एक गैन्स्टर टीवी की मांग के लिए जेल में भूख हड़ताल पर चला गया, क्या आपको लगता है कि कैदियों को ऐसे विशेषाधिकार मिलने चाहिए? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे कैदी जो है वह भी आपकी और मेरी तरह इंसान हैं जीते जागते हैं इंसान हैं उन्हें भी जीने का हक है ठीक है उन्होंने कुछ गलत किया है जिसके लिए वह सजा भुगत रहे हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम बिल्कुल...
जवाब पढ़िये
लिखे कैदी जो है वह भी आपकी और मेरी तरह इंसान हैं जीते जागते हैं इंसान हैं उन्हें भी जीने का हक है ठीक है उन्होंने कुछ गलत किया है जिसके लिए वह सजा भुगत रहे हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम बिल्कुल ही इन ह्यूमन हो जान की तरह और हमें नहीं पता कि वह किस तरीके की कंडीशन में जीते हैं वहां पर उनके लिए उनके साथ क्या होता है उनकी जिंदगी कैसी होती है हम और आप जैसे लोग अपनी जिंदगी में इतने बिजी होते हैं कि हमें बिल्कुल भी होश नहीं है कि जेल में जीता हुआ इंसान अपनी जिंदगी कैसे बिता रहा है मैं उसे अपनी जिंदगी में कितने भी बुरे काम की हो लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि मैं पटक देंगे आपको 18 मिनट की लत है हमें लगता है कि हां कुछ एंटरटेनमेंट होना चाहिए कुछ नया मिलता है उसे हमें पॉजिटिव फील होता है जब भी कभी-कभी हम एंटरटेनमेंट का कोई नया तरीका ढूंढ लेते हैं तो टेलीविजन एक बहुत ही बिजी है आजकल एंटरटेनमेंट के लिए एंटरटेनमेंट की हम सभी के लिए तो मुझे लगता है कि हां बिल्कुल जो कह दी है उनको यह हक मिलना चाहिए उनको यह अधिकार मिलना चाहिए कि वह एंटरटेन हो और अपना जीवन जो है वह ठीक है जेल में बता रहे हैं लेकिन हक सबको है खुशी से जीने का और एंटरटेनमेंट अगर खुशी मिलती है और अगर वह कोई टाइम ही क्यों ना हो तो यह ठीक है इसमें कुछ बुराई नहीं हैLikhe Kaidi Jo Hai Wah Bhi Aapki Aur Meri Tarah Insaan Hain Jeete Jagte Hain Insaan Hain Unhen Bhi Jeene Ka Haq Hai Theek Hai Unhone Kuch Galat Kiya Hai Jiske Liye Wah Saja Bhugat Rahe Hain Lekin Iska Matlab Yeh Nahi Hai Ki Hum Bilkul Hi In Human Ho Jaan Ki Tarah Aur Hume Nahi Pata Ki Wah Kis Tarike Ki Condition Mein Jeete Hain Wahan Par Unke Liye Unke Saath Kya Hota Hai Unki Zindagi Kaisi Hoti Hai Hum Aur Aap Jaise Log Apni Zindagi Mein Itne Busy Hote Hain Ki Hume Bilkul Bhi Hosh Nahi Hai Ki Jail Mein Jeeta Hua Insaan Apni Zindagi Kaise Bita Raha Hai Main Use Apni Zindagi Mein Kitne Bhi Bure Kaam Ki Ho Lekin Iska Matlab Yeh Nahi Ki Main Patak Denge Aapko 18 Minute Ki Lat Hai Hume Lagta Hai Ki Haan Kuch Entertainment Hona Chahiye Kuch Naya Milta Hai Use Hume Positive Feel Hota Hai Jab Bhi Kabhi Kabhi Hum Entertainment Ka Koi Naya Tarika Dhundh Lete Hain To Television Ek Bahut Hi Busy Hai Aajkal Entertainment Ke Liye Entertainment Ki Hum Sabhi Ke Liye To Mujhe Lagta Hai Ki Haan Bilkul Jo Keh Di Hai Unko Yeh Haq Milna Chahiye Unko Yeh Adhikaar Milna Chahiye Ki Wah Entertain Ho Aur Apna Jeevan Jo Hai Wah Theek Hai Jail Mein Bata Rahe Hain Lekin Haq Sabko Hai Khushi Se Jeene Ka Aur Entertainment Agar Khushi Milti Hai Aur Agar Wah Koi Time Hi Kyun Na Ho To Yeh Theek Hai Isme Kuch Burayi Nahi Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे विचार से यह सब बातें बहुत ही बुरे हैं और हम हमें इस को मारना नहीं चाहिए क्योंकि जो लोग जेल में है वह वहां है क्योंकि एक कारण उसने बहुत बुरी काम किए होंगे तो इसीलिए उसके आगे जो सिम है उसे रेक्टिफा...
