Globlisation का भारत के गरीबी पर क्या प्रभाव है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ग्लोबलाइजेशन का मतलब होता है एक देश का दूसरे देशों के साथ कनेक्ट होना और यह प्रोसेस है जिस के तरीके से 12 देश बहुत सारे देश एक दूसरे से कनेक्ट होते हैं और चीजों का आदान-प्रदान भी करते हैं जिससे एक दूस...
जवाब पढ़िये
ग्लोबलाइजेशन का मतलब होता है एक देश का दूसरे देशों के साथ कनेक्ट होना और यह प्रोसेस है जिस के तरीके से 12 देश बहुत सारे देश एक दूसरे से कनेक्ट होते हैं और चीजों का आदान-प्रदान भी करते हैं जिससे एक दूसरे कोई कुछ ना कुछ फायदा होता है और चीजें अवेलेबल करवा पाते हैं रिक्वायरमेंट जिसकी होती है वह चीजें अवेलेबल हो जाती है तो ग्लोबलाइजेशन का भारत के गरीबों पर क्या प्रभाव पड़ता है इसके लिए देखिए और पहले तो जो भारत के गरीब है और जो लोग अगर कुछ काम करते हैं चाहे वह एग्रीकल्चर करते हो या फिर कुछ और काम करते हो तो जो चीज है भारत के गरीब बनाते हैं वह चीजें भी ग्लोबल आई यूज करी जा सकती हैं बाहर तक पहुंचाई जा सकती हैं तो अगर मैं भारत की गरीब को हैंड क्राफ्ट या फिर कोई क्राफ्ट मटेरियल से कुछ चीजें बनाते हैं तो उनको भी वह रिपोर्ट करा जा सकता ग्लोबलाइजेशन के थ्रू और उससे उनका काफी फायदा हो पाएगा और दूसरा अगर हम ओवरऑल देखे तो चीजें गरीबों तक नहीं पहुंच पाती है ग्लोबलाइजेशन के थ्रू क्योंकि जो मिडिल मैन होते हैं बीच के लोग होते हैं तू कहीं ना कहीं जो गरीबों का पैसा होता है उसे ले लेते हैं और दूसरा जो लोग कुछ काम नहीं करते उनके लिए ग्लोबलाइजेशन बिल्कुल भी कोई मायने नहीं रखता है और क्योंकि कितना भी आपको दूसरे देशों से कनेक्ट हो जाए परंतु अगर आप अपने देश की इकॉनमी अच्छी नहीं कर सकते हैं और देश के गरीबों के लिए कुछ नहीं कर सकते तब तक लोग लाए सेशन उन गरीबों के लिए भी कुछ नहीं कर सकते तो इसीलिए जो लोग काम करते हैं किसी तरह का तो बोलो ग्लोबलाइजेशन से मदद ले सकते हैं आगे बढ़ सकते हैं परंतु जो लोग कुछ नहीं करते उनके लिए ग्लोबलाइजेशन बिल्कुल भी फायदा नहीं रखता कोई भी इसलिए भारत के जो गरीब है उनका मोबिलाइजेशन का उनके ऊपर दोनों तरह से प्रभाव है एक तरह से अच्छा भी और एक तरफ से बिना अच्छा अभीGlobalization Ka Matlab Hota Hai Ek Desh Ka Dusre Deshon Ke Saath Connect Hona Aur Yeh Process Hai Jis Ke Tarike Se 12 Desh Bahut Sare Desh Ek Dusre Se Connect Hote Hain Aur Chijon Ka Aadan Pradan Bhi Karte Hain Jisse Ek Dusre Koi Kuch Na Kuch Fayda Hota Hai Aur Cheezen Available Karava Paate Hain Requirement Jiski Hoti Hai Wah Cheezen Available Ho Jati Hai To Globalization Ka Bharat Ke Garibon Par Kya Prabhav Padata Hai Iske Liye Dekhie Aur Pehle To Jo Bharat Ke Garib Hai Aur Jo Log Agar Kuch Kaam Karte Hain Chahe Wah Agriculture Karte Ho Ya Phir Kuch Aur Kaam Karte Ho To Jo Cheez Hai Bharat Ke Garib Banate Hain Wah Cheezen Bhi Global Eye Use Kari Ja Sakti Hain Bahar Tak Pahunchai Ja Sakti Hain To Agar Main Bharat Ki Garib Ko Hand Craft Ya Phir Koi Craft Material Se Kuch Cheezen Banate Hain To