1991 के बाद भारत की अर्थव्यवस्था में क्या प्रभाव पड़ा है ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डीजे 1991 के बाद में भारत की अर्थव्यवस्था में बहुत ज्यादा सुधार हुआ है अगर देखें तो 1991 की पहली थी जो सिचुएशन थी तो उस समय कोई भी चीज का इंपोर्ट करना एक्सपोर्ट करना फॉरेन करेंसी से रिलेटेड रेगुलेशन औ...
जवाब पढ़िये
डीजे 1991 के बाद में भारत की अर्थव्यवस्था में बहुत ज्यादा सुधार हुआ है अगर देखें तो 1991 की पहली थी जो सिचुएशन थी तो उस समय कोई भी चीज का इंपोर्ट करना एक्सपोर्ट करना फॉरेन करेंसी से रिलेटेड रेगुलेशन और उसके अलावा कोई कंपनी शुरू करना है इन सब से रिलेटेड बहुत ज्यादा कॉन्प्लिकेटेड प्रोसीजर हुआ करते थे आपको कोई भी काम भी शुरू करने से पहले जो है आप को उसके लिए लाइसेंस लेना पड़ता था कोई भी सामान इंपोर्ट देती और हर चीज में बड़ी लिमिटेड कंपनी सीएसएफ कार के मामले में आप देखें तो दो-तीन कंपनी इंडिया में थी जो कार्बन आया करती थी टेलीविजन से यह सारी की सारी चीजें जो है वह लड़की आइटम माने जाते थे इनका इंपोर्ट जो है वह अलाउड नहीं था केवल इंडिया में बनते थे बहुत ही पुअर क्वालिटी की चीजें बनती थी 1991 में जो हमारी जी कॉल मी हाउस को जब हमने लिबरलाइज किया तो हमने अपने को दुनिया के साथ जोड़ दिया और उसके बाद में हमारे देश में जो मैनिफैक्चरिंग सेक्टर है और मैं सचिन सेक्टर से भी ज्यादा जो हमारा सर्विस सेक्टर है उसमें काफी तेजी से उन्नति हुई और हमारी कॉलोनी की जो ग्रोथ है वह बहुत तेजी से होने लगी तो 1991 जो है इस तरीके से मोटर शेयर करके उसके बाद में और उसके पहले जो है उद्देश्य है वह अलग अलग तरीके की अर्थव्यवस्था कर रहा था और आज जो हमें इस देश में जो समृद्धि दिखाई देती है उसके लिए 1991 से जो है हम उसको कंपेयर कर सकते हैं और अधिक सकते हैं 1991 के बाद में ही सबसे हमारे देश में आई हैDJ 1991 Ke Baad Mein Bharat Ki Arthavyavastha Mein Bahut Zyada Sudhaar Hua Hai Agar Dekhen To 1991 Ki Pehli Thi Jo Situation Thi To Us Samay Koi Bhi Cheez Ka Import Karna Export Karna Foreign Currency Se Related Regulation Aur Uske Alava Koi Company Shuru Karna Hai In Sab Se Related Bahut Zyada Kampliketed Procedure Hua Karte The Aapko Koi Bhi Kaam Bhi Shuru Karne Se Pehle Jo Hai Aap Ko Uske Liye License Lena Padata Tha Koi Bhi Saamaan Import Deti Aur Har Cheez Mein Badi Limited Company CSF Car Ke Mamle Mein Aap Dekhen To Do Teen Company India Mein Thi Jo Carbon Aaya Karti Thi Television Se Yeh Saree Ki Saree Cheezen Jo Hai Wah Ladki Item Mane Jaate The Inka Import Jo Hai Wah Allowed Nahi Tha Kewal India Mein Bante The Bahut Hi Poor Quality Ki Cheezen Banti Thi 1991 Mein Jo Hamari G Call Me House Ko Jab Humne Libaralaij Kiya To Humne Apne Ko Duniya Ke Saath Jod Diya Aur Uske Baad Mein Hamare Desh Mein Jo Mainifaikcharing Sector Hai Aur Main Sachin Sector Se Bhi Zyada Jo Hamara Service Sector Hai Usamen Kafi Teji Se Unnati Hui Aur Hamari Colony Ki Jo Growth Hai Wah Bahut Teji Se Hone Lagi To 1991 Jo Hai Is Tarike Se Motor Share Karke Uske Baad Mein Aur Uske Pehle Jo Hai Uddeshya Hai Wah Alag Alag Tarike Ki Arthavyavastha Kar Raha Tha Aur Aaj Jo Hume Is Desh Mein Jo Samridhi Dikhai Deti Hai Uske Liye 1991 Se Jo Hai Hum Usko Compare Kar Sakte Hain Aur Adhik Sakte Hain 1991 Ke Baad Mein Hi Sabse Hamare Desh Mein I Hai
Likes  74  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

1991 में भारत ने जब उदारीकरण की व्यवस्था शुरू की उससे पहले भारत की जो अर्थव्यवस्था क्यों बहुत ही बुरी हालत में थी हमारे पास जो डॉलर का रिजल्ट पड़ा हुआ था वह 3 हफ्ते के लिए इंपोर्ट जॉब ओएलएक्स इंपोर्ट ...
