search_iconmic
leaderboard
notify
हिंदी
leaderboard
notify
हिंदी
जवाब दें

आजकल के लोग क्यों ज़िन्दगी में सच्चाई को छुपाकर दिखावा में अपनी ज़िन्दगी जी र है हैं? ...

6 जवाब देखें >

Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुड इवनिंग देखी आजकल का ट्रेंड ट्रॉली श्रॉफ का ट्रेंड हो चुका है अगर आपके पास साधारण मोबाइल है तो मेरे पास आप कल फोन है और आगरा पर फोन है तो आई एम आई फोन है यह सब दिखावे के ऊपर जा रहे हैं कंपटीशन की ल...
जवाब पढ़िये
गुड इवनिंग देखी आजकल का ट्रेंड ट्रॉली श्रॉफ का ट्रेंड हो चुका है अगर आपके पास साधारण मोबाइल है तो मेरे पास आप कल फोन है और आगरा पर फोन है तो आई एम आई फोन है यह सब दिखावे के ऊपर जा रहे हैं कंपटीशन की लगन इतनी बढ़ गई है कि हर कोई आपस में कंपटीशन कर रहा है और इस वजह से लोगों को लोग अपनी एहसा अपनी असलियत छुपा छुपा के एक दूसरे को इंप्रेस करने के पीछे पड़ा है कोई लोग इसलिए अपनी सच्चाई छुपाते हैं कि किसी को लड़की को या लड़की को इंप्रेस करना होता है ऑफिस में इसलिए छुपाते हैं कि मैं देखा जाएगा तो आप ऑफिस में मैनेजर मैनेजर मी एक होड़ लगी रहती है क्रैश लगी रहती है कि मैं उससे बेहतर कैसा हूं या मैं उसे बेहतर गाड़ी कैसे रख सकता हूं ऐसे सब चल रहा है लेकिन आंचल में लोग देखा जाएगा तो लोग अपना जिंदगी जीना भूल रहे हैं जिस मैं उस में खुश रहना भूल गए हैं क्योंकि हर एक कोई गो आजकल इतना बड़ा होते जा रहा है और सबको यही लगता है जिसके पास जितना बड़ा बैंक बैलेंस जिसके बाद इंपोर्टेड कार जा न्यू ब्रांडेड कार्स हो वही रोज होता है एक दूसरे को झूठी तारीफ पाने के लिए बोलिए या झूठी एप्रिसिएशन पाने के लिए लोग एक दूसरे के साथ सच्चाई छुपाकर आजकल जीना शुरु हो गया है अब यह अक्षर में गलत है क्योंकि कभी ना कभी इस सारी चीजों का अंत होना है लोग आजकल देखा जाएगा तो मैं क्या के पीछे भाग रहे हैं वह फिर मोबाइल को टीवी हो कार हो बाइक 100 घर हो या ब्रांडेड क्लॉथस ओर रात जीवन शूज क्यों ना हो तो ब्रांड के पीछे जस्ट पब्लिश्ड ओं ऑफ सामने वाले को इंप्रेस करने के लिए जस्ट हम भी अमीर है या हम भी आपके जैसा लाइव इसमें सपोर्ट कर सकते हैं यह देखा देखी के चक्कर में इंसान अपनी सच्चाई भूल रहे हैं थैंक यूGood Evening Dekhi Aajkal Ka Trend Troli Shroff Ka Trend Ho Chuka Hai Agar Aapke Paas Sadhaaran Mobile Hai Toh Mere Paas Aap Kal Phone Hai Aur Agra Par Phone Hai Toh I M I Phone Hai Yeh Sab Dikhaave Ke Upar Ja Rahe Hain Competition Ki Lagan Itni Badh Gayi Hai Ki Har Koi Aapas Mein Competition Kar Raha Hai Aur Is Wajah Se Logon Ko Log Apni Ehasa Apni Asliyat Chhupa Chhupa Ke Ek Dusre Ko Impress Karne Ke Peeche Pada Hai Koi Log Isliye Apni Sacchai Chhupaate Hain Ki Kisi Ko Ladki Ko Ya Ladki Ko Impress Karna Hota Hai Office Mein Isliye Chhupaate Hain Ki Main Dekha Jayega Toh Aap Office Mein Manager Manager Me Ek Hod Lagi Rehti Hai Crash Lagi Rehti Hai Ki Main Usse Behtar Kaisa Hoon Ya Main Use Behtar Gaadi Kaise Rakh Sakta Hoon Aise Sab Chal Raha Hai Lekin Aanchal Mein Log Dekha Jayega Toh Log Apna Zindagi Jeena Bhul Rahe Hain Jis Main Us Mein Khush Rehna Bhul Gaye Hain Kyonki Har Ek Koi Go Aajkal Itna Bada Hote Ja Raha Hai Aur Sabko Yahi Lagta Hai Jiske Paas Jitna Bada Bank Balance Jiske Baad Imported Car Ja New Branded Cars Ho Wahi Roj Hota Hai Ek Dusre Ko Jhuthi Tareef Pane Ke Liye Bolie Ya Jhuthi Eprisieshan Pane Ke Liye Log Ek Dusre Ke Saath Sacchai Cchupakar Aajkal Jeena Shuru Ho Gaya Hai Ab Yeh Akshar Mein Galat Hai Kyonki Kabhi Na Kabhi Is Saree Chijon Ka Ant Hona Hai Log Aajkal Dekha Jayega Toh Main Kya Ke Peeche Bhag Rahe Hain Wah Phir Mobile Ko TV Ho Car Ho Bike 100 Ghar Ho Ya Branded Klathas Aur Raat Jeevan Shoes Kyon Na Ho Toh Brand Ke Peeche Just Published Yuvaon Of Saamne Wale Ko Impress Karne Ke Liye Just Hum Bhi Amir Hai Ya Hum Bhi Aapke Jaisa Live Ismein Support Kar Sakte Hain Yeh Dekha Dekhi Ke Chakkar Mein Insaan Apni Sacchai Bhul Rahe Hain Thank You
Likes  2  Dislikes    views  386
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिए😊