Unko Bhi Wah Report Kra Ja Sakta Globalization Ke Through Aur Usse Unka Kafi Fayda Ho Payega Aur Doosra Agar Hum Ovaraal Dekhe To Cheezen Garibon Tak Nahi Pahunch Pati Hai Globalization Ke Through Kyonki Jo Middle Man Hote Hain Beech Ke Log Hote Hain Tu Kahin Na Kahin Jo Garibon Ka Paisa Hota Hai Use Le Lete Hain Aur Doosra Jo Log Kuch Kaam Nahi Karte Unke Liye Globalization Bilkul Bhi Koi Maayne Nahi Rakhta Hai Aur Kyonki Kitna Bhi Aapko Dusre Deshon Se Connect Ho Jaye Parantu Agar Aap Apne Desh Ki Economy Acchi Nahi Kar Sakte Hain Aur Desh Ke Garibon Ke Liye Kuch Nahi Kar Sakte Tab Tak Log Laye Session Un Garibon Ke Liye Bhi Kuch Nahi Kar Sakte To Isliye Jo Log Kaam Karte Hain Kisi Tarah Ka To Bolo Globalization Se Madad Le Sakte Hain Aage Badh Sakte Hain Parantu Jo Log Kuch Nahi Karte Unke Liye Globalization Bilkul Bhi Fayda Nahi Rakhta Koi Bhi Isliye Bharat Ke Jo Garib Hai Unka Mobilisation Ka Unke Upar Dono Tarah Se Prabhav Hai Ek Tarah Se Accha Bhi Aur Ek Taraf Se Bina Accha Abhi
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन मेरे साथ सेलिब्रेशन के घर छापा पड़ा था भारत में भारत की गरीबी पर नाम काफी लोग गरीबी सूट के आगे आप आए थे कि और ऑपर्चुनिटी मिलना बेसिकली तो पहले जब पहले जब सारे सरकारी नौकरी सरकारी नौकरी तो ऑटोमेट...
जवाब पढ़िये
लेकिन मेरे साथ सेलिब्रेशन के घर छापा पड़ा था भारत में भारत की गरीबी पर नाम काफी लोग गरीबी सूट के आगे आप आए थे कि और ऑपर्चुनिटी मिलना बेसिकली तो पहले जब पहले जब सारे सरकारी नौकरी सरकारी नौकरी तो ऑटोमेटिकली जो है बेरोजगारी उस टाइम पर ज्यादा थी फिर उसके बाद जैसे ग्लोबलाइजेशन हुआ तो और कंपनी नहीं अलग टाइप के बिजनेस आना शुरू है नौकरियां भर्ती हैं ज्यादा खुशहाली आती है क्योंकि भारत में अगर चीजें बन रही है यह भारत कुछ चीजें बनाकर आश्रम से बाहर भेजता है तो हमें भी पैसा मिलता है तो हमारी जीडीपी बीच का फर्क पड़ता है तो यह सब करने की वजह सिर्फ आर्थिक स्थिति शुरू हुई है तो ग्लोबलाइजेशन से अच्छा हैLekin Mere Saath Celebration Ke Ghar Chapa Pada Tha Bharat Mein Bharat Ki Garibi Par Naam Kafi Log Garibi Suit Ke Aage Aap Aaye The Ki Aur Opportunity Milna Basically To Pehle Jab Pehle Jab Sare Sarkari Naukri Sarkari Naukri To Atometikli Jo Hai Berojgari Us Time Par Jyada Thi Phir Uske Baad Jaise Globalization Hua To Aur Company Nahi Alag Type Ke Business Aana Shuru Hai Naukriyan Bharti Hain Jyada Khushhali Aati Hai Kyonki Bharat Mein Agar Cheezen Ban Rahi Hai Yeh Bharat Kuch Cheezen Banakar Aashram Se Bahar Bhejta Hai To Hume Bhi Paisa Milta Hai To Hamari Gdp Beech Ka Fark Padata Hai To Yeh Sab Karne Ki Wajah Sirf Aarthik Sthiti Shuru Hui Hai To Globalization Se Accha Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Globlisation Ka Bharat Ke Garibi Par Kya Prabhav Hai, What Is The Effect Of Globlisation On India's Poverty?

vokalandroid