जवाब पढ़िये
1991 में भारत ने जब उदारीकरण की व्यवस्था शुरू की उससे पहले भारत की जो अर्थव्यवस्था क्यों बहुत ही बुरी हालत में थी हमारे पास जो डॉलर का रिजल्ट पड़ा हुआ था वह 3 हफ्ते के लिए इंपोर्ट जॉब ओएलएक्स इंपोर्ट करते हैं उसके लिए भी सर्विस ऐड नहीं था तो भारत को अपना सोना भी गिरवी रखना पड़ा था बैंक ऑफ इंग्लैंड में उसके बाद भारत में उदारीकरण की व्यवस्था शुरू की यानी कि यहां पर विदेशी कंपनियों को व्यापार करने के लिए छूट दी गई और हमारी कंपनियों के लिए बीज और स्टेशन से जो लाइसेंस राजस्थान को कम किया मनमोहन सिंह उस समय वित्त मंत्री थे और पी वी नरसिम्हा राव प्रधानमंत्री थे तो वह डॉक्टर मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में इतना काम हुआ और जो उदारीकरण की प्रक्रिया शुरू हुई उससे हमारी अर्थव्यवस्था को एक अलग दिशा मिली एक अच्छी गति मिली है और वह काम हमारी 19 में ग्रोथ रेट है जो जीडीपी की विकास दर है उसको बढ़ाने में बहुत सहायक हुआ और आप देख रहे होंगे कि उसके बाद लगातार भारत की अर्थव्यवस्था अच्छी गति से बढ़ रही है और अभी भी भारत विश्व में बहुत अच्छे दर से बढ़ रहा है और इस साल तो भारत की अर्थव्यवस्था की ग्रोथ रेट सबसे हाईएस्ट थी लेकिन 1991 से वह परिवर्तन शुरू हुआ और वह अभी हमें आगे तक भी चाहिए जिससे कि भारत विश्व में एक बहुत स्ट्रांग इकोनामिक पावर बन सके1991 Mein Bharat Ne Jab Udarikaran Ki Vyavastha Shuru Ki Usse Pehle Bharat Ki Jo Arthavyavastha Kyon Bahut Hi Buri Halat Mein Thi Hamare Paas Jo Dollar Ka Result Pada Hua Tha Wah 3 Hafte Ke Liye Import Job OLX Import Karte Hain Uske Liye Bhi Service Aid Nahi Tha To Bharat Ko Apna Sona Bhi Giravi Rakhna Pada Tha Bank Of England Mein Uske Baad Bharat Mein Udarikaran Ki Vyavastha Shuru Ki Yani Ki Yahan Par Videshi Companion Ko Vyapar Karne Ke Liye Chhut Di Gayi Aur Hamari Companion Ke Liye Beej Aur Station Se Jo License Rajasthan Ko Kam Kiya Manmohan Singh Us Samay Vitt Mantri The Aur P V Narsimha Rav Pradhanmantri The To Wah Doctor Manmohan Singh Ki Adhyakshata Mein Itna Kaam Hua Aur Jo Udarikaran Ki Prakriya Shuru Hui Usse Hamari Arthavyavastha Ko Ek Alag Disha Mili Ek Acchi Gati Mili Hai Aur Wah Kaam Hamari 19 Mein Growth Rate Hai Jo Gdp Ki Vikash Dar Hai Usko Badhane Mein Bahut Sahaayak Hua Aur Aap Dekh Rahe Honge Ki Uske Baad Lagatar Bharat Ki Arthavyavastha Acchi Gati Se Badh Rahi Hai Aur Abhi Bhi Bharat Vishwa Mein Bahut Acche Dar Se Badh Raha Hai Aur Is Saal To Bharat Ki Arthavyavastha Ki Growth Rate Sabse Highest Thi Lekin 1991 Se Wah Pariwartan Shuru Hua Aur Wah Abhi Hume Aage Tak Bhi Chahiye Jisse Ki Bharat Vishwa Mein Ek Bahut Strong Ikonamik Power Ban Sake
Likes  65  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सन 1991 के बाद भारत की अर्थव्यवस्था कुछ दिन तक सही थी जब स्वर्गीय श्री प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई जी थे उसके बाद जब डॉक्टर मनमोहन सिंह का राज्य आया तो हमारे देश की इकोनॉमी कल स्थिति काफी खराब हो ग...
