क्या जीवन में शांति प्राप्त करने के लिए किसी भी आध्यात्मिक गुरु को मानना चाहिए? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं ऐसा नहीं है कि शांति को प्राप्त करने के लिए आपको एक आध्यात्मिक गुरु का जरूरत है यह सिर्फ अपने मन में होता है गुरु अगर है तो हमारे कॉन्संट्रेशन उसके और आम जाता है और उनके जो प्रिंसिपल्स है उन्हें ...
जवाब पढ़िये
नहीं ऐसा नहीं है कि शांति को प्राप्त करने के लिए आपको एक आध्यात्मिक गुरु का जरूरत है यह सिर्फ अपने मन में होता है गुरु अगर है तो हमारे कॉन्संट्रेशन उसके और आम जाता है और उनके जो प्रिंसिपल्स है उन्हें नाम तो हमें फॉलो करना शुरू करते हैं लेकिन अब बात यह है कि हम अपने आप से भी ऐसी प्रिंसिपल्स कर सकते हैं और हम अपने आप से ही शांति के मार्ग को आसानी से पा सकते हैंNahi Aisa Nahi Hai Ki Shanti Ko Prapt Karne Ke Liye Aapko Ek Aadhyatmik Guru Ka Zaroorat Hai Yeh Sirf Apne Man Mein Hota Hai Guru Agar Hai To Hamare Kansantreshan Uske Aur Aam Jata Hai Aur Unke Jo Principles Hai Unhen Naam To Hume Follow Karna Shuru Karte Hain Lekin Ab Baat Yeh Hai Ki Hum Apne Aap Se Bhi Aisi Principles Kar Sakte Hain Aur Hum Apne Aap Se Hi Shanti Ke Marg Ko Aasani Se Pa Sakte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे नहीं लगता कि जिंदगी में शांति प्राप्त करने के लिए हमें किसी भी गुरु को मारने की जरूरत है हमें सबसे पहले अपने आप को मारने की जरूरत है सबसे पहले हमें खुद पर यकीन करने की जरूरत है यह एक बहुत ही इंपॉ...
जवाब पढ़िये
मुझे नहीं लगता कि जिंदगी में शांति प्राप्त करने के लिए हमें किसी भी गुरु को मारने की जरूरत है हमें सबसे पहले अपने आप को मारने की जरूरत है सबसे पहले हमें खुद पर यकीन करने की जरूरत है यह एक बहुत ही इंपॉर्टेंट चीज है ऐसी प्रॉब्लम लोगों की जिंदगी में शांति आज कल इसलिए नहीं है क्योंकि वह खुद पर भरोसा करना भूल चुके हैं खुद पर भरोसा ना करके वह दुनिया में जितनी भी आजू-बाजू उनके चीजें नजर आती है वह एक चीज पर भी भरोसा करते मगर एक परिस्थिति कब पड़ा हुआ है आपके सामने ठीक है जिसकी कोई वैल्यू नहीं है जो कि जीवित भी नहीं है इंसान की हालत इतनी बुरी हो चुकी है कि वह खुद पर भरोसा नहीं करेगा लेकिन किसी न किसी बात को लेकर बहुत कम पर भरोसा कर लेगा लेकिन यही एक बहुत बड़ी दिक्कत की बात हो गई है जिसकी वजह से शांति जो है वह भंग होती चली जा रही हमारी जिंदगी उसे तो यह जरूरी है कि हम हर दूसरे तीसरे इंसान की बात मानने के बजाय खुद पर भरोसा करें फिर इस वेरी इंपॉर्टेंट शांति के लिए खुद पर यकीन करें खुद की प्रॉब्लम खुद ही सॉल्व करने की कोशिश करें जो हमारे अंदर है हम से बेहतर और कोई नहीं जानता आप कितने भी गुरुओं के पास चले जाएं आप कितने भी लोगों से जाकर मिलने पर अपनी प्रॉब्लम डिस्कस कर ले आपको अंदर यह बात पता है कि उस प्रॉब्लम का सलूशन आप ही के पास है और उसी से ही आप को शांति मिलेगी मिलेगीMujhe Nahi Lagta Ki Zindagi Mein Shanti Prapt Karne Ke Liye Hume Kisi Bhi Guru Ko Maarne Ki Zaroorat Hai Hume Sabse Pehle Apne Aap Ko Maarne Ki Zaroorat Hai Sabse Pehle Hume Khud Par Yakin Karne Ki Zaroorat Hai Yeh Ek Bahut Hi Important Cheez Hai Aisi Problem Logon Ki Zindagi Mein Shanti Aaj Kal Isliye Nahi Hai Kyonki Wah Khud Par Bharosa Karna Bhul Chuke Hain Khud Par Bharosa Na Karke Wah Duniya Mein Jitni Bhi Aaju Baju Unke Cheezen Nazar Aati Hai Wah Ek Cheez Par Bhi Bharosa Karte Magar Ek Paristhiti Kab Pada Hua Hai Aapke Samane Theek Hai Jiski Koi Value Nahi Hai Jo Ki Jeevit Bhi Nahi Hai Insaan Ki Halat Itni Buri Ho Chuki Hai Ki Wah Khud Par Bharosa Nahi Karega Lekin Kisi N Kisi Baat Ko Lekar Bahut Kum Par Bharosa Kar Lega Lekin Yahi Ek Bahut Badi Dikkat Ki Baat Ho Gayi Hai Jiski Wajah Se Shanti Jo Hai Wah Bhang Hoti Chali Ja Rahi Hamari Zindagi Use To Yeh Zaroori Hai Ki Hum Har Dusre Tisare Insaan Ki Baat Manane Ke Bajay Khud Par Bharosa Karen Phir Is Very Important Shanti Ke Liye Khud Par Yakin Karen Khud Ki Problem Khud Hi Solve Karne Ki Koshish Karen Jo Hamare Andar Hai Hum Se Behtar Aur Koi Nahi Jaanta Aap Kitne Bhi Dohe Ke Paas Chale Jayen Aap Kitne Bhi Logon Se Jaakar Milne Par Apni Problem Discuss Kar Le Aapko Andar Yeh Baat Pata Hai Ki Us Problem Ka Salution Aap Hi Ke Paas Hai Aur Ussi Se Hi Aap Ko Shanti Milegi Milegi
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए इस बारे में मेरा तो अपना मानना यह है कि हम सभी लोग अपने अपने तरीके से अपने अपने धर्म को फॉलो करते हैं और इसको हम लोग चाहकर भी बदल नहीं सकते यह एक ऐसा सिस्टम है जो हमारी पैदाइश से लेकर हमारे आखरी...