जवाब पढ़िये
मेरे विचार से यह सब बातें बहुत ही बुरे हैं और हम हमें इस को मारना नहीं चाहिए क्योंकि जो लोग जेल में है वह वहां है क्योंकि एक कारण उसने बहुत बुरी काम किए होंगे तो इसीलिए उसके आगे जो सिम है उसे रेक्टिफायर करने के लिए उसके मैसेज को रेक्टिफायर करने के लिए जेल में भेजा जाता है अगर उनको TV या अच्छे गाने आदि के बहुत सारे अच्छे फैसिलिटी शुरू मेरिट लिस्ट मिल जाते हैं जेल में दो लोगों को ऐसा नहीं हो नहीं होगा कि वह उस गलती को फिर वापस कभी नहीं करें अगर उसको यह सब लग्जरी मिलते हैं तो आराम से वह गलती करके आ कर जेल में बैठ जाएगा तो हमें यह सब एंटरटेनमेंट कभी नहीं करना हैMere Vichar Se Yeh Sab Batein Bahut Hi Bure Hain Aur Hum Hume Is Ko Maarna Nahi Chahiye Kyonki Jo Log Jail Mein Hai Wah Wahan Hai Kyonki Ek Kaaran Usne Bahut Buri Kaam Kiye Honge To Isliye Uske Aage Jo Sim Hai Use Rectifier Karne Ke Liye Uske Massage Ko Rectifier Karne Ke Liye Jail Mein Bheja Jata Hai Agar Unko TV Ya Acche Gaane Aadi Ke Bahut Sare Acche Facility Shuru Merit List Mil Jaate Hain Jail Mein Do Logon Ko Aisa Nahi Ho Nahi Hoga Ki Wah Us Galti Ko Phir Wapas Kabhi Nahi Karen Agar Usko Yeh Sab Luxury Milte Hain To Aaram Se Wah Galti Karke Aa Kar Jail Mein Baith Jayega To Hume Yeh Sab Entertainment Kabhi Nahi Karna Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आई थिंग कम भूख हड़ताल पर बैठना सबसे इजी मारा जाता है किसी भी चीज को अपने बनवाने के लिए बट कोई भी बैठ सकता है वह तो उनकी अपनी मर्जी होती है तो मेरे हिसाब से अगर वह भूख हड़ताल पर बैठे हैं पर उसे सुनवाई ...
