वह क्या चीज़ है जिसने आपको आज ख़ुशी दी? मैं ऐसा क्या करूँ जिससे मुझे भी ऐसी ख़ुशी मिले? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे समय के साथ कुछ ऐसा हो गया हालात ऐसे हैं कि इंसान और खुशी उन चीजों में देखता है और जो उससे बाहर है वह बिना किसी कारण के खुश हो ही नहीं सकता और यह सबसे बड़ी लाइफ की विडंबना है आपको यह नहीं पता कि खुश कैसे रहना है लेकिन आप संतोषजनक सकते हैं आप चिंता मुक्त हो सकते हैं यह स्टेट भी अपने आप में बहुत अच्छा है आप हमेशा खुश बहुत खुश नहीं रह सकते एयरसेल लेकिन संतोष में तू रह सकते हैं आज की तारीख में इंसान खुशियां अपने से बाहर ढूंढता है और वह अगर मैं ब्रॉडली डिफाइन करो तो दो कैटेगरी में आती हैं पहला वह इंसान वस्तु से मिलने वाली खुशी को खुशी समझता है दूसरा इंसान इंसान से मिलने वाली आशीष को खुशी समझता है वह कैसे वस्तु से मिलने वाली चीज में बहुत सारी चीजें आ जाती हैं जो की सुविधाएं की हो सकती हैं जैसे घर मकान बंगला गाड़ी ऐसो आराम उसमें सर्विसेज वगैरा भी आ जाते हैं खान पान रहन रहना कपड़े सब कुछ आ जाता है वस्तु के अंदर और दूसरा किसी व्यक्ति से मिलने वाला सुख करें तो हम क्या करते हैं हम इन दो कैटेगरी में इसको डिवाइड कर देते हैं और वेट करते हैं या एक्सपेक्ट करते हैं कि इससे खुशी मिल जाएगी उसे वह हो जाएगा प्लेयर मेरे लिए खुशी है कुछ लोग की परिभाषा प्लेजर को खुशी बोलते हैं लेकिन यह सब देखिए बहुत छोटे टाइम तक रहता है अगर मान लीजिए प्लेसर मिल गया फिर क्या कुछ खाया अच्छा लगा फिर क्या उसके बाद क्या कुछ कह ना उस टाइम तक अच्छा लगा फिर क्या हमें तो उस स्टेट में रहना है जहां पर मैं हमेशा संतोषजनक रहा हूं और कभी उस संतोष थोड़ा और ऊपर गया तो मुझे अच्छा लगता है लेकिन मैं फिर भी बैलेंस रहता हूं तो ऐसी कोई एक चीज नहीं होती जो मैं करता हूं और मुझे खुशी मिलती है मुझे तो वह काम करने में खुशी लगी जिसके लिए मेरा दिल हां बोलता है और उसके बाद मुझे संतोष मिलता है कि मैंने यह काम किया
देखे समय के साथ कुछ ऐसा हो गया हालात ऐसे हैं कि इंसान और खुशी उन चीजों में देखता है और जो उससे बाहर है वह बिना किसी कारण के खुश हो ही नहीं सकता और यह सबसे बड़ी लाइफ की विडंबना है आपको यह नहीं पता कि खुश कैसे रहना है लेकिन आप संतोषजनक सकते हैं आप चिंता मुक्त हो सकते हैं यह स्टेट भी अपने आप में बहुत अच्छा है आप हमेशा खुश बहुत खुश नहीं रह सकते एयरसेल लेकिन संतोष में तू रह सकते हैं आज की तारीख में इंसान खुशियां अपने से बाहर ढूंढता है और वह अगर मैं ब्रॉडली डिफाइन करो तो दो कैटेगरी में आती हैं पहला वह इंसान वस्तु से मिलने वाली खुशी को खुशी समझता है दूसरा इंसान इंसान से मिलने वाली आशीष को खुशी समझता है वह कैसे वस्तु से मिलने वाली चीज में बहुत सारी चीजें आ जाती हैं जो की सुविधाएं की हो सकती हैं जैसे घर मकान बंगला गाड़ी ऐसो आराम उसमें सर्विसेज वगैरा भी आ जाते हैं खान पान रहन रहना कपड़े सब कुछ आ जाता है वस्तु के अंदर और दूसरा किसी व्यक्ति से मिलने वाला सुख करें तो हम क्या करते हैं हम इन दो कैटेगरी में इसको डिवाइड कर देते हैं और वेट करते हैं या एक्सपेक्ट करते हैं कि इससे खुशी मिल जाएगी उसे वह हो जाएगा प्लेयर मेरे लिए खुशी है कुछ लोग की परिभाषा प्लेजर को खुशी बोलते हैं लेकिन यह सब देखिए बहुत छोटे टाइम तक रहता है अगर मान लीजिए प्लेसर मिल गया फिर क्या कुछ खाया अच्छा लगा फिर क्या उसके बाद क्या कुछ कह ना उस टाइम तक अच्छा लगा फिर क्या हमें तो उस स्टेट में रहना है जहां पर मैं हमेशा संतोषजनक रहा हूं और कभी उस संतोष थोड़ा और ऊपर गया तो मुझे अच्छा लगता है लेकिन मैं फिर भी बैलेंस रहता हूं तो ऐसी कोई एक चीज नहीं होती जो मैं करता हूं और मुझे खुशी मिलती है मुझे तो वह काम करने में खुशी लगी जिसके लिए मेरा दिल हां बोलता है और उसके बाद मुझे संतोष मिलता है कि मैंने यह काम किया
Likes  10  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

मुझे अपने फ़्री टाइम में ऐसा क्या करना चाहिए जिससे करने से मुझे ख़ुशी मिले? ...