जवाब पढ़िये
देखिए इस बारे में मेरा तो अपना मानना यह है कि हम सभी लोग अपने अपने तरीके से अपने अपने धर्म को फॉलो करते हैं और इसको हम लोग चाहकर भी बदल नहीं सकते यह एक ऐसा सिस्टम है जो हमारी पैदाइश से लेकर हमारे आखरी समय तक हमारे साथ रहता है हम उसको चेंज नहीं कर सकते बहुत सारे लोग होते भी हैं ऐसा कि अपना धर्म परिवर्तन कर लेते हैं लेकिन मेरी समझ में तो यह सही नहीं है क्योंकि आपको एक घर से दूसरे घर में जाना है आखिर यह बिल्कुल इसी तरह होता है कि जैसे आपने एक घर से दूसरे घर में जाना है तो क्यों ना उसी घर में रहा जाए जिसमें आप पैदा हुए हैं जिसमें आपके माता-पिता हैं जिसमें आपके रिलेटिव हैं जिसमें आपके फ्रेंड सर्कल है जिसमें आप के भाई बहन है उसी सर्किल में * रहा जाए तो मैं तो इसी को इसके बारे में बस सिर्फ इतना ही कहूंगा कि आपने मन की शांति के लिए अपने जहन की शांति के लिए इस दिमागी सुकून के लिए आप किसी भी धर्म का पालन करें यह बात है कल होती है लेकिन इंसान होने के नाते अगर आप किसी की मदद करते हैं किसी की हेल्प करते हैं किसी भूखे को खाना खिलाते हैं किसी गरीब के इलाज के लिए दवाइयां देते हैं या किसी के पास कपड़े नहीं है उसको कपड़े अवेलेबल कर आते हैं किसी के पास जूते नहीं है तो उसको जूते अवेलेबल कर आते हैं कोई व्यक्ति बीमार है अगर आप उसका हाल पूछते हैं जिसको कोई पूछने वाला नहीं है तो मैं समझता हूं सबसे बड़ी मन की शांति जो है इन्हीं बातों से मिलती है और मैं अक्सर यही काम करता हूं तो आप लोगों से भी मेरी यही गुजारिश है कि अगर आप लोग चाहते हैं ऐसा करना अपने मन को शांत करना अपने जहन को चांद करना तो मुझे लोगों की मदद कीजिएDekhie Is Baare Mein Mera To Apna Manana Yeh Hai Ki Hum Sabhi Log Apne Apne Tarike Se Apne Apne Dharm Ko Follow Karte Hain Aur Isko Hum Log Chahkar Bhi Badal Nahi Sakte Yeh Ek Aisa System Hai Jo Hamari Paidaaish Se Lekar Hamare Aakhri Samay Tak Hamare Saath Rehta Hai Hum Usko Change Nahi Kar Sakte Bahut Sare Log Hote Bhi Hain Aisa Ki Apna Dharm Pariwartan Kar Lete Hain Lekin Meri Samajh Mein To Yeh Sahi Nahi Hai Kyonki Aapko Ek Ghar Se Dusre Ghar Mein Jana Hai Aakhir Yeh Bilkul Isi Tarah Hota Hai Ki Jaise Aapne Ek Ghar Se Dusre Ghar Mein Jana Hai To Kyun Na Ussi Ghar Mein Raha Jaye Jisme Aap Paida Hue Hain Jisme Aapke Mata Pita Hain Jisme Aapke Relative Hain Jisme Aapke Friend Circle Hai Jisme Aap Ke Bhai Behen Hai Ussi Sarkil Mein * Raha Jaye To Main To Isi Ko Iske Baare Mein Bus Sirf Itna Hi Kahunga Ki Aapne Man Ki Shanti Ke Liye Apne Zahn Ki Shanti Ke Liye Is Dimagi Sukoon Ke Liye Aap Kisi Bhi Dharm Ka Palan Karen Yeh Baat Hai Kal Hoti Hai Lekin Insaan Hone Ke Naate Agar Aap Kisi Ki Madad Karte Hain Kisi Ki Help Karte Hain Kisi Bhukhe Ko Khana Khilate Hain Kisi Garib Ke Ilaj Ke Liye Davaaiyaan Dete Hain Ya Kisi Ke Paas Kapde Nahi Hai Usko Kapde Available Kar Aate Hain Kisi Ke Paas Jute Nahi Hai To Usko Jute Available Kar Aate Hain Koi Vyakti Bimar Hai Agar Aap Uska Haal Poochte Hain Jisko Koi Poochne Wala Nahi Hai To Main Samajhata Hoon Sabse Badi Man Ki Shanti Jo Hai Inhin Baaton Se Milti Hai Aur Main Aksar Yahi Kaam Karta Hoon To Aap Logon Se Bhi Meri Yahi Gujarish Hai Ki Agar Aap Log Chahte Hain Aisa Karna Apne Man Ko Shaant Karna Apne Zahn Ko Chand Karna To Mujhe Logon Ki Madad Kijiye
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन में शांति प्राप्त करने के लिए आपको सबसे पहले मौन होना पड़ेगा अपने अंदर देखना पड़ेगा क्योंकि आदमी कब मरता है एक मकड़ी कब मरती है एक मकड़ी तब मरती है जब वह अपना जाल बनाती है और उस जाल में फंस जात...