जवाब पढ़िये
आई थिंग कम भूख हड़ताल पर बैठना सबसे इजी मारा जाता है किसी भी चीज को अपने बनवाने के लिए बट कोई भी बैठ सकता है वह तो उनकी अपनी मर्जी होती है तो मेरे हिसाब से अगर वह भूख हड़ताल पर बैठे हैं पर उसे सुनवाई होनी चाहिए नहीं होनी चाहिए यह डिपेंड करता है हमारे सिस्टम पर सो जैसे कि आपने क्वेश्चन पूछा कि TV देखने के लिए या फिर किसी भी चीज के लिए बैठते हैं भूख हड़ताल के विशेष अधिकार होना चाहिए कि नहीं होना चाहिए तो अगर मैं इस स्कूल में पढ़ जल्दी समझाऊं तू विशेषाधिकार से भूख हड़ताल का है जिस पर कोई भी बैठ सकता है वह हरिजन को है और हमारी जो धाराएं हमारी जुदाई से उनके कॉलिंग कोई भी इंसान अपनी चीजों के लिए हड़ताल पर बैठ सकता है तो उसमें कोई इशू नहीं है लेकिन नदियों को हम नाइट में अकाउंट करते नहीं उसका रीजन यह क्या कह रही जो होते हैं उनको हम फंडामेंटल राइट्स के अनुसार मानते नहीं क्योंकि वह ऑलरेडी क्राइम तोड़ चुके हैं तो वह टाइम में हम उनको उसमें मानते नहीं है तो आई डोंट थिंक सो क्यों नहीं भूख हड़ताल पर बैठे हैं कोई अधिकार होना चाहिए और दो बैठे हैं तो वह सिस्टम पर डिपेंड करता है कि वह उस को वैलिड मानकर के उनके लिए जो HD को चाहते हैं उसे प्रोवाइड करेंगे कि नहीं करेंगे तो इस अप टू द सिस्टम इसकी कोई पर्टिकुलर ID नहीं बन सकता कि कह दो कि अलग रहेंगे लेकिन हाय बिट्टू पीछे राइट टू फ्रीडम अब नहीं रह सकते फिर आप तो यह भी कहोगे कि उनको फिर राइट टू फ्रीडम भी होना चाहिए बट ऐसा नहीं होना ही कानून तोड़े हुए हैं तो उनको फंडामेंटल राइट्स हम नहीं दे सकते जिसमें भूख हड़ताल भी आता है राइट में सो मुझे लगता की स्पेशल अधिकार होना चाहिएEye Thing Kum Bhukh Hartal Par Baithana Sabse Easy Mara Jata Hai Kisi Bhi Cheez Ko Apne Banwane Ke Liye But Koi Bhi Baith Sakta Hai Wah To Unki Apni Marji Hoti Hai To Mere Hisab Se Agar Wah Bhukh Hartal Par Baithey Hain Par Use Sunavai Honi Chahiye Nahi Honi Chahiye Yeh Depend Karta Hai Hamare System Par So Jaise Ki Aapne Question Poocha Ki TV Dekhne Ke Liye Ya Phir Kisi Bhi Cheez Ke Liye Baithate Hain Bhukh Hartal Ke Vishesh Adhikaar Hona Chahiye Ki Nahi Hona Chahiye To Agar Main Is School Mein Padh Jaldi Samjhau Tu Visheshadhikar Se Bhukh Hartal Ka Hai Jis Par Koi Bhi Baith Sakta Hai Wah Harijan Ko Hai Aur Hamari Jo Dharayen Hamari Judaii Se Unke Calling Koi Bhi Insaan Apni Chijon Ke Liye Hartal Par Baith Sakta Hai To Usamen Koi Issue Nahi Hai Lekin Nadiyon Ko Hum Night Mein Account Karte Nahi Uska Reason Yeh Kya Keh Rahi Jo Hote Hain Unko Hum Fundamental Rights Ke Anusar Manate Nahi Kyonki Wah Already Crime Tod Chuke Hain To Wah Time Mein Hum Unko Usamen Manate Nahi Hai To Eye Don't Think So Kyun Nahi Bhukh Hartal Par Baithey Hain Koi Adhikaar Hona Chahiye Aur Do Baithey Hain To Wah System Par Depend Karta Hai Ki Wah Us Ko Valid Manakar Ke Unke Liye Jo HD Ko Chahte Hain Use Provide Karenge Ki Nahi Karenge To Is Up To D System Iski Koi Particular ID Nahi Ban Sakta Ki Keh Do Ki Alag Rahenge Lekin Hi Bittu Piche Right To Freedom Ab Nahi Rah Sakte Phir Aap To Yeh Bhi Kahoge Ki Unko Phir Right To Freedom Bhi Hona Chahiye But Aisa Nahi Hona Hi Kanoon Tode Hue Hain To Unko Fundamental Rights Hum Nahi De Sakte Jisme Bhukh Hartal Bhi Aata Hai Right Mein So Mujhe Lagta Ki Special Adhikaar Hona Chahiye
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां देखिए अगर एक जैसे जो है वह TV के लिए भूख हड़ताल पर चले गए तो मैं उनकी मांगे पूरी नहीं करनी चाहिए कि क्या करें और जो जेल एडमिनिस्ट्रेशन है या सरकार है अगर वह यह मांगे पूरी कर देती है उसका दीजिए तो ...
