चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह जो HDFC मामला है जिसके कारण 2 अप्रैल 2018 को भारत को बंद रखा गया जगह-जगह प्रदर्शन किए गए तोड़फोड़ की गई रैलियां निकाली गई वह मामला यह है कि पहले s t s e f तथा जिसके तहत अगर कोई भी व्यक्ति एसटी एससी...
जवाब पढ़िये
यह जो HDFC मामला है जिसके कारण 2 अप्रैल 2018 को भारत को बंद रखा गया जगह-जगह प्रदर्शन किए गए तोड़फोड़ की गई रैलियां निकाली गई वह मामला यह है कि पहले s t s e f तथा जिसके तहत अगर कोई भी व्यक्ति एसटी एससी जाति वालों को कुछ भी अनुचित शब्द खाता था तो वह उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट यीशु करवा सकता था और उसे उसकी तुरंत गिरफ्तारी होती थी और फिर अग्रिम जमानत भी नहीं दी जाती थी परंतु सुप्रीम कोर्ट ने इस एक्ट में इस एक्ट में संशोधन करते हुए यह बतलाया कि अगर कोई भी ऐसा मामला उभरता है तो सबसे पहले उसकी अच्छे से जांच की जाए बिना सबूत के आधार पर किसी को गिरफ्तार नहीं किया जाए 1 डिस्ट्रिक्ट लेवल ऑफिसर की अप्रूवल दी जाए और साथ ही साथ 7 दिनों तक का वक्त भी लिया जाए परंतु सुख ST वालों ने इसे अपने अधिकारों का हनन समझा और उन्होंने इतने बड़े हंगामे को अंजाम दिया परंतु यह सुप्रीम कोर्ट ने इसलिए किया था क्योंकि हाल ही में ऐसे लगभग 13 से 14 साल के शख्स का पता जितने कि SC ST वालों ने फर्जी किया है तो इसी कारण सुप्रीम कोर्ट ने यह कानून में संशोधन किया था क्योंकि इस पर बहुत ज्यादा फर्जीवाड़े हो रहे थे और ST वालों को भी सुप्रीम कोर्ट का सम्मान करना चाहिए क्योंकि सुप्रीम कोर्ट जब भी कोई भी फैसला सुनाती है तो वह हमारे हित नहीं होता है देश के नागरिकों के हित में भी होता हित में ही होता है तो इसी कारण परंतु एसटी-एससी वालों ने ऐसा नहीं किया और उन्होंने इतने बड़े हंगामे को अंजाम दिया जो कि बहुत ही गलत थाYeh Jo HDFC Maamla Hai Jiske Kaaran 2 April 2018 Ko Bharat Ko Band Rakha Gaya Jagah Jagah Pradarshan Kiye Gaye Todfod Ki Gayi Railiyan Nikali Gayi Wah Maamla Yeh Hai Ki Pehle S T S E F Tatha Jiske Tahat Agar Koi Bhi Vyakti ST Sc Jati Walon Ko Kuch Bhi Anuchit Shabdh Khaata Tha To Wah Uske Khilaf Gair Jamanati Warrant Yeshu Karava Sakta Tha Aur Use Uski Turant Giraftari Hoti Thi Aur Phir Agrim Jamanat Bhi Nahi Di Jati Thi Parantu Supreme Court Ne Is Act Mein Is Act Mein Sanshodhan Karte Hue Yeh Batalaya Ki Agar Koi Bhi Aisa Maamla Ubharta Hai To Sabse Pehle Uski Acche Se Janch Ki Jaye Bina Sabut Ke Aadhar Par Kisi Ko Giraftar Nahi Kiya Jaye 1 District Level Officer Ki Approval Di Jaye Aur Saath Hi Saath 7 Dinon Tak Ka Waqt Bhi Liya Jaye Parantu Sukh ST Walon Ne Ise Apne Adhikaaro Ka Hanan Samjha Aur Unhone Itne Bade Hangame Ko Anjaam Diya Parantu Yeh Supreme Court Ne Isliye Kiya Tha Kyonki Haal Hi Mein Aise Lagbhag 13 Se 14 Saal Ke Sakhs Ka Pata Jitne Ki SC ST Walon Ne Farjee Kiya Hai To Isi Kaaran Supreme Court Ne Yeh Kanoon Mein Sanshodhan Kiya Tha Kyonki Is Par Bahut Jyada Pharjivaade Ho Rahe The Aur ST Walon Ko Bhi Supreme Court Ka Samman Karna Chahiye Kyonki Supreme Court Jab Bhi Koi Bhi Faisla Sunati Hai To Wah Hamare Hit Nahi Hota Hai Desh Ke Naagrikon Ke Hit Mein Bhi Hota Hit Mein Hi Hota Hai To Isi Kaaran Parantu ST Sc Walon Ne Aisa Nahi Kiya Aur Unhone Itne Bade Hangame Ko Anjaam Diya Jo Ki Bahut Hi Galat Tha
Likes  3  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

SC ST मामले की शुरुआत एक शिकायत से हुई थी ऐसी समुदाय से संबंध रखने वाले एक व्यक्ति ने महाराष्ट्र के सरकारी अधिकारी सुभाष काशीनाथ महाजन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी शिकायत में महाजनपद उस व्यक्ति ने अपन...