जवाब पढ़िये
जीवन में शांति प्राप्त करने के लिए आपको सबसे पहले मौन होना पड़ेगा अपने अंदर देखना पड़ेगा क्योंकि आदमी कब मरता है एक मकड़ी कब मरती है एक मकड़ी तब मरती है जब वह अपना जाल बनाती है और उस जाल में फंस जाती है हम भी इसी तरीके से जाल फैलाते हैं और उसमें फंस जाते हैं और फिर दुखी हो जाते हैं तो सबसे पहले हमें अपने अंदर घुसना होगा अपने अंदर अपने सारे फ्रेंड्स बंद करके हमें हर रोज मेडिटेशन करना अपने अंदर अपने आप को जानना हो अपने मन को कंट्रोल करना होगा और धीरे धीरे धीरे जैसे आपकी इच्छा हो से दूर हो तो चले जाएंगे आशा किसी पर नहीं रखें जिससे कोई उम्मीद नहीं रखेंगे और अपने ऊपर ही कॉन्फिडेंस रखेंगे अपने आप से ही उम्मीद रखेंगे जो करना है मुझे करना जैसा करना मुझे करना है मुझे किसी से कोई उम्मीद नहीं नहीं मुझे दीजिए और इस तरीके से जवाब करें तो शायद आपको शांति मिल जाए ऐसा ही होता हैJeevan Mein Shanti Prapt Karne Ke Liye Aapko Sabse Pehle Maun Hona Padega Apne Andar Dekhna Padega Kyonki Aadmi Kab Marta Hai Ek Makadee Kab Marti Hai Ek Makadee Tab Marti Hai Jab Wah Apna Jaal Banati Hai Aur Us Jaal Mein Phans Jati Hai Hum Bhi Isi Tarike Se Jaal Failate Hain Aur Usamen Phans Jaate Hain Aur Phir Dukhi Ho Jaate Hain To Sabse Pehle Hume Apne Andar Ghusana Hoga Apne Andar Apne Sare Friends Band Karke Hume Har Roj Meditation Karna Apne Andar Apne Aap Ko Janana Ho Apne Man Ko Control Karna Hoga Aur Dhire Dhire Dhire Jaise Aapki Icha Ho Se Dur Ho To Chale Jaenge Asha Kisi Par Nahi Rakhen Jisse Koi Ummid Nahi Rakhenge Aur Apne Upar Hi Confidence Rakhenge Apne Aap Se Hi Ummid Rakhenge Jo Karna Hai Mujhe Karna Jaisa Karna Mujhe Karna Hai Mujhe Kisi Se Koi Ummid Nahi Nahi Mujhe Dijiye Aur Is Tarike Se Jawab Karen To Shayad Aapko Shanti Mil Jaye Aisa Hi Hota Hai
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मेरे अनुसार रायता कुछ भी जरूरी नहीं है कि अगर हमें जिंदगी में शांति चाहिए तो हमें किसी खास आध्यात्मिक गुरु को फॉलो करना चाहिए क्योंकि सही पूछो तो जो शांति का जो मार्ग है वह वह हमारे दिमाग के अंद...
जवाब पढ़िये
देखिए मेरे अनुसार रायता कुछ भी जरूरी नहीं है कि अगर हमें जिंदगी में शांति चाहिए तो हमें किसी खास आध्यात्मिक गुरु को फॉलो करना चाहिए क्योंकि सही पूछो तो जो शांति का जो मार्ग है वह वह हमारे दिमाग के अंदर ही है जैसे कहावत ही प्रचलित है कि मन चंगा तो कठौती में गंगा कहने का मतलब है कि अगर आपके मन में शांति है अब आप अंदर से शांत है आपका कंसंट्रेशन सही है आपकी सोच अच्छी है तो फिर आप को शांति कहीं भी मिल सकती जरूरी नहीं कि आप किसी धर्म गुरु हो या किसी आध्यात्मिक गुरु के अंदर ही जाएं तो आप को शांति मिलेगी ढूंढने से आपको खुद के खुद में देखना होगा खुद में आत्मचिंतन करना होगा और यह पोषण कुपोषण मेरी भी करता है कि किस तरह से आप इसको अटेंड कर सकते हैं अगर कोई इंसान खुद में अकेले रहकर अपने अंदर वह आत्म चिंतन करें और अच्छे से चलाओ स्कोर इसको पढ़े बुक के द्वारा आया कहानियों के द्वारा कहानियों के द्वारा और उन्हें वह फिल्म होगा उन्हें चोर मिलेगा जिंदगी का तो वह खुद भी शांति पा सकते मैसेज जरूरी नहीं कि आप किसे याद याद में गुरु से ही मिले हैं आप घर बैठे भी किसी से भी उस साइड हो सकते हैं जो वह दिन की सोच अच्छी है जिस ने जिसे दुनिया ने माना और जिन्होंने दुनिया को बदला समाज को बदला तो आपने फॉलो करके उनकी अच्छाइयों को ले सकते हैं और अपने पर लागू करके फिर आपको शांति देती नहीं है किसी धर्म गुरु के चक्कर में पर या किसी भी आध्यात्मिक गुरु के चक्कर में पड़े क्योंकि कोई भी इंसान शांति अल्टीमेटली उसे ही पानी है तो वह आत्म चिंतन करें और हमारे यहां बहुत से अच्छे अच्छे लोग हैं आध्यात्मिक आध्यात्मिक गुरु के अलावा जो कि आपको सही मार्ग पर ले आ सकते उनकी अच्छाई की बात आपको जिंदगी में काम आएगीDekhie Mere Anusar Rayata Kuch Bhi Zaroori Nahi Hai Ki Agar Hume Zindagi Mein