सके कौन कैसा भूमिका निभा रहा है लोकतंत्र में कौन सी में उसी तरफ से उसे चुनने में मदद मिलती है लेकिन देखा गया है आजकल मीडिया का एक व एक जो मीडिया का वर्ग कुछ सत्ता पक्ष के में दिखाते हैं कुछ रूलिंग पार्टी के पक्ष में है तो कुछ अपोजिशन पार्टी के पास कोई कांग्रेस के पक्ष में केवल बयान बाजी कर रहा है मीडिया और कुछ बीजेपी के पक्ष में इस तरह से लोकतंत्र नहीं चलताChunav Mein Media Ka Bahut Hi Important Roll Play Hota Hai Up Chunav Se Ek 2 Mahine Pehle Hi Aisa Samay Hota Hai Ki Media Ka Roll Badh Jata Hai Kyonki Naye Naye Geet Election Hone Wali Hote Hain Nayi Sarkar Ka Chayan Hone Vala Hota Hai To Sab Ki Sabhi Partiyon Ki Apni Apni Pariksha Hoti Hai Satta Paksh Ki Bhi Aur Vipaksh Ki To Satta Paksh Dwara Jo Power Mein Hai Ruling Party Ke Aur Opposition Party Dono Ke Kamon Ko Use Janta Ke Samaksh Rakhna Hota Hai Jo Ruling Party Hai Uski Policies Rahi Hai Jo Yojanaye Hain Unko Rakhna Hota Hai Uski Kya Acchaiyan Rahi Kya Inspect Raha Kya Buraiyan Rahi Kisi Yojana Ne Kahaan Tak Safalta Payi Kis Kaon Se Faisle Galat Huye Yeh Sare Aakado Sahit Figure Sahit Kitna Badlav Aaya Kitna Pariwartan Aaya 5 Saal Mein Un Sab Ko Rakhna Hota Hai Janta Ko Samajh Isse Ki Janta Ke Samaksh Tasveer Sacchai Ki Tasveer Pahunch Sake Vastavikta Se Parichit Ho Sake Janta Ka Yahi Ek Kaam Hota Hai Aur Iske Alava Bataen Ki Kis Neta Ke Paas Ka Criminal Background Hai Kya Kaisa Iske Paas Kitni Sampatti Hai Kya Hai Yeh Hai Jisse Ki Ek Janta Ko Idea Lag Sake Kaon Kaisa Bhumika Nibha Raha Hai Loktantra Mein Kaon Si Mein Ussi Taraf Se Use Chunane Mein Madad Milti Hai Lekin Dekha Gaya Hai Aajkal Media Ka Ek V Ek Jo Media Ka Varg Kuch Satta Paksh Ke Mein Dikhate Hain Kuch Ruling Party Ke Paksh Mein Hai To Kuch Opposition Party Ke Paas Koi Congress Ke Paksh Mein Kewal Bayan Busy Kar Raha Hai Media Aur Kuch Bjp Ke Paksh Mein Is Tarah Se Loktantra Nahi Chalta
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Chunavon Mein Media Ki Bhumika Kya Hai

vokalandroid