क्या आपको लगता है की देश को महिलाओं द्वारा चलाया जाना चाहिए? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे लगता है कि इस राष्ट्र को ना केवल पुरुषों के द्वारा पल की महिलाओं के द्वारा भी उचित प्रतिनिधित्व प्राप्त होना चाहिए ताकि किसी भी प्रशासन में अथवा विभागीय कार्यवाही ओं में जिस प्रकार से पुरुषों का एक उचित प्रतिनिधित्व मिलता है उसी प्रकार से महिलाओं को भी समान अधिकार प्राप्त होना चाहिए इस हेतु महिलाओं के लिए आरक्षण की व्यवस्था बहुत से स्थानों पर की गई परंतु इस हेतु जिस भी प्रकार की उत्कंठा अथवा प्रोत्साहन महिलाओं को मिलना चाहिए था वह नहीं मिला जिसका सबसे प्रमुख कारण मुझे प्रतीत होता है वह यह है कि महिलाओं के प्रति जो सोच है भारतीय जनमानस को नहीं बदल पा रही थी तो कब से महत्वपूर्ण जो कदम उठाया जाना चाहिए वह होना चाहिए महिलाओं के प्रति जो हमारी दकियानूसी सोच है उसमें बदलाव आए महिलाओं को हम अपने सामान समझे तथा उनको प्रोत्साहन दे उनकी हर कार्य व क्रियाकलाप की प्रशंसा करें तथा उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरणा प्रदान करें बजाय इसके कि उन्हें हर कदम पर नीचा दिखाए तथा उनके साथ किसी प्रकार का भेदभाव करें मुझे आज ऐसा लगता है कि देश में महिलाओं का योगदान जितना बढ़ना चाहिए था उतना नहीं बड़ा है 21वी शताब्दी में हम आकर भी महिलाओं को उनका उचित सम्मान तथा प्रतिनिधित्व नहीं दिलवा पाए हैं जो एक बहुत ही अफसोस जनक वह सोचने का विषय है मुझे लगता है कि अब समय आ गया है कि महिलाओं हेतु कड़े से कड़े कदम उठाए जाना चाहिए जिसके लिए उनको विकास का भरपूर मौका मिल सके तथा देश के नवनिर्माण में उनका योगदान अहम भूमिका निभा सके धन्यवाद
Romanized Version
मुझे लगता है कि इस राष्ट्र को ना केवल पुरुषों के द्वारा पल की महिलाओं के द्वारा भी उचित प्रतिनिधित्व प्राप्त होना चाहिए ताकि किसी भी प्रशासन में अथवा विभागीय कार्यवाही ओं में जिस प्रकार से पुरुषों का एक उचित प्रतिनिधित्व मिलता है उसी प्रकार से महिलाओं को भी समान अधिकार प्राप्त होना चाहिए इस हेतु महिलाओं के लिए आरक्षण की व्यवस्था बहुत से स्थानों पर की गई परंतु इस हेतु जिस भी प्रकार की उत्कंठा अथवा प्रोत्साहन महिलाओं को मिलना चाहिए था वह नहीं मिला जिसका सबसे प्रमुख कारण मुझे प्रतीत होता है वह यह है कि महिलाओं के प्रति जो सोच है भारतीय जनमानस को नहीं बदल पा रही थी तो कब से महत्वपूर्ण जो कदम उठाया जाना चाहिए वह होना चाहिए महिलाओं के प्रति जो हमारी दकियानूसी सोच है उसमें बदलाव आए महिलाओं को हम अपने सामान समझे तथा उनको प्रोत्साहन दे उनकी हर कार्य व क्रियाकलाप की प्रशंसा करें तथा उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरणा प्रदान करें बजाय इसके कि उन्हें हर कदम पर नीचा दिखाए तथा उनके साथ किसी प्रकार का भेदभाव करें मुझे आज ऐसा लगता है कि देश में महिलाओं का योगदान जितना बढ़ना चाहिए था उतना नहीं बड़ा है 21वी शताब्दी में हम आकर भी महिलाओं को उनका उचित सम्मान तथा प्रतिनिधित्व नहीं दिलवा पाए हैं जो एक बहुत ही अफसोस जनक वह सोचने का विषय है मुझे लगता है कि अब समय आ गया है कि महिलाओं हेतु कड़े से कड़े कदम उठाए जाना चाहिए जिसके लिए उनको विकास का भरपूर मौका मिल सके तथा देश के नवनिर्माण में उनका योगदान अहम भूमिका निभा सके धन्यवादMujhe Lagta Hai Qi Is Rashtra Co Na Keval Purushon K Dwara Pol Ki Mahilao K Dwara Bhi Uchit Pratinidhitva Prapt Hona Chahie Taki Kisi Bhi Prashasan Mein Athva Vibhagiya Karyavahi On Mein Jisha Prakar Se Purushon Ka Ek Uchit Pratinidhitva Milta Hai Ussi Prakar Se Mahilao Co Bhi Saman Adhikar Prapt Hona Chahie Is Hetu Mahilao K Lie Aarkshan Ki Vyavastha Bahut Se Sthano Per Ki Gi Parantu Is Hetu Jisha Bhi Prakar Ki Utkantha Athva Protsahan Mahilao Co Melina Chahie Thaa Wah Nahin Milaa Jiska Sabse Pramukh Karan Mujhe Prateet Hota Hai Wah Yeh Hai Qi Mahilao K Prati Joe Soch Hai Bhartiya Janamanas Co Nahin Badal PA Rahi Thi To Kab Se Mahatvapoorn Joe Kadam Uthaayaa Jaana Chahie Wah Hona Chahie Mahilao K Prati Joe Hamari Dakiyanusi Soch Hai Usme Badlav Ae Mahilao Co Hum Apne Saamaan Smjhe Tatha Unko Protsahan They Unki Her Karya Va Kriyaklap Ki Prashansa Karein Tatha Unhein Aage Badhane K Lie Prerna Pradan Karein Bajay Iske Qi Unhein Her Kadam Per Nicha Dikhaae Tatha Unke Sathe Kisi Prakar Ka Bhedbhav Karein Mujhe Aj Aisa Lagta Hai Qi Desh Mein Mahilao Ka Yogdan Jitna Badhana Chahie Thaa Utana Nahin Bada Hai V Shatabdi Mein Hum Aakar Bhi Mahilao Co Unka Uchit Samman Tatha Pratinidhitva Nahin Delwa Pae Hain Joe Ek Bahut Hea Afcon Janak Wah Sochne Ka Vishya Hai Mujhe Lagta Hai Qi Aba Samay Aa Gaya Hai Qi Mahilao Hetu Kade Se Kade Kadam Uthaae Jaana Chahie Jiske Lie Unko Vikas Ka Bharapur Mauka Mill Skye Tatha Desh K Navanirman Mein Unka Yogdan Ahm Bhumika Nibha Skye Dhanyvaad
Likes  9  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

अब मुझे लगता है की मोदी को हार जाना चाहिए क्या लगता है आपको क्या वो हार जाएंगे ? ...