जवाब पढ़िये
हां देखिए अगर एक जैसे जो है वह TV के लिए भूख हड़ताल पर चले गए तो मैं उनकी मांगे पूरी नहीं करनी चाहिए कि क्या करें और जो जेल एडमिनिस्ट्रेशन है या सरकार है अगर वह यह मांगे पूरी कर देती है उसका दीजिए तो इसके बाद जो है वह बाकी कह दी में जो है वह यही चीज करेंगे उनको कुछ भी चीज चाहिए होगा वह भूखा करते चले जाएंगे हड़ताल पर करेंगे विद्रोह करेंगे बगावत करेंगे और यह सोचिए एडमिशन तो कुछ भी दे देगा पहले बुक ताजा हड़ताल कर लेते और एडमिशन कुछ भी देने को रेडी हो जाएगा तो मैं को लगता है ऐसा नहीं करना चाहिए और ना ही उसकी मांगे पूरी करनी चाहिए और ना ही ऐसा कोई विशेषाधिकार एक कैदी और एक कैंसर को मिलना चाहिएHaan Dekhie Agar Ek Jaise Jo Hai Wah TV Ke Liye Bhukh Hartal Par Chale Gaye To Main Unki Mange Puri Nahi Karni Chahiye Ki Kya Karen Aur Jo Jail Administration Hai Ya Sarkar Hai Agar Wah Yeh Mange Puri Kar Deti Hai Uska Dijiye To Iske Baad Jo Hai Wah Baki Keh Di Mein Jo Hai Wah Yahi Cheez Karenge Unko Kuch Bhi Cheez Chahiye Hoga Wah Bhukha Karte Chale Jaenge Hartal Par Karenge Vidroh Karenge Bagavat Karenge Aur Yeh Sochie Admission To Kuch Bhi De Dega Pehle Book Taaza Hartal Kar Lete Aur Admission Kuch Bhi Dene Ko Ready Ho Jayega To Main Ko Lagta Hai Aisa Nahi Karna Chahiye Aur Na Hi Uski Mange Puri Karni Chahiye Aur Na Hi Aisa Koi Visheshadhikar Ek Kaidi Aur Ek Cancer Ko Milna Chahiye
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां देखिए यही तो इस देश का हमारे भारत देश का रोना है यहां की कड़वी सच्चाई यह है कि यहां जो क्राइम होते हैं उसके भी जो पनिशमेंट होते हैं वह पोषण कुपोषण भारी करते हैं जबकि मेरा मानना है कि क्राइम तो क्र...