ऐसे और सवाल

ques_icon

अधिक जवाब


6 जवाब देखें >

Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्त तुम्हारा क्वेश्चन है कि आजकल के लोग क्यों जिंदगी में सच्चाई को छुपाकर दिखावा में अपनी जिंदगी जी रहे हैं सच्चाई छुपा रहे हैं और दिखावा कर रहे हैं ज्यादातर अरे घर ढूंढने पर आया जाए कि आखिर ऐसा क्...
जवाब पढ़िये
दोस्त तुम्हारा क्वेश्चन है कि आजकल के लोग क्यों जिंदगी में सच्चाई को छुपाकर दिखावा में अपनी जिंदगी जी रहे हैं सच्चाई छुपा रहे हैं और दिखावा कर रहे हैं ज्यादातर अरे घर ढूंढने पर आया जाए कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है आखिर ऐसा लोग यह सब क्यों कर रहे हैं तो इसको समझने के लिए ना हमें बहुत ही समझ नहीं पड़ेगी दोस्त कि जब हम इस दुनिया में आते हैं तो हम कुछ भी सीख कर नहीं आता सब कुछ यहीं से सीखते हमने खाना सीखा है जिन्होंने भी हमें सिखाया उन्होंने अपने हिसाब से सिखाया और हमने उन्हें के हिसाब से सीखा हमने बोलना सीखा है हमने चलना सीखा है हमने उठना बैठना सीखा है हमने अधिक सीखे हैं हमने आदर करने के तरीके सीखे दिखे ना हमारे भारत में नमस्कार होता है वेस्टर्न कंट्रीज में हेलो होता है हाथ मिलाते हैं बड़े प्यार से गले लगाते हैं बड़े प्यार से हमारे इंडिया में लाओ नहीं है तो हमें जो भी सीखा है हम वही कर रहे होते हैं इसे हमारी लैंग्वेज में प्रोग्रामिंग कहते हैं हारने की भी प्रोग्रामिंग की जा सकती है एक व्यक्ति जिंदगी भर हारता ही रहेगा प्रोग्रामिंग कर दी उसकी एक व्यक्ति हमेशा जीतता ही रहेगा प्रोग्रामिंग कर दी उसकी प्रोग्रामिंग प्रोग्रामिंग दर्शन से आपको क्या पता है आपने क्या सीखा है शिवाजी का नाम अगर आप ने तो आपको पता लगेगा कि उनकी माता जीजाबाई ने उनको शतक प्रोग्राम कर दिया था जीत के लिए प्रोत्साहित कर दिया था उनके अंदर जब भी वह कहते होंगे तो उनके दिमाग में सर एक भाव आता था कोई बात नहीं दोबारा कोशिश करूंगा क्योंकि वह उस तरह से प्रोग्राम कर दिए गए थे उन्हें सुना सुना के कहानियां वीरता की बातें बता बता कर वीर बना दिया गया था तो अगर शिवाजी महाराज भगत सिंह सुभाष चंद्र बोस हम इन सब के नाम लेते हैं उनके कामों के भी आप पर क्योंकि उस तरह से प्रोग्राम थे उनके लिए यह चीजें बहुत छोटी थी देश हित में समर्पण कर देना सब कुछ अर्पित कर देना सखी कुछ प्रोग्राम थे वह लोग उस तरह से जो चोरी कर रहा है उसके अंदर एक ग्रिड 111 लालच नाम की चीज अंदर बैठ जाती वह स्तर से प्रोग्राम हुआ पड़ा है अब उसी तरह से रंग करेगा चोरी चोरी चोरी प्रोग्राम है हम हार भी प्रोग्राम है जिद्दी प्रोग्राम है क्या सीखा है तो अगर किसी ने यह सीखा है कि सच्चाई को छुपाओ और दिखावा करो इसमें खुशी मिलती है तो उसको किसी ने भी लग जाएगी उस तरह से प्रोग्राम हो चुका है कोई नॉनवेज नॉनवेज खाता है तो कोई बचत खाता है कोई 2:00 बजे देखा था आपने क्या सीखा है आपने क्या प्रोग्राम कि आपने अपना को किस तरह से डाल लिया है सारी चीजें इस पर निर्भर है इसमें परिवर्तन किया जा सकता है उम्मीद करता हूं आपको आपके सवाल का जवाब जरूर मिल गया होगा सेटिस्फाई हो गए हो तो मुझे जरुर बताइएगा एक बारDost Tumhara Question