फ्री के पैसे हार जीत होती है वह सभी लोग जो देश के चाहते हैं वही होगा मेरे हिसाब से नहीं लगता कि वह आ गई क्योंकि देश में बहुत विकसित हो गया है जब से देखी मोदी सरकार आएगी तो देश ने बहुत प्रगति की है बहुजवाब पढ़िये
ques_icon

ग्रामीण भारत में महिलाओं की स्वास्थ्य में सुधार के लिए क्या किया जाना चाहिए ? ...

अमीर और गरीब महिलाएं हैं, और शक्तिशाली और शक्तिहीन भी हैं। समृद्ध महिलाएं या शक्तिशाली महिलाएं शायद ही कभी पीड़ित हैं। लेकिन गरीब महिलाएं हमेशा पीड़ित होती हैं। इसलिए यहां लिंग मुख्य कारण नहीं है, बल्जवाब पढ़िये
ques_icon

क्या आपको लगता है कि ज्यादातर भारतीय पुरुष और महिलाओं के पास दोहरे मानकों हैं ? ...

भारत में हर किसी के पास दोहरे मानकों हैं। आदमी और औरतें? यहां तक ​​कि बच्चों के दोहरे मानकों हैं। या एक मिनट प्रतीक्षा करें। दोहरे मानक? शायद उनमें से 4 या 5। यह कहां से शुरू होता है? यह महसूस करने सेजवाब पढ़िये
ques_icon

आपको नहीं लगता कि देश को राजनीतिक दल के नहीं बल्कि इंसानियत की जरूरत है ? ...

बिल्कुल मैं आप की बात से सहमत हूं कि हमारे देश में जो है राजनीतिक दल से ज्यादा जुड़े हमारी इंसानियत की जरूरत है क्योंकि आए दिन जो हमारे समाज में जहां भी आप देख रहे हैं इंसानियत का कत्ल हो रहा है आए दिजवाब पढ़िये
ques_icon

आपको क्या लगता है की एक ही देश में हिंदू और मुस्लिम का रहना सही है या ग़लत ? ...

अगर आप पहचानते होंगे तो हमारा देश को बने हुए 70 साल से ज्यादा हो चुके हैं और इतने सालों से हम हिंदू और मुस्लिम एक साथ रह रहे हैं भाईचारे की तरह रहना बहुत सारे ऐसे भी परिस्थितियां हुई हैं जहां पर हिंदूजवाब पढ़िये
ques_icon

क्या आपको लगता है लोगों का बीजेपी से मोह भंग हो गया है? क्या आपको लगता है बीजेपी देश में तानाशाह जैसा काम कर रही है? ...

बीजेपी के जो ऊपर क्यों देता है वह अपने स्तर से अपना अच्छा अच्छा काम करें और बीजेपी के नीचे स्तर के जो नेता है उनके नाम पर जो दंगा फसाद करते हैं वह बीजेपी को काफी बदनाम करता है इसलिए राष्ट्रीय अध्यक्ष जवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोहिता तो भैया प्रश्न जो है वह लैंगिक समानता के से जुड़ा हुआ है परंतु देश के संदर्भ में पूछा गया है तो यह जानना बहुत जरूरी है कि धीरे-धीरे समझ से चलता है शक्ति से चलता है किसी पुरुष के अधिकता या महिला की अधिकता के कारण नहीं चलता परंतु देश का सामर्थ्य यदि महिला के माध्यम से बढ़े या पुरुष के माध्यम से बड़े सामर्थ्य पढ़ना चाहिए यह महत्वपूर्ण होना चाहिए फिर भी अगर जेंडर इक्वलिटी के नजरिए से अगर हम देखें तो महिलाओं की जो संख्या है देश के देश को आगे बढ़ाने में अब एक छोटा सा उदाहरण हम लेते हैं कृषि के क्षेत्र में लगभग 1% जो मजदूरी है वह महिलाओं की है पन 14 स्वामी तो देखें भूमिका कृषि योग्य भूमि का तो महज 12 परसेंट है तो यह कहीं ना कहीं असमानता दिखती है तो इसका निर्माण अपरूप स्वरूप से तो महिला कर रही है परंतु उसकी हिस्सेदारी उसकी भागीदारी बहुत कम है समिति की दृष्टि से इस प्रकार से लैंगिक समानता तो बहुत आवश्यक है और महिला क्यों नहीं कर सकती महिला आपने एक ही जीवन में वह कई स्वरूप में एक कर्मियों की के रूप में रूप में वह अपनी सेवाएं देती है तो देश के लिए भी दे सकती आज हमारी रक्षा मंत्री थी महिला है और महिलाओं ने कोई ऐसा क्षेत्र नहीं है जिस क्षेत्र में पुरुष से कम परफॉर्म किया हो तो वह भी देश को आगे बढ़ाने में देश को विकास के पथ पर ले जाने में अपनी महती भूमिका निभा सकती है आवश्यकता फोन को अवसर देने की है क्षमता उनके अंदर भरपूर है इसमें कहीं कोई दो राय नहीं है रही पुरुषों की जहां तक बात है तो पुरुषों को समानता के
Romanized Version
मोहिता तो भैया प्रश्न जो है वह लैंगिक समानता के से जुड़ा हुआ है परंतु देश के संदर्भ में पूछा गया है तो यह जानना बहुत जरूरी है कि धीरे-धीरे समझ से चलता है शक्ति से चलता है किसी पुरुष के अधिकता या महिला की अधिकता के कारण नहीं चलता परंतु देश का सामर्थ्य यदि महिला के माध्यम से बढ़े या पुरुष के माध्यम से बड़े सामर्थ्य पढ़ना चाहिए यह महत्वपूर्ण होना चाहिए फिर भी अगर जेंडर इक्वलिटी के नजरिए से अगर हम देखें तो महिलाओं की जो संख्या है देश के देश को आगे बढ़ाने में अब एक छोटा सा उदाहरण हम लेते हैं कृषि के क्षेत्र में लगभग 1% जो मजदूरी है वह महिलाओं की है पन 14 स्वामी तो देखें भूमिका कृषि योग्य भूमि का तो महज 12 परसेंट है तो यह कहीं ना कहीं असमानता दिखती है तो इसका निर्माण अपरूप स्वरूप से तो महिला कर रही है परंतु उसकी हिस्सेदारी उसकी भागीदारी बहुत कम है समिति की दृष्टि से इस प्रकार से लैंगिक समानता तो बहुत आवश्यक है और महिला क्यों नहीं कर सकती महिला आपने एक ही जीवन में वह कई स्वरूप में एक कर्मियों की के रूप में रूप में वह अपनी सेवाएं देती है तो देश के लिए भी दे सकती आज हमारी रक्षा मंत्री थी महिला है और महिलाओं ने कोई ऐसा क्षेत्र नहीं है जिस क्षेत्र में पुरुष से कम परफॉर्म किया हो तो वह भी देश को आगे बढ़ाने में देश को विकास के पथ पर ले जाने में अपनी महती भूमिका निभा सकती है आवश्यकता फोन को अवसर देने की है क्षमता उनके अंदर भरपूर है इसमें कहीं कोई दो राय नहीं है रही पुरुषों की जहां तक बात है तो पुरुषों को समानता केMohita To Bhaiya Prashna Jo Hai Wah Laingik