जवाब पढ़िये
हां देखिए यही तो इस देश का हमारे भारत देश का रोना है यहां की कड़वी सच्चाई यह है कि यहां जो क्राइम होते हैं उसके भी जो पनिशमेंट होते हैं वह पोषण कुपोषण भारी करते हैं जबकि मेरा मानना है कि क्राइम तो क्राइम होता है वह अगर कोई हाई प्रोफाइल गैंगस्टर करें या कोई नॉर्मल इंसान करें तो सजा तो सबके लिए एक होनी चाहिए और ऐसा संविधान में हमारे जुडिशरी सिस्टम में ऐसा ही कहा गया लेकिन फिर भी जो फैसला सुनाया जाता है तो यह पोषण कुपोषण का जो क्वेश्चन होता है क्राइम का और जो जेल में जाएंगे अगर कोई हाई प्रोफाइल पसंद है तो वह दूसरे जेल में जाएंगे तो हमारे सिस्टम में खराबी है तो इसी कारण है कि आज के डिमांड कर रहा है और वह भूख हड़ताल पर बैठ गया तो कितनी यययररर नहीं है इस देश के लोग बाहर देश के लोग अगर सुनेंगे तो इस पर हंसेंगे की कोई एक तो वह गैंगस्टर है जरूर उससे कोई जो केशव साबित हुआ तू ही तो वह जेल में है जेल में होने के बाद अगर आप किसी तरह की असुविधा का डिमांड कर रहे हैं तो अपने आप में ही है हंसने वाली बात है और हमारे जो इंडियन कांस्टिट्यूशन में आया जुडिशरी सिस्टम में जो यह लूप होल्स है इस चीज को या नहीं से मेट्रो बाइक्स कहूंगा तो इसे जितना जल्द से जल्द हो कलेक्ट करना चाहिए क्योंकि इस तरह तो देश हास्य पर आ जाएगी कि जहां क्राइम में लोग करते हैं वह भी डिमांड करते हैं इस तरह की असुविधा के लिए तो यह इस तरह के विशेष जो सुविधा दी जाती है मेरे अनुसार यह गलत है क्योंकि क्राइम के अनुसार आप किसी को पनिशमेंट देना कि उसके बैकग्राउंड स्कोर कितना है प्रोफाइल है या वह पसंद कैसा है क्योंकि कानून तो अंधा होता है अंधा होना चाहिए ऐसा है संविधान में लिखने प्रैक्टिकल न्यूज़ में ऐसा नहीं हो पाता है और इसे जितना जल्द हो लागू करना चाहिए कि अगर आपने क्राइम किया है तो आपको पनिशमेंट होगी इंस्पेक्टर कि आप रोशन कौन हैंHaan Dekhie Yahi To Is Desh Ka Hamare Bharat Desh Ka Rona Hai Yahan Ki Kadavi Sacchai Yeh Hai Ki Yahan Jo Crime Hote Hain Uske Bhi Jo Punishment Hote Hain Wah Poshan Kuposhan Bhari Karte Hain Jabki Mera Manana Hai Ki Crime To Crime Hota Hai Wah Agar Koi Hi Profile Gangster Karen Ya Koi Normal Insaan Karen To Saja To Sabke Liye Ek Honi Chahiye Aur Aisa Samvidhan Mein Hamare Judiciary System Mein Aisa Hi Kaha Gaya Lekin Phir Bhi Jo Faisla Sunaya Jata Hai To Yeh Poshan Kuposhan Ka Jo Question Hota Hai Crime Ka Aur Jo Jail Mein Jaenge Agar Koi Hi Profile Pasand Hai To Wah Dusre Jail Mein Jaenge To Hamare System Mein Kharabi Hai To Isi Kaaran Hai Ki Aaj Ke Demand Kar Raha Hai Aur Wah Bhukh Hartal Par Baith Gaya To Kitni Yayayararar Nahi Hai Is Desh Ke Log Bahar Desh Ke Log Agar Sunenge To Is Par Hansenge Ki Koi Ek To Wah Gangster Hai Jarur Usse Koi Jo Keshav Saabit Hua Tu Hi To Wah Jail Mein Hai Jail Mein Hone Ke Baad Agar