आपके सवाल का जवाब बहुत ही आसान है आप अपनी फ्री टाइम में जो भी काम करना चाहते हैं उसमें ख़ुशी पाना है तो सबसे पहले आपके लिए यह जानना जरूरी है कि आपको खुशी किन कामों को करने से मिलती है तो आप ही कुछ की जवाब पढ़िये
ques_icon

मैं आजकल हमेशा ही अकेला और दुखी रहता हूँ। क्या मैं इस अकेलेपन में ख़ुशी ढूंढ़ सकता हूँ? ...

नमस्ते दोस्तों मेरी आणि डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सब को दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं देखिए अगर आप अकेले हैं और दुखी हैं मेरे हिसाब से दुखी रहने का मतलब यही है कि आप अभी फिलहाल अभी कि जिंदगी में कुछजवाब पढ़िये
ques_icon

आपके जीवन में ऐसा क्या हुआ है जिसने आपको परिपक्व होने पर मजबूर कर दिया? ...

करो कि लाइफ में ऐसे सिचुएशन आते हैं जहां पर उन्हें वक्त से पहले हमें जो रोजाना पड़ता है रिस्पांसिबिलिटीज मदारियों को अपने कंधों पर लेना पड़ता है मैं भी उनमें से एक हूं जब मैं 24 वर्ष की थी तब मेरे जो जवाब पढ़िये
ques_icon

जीवन में मैं हर चीज़ में अच्छा बनाना चाहता हूँ। हर चीज़ में अव्वल होना चाहता हूँ। ऐसा करने के लिए मुझे क्या करना चाहिए? ...

यह बहुत अच्छी सोच है कि यहां पर बहुत कुछ करना चाहते हैं और सब में अव्वल आना चाहते हैं अच्छा बनना एक बहुत अच्छी बात है लेकिन यह ही ख्याल रखना दिमाग में हमेशा कि मैं आऊं आपके लिए सही नहीं होगा क्यों क्यजवाब पढ़िये
ques_icon

सबसे ख़ूबसूरत चीज़ क्या है जो आपने आज देखी है? उसे देखकर आपको कैसा महसूस हुआ? ...

मुझे ऐसा लगता है कि दुनिया में सबसे खूबसूरत वह हंसता हुआ चेहरा है जिसे आप सबसे ज्यादा प्यार करते हैं मैं एक मां हूं तो मैं अपने बच्चों को बहुत प्यार करती हूं लेकिन मैं सबसे ज्यादा प्यार अपनी मम्मी से जवाब पढ़िये
ques_icon

जब भी मैं कुछ चाहता हूँ मुझे वह चीज़ नहीं मिलती? क्या ऐसा सिर्फ़ मेरे साथ होता है या औरों के साथ भी? ऐसे में मैं निराश महसूस करना कैसे कम करूँ? ...

जी आप यकीन मानिए आप अकेले नहीं है ऐसा सोचने वाले आप अकेले इंसान है सनी सिंह के साथ ऐसा होता है हम सब के साथ ऐसा होता है बहुत सारी चीजें होता नहीं होती हैं जो पूरी नहीं होती कुछ इच्छाएं ऐसी होती है जो जवाब पढ़िये
ques_icon

कभी कभी हम जीवन के ऐसे मोड़ पर होते है जहाँ हमें किसी के सलाह की बहुत ज़रूरत होती है।किसी ने आपको सबसे अच्छी सलाह क्या दी है जिससे आपको बहुत फ़ायदा हुआ? ...

जहां तक मेरी आए यादा शादी है मुझे लगता कि प्रोफेशनल या पर्सनल लाइफ में मेरे तभी ऐसा कोई मोड़ आया था जहां पर मेरे को किसी ने बहुत अच्छी सलाह दी थी और उसको मैंने फॉलो किया लेकिन एक चीज जरूरी है और वह एकजवाब पढ़िये
ques_icon

मैं अपनी सुबह को और भी ज़्यादा प्रडक्टिव कैसे बना सकता हूँ ताकि मुझे ऐसा ना लगे की आज मैंने कुछ भी नहीं किया? ...