Samanata Ke Se Juda Hua Hai Parantu Desh Ke Sandarbh Mein Poocha Gaya Hai To Yeh Janana Bahut Zaroori Hai Ki Dhire Dhire Samajh Se Chalta Hai Shakti Se Chalta Hai Kisi Purush Ke Adhikata Ya Mahila Ki Adhikata Ke Kaaran Nahi Chalta Parantu Desh Ka Samarthya Yadi Mahila Ke Maadhyam Se Badhe Ya Purush Ke Maadhyam Se Bade Samarthya Padhna Chahiye Yeh Mahatvapurna Hona Chahiye Phir Bhi Agar Gender Equality Ke Nazariye Se Agar Hum Dekhen To Mahilaon Ki Jo Sankhya Hai Desh Ke Desh Ko Aage Badhane Mein Ab Ek Chota Sa Udaharan Hum Lete Hain Krishi Ke Shetra Mein Lagbhag 1% Jo Mazdoori Hai Wah Mahilaon Ki Hai Pun 14 Swami To Dekhen Bhumika Krishi Yogya Bhoomi Ka To Mahaj 12 Percent Hai To Yeh Kahin Na Kahin Asamanta Dikhti Hai To Iska Nirmaan Aaprup Swaroop Se To Mahila Kar Rahi Hai Parantu Uski Hissedaari Uski Bhagidari Bahut Kam Hai Samiti Ki Drishti Se Is Prakar Se Laingik Samanata To Bahut Aavashyak Hai Aur Mahila Kyon Nahi Kar Sakti Mahila Aapne Ek Hi Jeevan Mein Wah Kai Swaroop Mein Ek Karmiyon Ki Ke Roop Mein Roop Mein Wah Apni Sevayen Deti Hai To Desh Ke Liye Bhi De Sakti Aaj Hamari Raksha Mantri Thi Mahila Hai Aur Mahilaon Ne Koi Aisa Shetra Nahi Hai Jis Shetra Mein Purush Se Kam Perform Kiya Ho To Wah Bhi Desh Ko Aage Badhane Mein Desh Ko Vikash Ke Path Par Le Jaane Mein Apni Mahati Bhumika Nibha Sakti Hai Avashyakta Phone Ko Avsar Dene Ki Hai Kshamta Unke Andar Bharpur Hai Isme Kahin Koi Do Raya Nahi Hai Rahi Purushon Ki Jahan Tak Baat Hai To Purushon Ko Samanata Ke
Likes  70  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे लगता है इस प्रश्न को हमें महिला और पुरुष के लिए जाने की बजाय उस तरीके से ले जाना चाहिए देश को काबिल लोगों द्वारा चलाए बनाती है और काबिल व्यक्ति भी हो सकते हैं और पुलिस भी हो सकते हैं तो हम महिला और पुरुष इसकी बजाय हम यह बात करें कि देश को काबिल व्यक्तियों द्वारा जो योगी व्यक्ति सफल व्यक्ति हैं जिन्होंने अपनी पब्लिक लाइफ में कुछ किया है और जो देश को अच्छी ऊंचाइयों पर ले जा सकते हैं उन लोगों द्वारा देश को चला जाना चाहिए चाहे वह महिला हो या पुरुष
Romanized Version
मुझे लगता है इस प्रश्न को हमें महिला और पुरुष के लिए जाने की बजाय उस तरीके से ले जाना चाहिए देश को काबिल लोगों द्वारा चलाए बनाती है और काबिल व्यक्ति भी हो सकते हैं और पुलिस भी हो सकते हैं तो हम महिला और पुरुष इसकी बजाय हम यह बात करें कि देश को काबिल व्यक्तियों द्वारा जो योगी व्यक्ति सफल व्यक्ति हैं जिन्होंने अपनी पब्लिक लाइफ में कुछ किया है और जो देश को अच्छी ऊंचाइयों पर ले जा सकते हैं उन लोगों द्वारा देश को चला जाना चाहिए चाहे वह महिला हो या पुरुषMujhe Lagta Hai Is Prashn Co Human Mahila Aur Purush K Lie Jane Ki Bajay Oosh Tarike Se Le Jaana Chahie Desh Co Kabil Logon Dwara Chalae Banaatee Hai Aur Kabil Vyakti Bhi Ho Sakte Hain Aur Police Bhi Ho Sakte Hain To Hum Mahila Aur Purush Essaki Bajay Hum Yeh Baat Karein Qi Desh Co Kabil Vyaktiyo Dwara Joe Yogi Vyakti Safal Vyakti Hain Jinhonne Apni Public Life Mein Kuch Kiya Hai Aur Joe Desh Co Achchhee Unchaiyon Per Le Ja Sakte Hain Un Logon Dwara Desh Co Challa Jaana Chahie Chahe Wah Mahila Ho Ya Purush
Likes  80  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मैं कल लगता है कि महिलाओं में गवर्नेंस के लिए सादा बेहतर होते हैं और उनको यह पसंद भी ज्यादा मिलनी चाहिए
Romanized Version
जी हां मैं कल लगता है कि महिलाओं में गवर्नेंस के लिए सादा बेहतर होते हैं और उनको यह पसंद भी ज्यादा मिलनी चाहिएG Han Main Kal Lagta Hai Qi Mahilao Mein Gavarnens K Lie Saada Behtar Hote Hain Aur Unko Yeh Pasad Bhi Jyada Milani Chahie
Likes  4  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नहीं मुझे यह लगता है कि देश को एक काबिल नेता द्वारा चलाना चाहिए चाहे वह किसी भी धर्म का हो चाहे वह किसी भी जाति का हो चाहे वो मेल हो या फीमेल हो इससे फर्क नहीं पड़ना चाहिए हमें यह देखना है कि वह इंसान कितना कैपेबल है उसकी क्या क्वालिटीज है वह उसमें इतनी क्षमता है कि नहीं कि वह हमारे देश को अब तक हम इन सारी चीजों में फंसी रहेंगे तब तक हमारे देश में अच्छी लीडरशिप नहीं होगी और अगर अच्छी लीडरशिप नहीं होगी तो देश कितनी तरक्की नहीं करेगा
Romanized Version
जी नहीं मुझे यह लगता है कि देश को एक काबिल नेता द्वारा चलाना चाहिए चाहे वह किसी भी धर्म का हो चाहे वह किसी भी जाति का हो चाहे वो मेल हो या फीमेल हो इससे फर्क नहीं पड़ना चाहिए हमें यह देखना है कि वह इंसान कितना कैपेबल है उसकी क्या क्वालिटीज है वह उसमें इतनी क्षमता है कि नहीं कि वह हमारे देश को अब तक हम इन सारी चीजों में फंसी रहेंगे तब तक हमारे देश में अच्छी लीडरशिप नहीं होगी और अगर अच्छी लीडरशिप नहीं होगी तो देश कितनी तरक्की नहीं करेगाG Nahin Mujhe Yeh Lagta Hai Qi Desh Co Ek Kabil Neta Dwara Chalaanaa Chahie Chahe Wah Kisi Bhi Dharm Ka Ho Chahe Wah Kisi Bhi Jati Ka Ho Chahe Vo Male Ho Ya Fimel Ho Issase Fark Nahin Padana Chahie Human Yeh Dekhna Hai Qi Wah Insaan Kitna Kaipebal Hai Uski Kya Kwalitij Hai Wah Usme Itni Kshamta Hai Qi Nahin Qi Wah Hamare Desh Co Aba Tak Hum In Sari Chijon Mein Fansi Rahenge Taba Tak Hamare Desh Mein Achchhee Leadership Nahin Hogi Aur Agar Achchhee Leadership Nahin Hogi To Desh Kitni Tarkkee Nahin Karega
