आपको किस शहर में अधिक शांतिप्रिय लोग मिलेंगे ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे हर एक शहर का अपना अपना मकां होता है हर एक शहर का अपना क्या कहेंगे फ्लेवर होता है जैसे हर एक शहर का अपना खाना होता है भाषा होती है वैसे ही फिल्म रोता है तो वैसे ही हम यह नहीं कह सकते कि कोई ऐसी है...
जवाब पढ़िये
मुझे हर एक शहर का अपना अपना मकां होता है हर एक शहर का अपना क्या कहेंगे फ्लेवर होता है जैसे हर एक शहर का अपना खाना होता है भाषा होती है वैसे ही फिल्म रोता है तो वैसे ही हम यह नहीं कह सकते कि कोई ऐसी है जो है वह बहुत शोर वाला है या कोई हर्ज है वह शांतिप्रिय है लेकिन मैंने यह जरूर नोटिस किया है कि जो छोटे शहर होते हैं जहां पर सिर्फ एक तरीका होता है जीवन जीने का की सुबह उठे अपना काम पर गए शाम को वापस आए ज्यादा हो हल्ला नहीं है ज्यादा लाइफ में डिजिटलाइजेशन का लोचा नहीं है शाम को आए चाय पी अपने परिवार के साथ थोड़ा वक्त बिताया TV देखा और रात में भाई खाना खाकर सो गए यह बेसिक कल्चर जहां पर होता है ना जो छोटे-छोटे शहर होते हैं जहां पर बहुत ज्यादा घूमने फिरने की जगह नहीं होती है या यूं कहें कि ज्यादा मोड ऑफ़ एंटरटेनमेंट नहीं होते हैं वहां पर मोटापा इंटरटेनमेंट यही होता है कि लोग एक दूसरे से मिल गया अपने दिल का हाल एक दूसरे को बता कर अपना दिल हल्का कर लेते हैं तो ऐसे शहर जो होते हैं वह हां पर छोटे शहरों में अक्सर यह बात नहीं कर रही हूं जो छोटे शहर होते हैं उनमें से अकल से सोते हैं तो वहां पर बहुत शांति होती है लोग बहुत ही पीसफुल लाइव जी रहे होते और बेसिकली अपनी जड़ों से जुड़े हुए होते हैं क्योंकि वह अपने लोगों से जुड़े हुए होते हैं तो उनके मन में शांति होती है और साथ ही साथ शहर में भी इसी वजह से शांति होती है और शहर की बात करें तो 10 गांव की बात नहीं करें लेकिन गांव में भी यही हाल है इसीलिए हमें छोटे शहरों में और गांव में जाकर बड़ा सुकून महसूस होता है क्योंकि वहां पर हम बहुत ज्यादा फॉलो पर लगे हुए नहीं देखते लोगों को वहां पर हम लोगों को एक दूसरे से बात करते हुए नजर आते हैं तो वह बहुत अच्छा लगता है इसी वजह से कुछ शांति प्रिय शहर हो जाते हैंMujhe Har Ek Sheher Ka Apna Apna Makan Hota Hai Har Ek Sheher Ka Apna Kya Kahenge Flavors Hota Hai Jaise Har Ek Sheher Ka Apna Khana Hota Hai Bhasha Hoti Hai Waise Hi Film Rota Hai To Waise Hi Hum Yeh Nahi Keh Sakte Ki Koi Aisi Hai Jo Hai Wah Bahut Shor Vala Hai Ya Koi Harz Hai Wah Shantipriye Hai Lekin Maine Yeh Jarur Notice Kiya Hai Ki Jo Chote Sheher Hote Hain Jahan Par Sirf Ek Tarika Hota Hai Jeevan Jeene Ka Ki Subah Uthe Apna Kaam Par Gaye Shaam Ko Wapas Aaye Zyada Ho Halla Nahi Hai Zyada Life Mein Dijitlaijeshan Ka Locha Nahi Hai Shaam Ko Aaye Chai P Apne Parivar Ke Saath Thoda Waqt Bitaya TV Dekha Aur Raat Mein Bhai Khana Khakar So Gaye Yeh Basic Culture Jahan Par Hota Hai Na Jo Chote Chote Sheher Hote Hain Jahan Par Bahut Zyada Ghoomne Phirne Ki Jagah Nahi Hoti Hai Ya Yun Kahen Ki Zyada Mode Of Entertainment Nahi Hote Hain Wahan Par Motapa Entertainment Yahi Hota Hai Ki Log Ek Dusre Se Mil Gaya Apne Dil Ka Haal Ek Dusre Ko Bata Kar Apna Dil Halka Kar Lete Hain To Aise Sheher Jo Hote Hain Wah Haan Par Chote Shaharon Mein Aksar Yeh Baat Nahi Kar Rahi Hoon Jo Chote Sheher Hote Hain Unmen Se Akal Se Sote Hain To Wahan Par Bahut Shanti Hoti Hai Log Bahut Hi Peaceful Live G Rahe Hote Aur Basically Apni Jadon Se Jude Huye Hote Hain Kyonki Wah Apne Logon Se Jude Huye Hote Hain To Unke Man Mein Shanti Hoti Hai Aur Saath Hi Saath Sheher Mein Bhi Isi Wajah Se Shanti Hoti Hai Aur Sheher Ki Baat Karen To 10 Gav Ki Baat Nahi Karen Lekin Gav Mein Bhi Yahi Haal Hai Isliye Hume Chote Shaharon Mein Aur Gav Mein Jaakar Bada Sukoon Mahsus Hota Hai Kyonki Wahan Par Hum Bahut Zyada Follow Par Lage Huye Nahi Dekhte Logon Ko Wahan Par Hum Logon Ko Ek Dusre Se Baat Karte Huye Nazar Aate Hain To Wah Bahut Accha Lagta Hai Isi Wajah Se Kuch Shanti Priya Sheher Ho Jaate Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वैसे तो इसके लिए कोई पर्टिकुलर सैड क्लियर नहीं किया गया है कि यहां ज्यादा शांति है या फिर यहां पर काम शांति है ऐसा कोई चीज क्लियर नहीं किया जाए चंडीगढ़ जो है कैसा शहर है इसको बहुत पीस सिटी बोला जाता ह...