सुबह को प्रोडक्टिव बनाने के लिए आप को सबसे पहली चीज यह करनी होगी कि आज आप पूरे दिन में करना क्या चाहते हैं अगर आपके पास उसका प्लानिंग होगा रिटर्न प्लानिंग होगा तो आपकी सुबह और पूरा दिन प्रोडक्टिव बनेगजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज सुबह मैं अपनी गाड़ी से जा रही थी और रास्ते में मैंने एक का काफी बड़े उम्र के इंसान को देखा जो निषाद चलने में काफी प्रॉब्लम हो रही थी और उस रोड पर कोई ऑटो बस कुछ भी नहीं आती मैं आगे निकल गई थी फिर अचानक में रुकी मैं वापस लिया मैंने अपनी गाड़ी को रिवर्स किया और उनसे पूछा तो उनको कहीं मंदिर जाना था तो वह मंदिर मेरे घर के थोड़ा दूर ही था तो मैंने उनको वहां छोड़कर मैं वापस अपने घर आ गई तो जब वह उतर रहे थे तो उन्होंने बहुत सारे मुझे आशीर्वाद भी है और बहुत सारी शुभकामनाएं दी तो मुझे उससे बहुत खुशी मिली और आपको क्या चीज से खुशी मिलेगी यह जरूरी नहीं है कि मेरी खुशी आपकी खुशी हो आप अपनी जीवन की खुशियां खुद से ढूंढे कि आपको क्या काम करके खुशी मिलती है किस जगह जाकर आपको खुशी मिलती है किस किस इंसान से बात करके आपको खुशी मिलती है तो आप अपनी खुशी को पहले तो पहचाने और उसके बाद जो जोश लिस्ट मैं आपके आता है कि आपको किन-किन चीजों से खुशी मिल रही है आप उन चीजों को करने का प्रयत्न करें और रोज अपनी खुशी को बढ़ाने की कोशिश करें
Romanized Version
आज सुबह मैं अपनी गाड़ी से जा रही थी और रास्ते में मैंने एक का काफी बड़े उम्र के इंसान को देखा जो निषाद चलने में काफी प्रॉब्लम हो रही थी और उस रोड पर कोई ऑटो बस कुछ भी नहीं आती मैं आगे निकल गई थी फिर अचानक में रुकी मैं वापस लिया मैंने अपनी गाड़ी को रिवर्स किया और उनसे पूछा तो उनको कहीं मंदिर जाना था तो वह मंदिर मेरे घर के थोड़ा दूर ही था तो मैंने उनको वहां छोड़कर मैं वापस अपने घर आ गई तो जब वह उतर रहे थे तो उन्होंने बहुत सारे मुझे आशीर्वाद भी है और बहुत सारी शुभकामनाएं दी तो मुझे उससे बहुत खुशी मिली और आपको क्या चीज से खुशी मिलेगी यह जरूरी नहीं है कि मेरी खुशी आपकी खुशी हो आप अपनी जीवन की खुशियां खुद से ढूंढे कि आपको क्या काम करके खुशी मिलती है किस जगह जाकर आपको खुशी मिलती है किस किस इंसान से बात करके आपको खुशी मिलती है तो आप अपनी खुशी को पहले तो पहचाने और उसके बाद जो जोश लिस्ट मैं आपके आता है कि आपको किन-किन चीजों से खुशी मिल रही है आप उन चीजों को करने का प्रयत्न करें और रोज अपनी खुशी को बढ़ाने की कोशिश करेंAaj Subah Main Apni Gaadi Se Ja Rahi Thi Aur Raste Mein Maine Ek Ka Kafi Bade Umar Ke Insaan Ko Dekha Jo Nishad Chalne Mein Kafi Problem Ho Rahi Thi Aur Us Road Par Koi Auto Bus Kuch Bhi Nahi Aati Main Aage Nikal Gayi Thi Phir Achanak Mein Ruki Main Wapas Liya Maine Apni Gaadi Ko Reverse Kiya Aur Unse Poocha To Unko Kahin Mandir Jana Tha To Wah Mandir Mere Ghar Ke Thoda Dur Hi Tha To Maine Unko Wahan Chodkar Main Wapas Apne Ghar Aa Gayi To Jab Wah Utar Rahe The To Unhone Bahut Sare Mujhe Ashirvaad Bhi Hai Aur Bahut Saree Subhkamnaayain Di To Mujhe Usse Bahut Khushi Mili Aur Aapko Kya Cheez Se Khushi Milegi Yeh Zaroori Nahi Hai Ki Meri Khushi Aapki Khushi Ho Aap Apni Jeevan Ki Khushiyan Khud Se Dhundhe Ki Aapko Kya Kaam Karke Khushi Milti Hai Kis Jagah Jaakar Aapko Khushi Milti Hai Kis Kis Insaan Se Baat Karke Aapko Khushi Milti Hai To Aap Apni Khushi Ko Pehle To Pehchane Aur Uske Baad Jo Josh List Main Aapke Aata Hai Ki Aapko Kin Kin Chijon Se Khushi Mil Rahi Hai Aap Un Chijon Ko Karne Ka Prayatn Karen Aur Roj Apni Khushi Ko Badhane Ki Koshish Karen
Likes  11  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Wah Kya Cheez Hai Jisne Aapko Aaj Khushi Di Main Aisa Kya Karun Jisse Mujhe Bhi Aisi Khushi Mile,


vokalandroid