Shanti Chahiye To Hume Kisi Khas Aadhyatmik Guru Ko Follow Karna Chahiye Kyonki Sahi Pucho To Jo Shanti Ka Jo Marg Hai Wah Wah Hamare Dimag Ke Andar Hi Hai Jaise Kahaavat Hi Prachalit Hai Ki Man Changa To Kathautee Mein Ganga Kehne Ka Matlab Hai Ki Agar Aapke Man Mein Shanti Hai Ab Aap Andar Se Shaant Hai Aapka Kansantreshan Sahi Hai Aapki Soch Acchi Hai To Phir Aap Ko Shanti Kahin Bhi Mil Sakti Zaroori Nahi Ki Aap Kisi Dharm Guru Ho Ya Kisi Aadhyatmik Guru Ke Andar Hi Jayen To Aap Ko Shanti Milegi Dhundhane Se Aapko Khud Ke Khud Mein Dekhna Hoga Khud Mein Atmachintan Karna Hoga Aur Yeh Poshan Kuposhan Meri Bhi Karta Hai Ki Kis Tarah Se Aap Isko Attend Kar Sakte Hain Agar Koi Insaan Khud Mein Akele Rahkar Apne Andar Wah Aatm Chintan Karen Aur Acche Se Chalao Score Isko Padhe Book Ke Dwara Aaya Kahaniyon Ke Dwara Kahaniyon Ke Dwara Aur Unhen Wah Film Hoga Unhen Chor Milega Zindagi Ka To Wah Khud Bhi Shanti Pa Sakte Massage Zaroori Nahi Ki Aap Kise Yaad Yaad Mein Guru Se Hi Mile Hain Aap Ghar Baithey Bhi Kisi Se Bhi Us Side Ho Sakte Hain Jo Wah Din Ki Soch Acchi Hai Jis Ne Jise Duniya Ne Mana Aur Jinhone Duniya Ko Badla Samaaj Ko Badla To Aapne Follow Karke Unki Acchaiyon Ko Le Sakte Hain Aur Apne Par Laagu Karke Phir Aapko Shanti Deti Nahi Hai Kisi Dharm Guru Ke Chakkar Mein Par Ya Kisi Bhi Aadhyatmik Guru Ke Chakkar Mein Pade Kyonki Koi Bhi Insaan Shanti Altimetli Use Hi Pani Hai To Wah Aatm Chintan Karen Aur Hamare Yahan Bahut Se Acche Acche Log Hain Aadhyatmik Aadhyatmik Guru Ke Alava Jo Ki Aapko Sahi Marg Par Le Aa Sakte Unki Acchai Ki Baat Aapko Zindagi Mein Kaam Aayegi
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां जी मेरे को नहीं लगता कि आपके जीवन में जो है शादी बात करने के लिए किसी भी गुरु या आध्यात्मिक गुरु या कोई भी धार्मिक गुरु या कोई भी रिलीजियस ग्रुप जो है आपको उसकी जरुरत है मेरे को लगता शांति जो है ए...
जवाब पढ़िये
हां जी मेरे को नहीं लगता कि आपके जीवन में जो है शादी बात करने के लिए किसी भी गुरु या आध्यात्मिक गुरु या कोई भी धार्मिक गुरु या कोई भी रिलीजियस ग्रुप जो है आपको उसकी जरुरत है मेरे को लगता शांति जो है एक आदमी के अपने अंदर रहती है अगर वह उसको जब तक बाहर खोजने की कोशिश करेगा तुझे तब तक जो है उसे और शांति मिलेगी अगर वह आदमी है एक बार खुद अपने गिरेबान में झांक कर देख लेगा तो मेरे को लगता है उसे जरूर जो है वह शांति की प्राप्ति हो जाएगी क्योंकि ज्यादातर गुरुवार बाबा इन सब का जो जो लगता है वह नकली ही रहता है ढोंगी रहते हैं तो उन सब पर पैसा और अपना वक्त बर्बाद करने से अच्छा है कि आप अपने लिए कुछ काम करें और अपना सेल्फ डेवलपमेंट लिए कुछ करेंHaan Ji Mere Ko Nahi Lagta Ki Aapke Jeevan Mein Jo Hai Shadi Baat Karne Ke Liye Kisi Bhi Guru Ya Aadhyatmik Guru Ya Koi Bhi Dharmik Guru Ya Koi Bhi Religious Group Jo Hai Aapko Uski Zaroorat Hai Mere Ko Lagta Shanti Jo Hai Ek Aadmi Ke Apne Andar Rehti Hai Agar Wah Usko Jab Tak Bahar Khojne Ki Koshish Karega Tujhe Tab Tak Jo Hai Use Aur Shanti Milegi Agar Wah Aadmi Hai Ek Baar Khud Apne Girebaan Mein Jhank Kar Dekh Lega To Mere Ko Lagta Hai Use Jarur Jo Hai Wah Shanti Ki Prapti Ho Jayegi Kyonki Jyadatar Guruwar Baba In Sab Ka Jo Jo Lagta Hai Wah Nakli Hi Rehta Hai Dhongi Rehte Hain To Un Sab Par Paisa Aur Apna Waqt Barbad Karne Se Accha Hai Ki Aap Apne Liye Kuch Kaam Karen Aur Apna Self Development Liye Kuch Karen
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं नहीं ऐसा बिल्कुल भी जरूरी नहीं है कि शांति प्राप्त करने के लिए आपको किसी आध्यात्मिक गुरु को मान नहीं चाहिए अब खुद से भी अपने आप को डिसिप्लिन में करके आप योग कर सकते हैं आप ऐसी बहुत सारी चीजें कसम...