Aap Kisi Tarah Ki Asuvidha Ka Demand Kar Rahe Hain To Apne Aap Mein Hi Hai Hansane Wali Baat Hai Aur Hamare Jo Indian Constitution Mein Aaya Judiciary System Mein Jo Yeh Loop Holes Hai Is Cheez Ko Ya Nahi Se Metro Bikes Kahunga To Ise Jitna Jald Se Jald Ho Collect Karna Chahiye Kyonki Is Tarah To Desh Hasya Par Aa Jayegi Ki Jahan Crime Mein Log Karte Hain Wah Bhi Demand Karte Hain Is Tarah Ki Asuvidha Ke Liye To Yeh Is Tarah Ke Vishesh Jo Suvidha Di Jati Hai Mere Anusar Yeh Galat Hai Kyonki Crime Ke Anusar Aap Kisi Ko Punishment Dena Ki Uske Background Score Kitna Hai Profile Hai Ya Wah Pasand Kaisa Hai Kyonki Kanoon To Andha Hota Hai Andha Hona Chahiye Aisa Hai Samvidhan Mein Likhne Practical News Mein Aisa Nahi Ho Pata Hai Aur Ise Jitna Jald Ho Laagu Karna Chahiye Ki Agar Aapne Crime Kiya Hai To Aapko Punishment Hogi Inspector Ki Aap Roshan Kaun Hain
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरविंद जी मुझे ऐसा बिल्कुल भी नहीं लगता कि कैदियों को ऐसे विशेष अधिकार मिलना चाहिए इसके पीछे कारण यह है कि वह जेल में है तूने कोई ना कोई गुनाह किया है कोई ना कोई क्राइम किया है हो सकता है किसी का कर न...
जवाब पढ़िये
अरविंद जी मुझे ऐसा बिल्कुल भी नहीं लगता कि कैदियों को ऐसे विशेष अधिकार मिलना चाहिए इसके पीछे कारण यह है कि वह जेल में है तूने कोई ना कोई गुनाह किया है कोई ना कोई क्राइम किया है हो सकता है किसी का कर न कर दो किसी का रेप कर दिया हो किसी के घर चोरी की हो या कोई देश के खिलाफ कुछ काम किया उस पगली की हो या कोई बिजनेस ज्वाइन करने के बाद अद्भुत जितनी भी सारी लग्जरी एंजॉय करेंगे तो उनमें और जेल के बाहर चलोगे में पर कुछ नहीं रह जाएगा उन्होंने गलत काम कुछ किया है तो उसमें उनकी सजा मिलनी चाहिए और उन्हें कोई मेरे साथ पर हक नहीं होना चाहिए कि वह TV देकर जेल में तो फिर उसके बाद तो प्रॉब्लम है क्या जिस मिट्टी में मिल जाएगा खाना मिल जाएगा आराम से उनकी कट जाएगी तो इसमें तो उनको कभी रिप्लाई भी नहीं हुआ मैंने कुछ गलत किया और दूसरी तरफ अगर किसी बंदे ने किसी लड़की का रेप किया है और वह लड़की बाहर है और अगर आदमी को जेल हो गई उसे TV देखने को मिल रहा है और वह लड़की अपने अस्तित्व के लिए जो लड़ रही होगी इसका मतलब तो वह लड़की भुगत रही है तो बिलकुल मेरे हिसाब से नहीं मिलना चाहिए तो कोई विशेष अधिकार जो कह दी है उन्हें कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए जितना उसे अकेला छोड़ देनाArvind Ji Mujhe Aisa Bilkul Bhi Nahi Lagta Ki Kaidiyo Ko Aise Vishesh Adhikaar Milna Chahiye Iske Piche Kaaran Yeh Hai Ki Wah Jail Mein Hai Tune Koi Na Koi Gunah Kiya Hai Koi Na Koi Crime Kiya Hai Ho Sakta Hai Kisi Ka Kar N Kar Do Kisi Ka Rape Kar Diya Ho Kisi Ke Ghar Chori Ki Ho Ya Koi Desh Ke Khilaf Kuch Kaam Kiya Us