जवाब पढ़िये
सन 1991 के बाद भारत की अर्थव्यवस्था कुछ दिन तक सही थी जब स्वर्गीय श्री प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई जी थे उसके बाद जब डॉक्टर मनमोहन सिंह का राज्य आया तो हमारे देश की इकोनॉमी कल स्थिति काफी खराब हो गई हमारे देश में भ्रष्टाचार बढ़ गया हमारे देश में सांप्रदायिकता का जहर फैल गया हमारे देश में जातिवाद का जहर फैल गया हमारे देश में परिवारवाद होने लगा तो उसके बाद जब प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की सरकार बनी सन 2014 में उसके बाद हमारे देश की स्थिति का बहुत अच्छी है आज हमारा देश पूरे वर्ल्ड में सबसे अधिक तेजी से ग्रोथ करने वाला देश है चाहे वह ग्लोबल लेवल पर हो या नेशनल लेवल पर हमारे अगर जीडीपी की बात की जाए तो जीडीपी भी अच्छी है इकोनॉमिकल स्थिति की बात की जाए तो वह भी काफी अच्छे से बढ़ रही है रही बात नोटबंदी और जीएसटी के माध्यम से बीच में थोड़ा सा हमारा हमारा जीडीपी कम हुआ था लेकिन फिर से जीडीपी मेंटेन हो गया धन्यवादSun 1991 Ke Baad Bharat Ki Arthavyavastha Kuch Din Tak Sahi Thi Jab Swargiya Shri Pradhanmantri Atal Bihari Vajpayee G The Uske Baad Jab Doctor Manmohan Singh Ka Rajya Aaya To Hamare Desh Ki Economy Kal Sthiti Kafi Kharab Ho Gayi Hamare Desh Mein Bhrashtachar Badh Gaya Hamare Desh Mein Saampradayikta Ka Zahar Fail Gaya Hamare Desh Mein Jaatiwad Ka Zahar Fail Gaya Hamare Desh Mein Parivaarvaad Hone Laga To Uske Baad Jab Pradhanmantri Shri Narendra Modi G Ki Sarkar Bani Sun 2014 Mein Uske Baad Hamare Desh Ki Sthiti Ka Bahut Acchi Hai Aaj Hamara Desh Poore World Mein Sabse Adhik Teji Se Growth Karne Vala Desh Hai Chahe Wah Global Level Par Ho Ya National Level Par Hamare Agar Gdp Ki Baat Ki Jaye To Gdp Bhi Acchi Hai Ikonamikal Sthiti Ki Baat Ki Jaye To Wah Bhi Kafi Acche Se Badh Rahi Hai Rahi Baat Notebandi Aur Gst Ke Maadhyam Se Bich Mein Thoda Sa Hamara Hamara Gdp Kam Hua Tha Lekin Phir Se Gdp Maintain Ho Gaya Dhanyavad
Likes  10  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

1939 के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था में जो है वह थोड़ी मजबूती वह बहुत ही ज्यादा गरीब देश माना जाता था बहुत सारे कारणों की वजह से जैसे कि बहुत बार चाइना पाकिस्तान से दो बार बार हो चुका है चाइनीस तू बार-बार...
जवाब पढ़िये
1939 के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था में जो है वह थोड़ी मजबूती वह बहुत ही ज्यादा गरीब देश माना जाता था बहुत सारे कारणों की वजह से जैसे कि बहुत बार चाइना पाकिस्तान से दो बार बार हो चुका है चाइनीस तू बार-बार होने के बाद जो है वह चाइना भारत जय हो बहुत ही कमजोर स्थिति में आ चुका था लेकिन इसके बाद जो है वह भारत की स्थिति सुधरने लगी भारतीय सुनामी मजबूती आने लगी सा मंत्र है जो हमें का बीजेपी में कैसे टिके अटल बिहारी वाजपेई जब आए और कुछ समय के लिए थे प्रोग्राम होने के कारण जो भारत की कमी बहुत ज्यादा1939 Ke Baad Bharatiya Arthavyavastha Mein Jo Hai Wah Thodi Majbuti Wah Bahut Hi Zyada Garib Desh Mana Jata Tha Bahut Sare Kaarno Ki Wajah Se Jaise Ki Bahut Baar China Pakistan Se Do Baar Baar Ho Chuka Hai Chinese Tu Baar Baar Hone Ke Baad Jo Hai Wah China Bharat Jai Ho Bahut Hi Kamjor Sthiti Mein Aa Chuka Tha Lekin Iske Baad Jo Hai Wah Bharat Ki Sthiti Sudharne Lagi Bharatiya Tsunami Majbuti Aane Lagi Sa Mantra Hai Jo Hume Ka Bjp Mein Kaise Tike Atal Bihari Vajpayee Jab Aaye Aur Kuch Samay Ke Liye The Program Hone Ke Kaaran Jo Bharat Ki Kami Bahut Zyada
Likes  11  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: 1991 Ke Baad Bharat Ki Arthavyavastha Mein Kya Prabhav Pada Hai ?

vokalandroid