Hai Ki Aajkal Ke Log Kyon Zindagi Mein Sacchai Ko Cchupakar Dikhawa Mein Apni Zindagi Ji Rahe Hain Sacchai Chhupa Rahe Hain Aur Dikhawa Kar Rahe Hain Jyadatar Arre Ghar Dhundhane Par Aaya Jaye Ki Aakhir Aisa Kyon Ho Raha Hai Aakhir Aisa Log Yeh Sab Kyon Kar Rahe Hain Toh Isko Samjhne Ke Liye Na Humein Bahut Hi Samajh Nahi Padegi Dost Ki Jab Hum Is Duniya Mein Aate Hain Toh Hum Kuch Bhi Seekh Kar Nahi Aata Sab Kuch Yahin Se Sikhate Humne Khana Seekha Hai Jinhone Bhi Humein Sikhaya Unhone Apne Hisab Se Sikhaya Aur Humne Unhein Ke Hisab Se Seekha Humne Bolna Seekha Hai Humne Chalna Seekha Hai Humne Uthana Baithana Seekha Hai Humne Adhik Sikhe Hain Humne Aadar Karne Ke Tarike Sikhe Dikhe Na Hamare Bharat Mein Namaskar Hota Hai Western Countries Mein Hello Hota Hai Hath Milaate Hain Bade Pyar Se Gale Lagate Hain Bade Pyar Se Hamare India Mein Laao Nahi Hai Toh Humein Jo Bhi Seekha Hai Hum Wahi Kar Rahe Hote Hain Ise Hamari Language Mein Programming Kehte Hain Haarne Ki Bhi Programming Ki Ja Sakti Hai Ek Vyakti Zindagi Bhar Harta Hi Rahega Programming Kar Di Uski Ek Vyakti Hamesha Jitata Hi Rahega Programming Kar Di Uski Programming Programming Darshan Se Aapko Kya Pata Hai Aapne Kya Seekha Hai Shivaji Ka Naam Agar Aap Ne Toh Aapko Pata Lagega Ki Unki Mata Jijabai Ne Unko Shatak Program Kar Diya Tha Jeet Ke Liye Protsahit Kar Diya Tha Unke Andar Jab Bhi Wah Kehte Honge Toh Unke Dimag Mein Sar Ek Bhav Aata Tha Koi Baat Nahi Dobara Koshish Karunga Kyonki Wah Us Tarah Se Program Kar Diye Gaye The Unhein Suna Suna Ke Kahaniyan Veerta Ki Batein Bata Bata Kar Veer Bana Diya Gaya Tha Toh Agar Shivaji Maharaj Bhagat Singh Subhash Chandra Bose Hum In Sab Ke Naam Lete Hain Unke Kamon Ke Bhi Aap Par Kyonki Us Tarah Se Program The Unke Liye Yeh Cheezen Bahut Choti Thi Desh Hit Mein Samarpan Kar Dena Sab Kuch Arpit Kar Dena Sakhi Kuch Program The Wah Log Us Tarah Se Jo Chori Kar Raha Hai Uske Andar Ek Grid 111 Lalach Naam Ki Cheez Andar Baith Jati Wah Sthar Se Program Hua Pada Hai Ab Usi Tarah Se Rang Karega Chori Chori Chori Program Hai Hum Haar Bhi Program Hai Jiddi Program Hai Kya Seekha Hai Toh Agar Kisi Ne Yeh Seekha Hai Ki Sacchai Ko Chupao Aur Dikhawa Karo Ismein Khushi Milti Hai Toh Usko Kisi Ne Bhi Lag Jayegi Us Tarah Se Program Ho Chuka Hai Koi Nonveg Nonveg Khaata Hai Toh Koi Bachat Khaata Hai Koi 2:00 Baje Dekha Tha Aapne Kya Seekha Hai Aapne Kya Program Ki Aapne Apna Ko Kis Tarah Se Daal Liya Hai Saree Cheezen Is Par Nirbhar Hai Ismein Parivartan Kiya Ja Sakta Hai Ummid Karta Hoon Aapko Aapke Sawal Ka Jawab Zaroor Mil Gaya Hoga Satisfy Ho Gaye Ho Toh Mujhe Zaroor Bataiega Ek Baar
Likes  5  Dislikes    views  749
WhatsApp_icon
6 जवाब देखें >

Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो प्रिंस जिंदगी में हर आदमी अपने आपकी लगाता है वह अपने आप को साबित करना चाहता है कि मैं उससे बड़ा हूं जिस आदमी से बड़ा हूं पर बड़ी-बड़ी में आदमी अपनी सच्चाई को भूल कर के बुराई का साथ पकड़ लेते हैं ...
जवाब पढ़िये
हेलो प्रिंस जिंदगी में हर आदमी अपने आपकी लगाता है वह अपने आप को साबित करना चाहता है कि मैं उससे बड़ा हूं जिस आदमी से बड़ा हूं पर बड़ी-बड़ी में आदमी अपनी सच्चाई को भूल कर के बुराई का साथ पकड़ लेते हैं और आगे चलकर ही तो बहुत ही प्रॉब्लम होती हैHello Prince Zindagi Mein Har Aadmi Apne Aapki Lagata Hai Wah Apne Aap Ko Saabit Karna Chahta Hai Ki Main Usse Bada Hoon Jis Aadmi Se Bada Hoon Par Badi Badi Mein Aadmi Apni Sacchai Ko Bhul Kar Ke Burayi Ka Saath Pakad Lete Hain Aur Aage Chalkar Hi Toh Bahut Hi Problem Hoti Hai
Likes  0  Dislikes    views  430
WhatsApp_icon
6 जवाब देखें >