Likes  15  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देश की आधी आबादी जो कि महिलाओं की है उन्होंने शिंदे प्रशासनिक पदों पर प्रतिनिधित्व मिलना चाहिए और वर्तमान में भी जो महिला नेत्री है हमारी चाहे में आदरणीय श्रीमती सुषमा स्वराज की बात करूं या निर्मला सीतारमण की बात करूं या फिर श्रीमती मेनका गांधी की बात करूं यह सभी प्रशासनिक पदों पर मृतक तो शीर्ष नेतृत्व पर हैं और कुशलता से नेतृत्व कर रहे हैं तो योग्यता है योगिता युग लोगों को देश चलाने के देश का प्रशासन सौंपा जाना चाहिए और जनतंत्र में लोगों को इस तरह की जेंडर भावनाओं से मुक्त होना चाहिए कि महिला है तो देश नहीं चला सकती और अभी भी हमारे देश में इस तरह की भावनाएं बैठी हुई है और पुरुषवादी समाज है युवाओं को आगे बढ़ाना चाहिए चाहे महिलाओं द्वारा जाना चाहिए लेकिन उनकी योग्यता के आधार पर यह बात यह नहीं सिर्फ महिलाओं द्वारा देश को चला जाना चाहिए अगर महिलाएं योग्य हैं तो नहीं लाया जाना चाहिए और हमें इंटरफ़ेस पर उनके साथ कोई भेदभाव नहीं करना चाहिए और महिलाओं ने सिद्ध किया है कि वह कुशलता से देश को चला सकती हैं हमारे पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी इसका उदाहरण है वह इस देश की कुशलता प्रधानमंत्रियों में से एक है चाहे विदेश नीति हो या फिर देश के अंदर देश को आगे बढ़ाने के लिए एडमिट किया है वह कहीं से भी पीछे नहीं थी तो देश को महिलाओं द्वारा चलाया जाना चाहिए उनकी योग्यता के आधार पर और काबिल
Romanized Version
देश की आधी आबादी जो कि महिलाओं की है उन्होंने शिंदे प्रशासनिक पदों पर प्रतिनिधित्व मिलना चाहिए और वर्तमान में भी जो महिला नेत्री है हमारी चाहे में आदरणीय श्रीमती सुषमा स्वराज की बात करूं या निर्मला सीतारमण की बात करूं या फिर श्रीमती मेनका गांधी की बात करूं यह सभी प्रशासनिक पदों पर मृतक तो शीर्ष नेतृत्व पर हैं और कुशलता से नेतृत्व कर रहे हैं तो योग्यता है योगिता युग लोगों को देश चलाने के देश का प्रशासन सौंपा जाना चाहिए और जनतंत्र में लोगों को इस तरह की जेंडर भावनाओं से मुक्त होना चाहिए कि महिला है तो देश नहीं चला सकती और अभी भी हमारे देश में इस तरह की भावनाएं बैठी हुई है और पुरुषवादी समाज है युवाओं को आगे बढ़ाना चाहिए चाहे महिलाओं द्वारा जाना चाहिए लेकिन उनकी योग्यता के आधार पर यह बात यह नहीं सिर्फ महिलाओं द्वारा देश को चला जाना चाहिए अगर महिलाएं योग्य हैं तो नहीं लाया जाना चाहिए और हमें इंटरफ़ेस पर उनके साथ कोई भेदभाव नहीं करना चाहिए और महिलाओं ने सिद्ध किया है कि वह कुशलता से देश को चला सकती हैं हमारे पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी इसका उदाहरण है वह इस देश की कुशलता प्रधानमंत्रियों में से एक है चाहे विदेश नीति हो या फिर देश के अंदर देश को आगे बढ़ाने के लिए एडमिट किया है वह कहीं से भी पीछे नहीं थी तो देश को महिलाओं द्वारा चलाया जाना चाहिए उनकी योग्यता के आधार पर और काबिलDesh Ki Aadhi Aabadi Joe Qi Mahilao Ki Hai Unhonne Shinde Prashasnik Pado Per Pratinidhitva Melina Chahie Aur Vartman Mein Bhi Joe Mahila Netri Hai Hamari Chahe Mein Aadarneey Smt Sushma Swaraj Ki Baat Karoon Ya Nirmala Seetaaraman Ki Baat Karoon Ya Phir Smt Menaka Gandhi Ki Baat Karoon Yeh Sabhi Prashasnik Pado Per Mritak To Sheers Netrutva Per Hain Aur Kaushalta Se Netrutva Car Rahe Hain To Yogita Hai Yogita Yuga Logon Co Desh Chalane K Desh Ka Prashasan Saunpa Jaana Chahie Aur Jantantra Mein Logon Co Is Turha Ki Gender Bhavnao Se Mukta Hona Chahie Qi Mahila Hai To Desh Nahin Challa Sakti Aur Abhi Bhi Hamare Desh Mein Is Turha Ki Bhavanaen Baithi Hue Hai Aur Purushvadi Samaj Hai Yoovaaon Co Aage Badhana Chahie Chahe Mahilao Dwara Jaana Chahie Lekin Unki Yogita K Aadhaar Per Yeh Baat Yeh Nahin Sirf Mahilao Dwara Desh Co Challa Jaana Chahie Agar Mahilaen Yogya Hain To Nahin Layaa Jaana Chahie Aur Human Intarafes Per Unke Sathe Koi Bhedbhav Nahin Krna Chahie Aur Mahilao Ne Siddha Kiya Hai Qi Wah Kaushalta Se Desh Co Challa Sakti Hain Hamare Purva Pradhaanmatree Smt INDIRA Gandhi Iska Udaaharan Hai Wah Is Desh Ki Kaushalta Pradhanamantriyon Mein Se Ek Hai Chahe Videsh Neeti Ho Ya Phir Desh K Andorra Desh Co Aage Badhane K Lie Edamit Kiya Hai Wah Kahin Se Bhi Pichhe Nahin Thi To Desh Co Mahilao Dwara Chalaya Jaana Chahie Unki Yogita K Aadhaar Per Aur Kabil
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्यों क्यों मुझे ऐसा लगेगा कि देश को महिलाओं द्वारा चलाया जाना चाहिए उनको अधिकार है वह चुनाव लड़ सकती वह अपना बात रख सकती है सरकार के पहले प्रधानमंत्री देश को चलाने के लिए ऐसा जरूर बना दिया जाए कि महिलाएं सूचना एमपी एमएलए