जवाब पढ़िये
नहीं नहीं ऐसा बिल्कुल भी जरूरी नहीं है कि शांति प्राप्त करने के लिए आपको किसी आध्यात्मिक गुरु को मान नहीं चाहिए अब खुद से भी अपने आप को डिसिप्लिन में करके आप योग कर सकते हैं आप ऐसी बहुत सारी चीजें कसम से आपको खुद को शांति मिल जाए सबसे अच्छी बात होगी कि एक बार आप इंटरनेट पर सर्च करके देखें आपको योगासन में क्या देखें आध्यात्मिक गुरु कि नहीं मुझे लगता है बस आपको करो की जरूरत है योग गुरु रख लें वहां पर किसी और से बात करें जो अध्यात्म वगैरा थोड़ा बहुत जानता हूं या फिर योग करता हूं उनसे मिले उनसे बातें कर खुद ब खुद ही हो गाना शुरू करें आपको खुद को शांति मिले और ऐसा कोई जरूरी नहीं कि आप किसी आदमी को करना ही पड़ेगाNahi Nahi Aisa Bilkul Bhi Zaroori Nahi Hai Ki Shanti Prapt Karne Ke Liye Aapko Kisi Aadhyatmik Guru Ko Maan Nahi Chahiye Ab Khud Se Bhi Apne Aap Ko Discipline Mein Karke Aap Yog Kar Sakte Hain Aap Aisi Bahut Saree Cheezen Kasam Se Aapko Khud Ko Shanti Mil Jaye Sabse Acchi Baat Hogi Ki Ek Baar Aap Internet Par Search Karke Dekhen Aapko Yogasana Mein Kya Dekhen Aadhyatmik Guru Ki Nahi Mujhe Lagta Hai Bus Aapko Karo Ki Zaroorat Hai Yog Guru Rakh Lein Wahan Par Kisi Aur Se Baat Karen Jo Adhyaatm Vagaira Thoda Bahut Jaanta Hoon Ya Phir Yog Karta Hoon Unse Mile Unse Batein Kar Khud B Khud Hi Ho Gaana Shuru Karen Aapko Khud Ko Shanti Mile Aur Aisa Koi Zaroori Nahi Ki Aap Kisi Aadmi Ko Karna Hi Padega
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत ही अच्छा प्रश्न आपने पूछा है क्या जीवन में शांति प्राप्त करने के लिए सुख प्राप्त करने के लिए ज्ञान पाने के लिए जो है किसी आध्यात्मिक गुरु को मानना चाहिए या नहीं आजकल अगर तमाम लोगों को देखे तमाम व...
जवाब पढ़िये
बहुत ही अच्छा प्रश्न आपने पूछा है क्या जीवन में शांति प्राप्त करने के लिए सुख प्राप्त करने के लिए ज्ञान पाने के लिए जो है किसी आध्यात्मिक गुरु को मानना चाहिए या नहीं आजकल अगर तमाम लोगों को देखे तमाम वातावरण देखे खबरों को देखे तो क्या हो रहा है कि सभी प्रकार के हजारों प्रकार के आध्यात्मिक गुरु पैदा हो गए हैं और सब लोग प्रवचन अपने दे रहे हैं और उन्हीं चीजों से आकर्षित होकर लोगों से जुड़े जा रहे हैं जुड़ते जा रहे हैं और उनका पूरा एक समूह बन जाता है या नहीं एक फैन फॉलोइंग बन जाती है और जहां कीजिए फैन फॉलोइंग के रूप में होती है वहां ईगो उनका वह बिजनेस करना है या व्यवसाय जो है वह बन जाएगा जितने भी आध्यात्मिक गुरु जितने भी लोग हैं अगर आप इनकी बातें निश्चित तौर पर जो भी बातें करते हैं वह ऐसी बातें होती हैं जो हम सब जानते हैं हम सब जानते हैं लेकिन हम उसे लागू नहीं करते फिल्म जब सामने वाला व्यक्ति को तीसरा व्यक्ति हूं बताता है जिसको हम ऑलरेडी मान चुके हैं कि बहुत बड़ा देहात में गुरु है तो उसकी कोई भी बात के लिए हमारी इंपॉर्टेंट ज्यादा गुजराती उसकी बात की एक इंपॉर्टेंट हमारे लिए ज्यादा हो जाती है इसलिए हमारे लिए ज्यादा मायने नहीं होना चाहिए गुरु जी क्या क्यों मानना क्यों किसी की शरण में जाना है या किसी के इतना ज्यादा इन्वॉल्व हो जाना हम यह सारी चीजें ज्यादा गर्म स्वयं में चीजें फॉलो करना है तो हमें किसी की जरूरत नहीं पड़ेगी और आप जानते होंगे जिस तरीके से कैसे जाते हैं ज्यादातर अध्यात्म गुरु केबल व्यवसाय चला रहे हैं समझ गए हैं कि जनता को किस तरीके की बातें पसंद आनी है किस तरीके की बातें करनी है वही बातें करके टच करके आपको अपनी शरण में ले आते हैं वही अपने से पैसा कमाते हैंBahut Hi Accha Prashna Aapne Poocha Hai Kya Jeevan Mein Shanti Prapt Karne Ke Liye Sukh Prapt Karne Ke Liye Gyaan Pane Ke Liye Jo Hai Kisi Aadhyatmik Guru Ko Manana Chahiye Ya Nahi Aajkal Agar Tamam Logon Ko Dekhe Tamam Vatavaran Dekhe Khabaro Ko Dekhe To Kya Ho Raha Hai Ki Sabhi Prakar Ke Hajaron Prakar Ke Aadhyatmik Guru Paida Ho Gaye Hain Aur Sab Log Pravachan Apne De Rahe Hain Aur Unhin Chijon Se Aakarshit Hokar Logon Se Jude Ja Rahe Hain Judte Ja Rahe Hain Aur Unka Pura Ek Samuh Ban Jata Hai Ya Nahi Ek Fan Following Ban Jati Hai Aur Jahan Kijiye Fan Following Ke Roop Mein Hoti Hai Wahan Ego Unka Wah Business Karna Hai Ya Vyavasaya Jo Hai Wah Ban Jayega Jitne Bhi Aadhyatmik Guru Jitne Bhi Log Hain Agar Aap Inki Batein Nishchit Taur Par Jo Bhi Batein Karte Hain Wah