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल के लोग क्यों जिंदगी में सच्चाई को छुपाकर दिखाओ मैं अपनी जिंदगी जी रहे हैं यह बात सही है कि आजकल के लोग सच्चाई को छुपाकर दिखाओ मैं जिंदगी जी रहे कहीं ना कहीं वह लोग मैं सारे लोगों पर यह बात सच साब...
जवाब पढ़िये
आजकल के लोग क्यों जिंदगी में सच्चाई को छुपाकर दिखाओ मैं अपनी जिंदगी जी रहे हैं यह बात सही है कि आजकल के लोग सच्चाई को छुपाकर दिखाओ मैं जिंदगी जी रहे कहीं ना कहीं वह लोग मैं सारे लोगों पर यह बात सच साबित नहीं होती है कुछ परसेंटेज लोग हैं भले ही उनके परसेंटेज की संख्या ज्यादा हो लेकिन है परसेंटेज लोग जो ऐसा करते हैं तो शायद उन्हें अपने अस्तित्व का कोई ज्ञान नहीं है और यह कहे कि वह अपने जिंदगी में स्थायित्व प्राप्त कभी नहीं कर सकते अगर जो ऐसा करते हैं तो भले ही कुछ क्षण के लिए खुद को धोखा देते हैं सामने वाले को धोखा देते हैं लेकिन यह नहीं समझते कि अपने अस्तित्व को खोते जा रहे हैं ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि यह भागम भाग की दुनिया में वह उनके पैर जमीन पर टिक नहीं रहे हैं और इसलिए वह दिखा दे की जिंदगी जी रहे हैं लेकिन दिखावे की जिंदगी में चैन शांति सुकून नहीं है इसलिए ऐसा नहीं करना चाहिए धन्यवादAajkal Ke Log Kyon Zindagi Mein Sacchai Ko Cchupakar Dikhaao Main Apni Zindagi Ji Rahe Hain Yeh Baat Sahi Hai Ki Aajkal Ke Log Sacchai Ko Cchupakar Dikhaao Main Zindagi Ji Rahe Kahin Na Kahin Wah Log Main Saare Logon Par Yeh Baat Sach Saabit Nahi Hoti Hai Kuch Percentage Log Hain Bhale Hi Unke Percentage Ki Sankhya Zyada Ho Lekin Hai Percentage Log Jo Aisa Karte Hain Toh Shayad Unhein Apne Astitva Ka Koi Gyaan Nahi Hai Aur Yeh Kahe Ki Wah Apne Zindagi Mein Sthaayitv Prapt Kabhi Nahi Kar Sakte Agar Jo Aisa Karte Hain Toh Bhale Hi Kuch Kshan Ke Liye Khud Ko Dhokha Dete Hain Saamne Wale Ko Dhokha Dete Hain Lekin Yeh Nahi Samajhte Ki Apne Astitva Ko Khote Ja Rahe Hain Aisa Nahi Karna Chahiye Kyonki Yeh Bhagam Bhag Ki Duniya Mein Wah Unke Pair Jameen Par Tick Nahi Rahe Hain Aur Isliye Wah Dikha De Ki Zindagi Ji Rahe Hain Lekin Dikhaave Ki Zindagi Mein Chain Shanti Sukoon Nahi Hai Isliye Aisa Nahi Karna Chahiye Dhanyavad
Likes  0  Dislikes    views  375
WhatsApp_icon
6 जवाब देखें >

Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल लोग जो है वह दिखाओ टीलाइट को ज्यादा इंपोर्टेंस देते हैं वह की इसलिए देते हैं कि सोचते हैं कि हम इस सोसाइटी में रह रहे हैं कि किसी से हम नीचे नदी के खुद को हमेशा एक दूसरे से ऊपर दिखाना चाहते हैं व...
जवाब पढ़िये
आजकल लोग जो है वह दिखाओ टीलाइट को ज्यादा इंपोर्टेंस देते हैं वह की इसलिए देते हैं कि सोचते हैं कि हम इस सोसाइटी में रह रहे हैं कि किसी से हम नीचे नदी के खुद को हमेशा एक दूसरे से ऊपर दिखाना चाहते हैं वह अंदर से भले ही उनकी आमदनी कम उनकी हैसियत कम हो लेकिन वह बाहर से इस तरह रहना चाहते हैं कि कोई देकर उनको उन पर कोई देखकर हसीना की इनकी आमदनी कम है आजकल की सोसाइटी में हसीब कुछ ज्यादा ही तेज हो गई है लोगों लोगों की रियलिटी को नहीं पहचान कर बल्कि उसकी औकात को देख रहे हैं उसकी औकात को देखकर मजाक उड़ाते हैं तो ऐसी थारी दिक्कतें हैं जिसकी वजह से इंसान को अपनी जो रियलिटी होती है उसे छुपानी पड़ती है और दिखावा का जिंदगी जीना पड़ता है अगर वह अपनी रियलिटी को ही सबके सामने भरेंगे तो यह सोसाइटी आजकल का जमाना है उन्हें सही से जीने नहीं देगा तो इसलिए जरूरी हो गया है आजकल कि हम अंदर जो भी है लेकिन बाहर से हमें उनसे बहुत ऊंचा रे देखना है तो हमें उनसे कम नहीं देखना है इसी सोच की वजह से लोग रियलिटी लाइफ कम दिखावटी लाइफ ज्यादा जी रहे हैंAajkal Log Jo Hai Wah Dikhaao Tealight Ko Zyada Importance Dete Hain Wah Ki Isliye Dete Hain Ki Sochte Hain Ki Hum Is Society Mein Reh Rahe Hain Ki Kisi Se Hum Neeche Nadi Ke Khud Ko Hamesha Ek Dusre Se Upar Dikhana Chahte Hain Wah Andar Se Bhale Hi Unki Aamdani Kam Unki Haisiyat Kam Ho Lekin Wah Bahar Se Is Tarah Rehna Chahte Hain Ki Koi Dekar Unko Un Par Koi Dekhkar Hasina Ki Inki Aamdani Kam Hai Aajkal Ki Society Mein Haseeb Kuch Zyada Hi Tez Ho Gayi Hai Logon Logon Ki Reality Ko Nahi Pehchaan Kar Balki Uski Aukat Ko Dekh Rahe Hain Uski Aukat Ko Dekhkar Mazak Udate Hain Toh Aisi Thari Dikkaten Hain Jiski Wajah Se Insaan Ko Apni Jo Reality Hoti Hai Use Chhupani Padti Hai Aur Dikhawa Ka Zindagi Jeena Padta Hai Agar Wah Apni Reality Ko Hi Sabke Saamne Bharenge Toh Yeh Society Aajkal Ka Jamana Hai Unhein Sahi Se Jeene Nahi Dega Toh Isliye Zaroori Ho Gaya Hai Aajkal Ki Hum Andar Jo Bhi Hai Lekin Bahar Se Humein Unse Bahut Uncha Ray Dekhna Hai Toh Humein Unse Kam Nahi Dekhna Hai Isi Soch Ki Wajah Se Log Reality Life Kam Dikhavati Life Zyada Ji Rahe Hain
Likes  2  Dislikes    views  320
WhatsApp_icon
6 जवाब देखें >

Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखें ऐसा नहीं होता है लोगों को जो करना होता है जो अपनी जिंदगी में वह वह लोग करते हैं कोई भी दिखावा नहीं करता है दिखावा करने का कोई कोई मतलब ही नहीं होता है क्योंकि किसी को कोई किसने लिखा हुआ चाहिए फर...
जवाब पढ़िये
देखें ऐसा नहीं होता है लोगों को जो करना होता है जो अपनी जिंदगी में वह वह लोग करते हैं कोई भी दिखावा नहीं करता है दिखावा करने का कोई कोई मतलब ही नहीं होता है क्योंकि किसी को कोई किसने लिखा हुआ चाहिए फर्क नहीं पड़ता इसलिए सब लोग वैसे ही जिंदगी जीते जैसे उनको पसंद होता है वैसे ही कार्य भी करते हैं तो ऐसे ही होता हैDekhen Aisa Nahi Hota Hai Logon Ko Jo Karna Hota Hai Jo Apni Zindagi Mein Wah Wah Log Karte Hain Koi Bhi Dikhawa Nahi Karta Hai Dikhawa Karne Ka Koi Koi Matlab Hi Nahi Hota Hai Kyonki Kisi Ko Koi Kisne Likha Hua Chahiye Fark Nahi Padta Isliye Sab Log Waise Hi Zindagi Jeete Jaise Unko Pasand Hota Hai Waise Hi Karya Bhi Karte Hain Toh Aise Hi Hota Hai
Likes  0  Dislikes    views  342
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Aajkal Ke Log Kyon Zindagi Mein Sacchai Ko Cchupakar Dikhawa Mein Apni Zindagi Ji R Hai Hain,Why Are People Of Today Living Their Life In The Show By Hiding The Truth In Life?,


vokalandroid