क्यों क्यों मुझे ऐसा लगेगा कि देश को महिलाओं द्वारा चलाया जाना चाहिए उनको अधिकार है वह चुनाव लड़ सकती वह अपना बात रख सकती है सरकार के पहले प्रधानमंत्री देश को चलाने के लिए ऐसा जरूर बना दिया जाए कि महिलाएं सूचना एमपी एमएलए
Likes  11  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आपको लगता है कि देश को महिलाओं द्वारा चलाया जाना चाहिए इस प्रकार का सवाल है तो जवाब में मैं यह कहना चाहूंगी कि हमारा देश चलाने वाली जो व्यक्ति हो देश को अच्छी तरह से चलाना यह यह बात महत्वपूर्ण है इसलिए मेरे ख्याल से जिसमें का काबिलियत हो और जो इंटेलिजेंट हो और जो इस देश को चलाने के लिए सक्षम हो चाहे महिला हो या पुरुष हो उसको इस देश को चलाने की जिम्मेदारी सौंपने चाहिए क्योंकि ऐसे व्यक्ति इस देश को अच्छी तरह से चला सकती है इस देश के हर समस्या को सुलझा सकती है और हमने यह करना चाहिए कि जो लोगों क्रिमिनल बैकग्राउंड के हो और ऐसे लोगों के हाथ में हमारे देश की जिम्मेदारी नहीं सूख नहीं चाहिए हमारा देश हमारे देश की इज्जत सुरक्षित है वह धोखे में आ सकते हैं इसलिए हमारे सुरक्षा सुरक्षा के बारे में हमने इस बारे में अच्छी तरह से सूचना चाहिए और मेरे ख्याल से बहुत ही इंटेलिजेंट और रखने वाले व्यक्ति इस देश को चलाना चाहिए वह चाहे महिला हो या पुरुषों इस देश को कोई चला सकता है उसमें कोई भेद नहीं होना चाहिए
क्या आपको लगता है कि देश को महिलाओं द्वारा चलाया जाना चाहिए इस प्रकार का सवाल है तो जवाब में मैं यह कहना चाहूंगी कि हमारा देश चलाने वाली जो व्यक्ति हो देश को अच्छी तरह से चलाना यह यह बात महत्वपूर्ण है इसलिए मेरे ख्याल से जिसमें का काबिलियत हो और जो इंटेलिजेंट हो और जो इस देश को चलाने के लिए सक्षम हो चाहे महिला हो या पुरुष हो उसको इस देश को चलाने की जिम्मेदारी सौंपने चाहिए क्योंकि ऐसे व्यक्ति इस देश को अच्छी तरह से चला सकती है इस देश के हर समस्या को सुलझा सकती है और हमने यह करना चाहिए कि जो लोगों क्रिमिनल बैकग्राउंड के हो और ऐसे लोगों के हाथ में हमारे देश की जिम्मेदारी नहीं सूख नहीं चाहिए हमारा देश हमारे देश की इज्जत सुरक्षित है वह धोखे में आ सकते हैं इसलिए हमारे सुरक्षा सुरक्षा के बारे में हमने इस बारे में अच्छी तरह से सूचना चाहिए और मेरे ख्याल से बहुत ही इंटेलिजेंट और रखने वाले व्यक्ति इस देश को चलाना चाहिए वह चाहे महिला हो या पुरुषों इस देश को कोई चला सकता है उसमें कोई भेद नहीं होना चाहिए
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महिलाओं को महिलाओं को भी पुरुष के बराबर हक मिलना चाहिए अगर भारत में पुरुष प्रधानमंत्री बन सकते तो महिला की बनेगी और इस देश में महिला प्रधानमंत्री हमारे देश विश्व में शाहजहां की प्रथम महिला राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल जी की प्रथम महिला प्रधानमंत्री भारत की राजधानी थी इसलिए महिलाओं को भी महिलाओं को भी बढ़-चढ़कर मां-बाप मामलों में आगे आना चाहिए और अपना योगदान देना चाहिए दुनिया के विश्व में अपनी पहचान बनाने चाहिए हर क्षेत्र में
महिलाओं को महिलाओं को भी पुरुष के बराबर हक मिलना चाहिए अगर भारत में पुरुष प्रधानमंत्री बन सकते तो महिला की बनेगी और इस देश में महिला प्रधानमंत्री हमारे देश विश्व में शाहजहां की प्रथम महिला राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल जी की प्रथम महिला प्रधानमंत्री भारत की राजधानी थी इसलिए महिलाओं को भी महिलाओं को भी बढ़-चढ़कर मां-बाप मामलों में आगे आना चाहिए और अपना योगदान देना चाहिए दुनिया के विश्व में अपनी पहचान बनाने चाहिए हर क्षेत्र में
Likes  15  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यश महिलाओं को भी इसमें सहयोग करना चाहिए क्योंकि महिलाओं की सहयोग के बिना देश की राजनीति को नहीं हो सकती है क्योंकि महिलाएं समाज पार्टी तो राजनीति में सहयोग और हां क्षेत्र के अलग होने चाहिए उन्हें केवल मैं ही नहीं समझ सकती कि उसमें तो कठोरता होती है जैसे किसी दया का मैटर है करुणा का मैटर है जो बच्चे संबंधित है जो पुरुष की अपेक्षा महिलाएं ज्यादा अच्छा नीति प्राप्त कर सकती है इसलिए महिलाओं को प्रदेश की राजनीति भविष्य सानिया एक समय तक होना चाहिए होना चाहिए हम लोग राजनीति में
Romanized Version
यश महिलाओं को भी इसमें सहयोग करना चाहिए क्योंकि महिलाओं की सहयोग के बिना देश की राजनीति को नहीं हो सकती है क्योंकि महिलाएं समाज पार्टी तो राजनीति में सहयोग और हां क्षेत्र के अलग होने चाहिए उन्हें केवल मैं ही नहीं समझ सकती कि उसमें तो कठोरता होती है जैसे किसी दया का मैटर है करुणा का मैटर है जो बच्चे संबंधित है जो पुरुष की अपेक्षा महिलाएं ज्यादा अच्छा नीति प्राप्त कर सकती है इसलिए महिलाओं को प्रदेश की राजनीति भविष्य सानिया एक समय तक होना चाहिए होना चाहिए हम लोग राजनीति मेंYash Mahilao Co Bhi Ismein Sahyog Krna Chahie Kyonki Mahilao Ki Sahyog K Binaa Desh Ki Rajniti Co Nahin Ho Sakti Hai Kyonki Mahilaen Samaj Party To Rajniti Mein Sahyog Aur Han Kshetra K Eluga Hone Chahie Unhein Keval Main Hea Nahin Samajh Sakti Qi Usme To Kathorata Hoti Hai Jaise Kisi Daya Ka Matru Hai Karuna Ka Matru Hai Joe Bacche Sambadhit Hai Joe Purush Ki Apeksha Mahilaen Jyada Accha Neeti Prapt Car Sakti Hai Eeslie Mahilao Co Pradesh Ki Rajniti Bhavishya Saniya Ek Samay Tak Hona Chahie Hona Chahie Hum Log Rajniti Mein