जवाब पढ़िये
वैसे तो इसके लिए कोई पर्टिकुलर सैड क्लियर नहीं किया गया है कि यहां ज्यादा शांति है या फिर यहां पर काम शांति है ऐसा कोई चीज क्लियर नहीं किया जाए चंडीगढ़ जो है कैसा शहर है इसको बहुत पीस सिटी बोला जाता है बहुत क्लीन सिटी बोला जाता है तो चंडीगढ़ निश्चित तौर पर उसका एक एग्जांपल हो सकता है दूसरी तरफ केरला जो राज्य है वहां भी देखी जो अधिक शांतिप्रिय होगा वह जाहिर तौर पर जहां ग्रीनरी ज्यादा होगी वह निश्चित तौर पर अपने आप वहां माहौल बन जाता है शांति वातावरण का बहुत ही साफ सुथरा अच्छा वातावरण का तू कईला हो गया और इस तरीके से तमाम ऐसे अन्य जगह है जहां पर हो सकता है अदर वाइज डिटेल में जाए हर जगह की लड़ाई मार डालोगीWaise To Iske Liye Koi Particular Sand Clear Nahi Kiya Gaya Hai Ki Yahan Zyada Shanti Hai Ya Phir Yahan Par Kaam Shanti Hai Aisa Koi Cheez Clear Nahi Kiya Jaye Chandigarh Jo Hai Kaisa Sheher Hai Isko Bahut Pis City Bola Jata Hai Bahut Clean City Bola Jata Hai To Chandigarh Nishchit Taur Par Uska Ek Example Ho Sakta Hai Dusri Taraf Kerala Jo Rajya Hai Wahan Bhi Dekhi Jo Adhik Shantipriye Hoga Wah Jaahir Taur Par Jahan Greenery Zyada Hogi Wah Nishchit Taur Par Apne Aap Wahan Maahaul Ban Jata Hai Shanti Vatavaran Ka Bahut Hi Saaf Suthara Accha Vatavaran Ka Tu Kylaa Ho Gaya Aur Is Tarike Se Tamam Aise Anya Jagah Hai Jahan Par Ho Sakta Hai Other Wise Detail Mein Jaye Har Jagah Ki Ladai Maar Dalogi
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं पाटेकर किसी शहर का नाम तो नहीं लेना चाहूंगी जहां पर आप को शांति शांति प्रिय लोग मिलेंगे बड़ा आप कोशिश कर सकते हैं थोड़ा पहाड़ों की तरफ जा कर क्या कर आप देखेंगे जहां पर ज्यादा बड़ी सिटी आपको नहीं म...
जवाब पढ़िये
मैं पाटेकर किसी शहर का नाम तो नहीं लेना चाहूंगी जहां पर आप को शांति शांति प्रिय लोग मिलेंगे बड़ा आप कोशिश कर सकते हैं थोड़ा पहाड़ों की तरफ जा कर क्या कर आप देखेंगे जहां पर ज्यादा बड़ी सिटी आपको नहीं मतलब दे मां पर बड़ी कोई मेट्रोपोलिटन सिटी नहीं है मैं तो सही नहीं है नॉर्मल होता है पहाड़ों पर और बहुत दूर-दूर घर बने होते हैं मार्केट काफी दूर होती है और वहां पर बहुत शांति होती अगर आपको शांतिप्रिय लोग चाहिए जो आराम से बात करते हैं वह हड़बड़ा देना उस दिन की जिंदगी में इतना पेश ना हो तो आप पहाड़ों पर जा सकते हैं वहां पर आपको ऐसे लोग मिल जाएंगे जो आपकी इच्छा भी पूरी कर दीMain Patekar Kisi Sheher Ka Naam To Nahi Lena Chahungi Jahan Par Aap Ko Shanti Shanti Priya Log Milenge Bada Aap Koshish Kar Sakte Hain Thoda Pahadon Ki Taraf Ja Kar Kya Kar Aap Dekhenge Jahan Par Zyada Badi City Aapko Nahi Matlab De Maa Par Badi Koi Metropolitan City Nahi Hai Main To Sahi Nahi Hai Normal Hota Hai Pahadon Par Aur Bahut Dur Dur Ghar Bane Hote Hain Market Kafi Dur Hoti Hai Aur Wahan Par Bahut Shanti Hoti Agar Aapko Shantipriye Log Chahiye Jo Aaram Se Baat Karte Hain Wah Hadbada Dena Us Din Ki Zindagi Mein Itna Pesh Na Ho To Aap Pahadon Par Ja Sakte Hain Wahan Par Aapko Aise Log Mil Jaenge Jo Aapki Icha Bhi Puri Kar Di
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Aapko Kis Sheher Mein Adhik Shantipriye Log Milenge ?, Which City Would You Find More Peaceful People?

vokalandroid