जवाब पढ़िये
SC ST मामले की शुरुआत एक शिकायत से हुई थी ऐसी समुदाय से संबंध रखने वाले एक व्यक्ति ने महाराष्ट्र के सरकारी अधिकारी सुभाष काशीनाथ महाजन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी शिकायत में महाजनपद उस व्यक्ति ने अपने ऊपर कथित आपत्तिजनक टिप्पणी के मामले में अपने दो जूनियर एंप्लाइज के खिलाफ कानूनी कार्यवाही पर रोक लगाने का आरोप लगाया था याचिकाकर्ता का कहना था कि उन्हें एंप्लाइज ने उस पर जातिसूचक टिप्पणी की थी गैर अनुसूचित जाति के इन अधिकारियों ने उस व्यक्ति की वार्षिक गोपनीय रिपोर्ट में उसके खिलाफ टिप्पणी की थी जब मामले की जांच कर रहे पुलिस अधिकारी ने अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही के लिए उनके वरिष्ठ अधिकारियों से इजाजत मांगी तो इजाजत नहीं दी गई इस पर उनके खिलाफ भी पुलिस ने मामला दर्ज कर दिया गया बचाव पक्ष का कहना है कि अगर किसी अनुसूचित जाति के व्यक्ति के खिलाफ इमानदार टिप्पणी करना अपराध है तो इससे काम करना मुश्किल हो जाएगा महाजन ने FIR खारिज कराने के लिए हाई कोर्ट में गए लेकिन मुंबई उच्च न्यायालय ने इससे इंकार कर दिया इसके बाद महाजन ने हाईकोर्ट के फैसले को शीर्ष अदालत में चुनौती दी इस अदालत ने उन पर FIR हटाने का आदेश देते हुए अनुसूचित जाति जनजाति एक्ट के तहत तत्काल गिरफ्तारी पर रोक का आदेश दिया था सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे मामलों में अग्रिम जमानत को भी मंजूरी दे दी थी यही इस मामले की मुख्य बिंदु है कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में एक्ट के दुरुपयोग पर चिंता जताते हुए तत्काल गिरफ्तारी पर रोक लगादी की अदालत ने ऐसे मामलों में अग्रिम जमानत के प्रावधान को भी दी थी मंजूरी सरकारी अफसरों की गिरफ्तारी के लिए जरूरी बताई गई थी और पेंटिंग और सृष्टि की मंजूरी के विरुद्ध दलित वर्ग में बंद का आह्वान किया है जो कि गलत है जिससे इतनी हिंसात्मक घटनाएं हुई हैSC ST Mamle Ki Shuruvat Ek Shikayat Se Hui Thi Aisi Samuday Se Sambandh Rakhne Wale Ek Vyakti Ne Maharashtra Ke Sarkari Adhikari Subhash Kashinath Mahaajan Ke Khilaf Shikayat Darj Karai Thi Shikayat Mein Mahajanpad Us Vyakti Ne Apne Upar Kathit Aapattijanak Tippani Ke Mamle Mein Apne Do Junior Emplaij Ke Khilaf Kanooni Karyavahi Par Rok Lagane Ka Aarop Lagaya Tha Yachikakarta Ka Kehna Tha Ki Unhen Emplaij Ne Us Par Jatisuchak Tippani Ki Thi Gair Anusuchit Jati Ke In Adhikaariyo Ne Us Vyakti Ki Vaarshik Gopaniya Report Mein Uske Khilaf Tippani Ki Thi Jab Mamle Ki Janch Kar Rahe Police Adhikari Ne Adhikaariyo Ke Khilaf Karyavahi Ke Liye Unke Varishtha Adhikaariyo Se Ijajat Maangi To Ijajat Nahi Di Gayi Is Par Unke Khilaf Bhi Police Ne Maamla Darj Kar Diya Gaya Bachav Paksh Ka Kehna Hai Ki Agar Kisi Anusuchit Jati Ke Vyakti Ke Khilaf Imaandaar Tippani Karna Apradh Hai To Isse Kaam Karna Mushkil Ho Jayega Mahaajan Ne FIR Khareej Karane Ke Liye Hi Court Mein Gaye Lekin Mumbai Uccha Nyayalaya Ne Isse Inkar Kar Diya Iske Baad Mahaajan Ne Highcourt Ke Faisle Ko Sirsh Adalat Mein Chunauti Di Is Adalat Ne Un Par FIR Hatane Ka Aadesh