Aristotle कौन है ? ...

Likes  0  Dislikes

1 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
हरीश टोल एक प्राचीन यूनानी दार्शनिक और वैज्ञानिक थे जो क्लासिकल ग्रीस के उत्तर में डिग्री और चल क्री क्री शहर में पैदा हुए थेHarish Toll Ek Prachin Unani Darshnik Aur Vaigyanik The Jo Classical Grease Ke Uttar Mein Degree Aur Chal Query Query Sheher Mein Paida Hue The
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

अतिरिक्त विकल्प यहां दिखाई देते हैं!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
अरिस्टोटल वस्तु यूनानी दार्शनिक थे वे प्लेटो के शिष्य वो सिकंदर के गुरु थे उनका जन्म जोग एरिया नामक नगर में हुआ था आज उस टोटल ने बहुत ही आध्यात्मिक कविता नाटक संगीत अर्थशास्त्र राजनीति शास्त्र नीति शास्त्र जीवन विज्ञान सहित कई विषयों पर रचना की आर्केस्ट्रा टोली अपने गुरु प्लेटो के कार्य को आगे बढ़ाया प्लाटून सुकरात और चॉकलेट और आइस वाटर पश्चिमी दर्शन शास्त्र की सबसे महान दार्शनिक की में एक है उन्होंने पश्चिमी दर्शन शास्त्र पर पहली व्यापक रचना की जिसमें नीति तर्क विज्ञान राजनीति और अध्यात्म अध्यात्म का निर्गुण था भौतिक विज्ञान पर अरस्तु के विचार में मध्ययुगीन शिक्षा पर व्यापक प्रभाव डाला और उसका प्रभाव पुनर्जागरण पर भी पड़ा अंतिम रूप से न्यूटन के बहुत भौतिकवाद में इसकी जगह ले लिया जीव विज्ञान उनके कुछ संकल्पनाओं की दृष्टि 19वीं सदी में हुई उनके तक शास्त्र आज भी प्रासंगिक प्रासंगिक है उनकी आध्यात्मिक रचनाओं में मध्य युग में इस्लामी को युवती विचारधारा को प्रभावित किया और भी आज भी क्रिश्चन खासकर रोमन कैथोलिक चर्च को प्रभावित कर रही है उनके दर्शन आज भी उच्च कक्षाओं में पढ़ाए जाते हैं इंस्टॉल नहीं अनेक रखना ही की थी जिसमें कई नष्ट हो गए आज स्टार्टिंग का राजनीति पर प्रसिद्ध ग्रंथ पॉलिटिक्स हैAristotal Vastu Unani Darshnik The Ve Pluto Ke Shishya Vo Sikandar Ke Guru The Unka Janm Jog Area Namak Nagar Mein Hua Tha Aaj Us Total Ne Bahut Hi Aadhyatmik Kavita Natak Sangeet Arthashastra Rajneeti Shastra Niti Shastra Jeevan Vigyan Sahit Kai Vishyon Par Rachna Ki Arkestra Toli Apne Guru Pluto Ke Karya Ko Aage Badhaya Plaatun Sukarat Aur Chocolate Aur Ice Water Pashchimi Darshan Shastra Ki Sabse Mahaan Darshnik Ki Mein Ek Hai Unhone Pashchimi Darshan Shastra Par Pehli Vyapak Rachna Ki Jisme Niti Tark Vigyan Rajneeti Aur Adhyaatm Adhyaatm Ka Nirgun Tha Bhautik Vigyan Par Arastu Ke Vichar Mein Madhyaugin Shiksha Par Vyapak Prabhav Dala Aur Uska Prabhav Punarjaagran Par Bhi Pada Antim Roop Se Newton Ke Bahut Bhautikvad Mein Iski Jagah Le Liya Jeev Vigyan Unke Kuch Sankalpanaon Ki Drishti Vi Sadi Mein Hui Unke Tak Shastra Aaj Bhi Prasangik Prasangik Hai Unki Aadhyatmik Rachnaon Mein Madhya Yug Mein Islami Ko Yuvati Vichardhara Ko Prabhavit Kiya Aur Bhi Aaj Bhi Krishchan Khaskar Roman Catholic Church Ko Prabhavit Kar Rahi Hai Unke Darshan Aaj Bhi Uccha Kakshaao Mein Padhaye Jaate Hain Install Nahi Anek Rakhna Hi Ki Thi Jisme Kai Nasht Ho Gaye Aaj Starting Ka Rajneeti Par Prasiddh Granth Politics Hai
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Aristotle Kaun Hai ?, Who Is Aristotle





मन में है सवाल?