Pagali Ki Ho Ya Koi Business Join Karne Ke Baad Adbhut Jitni Bhi Saree Luxury Enjoy Karenge To Unmen Aur Jail Ke Bahar Chaloge Mein Par Kuch Nahi Rah Jayega Unhone Galat Kaam Kuch Kiya Hai To Usamen Unki Saja Milani Chahiye Aur Unhen Koi Mere Saath Par Haq Nahi Hona Chahiye Ki Wah TV Dekar Jail Mein To Phir Uske Baad To Problem Hai Kya Jis Mitti Mein Mil Jayega Khana Mil Jayega Aaram Se Unki Cut Jayegi To Isme To Unko Kabhi Reply Bhi Nahi Hua Maine Kuch Galat Kiya Aur Dusri Taraf Agar Kisi Bande Ne Kisi Ladki Ka Rape Kiya Hai Aur Wah Ladki Bahar Hai Aur Agar Aadmi Ko Jail Ho Gayi Use TV Dekhne Ko Mil Raha Hai Aur Wah Ladki Apne Astitv Ke Liye Jo Lad Rahi Hogi Iska Matlab To Wah Ladki Bhugat Rahi Hai To Bilkul Mere Hisab Se Nahi Milna Chahiye To Koi Vishesh Adhikaar Jo Keh Di Hai Unhen Kadi Se Kadi Saja Milani Chahiye Jitna Use Akela Chod Dena
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं देखी को क्या दी है इसका मतलब को पनिशमेंट खा रहा है वह किसी चीज के लिए सजा काट रहा है और सच में आपकी आराम से आराम को नहीं देखा जाता सजा मैं अपनी फरमाइशों को नहीं देखा जाता सका मैं आप को सजा दी जात...
जवाब पढ़िये
नहीं देखी को क्या दी है इसका मतलब को पनिशमेंट खा रहा है वह किसी चीज के लिए सजा काट रहा है और सच में आपकी आराम से आराम को नहीं देखा जाता सजा मैं अपनी फरमाइशों को नहीं देखा जाता सका मैं आप को सजा दी जाती है इसलिए इस तरह के विशेषाधिकार जो है वह कैदियों को नहीं मिलनी चाहिए इंजॉय करने के लिए नहीं गलत काम के लिए सजा काटने के लिए बहुत जरूरी है कि उनकी इस तरह की हिसाब मांगों को रोका जा नजरअंदाज किया था और उन्हें बताया तो लाया था कि वह कोई शादी है और वहां पर आराम करने के लिए फ्री में चीजें और लेने के लिए नहीं आयाNahi Dekhi Ko Kya Di Hai Iska Matlab Ko Punishment Kha Raha Hai Wah Kisi Cheez Ke Liye Saja Kaat Raha Hai Aur Sach Mein Aapki Aaram Se Aaram Ko Nahi Dekha Jata Saja Main Apni Faramaishon Ko Nahi Dekha Jata Saka Main Aap Ko Saja Di Jati Hai Isliye Is Tarah Ke Visheshadhikar Jo Hai Wah Kaidiyo Ko Nahi Milani Chahiye Enjoy Karne Ke Liye Nahi Galat Kaam Ke Liye Saja Katne Ke Liye Bahut Zaroori Hai Ki Unki Is Tarah Ki Hisab Maangon Ko Roka Ja Najarandaj Kiya Tha Aur Unhen Bataya To Laya Tha Ki Wah Koi Shadi Hai Aur Wahan Par Aaram Karne Ke Liye Free Mein Cheezen Aur Lene Ke Liye Nahi Aaya
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Ek Gangster TV Ki Maang Ke Liye Jail Mein Bhukh Hartal Par Chala Gaya Kya Aapko Lagta Hai Ki Kaidiyo Ko Aise Visheshadhikar Milne Chahiye, For A Demand For A Gunster TV Went On A Hunger Strike In Jail, Do You Think Prisoners Should Get Such Privileges?

vokalandroid