Aisi Batein Hoti Hain Jo Hum Sab Jante Hain Hum Sab Jante Hain Lekin Hum Use Laagu Nahi Karte Film Jab Samane Wala Vyakti Ko Teesra Vyakti Hoon Batata Hai Jisko Hum Already Maan Chuke Hain Ki Bahut Bada Dehat Mein Guru Hai To Uski Koi Bhi Baat Ke Liye Hamari Important Jyada Gujarati Uski Baat Ki Ek Important Hamare Liye Jyada Ho Jati Hai Isliye Hamare Liye Jyada Maayne Nahi Hona Chahiye Guru Ji Kya Kyun Manana Kyun Kisi Ki Sharan Mein Jana Hai Ya Kisi Ke Itna Jyada Involve Ho Jana Hum Yeh Saree Cheezen Jyada Garam Swayam Mein Cheezen Follow Karna Hai To Hume Kisi Ki Zaroorat Nahi Padegi Aur Aap Jante Honge Jis Tarike Se Kaise Jaate Hain Jyadatar Adhyaatm Guru Kebal Vyavasaya Chala Rahe Hain Samajh Gaye Hain Ki Janta Ko Kis Tarike Ki Batein Pasand Aani Hai Kis Tarike Ki Batein Karni Hai Wahi Batein Karke Touch Karke Aapko Apni Sharan Mein Le Aate Hain Wahi Apne Se Paisa Kamate Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यह सब आपकी सोच पर डिपेंड करता है कि आप ऐसा करना चाहते नहीं करना चाहते हम भगवान पर जब भी कोई प्रार्थना करते हैं तो हम उनसे यह सोच कर करते कि हमारी प्रार्थना पूरा कर देंगे पर ऐसा तो नहीं होता ना क...
जवाब पढ़िये
देखिए यह सब आपकी सोच पर डिपेंड करता है कि आप ऐसा करना चाहते नहीं करना चाहते हम भगवान पर जब भी कोई प्रार्थना करते हैं तो हम उनसे यह सोच कर करते कि हमारी प्रार्थना पूरा कर देंगे पर ऐसा तो नहीं होता ना कि भगवान हमें फुल प्रूफ पता ही है कि वह होते हैं या नहीं होते हैं कभी कबार हमारी बात सुनते कभी कबार हमारी बात नहीं सुनते हैं क्या आप की सब कुछ सोच पर निर्भर करता है तो अगर आप ऐसा काफी बार होता है कि हम एक अपने अगर आध्यात्मिक गुरु बना लेते हैं और अगर हमने मान लेते हैं तो हमें काफी तो देखती स्कूल लाइफ मिलती है हम काफी उनसे शेयर कर सकते हैं मतलब हमें काफी तथा उनसे ज्ञान मिलता है हम जिसे चाहते हैं बहुत कुछ तो यह आपकी सोच पर निर्भर करते रहते तो मैं यह नहीं कि जो नास्तिक लोग होते हैं वह बुरे होते हैं तो भगवान मानते हो बुरे होते हैं दोनों में कुछ कमियां दोनों तरह के गानों में आध्यात्मिक गुरु को मानना या ना मानना यह पोस्ट में जो है सो गई और इसमें किसी और को कोई रोल नहीं है तो आप उन्हें माने या ना माने यह आप पर निर्भर करता है और ऐसा भी होता है क्या आप काफी लोगों को देखेंगे तो देहात में लोगों को माथे पर फिर भी उनके जीवन में शांति नहीं है ऐसे भी लोग होंगे जो एक आध्यात्मिक गुरु का महत्व उनके जीवन में शांति हो तो यह फिर पोषण कुपोषण डिपेंड करता हैDekhie Yeh Sab Aapki Soch Par Depend Karta Hai Ki Aap Aisa Karna Chahte Nahi Karna Chahte Hum Bhagwan Par Jab Bhi Koi Prarthana Karte Hain To Hum Unse Yeh Soch Kar Karte Ki Hamari Prarthana Pura Kar Denge Par Aisa To Nahi Hota Na Ki Bhagwan Hume Full Proof Pata Hi Hai Ki Wah Hote Hain Ya Nahi Hote Hain Kabhi Kabar Hamari Baat Sunte Kabhi Kabar Hamari Baat Nahi Sunte Hain Kya Aap Ki Sab Kuch Soch Par Nirbhar Karta Hai To Agar Aap Aisa Kafi Baar Hota Hai Ki Hum Ek Apne Agar Aadhyatmik Guru Bana Lete Hain Aur Agar Humne Maan Lete Hain To Hume Kafi To Dekhti School Life Milti Hai Hum Kafi Unse Share Kar Sakte Hain Matlab Hume Kafi Tatha Unse Gyaan Milta Hai Hum Jise Chahte Hain Bahut Kuch To Yeh Aapki Soch Par Nirbhar Karte Rehte To Main Yeh Nahi Ki Jo Naastik Log Hote Hain Wah Bure Hote Hain To Bhagwan Manate Ho Bure Hote Hain Dono Mein Kuch Kamiyan Dono Tarah Ke Gaano Mein Aadhyatmik Guru Ko Manana Ya Na Manana Yeh Post Mein Jo Hai So Gayi Aur Isme Kisi Aur Ko Koi Roll Nahi Hai To Aap Unhen Mane Ya Na Mane Yeh Aap Par Nirbhar Karta Hai Aur Aisa Bhi Hota Hai Kya Aap Kafi Logon Ko Dekhenge To Dehat Mein Logon Ko Mathe Par Phir Bhi Unke Jeevan Mein Shanti Nahi Hai Aise Bhi Log Honge Jo Ek Aadhyatmik Guru Ka Mahatva Unke Jeevan Mein Shanti Ho To Yeh Phir Poshan Kuposhan Depend Karta Hai
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुरु की जरूरत हो जैसे हर किसी को बढ़ती है हमें धार्मिक की बात सिर्फ नहीं कर रही मैं हर एक के कांसेप्ट जहां पर आपको प्रोमो ना होता है बेसिकली जिसको आप को बहुत ही पर टैली सीखना होता तो टीचर की जरूरत सबक...