Likes  10  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए बहुत ही अच्छा प्रश्न है मैं इसे काफी परेशान हूं कि आपको लगता है देश की महिलाओं द्वारा देश चला जाना चाहिए जहां तक तू दिखे देश चलाना एक महिला यह कोई बहुत ही अजीब बात नहीं है क्योंकि एक मां एक घर चलाती है और मां जितने बेहतरीन तरीके से घर चला सकती है उस घर को कोई भी उस तरीके से नहीं चला सकता जब एक माह घर चला सकती है तो एक महिला पूरा देश चला सकती है ऐसा कुछ भी नहीं है कि महिला देश नहीं चला सकती महिला बहुत ज्यादा शक्तिशाली होती शक्तिशाली होती है धैर्यवान होती है दयालु होती है तो मैं इससे सहमत हूं कि महिला देश चला सकती
Romanized Version
देखिए बहुत ही अच्छा प्रश्न है मैं इसे काफी परेशान हूं कि आपको लगता है देश की महिलाओं द्वारा देश चला जाना चाहिए जहां तक तू दिखे देश चलाना एक महिला यह कोई बहुत ही अजीब बात नहीं है क्योंकि एक मां एक घर चलाती है और मां जितने बेहतरीन तरीके से घर चला सकती है उस घर को कोई भी उस तरीके से नहीं चला सकता जब एक माह घर चला सकती है तो एक महिला पूरा देश चला सकती है ऐसा कुछ भी नहीं है कि महिला देश नहीं चला सकती महिला बहुत ज्यादा शक्तिशाली होती शक्तिशाली होती है धैर्यवान होती है दयालु होती है तो मैं इससे सहमत हूं कि महिला देश चला सकतीDekhie Bahut Hi Accha Prashna Hai Main Ise Kafi Pareshan Hoon Ki Aapko Lagta Hai Desh Ki Mahilaon Dwara Desh Chala Jana Chahiye Jahan Tak Tu Dikhe Desh Chalana Ek Mahila Yeh Koi Bahut Hi Ajib Baat Nahi Hai Kyonki Ek Maa Ek Ghar Chalati Hai Aur Maa Jitne Behtareen Tarike Se Ghar Chala Sakti Hai Us Ghar Ko Koi Bhi Us Tarike Se Nahi Chala Sakta Jab Ek Mah Ghar Chala Sakti Hai To Ek Mahila Pura Desh Chala Sakti Hai Aisa Kuch Bhi Nahi Hai Ki Mahila Desh Nahi Chala Sakti Mahila Bahut Zyada Shaktishaali Hoti Shaktishaali Hoti Hai Dharyavan Hoti Hai Dayaalu Hoti Hai To Main Isse Sahmat Hoon Ki Mahila Desh Chala Sakti
Likes  25  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कौन कहता है कि देश को बस पुरुष चला रहे हैं देखिए अगर इस देश को पूर्व चला रहे हैं पुरुष पुरुषों का योगदान है इस देश को चलाने में तो महिलाओं का उनसे कहीं ज्यादा योगदान है क्योंकि पिछले कई सदियों से महिलाओं को पढ़ने नहीं दिया जाता था महिलाओं को बाहर नहीं जाने दिया जाता था उसके बाद भी आज हमारे देश में महिलाएं आगे हैं आज माता पिता को यह लगता है कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत अगर अपनी बेटियों पर ध्यान दिया जाए तो हमारी बेटी अपने बेटों से ज्यादा कुछ अच्छा कर सकती हैं इसलिए आज देखिए कोई भी सेक्टर हो महिलाएं आगे हैं चाहे वह फॉर जो बीएससी फॉर इंटेलिजेंस हो या लेक्चरर ओ आई एस ओ पी सी एस ओ सभी क्षेत्र में महिलाएं आगे हैं पुरुषों के पीछे देखिए महिलाएं मल्टी टैलेंटेड होती हैं वह खाना भी बनाती देती है अपने बच्चा रोता है उसको भी देख लेती है टीवी भी देखती रहती हैं पुरुष सिर्फ टैलेंटेड होता है लेकिन महिलाएं मल्टी टैलेंटेड होती हैं और जितना योगदान हमारे देश को आगे बढ़ाने में हमारे देश के पुरुषों का है उससे कहीं ज्यादा योगदान महिलाओं का है धन्यवाद
Romanized Version
कौन कहता है कि देश को बस पुरुष चला रहे हैं देखिए अगर इस देश को पूर्व चला रहे हैं पुरुष पुरुषों का योगदान है इस देश को चलाने में तो महिलाओं का उनसे कहीं ज्यादा योगदान है क्योंकि पिछले कई सदियों से महिलाओं को पढ़ने नहीं दिया जाता था महिलाओं को बाहर नहीं जाने दिया जाता था उसके बाद भी आज हमारे देश में महिलाएं आगे हैं आज माता पिता को यह लगता है कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत अगर अपनी बेटियों पर ध्यान दिया जाए तो हमारी बेटी अपने बेटों से ज्यादा कुछ अच्छा कर सकती हैं इसलिए आज देखिए कोई भी सेक्टर हो महिलाएं आगे हैं चाहे वह फॉर जो बीएससी फॉर इंटेलिजेंस हो या लेक्चरर ओ आई एस ओ पी सी एस ओ सभी क्षेत्र में महिलाएं आगे हैं पुरुषों के पीछे देखिए महिलाएं मल्टी टैलेंटेड होती हैं वह खाना भी बनाती देती है अपने बच्चा रोता है उसको भी देख लेती है टीवी भी देखती रहती हैं पुरुष सिर्फ टैलेंटेड होता है लेकिन महिलाएं मल्टी टैलेंटेड होती हैं और जितना योगदान हमारे देश को आगे बढ़ाने में हमारे देश के पुरुषों का है उससे कहीं ज्यादा योगदान महिलाओं का है धन्यवादKaon Kahata Hai Ki Desh Ko Bus Purush Chala Rahe Hain Dekhie Agar Is Desh Ko Purv Chala Rahe Hain Purush Purushon Ka Yogdan Hai Is Desh Ko Chalane Mein To Mahilaon Ka Unse Kahin Zyada Yogdan Hai Kyonki Pichhle Kai Sadiyon Se Mahilaon Ko Padhne Nahi Diya Jata Tha Mahilaon Ko Bahar Nahi Jaane Diya Jata Tha Uske Baad Bhi Aaj Hamare Desh Mein Mahilaen Aage Hain Aaj Mata Pita Ko Yeh Lagta Hai Ki Beti Bachao Beti Padhao Abhiyan Ke Tahat Agar Apni Betiyon Par Dhyan Diya Jaye To Hamari Beti Apne Beton Se Zyada Kuch Accha Kar Sakti Hain Isliye Aaj Dekhie Koi Bhi Sector Ho Mahilaen Aage Hain Chahe Wah For Jo Bsc For Intelligence Ho Ya Lecturer O I S O P Si S O Sabhi Shetra Mein Mahilaen Aage Hain Purushon Ke Piche Dekhie Mahilaen Multi Talented Hoti Hain Wah Khana Bhi Banati Deti Hai Apne Baccha Rota Hai Usko Bhi Dekh Leti Hai Tv Bhi Dekhti Rehti Hain Purush Sirf Talented Hota Hai Lekin Mahilaen Multi Talented Hoti Hain Aur Jitna Yogdan Hamare Desh Ko Aage Badhane Mein Hamare Desh Ke Purushon Ka Hai Usse Kahin Zyada Yogdan Mahilaon Ka Hai Dhanyavad