Dete Hue Anusuchit Jati Janjaati Act Ke Tahat Tatkal Giraftari Par Rok Ka Aadesh Diya Tha Supreme Court Ne Aise Mamlon Mein Agrim Jamanat Ko Bhi Manjuri De Di Thi Yahi Is Mamle Ki Mukhya Bindu Hai Ki Supreme Court Ne Apne Faisle Mein Act Ke Durupyog Par Chinta Jataate Hue Tatkal Giraftari Par Rok Lagadi Ki Adalat Ne Aise Mamlon Mein Agrim Jamanat Ke Pravadhan Ko Bhi Di Thi Manjuri Sarkari Afsaron Ki Giraftari Ke Liye Zaroori Batai Gayi Thi Aur Painting Aur Shrishti Ki Manjuri Ke Viruddha Dalit Varg Mein Band Ka Aahvaan Kiya Hai Jo Ki Galat Hai Jisse Itni Hinsatmak Ghatnaye Hui Hai
Likes  7  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आधिक्य CST मामला जो कि अगर उनके लिए पिछले 2 दिन से जिसके कारण जो है दुनिया भर में जितने भी ऐसी st जाति के लोग हैं वह बहुत हंगामा मचा रहे हो खाना खा पर हड़ताल पर जा चुके अगर मैं पूरा मामला देखिए तो जिस...
जवाब पढ़िये
आधिक्य CST मामला जो कि अगर उनके लिए पिछले 2 दिन से जिसके कारण जो है दुनिया भर में जितने भी ऐसी st जाति के लोग हैं वह बहुत हंगामा मचा रहे हो खाना खा पर हड़ताल पर जा चुके अगर मैं पूरा मामला देखिए तो जिस प्रकार से कोर्ट ने जो निर्णय लिया है कि वह है CST के खिलाफ जितने भी प्रिवेंशन डिस्क्रिमिनेशन है उसका प्रिवेंशन कर रहा है उसको गिरा दे रहे तो खाना खा पर यह जो निर्णय जो था यह बहुत ही सारे सीएसपी लोगों को बहुत ही बुरा लगा होगा ना कहां पर हो यह निर्णय का विरोध करने के लिए देखिए वहां सड़कों पर आ गए और बहुत तोड़फोड़ किया उन्होंने रास्ता बंद करके कान का पुराण का मकसद यही था कि भारत बंद आंदोलन रखिए लेकिन वह हो नहीं पाया तो खाना खा पर SSC का मामला यही था कि जिस प्रकार से सुप्रीम कोर्ट ने एक्ट का जो है ऑपरेशन किया है फिल्म को 8 को गिरा दिया जिसके कारण में 60 लोग देखिए उन्हें यह चीज अच्छी नहीं लगीAadhikya CST Maamla Jo Ki Agar Unke Liye Pichle 2 Din Se Jiske Kaaran Jo Hai Duniya Bhar Mein Jitne Bhi Aisi St Jati Ke Log Hain Wah Bahut Hungama Macha Rahe Ho Khana Kha Par Hartal Par Ja Chuke Agar Main Pura Maamla Dekhie To Jis Prakar Se Court Ne Jo Nirnay Liya Hai Ki Wah Hai CST Ke Khilaf Jitne Bhi Prevention Discrimination Hai Uska Prevention Kar Raha Hai Usko Gira De Rahe To Khana Kha Par Yeh Jo Nirnay Jo Tha Yeh Bahut Hi Sare Siesapi Logon Ko Bahut Hi Bura Laga Hoga Na Kahan Par Ho Yeh Nirnay Ka Virodh Karne Ke Liye Dekhie Wahan Sadkon Par Aa Gaye Aur Bahut Todfod Kiya Unhone Rasta Band Karke Kaan Ka Puran Ka Maksad Yahi Tha Ki Bharat Band Aandolan Rakhiye Lekin Wah Ho Nahi Paya To Khana Kha Par SSC Ka Maamla Yahi Tha Ki Jis Prakar Se Supreme Court Ne Act Ka Jo Hai Operation Kiya Hai Film Ko 8 Ko Gira Diya Jiske Kaaran Mein 60 Log Dekhie Unhen Yeh Cheez Acchi Nahi Lagi
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

GTA मामला क्या मैं आपको कोई देर से बताता हूं स्थिति में अभी ने सुप्रीम कोर्ट ने 100 संविधान था उसको चेंजेस किए उसमें से पहले यह संविधान था कि कोई भी आपत्तिजनक बात करता है इस रिश्ते के खिलाफ तो उसे तुर...