जवाब पढ़िये
गुरु की जरूरत हो जैसे हर किसी को बढ़ती है हमें धार्मिक की बात सिर्फ नहीं कर रही मैं हर एक के कांसेप्ट जहां पर आपको प्रोमो ना होता है बेसिकली जिसको आप को बहुत ही पर टैली सीखना होता तो टीचर की जरूरत सबको पड़ती है कई लोग खुद से भी यह काम करते हैं और गुरु की जरूरत आए दिन गीता में भी बताई गई है बट वह गुरु कौन होगा कैसा होगा और उनसे आपको क्या कुछ सीखने को मिलेगा यह जानना बहुत जरूरी कि आजकल फ्रॉड नहीं किसी भी चल रहा है कि फिर वह दिल खट्टा कर देते हैं मेरी मम्मी भी एक को मानती थी और उनके ऊपर केस चल रहा है राजस्थान में वह उनके लिए कितना बुरा है यह किसी को इमोशनल ट्रेन भी कर सकता है कि उज्जैन को उन्होंने पवित्र ना भगवान और वह रिटर्न ऑन एंड करते हैं किसी एक केस में फंस भेजो कि आप सोच भी नहीं सकते हैं उनके बारे में तो मुझे लगता है कि आजकल के टाइम पर आध्यात्मिक गुरु को अपने लिए ढूंढ पाना और उनको मानकर उनके रास्ते पर चल पाना बहुत मुश्किल है क्योंकि बहुत ज्यादा फ्रॉड भी होने लग गया है आजकल के जमाने में बिना गुरु के जाना ठीक रहेगा बैटरी वाली है यह बात तो कर जीवन में गीता में कहूंगी लिखिए वेदों में लेकर किसी भी चीज के लिए आध्यात्मिक जोड़ने के लिए गुरु की बहुत जरूरत पड़ती है सो आजकल के टाइम पर नहीं जाना चाहिए बिल्कुल ही रास्ता तो है और शांति के लिए काफी जरूरीGuru Ki Zaroorat Ho Jaise Har Kisi Ko Badhti Hai Hume Dharmik Ki Baat Sirf Nahi Kar Rahi Main Har Ek Ke Concept Jahan Par Aapko Promo Na Hota Hai Basically Jisko Aap Ko Bahut Hi Par Tally Sikhna Hota To Teacher Ki Zaroorat Sabko Padhti Hai Kai Log Khud Se Bhi Yeh Kaam Karte Hain Aur Guru Ki Zaroorat Aaye Din Geeta Mein Bhi Batai Gayi Hai But Wah Guru Kaun Hoga Kaisa Hoga Aur Unse Aapko Kya Kuch Seekhne Ko Milega Yeh Janana Bahut Zaroori Ki Aajkal Fraud Nahi Kisi Bhi Chal Raha Hai Ki Phir Wah Dil Khatta Kar Dete Hain Meri Mummy Bhi Ek Ko Maanati Thi Aur Unke Upar Case Chal Raha Hai Rajasthan Mein Wah Unke Liye Kitna Bura Hai Yeh Kisi Ko Emotional Train Bhi Kar Sakta Hai Ki Ujjain Ko Unhone Pavitra Na Bhagwan Aur Wah Return On End Karte Hain Kisi Ek Case Mein Phans Bhejo Ki Aap Soch Bhi Nahi Sakte Hain Unke Baare Mein To Mujhe Lagta Hai Ki Aajkal Ke Time Par Aadhyatmik Guru Ko Apne Liye Dhundh Pana Aur Unko Manakar Unke Raste Par Chal Pana Bahut Mushkil Hai Kyonki Bahut Jyada Fraud Bhi Hone Lag Gaya Hai Aajkal Ke Jamaane Mein Bina Guru Ke Jana Theek Rahega Battery Wali Hai Yeh Baat To Kar Jeevan Mein Geeta Mein Kahungi Likhiye Vedon Mein Lekar Kisi Bhi Cheez Ke Liye Aadhyatmik Jodne Ke Liye Guru Ki Bahut Zaroorat Padhti Hai So Aajkal Ke Time Par Nahi Jana Chahiye Bilkul Hi Rasta To Hai Aur Shanti Ke Liye Kafi Zaroori
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से जिंदगी में शांति प्राप्त करने के लिए किसी बैठक में गुरु को मारना कंपलसरी नहीं है शांति के पिक्चर बहुत सारी आध्यात्मिक गुरु अभी हमने जी संजीव देखा साईं बाबा आसाराम हो राम रहीम हो कि सारे ...