Likes  12  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां कह सकते हैं कि देश को महिलाओं के द्वारा चलाया जाना चाहिए लेकिन देश को महिलाएं चलाएं या पुरुष चलाएं उनमें इंसानियत होनी चाहिए देश को चलाने वाला जो नेता होना चाहिए या जो भी राजनीतिक दल होना चाहिए यह जो भी समूह समुदाय या समाज होना चाहिए उसके अंदर इंसानियत होनी चाहिए उसके अंदर लोगों के प्रति निष्ठा होनी चाहिए ईमानदारी होनी चाहिए और एक देश भक्ति होनी चाहिए कि वह अपने देश को किस तरह से आगे ले जाना चाहता है ठीक है यह सब क्वालिटीज होनी चाहिए कि वह हमेशा देश को ऊपर उठाने के बारे में सोचें लोगों के जीवन स्तर को उठाने के बारे में सोचें शिक्षा स्वास्थ्य रोजगार इन सब विषयों पर सोचे ठीक है अब यह जब सोच की बात आती है तो उसमें कोई भी हो सकता है पुरुष भी हो सकता है महिलाएं भी हो सकती हैं ठीक है कोई किसी धर्म का भी हो सकता किसी भी जाति का हो सकता है बस इंसान अच्छा होना चाहिए तो मेरे हिसाब से देश को चलाने के लिए महिलाएं भी सही है लेकिन जरूरी तो नहीं कि सारी महिलाएं उतनी ही बेहतर हो जितनी कोई 24 महिलाएं 10 महिलाएं हूं तो महिलाओं पुरुषों सबका एक अच्छे लोगों का ऐसा समूह बन जाए ऐसा कोई राजनीतिक दल बन जाए जो निहायत ही ईमानदार हो सच्चा हो संवेदनशील और लोगों के प्रति ऐसे लोगों के द्वारा अगर देश चलाया जाए तो निश्चित रूप से हमारा देश और तेज गति से आगे बढ़ा सकता है
Romanized Version
जी हां कह सकते हैं कि देश को महिलाओं के द्वारा चलाया जाना चाहिए लेकिन देश को महिलाएं चलाएं या पुरुष चलाएं उनमें इंसानियत होनी चाहिए देश को चलाने वाला जो नेता होना चाहिए या जो भी राजनीतिक दल होना चाहिए यह जो भी समूह समुदाय या समाज होना चाहिए उसके अंदर इंसानियत होनी चाहिए उसके अंदर लोगों के प्रति निष्ठा होनी चाहिए ईमानदारी होनी चाहिए और एक देश भक्ति होनी चाहिए कि वह अपने देश को किस तरह से आगे ले जाना चाहता है ठीक है यह सब क्वालिटीज होनी चाहिए कि वह हमेशा देश को ऊपर उठाने के बारे में सोचें लोगों के जीवन स्तर को उठाने के बारे में सोचें शिक्षा स्वास्थ्य रोजगार इन सब विषयों पर सोचे ठीक है अब यह जब सोच की बात आती है तो उसमें कोई भी हो सकता है पुरुष भी हो सकता है महिलाएं भी हो सकती हैं ठीक है कोई किसी धर्म का भी हो सकता किसी भी जाति का हो सकता है बस इंसान अच्छा होना चाहिए तो मेरे हिसाब से देश को चलाने के लिए महिलाएं भी सही है लेकिन जरूरी तो नहीं कि सारी महिलाएं उतनी ही बेहतर हो जितनी कोई 24 महिलाएं 10 महिलाएं हूं तो महिलाओं पुरुषों सबका एक अच्छे लोगों का ऐसा समूह बन जाए ऐसा कोई राजनीतिक दल बन जाए जो निहायत ही ईमानदार हो सच्चा हो संवेदनशील और लोगों के प्रति ऐसे लोगों के द्वारा अगर देश चलाया जाए तो निश्चित रूप से हमारा देश और तेज गति से आगे बढ़ा सकता हैG Haan Keh Sakte Hain Ki Desh Ko Mahilaon Ke Dwara Chalaya Jana Chahiye Lekin Desh Ko Mahilaen Chalaye Ya Purush Chalaye Unmen Insaniyat Honi Chahiye Desh Ko Chalane Vala Jo Neta Hona Chahiye Ya Jo Bhi Raajnitik Dal Hona Chahiye Yeh Jo Bhi Samuh Samuday Ya Samaaj Hona Chahiye Uske Andar Insaniyat Honi Chahiye Uske Andar Logon Ke Prati Nishtha Honi Chahiye Imaandaari Honi Chahiye Aur Ek Desh Bhakti Honi Chahiye Ki Wah Apne Desh Ko Kis Tarah Se Aage Le Jana Chahta Hai Theek Hai Yeh Sab Kwalitij Honi Chahiye Ki Wah Hamesha Desh Ko Upar Uthane Ke Bare Mein Sochen Logon Ke Jeevan Sthar Ko Uthane Ke Bare Mein Sochen Shiksha Swasthya Rojgar In Sab Vishyon Par Soche Theek Hai Ab Yeh Jab Soch Ki Baat Aati Hai To Usamen Koi Bhi Ho Sakta Hai Purush Bhi Ho Sakta Hai Mahilaen Bhi Ho Sakti Hain Theek Hai Koi Kisi Dharm Ka Bhi Ho Sakta Kisi Bhi Jati Ka Ho Sakta Hai Bus Insaan Accha Hona Chahiye To Mere Hisab Se Desh Ko Chalane Ke Liye Mahilaen Bhi Sahi Hai Lekin Zaroori To Nahi Ki Saree Mahilaen Utani Hi Behtar Ho Jitni Koi 24 Mahilaen 10 Mahilaen Hoon To Mahilaon Purushon Sabka Ek Acche Logon Ka Aisa Samuh Ban Jaye Aisa Koi Raajnitik Dal Ban Jaye Jo Nihayat Hi Imandar Ho Saccha Ho Samvedansheel Aur Logon Ke Prati Aise Logon Ke Dwara Agar Desh Chalaya Jaye To Nishchit Roop Se Hamara Desh Aur Tez Gati Se Aage Badha Sakta Hai
Likes  11  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंदिरा गांधी सोनिया गांधी मायावती जयललिता ममता बनर्जी वसुंधरा राजे इन सभी को देखते हुए मुझे नहीं लगता कि देश की सत्ता को किसी औरत के हाथों में सौंपने की गलती दोबारा करनी चाहिए
Romanized Version
इंदिरा गांधी सोनिया गांधी मायावती जयललिता ममता बनर्जी वसुंधरा राजे इन सभी को देखते हुए मुझे नहीं लगता कि देश की सत्ता को किसी औरत के हाथों में सौंपने की गलती दोबारा करनी चाहिएINDIRA Gandhi Sonia Gandhi Mayawati Jayalalita Mamta Banerjee Vasundhara Raje In Sabhi Co Dekhte Huye Mujhe Nahin Lagta Qi Desh Ki Sata Co Kisi Aurat K Hatho Mein Saumpane Ki Galti Dobaaraa Karni Chahie