जवाब पढ़िये
GTA मामला क्या मैं आपको कोई देर से बताता हूं स्थिति में अभी ने सुप्रीम कोर्ट ने 100 संविधान था उसको चेंजेस किए उसमें से पहले यह संविधान था कि कोई भी आपत्तिजनक बात करता है इस रिश्ते के खिलाफ तो उसे तुरंत पुलिस जो है रेस्ट कर सकती थी लेकिन अभी रिसेंटली काफी सारे रिकॉर्ड कैसे सुने उसके बाद गवर्नमेंट ने सुप्रीम कोर्ट ने यह फैसला किया जिसमें कुछ चेंजेस किया जैसे कि कोई भी अगर इस तरह की चीजें होती है लाइक अपमानजनक बातें होती है तो पुलिस तरह क्लीयरेंस नहीं कर सकती उसके लिए 7 दिन का वक्त चाहिए वॉलपेपर सबूत होने के बाद ही गिरफ्तार करेगी मतलब आप को कम से कम एक डिस्ट्रिक्ट लेवल के ऑफिसर्स की अथॉरिटी चाहिए अप्रूवल चाहिए तभी जाकर वह आदेश हो पाएगा तो इसके होने के बाद जो है SSC वालों ने पूरा हंगामा मचाना शुरू कर दिया हर एक स्टेट में राइट आगे बात करें मध्य प्रदेश राजस्थान बिहार यूपी झारखंड स्टेट स्टेट में काफी ज्यादा अगर जो है हो गया वहां के जैसी उसकी जो है इस फैसले से बिल्कुल खुश नहीं है माननीय साफ मना कर दिया उसके बाद जो है फिर से रिव्यू पिटीशन फाइल हुआ है गवर्नमेंट की तरफ से और एक ही क्या होता हैGTA Maamla Kya Main Aapko Koi Der Se Batata Hoon Sthiti Mein Abhi Ne Supreme Court Ne 100 Samvidhan Tha Usko Changes Kiye Usamen Se Pehle Yeh Samvidhan Tha Ki Koi Bhi Aapattijanak Baat Karta Hai Is Rishte Ke Khilaf To Use Turant Police Jo Hai Rest Kar Sakti Thi Lekin Abhi Recently Kafi Sare Record Kaise Sune Uske Baad Government Ne Supreme Court Ne Yeh Faisla Kiya Jisme Kuch Changes Kiya Jaise Ki Koi Bhi Agar Is Tarah Ki Cheezen Hoti Hai Like Apamanajanak Batein Hoti Hai To Police Tarah Kliyarens Nahi Kar Sakti Uske Liye 7 Din Ka Waqt Chahiye Wallpaper Sabut Hone Ke Baad Hi Giraftar Karegi Matlab Aap Ko Kum Se Kum Ek District Level Ke Officers Ki Authority Chahiye Approval Chahiye Tabhi Jaakar Wah Aadesh Ho Payega To Iske Hone Ke Baad Jo Hai SSC Walon Ne Pura Hungama Machauna Shuru Kar Diya Har Ek State Mein Right Aage Baat Karen Madhya Pradesh Rajasthan Bihar Up Jharkhand State State Mein Kafi Jyada Agar Jo Hai Ho Gaya Wahan Ke Jaisi Uski Jo Hai Is Faisle Se Bilkul Khush Nahi Hai Mananiya Saaf Mana Kar Diya Uske Baad Jo Hai Phir Se Review Pitishan File Hua Hai Government Ki Taraf Se Aur Ek Hi Kya Hota Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: SC/ST Maamla Kya Hai, What Is The SC / ST Case?

vokalandroid