क्या इस दुनिया में अकेली लड़की अपनी पहचान नहीं बना सकती? ...

Likes  1  Dislikes

2 Answers


जवाब पढ़िये
जरूर बना सकती है इस दुनिया में खेलों की पहचान जो बना सकती थी वह चाहे तू सोच ले कि मुझे खाना दो भाई चल सकती है दूसरी कि मुझे बनना तो बनती क्योंकि खान की इच्छाएं ही उसे कुछ काम करने देती ना मरने देती है और किसी चीज चाहो तो पूरी कायनात उसे आपसे मिलाने में जुट जाती है म्यूजिक गाना है तो दुनिया में कोई सी भी दीवार आपके आगे नहीं आ सकतीJarur Bana Sakti Hai Is Duniya Mein Khelon Ki Pehchaan Jo Bana Sakti Thi Wah Chahe Tu Soch Le Ki Mujhe Khana Do Bhai Chal Sakti Hai Dusri Ki Mujhe Banana To Banti Kyonki Khan Ki Ichhaen Hi Use Kuch Kaam Karne Deti Na Marne Deti Hai Aur Kisi Cheez Chaho To Puri Kainat Use Aapse Milaane Mein Jut Jati Hai Music Gaana Hai To Duniya Mein Koi Si Bhi Diwar Aapke Aage Nahi Aa Sakti
Likes  4  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए

0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


जवाब पढ़िये
अरे इस दुनिया में कोई अकेली लड़की अपना पहचान बनाना चाहती है बिल्कुल बना सकती है क्योंकि आज के जमाने में लड़का जो एक लड़की चाहें तो अपने दम परArre Is Duniya Mein Koi Akeli Ladki Apna Pehchaan Banana Chahti Hai Bilkul Bana Sakti Hai Kyonki Aaj Ke Jamaane Mein Ladka Jo Ek Ladki Chahain To Apne Dum Par
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