जवाब पढ़िये
मेरे हिसाब से जिंदगी में शांति प्राप्त करने के लिए किसी बैठक में गुरु को मारना कंपलसरी नहीं है शांति के पिक्चर बहुत सारी आध्यात्मिक गुरु अभी हमने जी संजीव देखा साईं बाबा आसाराम हो राम रहीम हो कि सारे शांति देने का वादा कर देते हैं और उन्होंने क्या किया कैसा शांति दिलाई हम सब जानते हैं तो किसी बाबा गुरु के चक्कर में मेरे हिसाब से नहीं पड़ना चाहिए बाकी सब की पोस्ट नरौली चीज होती है और शादी के लिए आप मेरी टेंशन कीजिए जरूरी नहीं है कि आपको किसी के मंदिर में जाना हो गया फिर किसी गुरु बाबा के धाम पर जाना हमारा के हजारों रुपए चढ़ाकर आने जाने का किराया लगाना आने का किराया लगाना उठाने के लिए क्या लगाना खाने पीने के लिए पैसे खर्च करने को इतना खर्च करेंगे उससे अच्छा गरीब बच्चों को खाना खिलाकर देखकर जो सच में उसको भूख लगे जो निकली हो शांति अपने आप आपको मिल जाएगी किसानों को खाना खिलाकर देखिए इतना प्रसन्न हो जाएगा ना आपका मन किसी गुरु बाबा की जरूरत आपको फ्री नहीं हूं इन जगहों में ना पड़े मेडिटेशन कीजिए अच्छा अच्छे काम कीजिए शांति वैसे ही मन में रहेगीMere Hisab Se Zindagi Mein Shanti Prapt Karne Ke Liye Kisi Baithak Mein Guru Ko Maarna Compulsory Nahi Hai Shanti Ke Picture Bahut Saree Aadhyatmik Guru Abhi Humne Ji Sanjeev Dekha Saayee Baba Aasaram Ho Ram Raheem Ho Ki Sare Shanti Dene Ka Vada Kar Dete Hain Aur Unhone Kya Kiya Kaisa Shanti Dilai Hum Sab Jante Hain To Kisi Baba Guru Ke Chakkar Mein Mere Hisab Se Nahi Padhna Chahiye Baki Sab Ki Post Narauli Cheez Hoti Hai Aur Shadi Ke Liye Aap Meri Tension Kijiye Zaroori Nahi Hai Ki Aapko Kisi Ke Mandir Mein Jana Ho Gaya Phir Kisi Guru Baba Ke Dham Par Jana Hamara Ke Hajaron Rupaiye Chadhakar Aane Jaane Ka Kiraya Lagana Aane Ka Kiraya Lagana Uthane Ke Liye Kya Lagana Khane Peene Ke Liye Paise Kharch Karne Ko Itna Kharch Karenge Usse Accha Garib Bacchon Ko Khana Khilakar Dekhkar Jo Sach Mein Usko Bhukh Lage Jo Nikli Ho Shanti Apne Aap Aapko Mil Jayegi Kisano Ko Khana Khilakar Dekhie Itna Prasann Ho Jayega Na Aapka Man Kisi Guru Baba Ki Zaroorat Aapko Free Nahi Hoon In Jagho Mein Na Pade Meditation Kijiye Accha Acche Kaam Kijiye Shanti Waise Hi Man Mein Rahegi
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखें मेरी सबसे यह आपकी सोच पर डिपेंड करता है कि यह आप गुरु और वगैरह में आप मानते हो या नहीं गए क्या क्या आप मानते हो तो आपकी खुशी है आप उनको मानना चाहिए बटक नहीं मानती तो वह एप्लीकेशन भी नहीं कि आपको...
जवाब पढ़िये
देखें मेरी सबसे यह आपकी सोच पर डिपेंड करता है कि यह आप गुरु और वगैरह में आप मानते हो या नहीं गए क्या क्या आप मानते हो तो आपकी खुशी है आप उनको मानना चाहिए बटक नहीं मानती तो वह एप्लीकेशन भी नहीं कि आपको किसी गुरु को मानना चाहिए क्योंकि मेरे को मन की शांति प्राप्त करनी है दिया जीवन में शांति प्राप्त करनी है तो अकेले ही कर सकते हो आपको कोई गुरु चाहिए भी नहीं होता हैDekhen Meri Sabse Yeh Aapki Soch Par Depend Karta Hai Ki Yeh Aap Guru Aur Vagairah Mein Aap Manate Ho Ya Nahi Gaye Kya Kya Aap Manate Ho To Aapki Khushi Hai Aap Unko Manana Chahiye Batak Nahi Maanati To Wah Application Bhi Nahi Ki Aapko Kisi Guru Ko Manana Chahiye Kyonki Mere Ko Man Ki Shanti Prapt Karni Hai Diya Jeevan Mein Shanti Prapt Karni Hai To Akele Hi Kar Sakte Ho Aapko Koi Guru Chahiye Bhi Nahi Hota Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Jeevan Mein Shanti Prapt Karne Ke Liye Kisi Bhi Aadhyatmik Guru Ko Manana Chahiye, Should Any Spiritual Guru Believe In Achieving Peace In Life?

vokalandroid