जवाब पढ़िये
महिमा जी वैसे तो लड़कियों साथ बहुत ज्यादा भेदभाव किया जाता है उन्हें आगे बढ़ने से रोका जाता है सिर्फ परिवार के द्वारा ही नहीं समाज के द्वारा भी लेकिन फिर भी बहुत ऐसे एग्जांपल हमारे समाज के द्वारा मिले हैं जो बताते हैं कि लड़कियां चाहे तो कुछ भी कर सकती हैं और एग्जांपल उसे हम भली भांति परिचित हैं चाय बछेंद्री पाल की बात की जाए तो पहली बार एवरेस्ट फतह की थी अपने इंटरव्यू में बताती है कि जब वे एवरेस्ट पर चढ़ने के लिए पहले प्रैक्टिस कर रही थी तो लोगों द्वारा डराया जाता था समाज के द्वारा डराया जाता था परिवार और एक डॉक्टर थी कि ऐसा ना करो मृत्यु हो जाएगी क्यों बेवकूफी है लेकिन जब सक्सेज हो गई तो भाई जो ताने मारने वाले लोग हैं उसके साथ हो गए तारीफ करने लगे पूरे विश्व में छा गई तो लड़कियों में बहुत ज्यादा परेशानियां आती हैं उन्हें परिवार से लेकर सब के द्वारा पहले बहुत रुक तो की जाती है लेकिन जब ठान लेती है तो कुछ भी कर लेती हैं मदर टेरेसा के बारे में जानते ही हैं जो अपने देश को छोड़कर आकर यहां सेवा कि समाज को ना देखें वह अपने कर्तव्य ऑफलाइन हो गई इंदिरा गांधी हैं अपने हिंदू घर में सती शकुंतला सावित्री सब पूजा की कहानियां पढ़ते ही हैं साथ ही साथ इसमें विश्व में छाई हुई है इंदिरा नूई सुनीता विलियम सुमित्रा महाजन चाहे फिर अरुंधति भट्टाचार्य की बात हो या चंद्रा कोचर कि मुझे लगता है कि बहुत से एग्जांपल मौजूद हैं हमें उनका अनुसरण करना चाहिए हमें जब ठान ले तो करना होगा यह परेशानियां बहुत आती है उस परेशानी का सामना करना चाहिए धीरे-धीरे वैसे भी समाज के द्वारा ढीलापन क्या ज्यादा लड़कियों को अब उनका अधिकार दिया जा रहा है तो यदि आप ठान ले तो आप कर सकती है आप देखें जो भी आईएएस टॉपर से बनती हैं और कई सालों सब लड़कियां ही बन रही है तो यह है कि लड़कियां सेक्स तो हो रही है बस लेन बहुत कम परसेंटेज है और मुझे लगता है गवर्नमेंट को तो ज्यादा ध्यान देना चाहिए लड़कियों को उनके जन जागरूकता के लिए और तभी आगे आ पाएंगे वैसे लड़कियां जो भी है यदि वह कोशिश करेंगे तो भी जो चाहेंगे वह भी कर सकती हैंMahima Ji Waise To Ladkiyon Saath Bahut Jyada Bhedbhav Kiya Jata Hai Unhen Aage Badhne Se Roka Jata Hai Sirf Parivar Ke Dwara Hi Nahi Samaaj Ke Dwara Bhi Lekin Phir Bhi Bahut Aise Example Hamare Samaaj Ke Dwara Mile Hain Jo Batatey Hain Ki Ladkiyan Chahe To Kuch Bhi Kar Sakti Hain Aur Example Use Hum Bhali Bhanti Parichit Hain Chai Bachendri Pal Ki Baat Ki Jaye To Pehli Baar EVEREST Fatah Ki Thi Apne Interview Mein Batati Hai Ki Jab Ve EVEREST Par Chadhne Ke Liye Pehle Practice Kar Rahi Thi To Logon Dwara Daraya Jata Tha Samaaj Ke Dwara Daraya Jata Tha Parivar Aur Ek Doctor Thi Ki Aisa Na Karo Mrityu Ho Jayegi Kyun Bewakoofi Hai Lekin Jab Succsej Ho Gayi To Bhai Jo Tane Maarne Wale Log Hain Uske Saath Ho Gaye Tarif Karne Lage Poore Vishwa Mein Cha Gayi To Ladkiyon Mein Bahut Jyada Pareshaniyan Aati Hain Unhen Parivar Se Lekar Sab Ke Dwara Pehle Bahut Ruk To Ki Jati Hai Lekin Jab Than Leti Hai To Kuch Bhi Kar Leti Hain Mother Teresa Ke Baare Mein Jante Hi Hain Jo Apne Desh Ko Chodkar Aakar Yahan Seva Ki Samaaj Ko Na Dekhen Wah Apne Kartavya Offline Ho Gayi Indira Gandhi Hain Apne Hindu Ghar Mein Sati Shakuntala Savitri Sab Puja Ki Kahaniya Padhte Hi Hain Saath Hi Saath Isme Vishwa Mein Chhai Hui Hai Indira Nui Sunita William Sumitra Mahaajan Chahe Phir Arundhati Bhattacharya Ki Baat Ho Ya Chandra Kochar Ki Mujhe Lagta Hai Ki Bahut Se Example Maujud Hain Hume Unka Anusaran Karna Chahiye Hume Jab Than Le To Karna Hoga Yeh Pareshaniyan Bahut Aati Hai Us Pareshani Ka Samana Karna Chahiye Dhire Dhire Waise Bhi Samaaj Ke Dwara Dhilapan Kya Jyada Ladkiyon Ko Ab Unka Adhikaar Diya Ja Raha Hai To Yadi Aap Than Le To Aap Kar Sakti Hai Aap Dekhen Jo Bhi IAS Topper Se Banti Hain Aur Kai Salon Sab Ladkiyan Hi Ban Rahi Hai To Yeh Hai Ki Ladkiyan Sex To Ho Rahi Hai Bus Lane Bahut Kum Percentage Hai Aur Mujhe Lagta Hai Government Ko To Jyada Dhyan Dena Chahiye Ladkiyon Ko Unke Jan Jagrukta Ke Liye Aur Tabhi Aage Aa Paenge Waise Ladkiyan Jo Bhi Hai Yadi Wah Koshish Karenge To Bhi Jo Chahenge Wah Bhi Kar Sakti Hain
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Is Duniya Mein Akeli Ladki Apni Pehchaan Nahi Bana Sakti, I Do Not Know How Much I Am Doing Because I Am Not Able To Do Anything