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों आज हम बात करेंगे कि देश को क्या महिलाओं द्वारा चलाया जाना चाहिए बहुत ही अच्छा सवाल पर सवाल में छुपे हुए भाग को अगर में देखने की कोशिश करो से जुड़ा मुद्दा है महिलाओं को इस योग्य नहीं माना जाता तो निश्चित रूप से उन्हें महिलाओं द्वारा चलाया जाना चाहिए क्योंकि महिलाओं में भी पुरुषों जितनी ही मानसिक क्षमता होती है शारीरिक रूप से भले ही दोनों की पृष्ठभूमि या उनमें कुछ 71 हो प्रकृति द्वारा बल्कि शारीरिक रूप से भी महिलाएं ही ज्यादा स्ट्रांग होती है क्योंकि प्रसव पीड़ा के दौरान जितना दर्द वह जलती हो पुरुष नहीं खेल सकते बात करूं मानसिक क्षमताओं की तो चक्र चाहे कोई भी हो यानी जो जो महिलाओं के लिए वर्जना के क्षेत्र में जाते थे उनमें भी महिलाओं ने अपनी प्रतिभा से अपना लोहा ना सिर्फ देश भर में बल्कि पूरी दुनिया भर में बनवाया है तो यह कहना कि क्या उनके द्वारा चलाया जाना चाहिए तो अगर यह उनकी क्षमताओं पर संदेह से भरा हुआ प्रश्न है तो निश्चित रूप से चलाया जाना चाहिए तो देश को कोई भी वह इंसान चला सकता है चाहे वह पुरुष हो या महिला जिसमें दूरदर्शिता हो जो भविष्य की संभावनाओं को देख सकता हूं जो देश की तमाम चीजों को नियंत्रित कर कर सकता हूं क्योंकि देश को चलाने के दौरान हमें बहुत सारी बहनों को देखना होता है पड़ोसियों से भी अपने संबंध अच्छे करने होते हैं कानून-व्यवस्था भी देखनी होती है संविधान संशोधन भी करने होते हैं अपराध को भी नियंत्रित करना होता है यह तमाम तरह के को काम जो कोई इंसान अपनी सूझबूझ से कर सकता है यह देश तो उनके द्वारा चलाया जाना चाहिए महिला पुरुष का कोई प्रश्न नहीं है धन्यवाद
Romanized Version
नमस्कार दोस्तों आज हम बात करेंगे कि देश को क्या महिलाओं द्वारा चलाया जाना चाहिए बहुत ही अच्छा सवाल पर सवाल में छुपे हुए भाग को अगर में देखने की कोशिश करो से जुड़ा मुद्दा है महिलाओं को इस योग्य नहीं माना जाता तो निश्चित रूप से उन्हें महिलाओं द्वारा चलाया जाना चाहिए क्योंकि महिलाओं में भी पुरुषों जितनी ही मानसिक क्षमता होती है शारीरिक रूप से भले ही दोनों की पृष्ठभूमि या उनमें कुछ 71 हो प्रकृति द्वारा बल्कि शारीरिक रूप से भी महिलाएं ही ज्यादा स्ट्रांग होती है क्योंकि प्रसव पीड़ा के दौरान जितना दर्द वह जलती हो पुरुष नहीं खेल सकते बात करूं मानसिक क्षमताओं की तो चक्र चाहे कोई भी हो यानी जो जो महिलाओं के लिए वर्जना के क्षेत्र में जाते थे उनमें भी महिलाओं ने अपनी प्रतिभा से अपना लोहा ना सिर्फ देश भर में बल्कि पूरी दुनिया भर में बनवाया है तो यह कहना कि क्या उनके द्वारा चलाया जाना चाहिए तो अगर यह उनकी क्षमताओं पर संदेह से भरा हुआ प्रश्न है तो निश्चित रूप से चलाया जाना चाहिए तो देश को कोई भी वह इंसान चला सकता है चाहे वह पुरुष हो या महिला जिसमें दूरदर्शिता हो जो भविष्य की संभावनाओं को देख सकता हूं जो देश की तमाम चीजों को नियंत्रित कर कर सकता हूं क्योंकि देश को चलाने के दौरान हमें बहुत सारी बहनों को देखना होता है पड़ोसियों से भी अपने संबंध अच्छे करने होते हैं कानून-व्यवस्था भी देखनी होती है संविधान संशोधन भी करने होते हैं अपराध को भी नियंत्रित करना होता है यह तमाम तरह के को काम जो कोई इंसान अपनी सूझबूझ से कर सकता है यह देश तो उनके द्वारा चलाया जाना चाहिए महिला पुरुष का कोई प्रश्न नहीं है धन्यवादNamaskar Doston Aaj Hum Baat Karenge Ki Desh Ko Kya Mahilaon Dwara Chalaya Jana Chahiye Bahut Hi Accha Sawal Par Sawal Mein Chhupe Huye Bhag Ko Agar Mein Dekhne Ki Koshish Karo Se Juda Mudda Hai Mahilaon Ko Is Yogya Nahi Mana Jata To Nishchit Roop Se Unhen Mahilaon Dwara Chalaya Jana Chahiye Kyonki Mahilaon Mein Bhi Purushon Jitni Hi Mansik Kshamta Hoti Hai Shaaririk Roop Se Bhale Hi Dono Ki Pristhbhumi Ya Unmen Kuch 71 Ho Prakriti Dwara Balki Shaaririk Roop Se Bhi Mahilaen Hi Zyada Strong Hoti Hai Kyonki Prasav Peeda Ke Dauran Jitna Dard Wah Jalti Ho Purush Nahi Khel Sakte Baat Karun Mansik Kshamataon Ki To Chakra Chahe Koi Bhi Ho Yani Jo Jo Mahilaon Ke Liye Varjanaa Ke Shetra Mein Jaate The Unmen Bhi Mahilaon Ne Apni Pratibha Se Apna Loha Na Sirf Desh Bhar Mein Balki Puri Duniya Bhar Mein Banwaya Hai To Yeh Kehna Ki Kya Unke Dwara Chalaya Jana Chahiye To Agar Yeh Unki Kshamataon Par Sandeh Se Bhara Hua Prashna Hai To Nishchit Roop Se Chalaya Jana Chahiye To Desh Ko Koi Bhi Wah Insaan Chala Sakta Hai Chahe Wah Purush Ho Ya Mahila Jisme Doordarshita Ho Jo Bhavishya Ki Sambhavanaon Ko Dekh Sakta Hoon Jo Desh Ki Tamam Chijon Ko Niyantrit Kar Kar Sakta Hoon Kyonki Desh Ko Chalane Ke Dauran Hume Bahut Saree Bahanon Ko Dekhna Hota Hai Padoshiyon Se Bhi Apne Sambandh Acche Karne Hote Hain Kanoon Vyavastha Bhi Dekhani Hoti Hai Samvidhan Sanshodhan Bhi Karne Hote Hain Apradh Ko Bhi Niyantrit Karna Hota Hai Yeh Tamam Tarah Ke Ko Kaam Jo Koi Insaan Apni Sujhabujh Se Kar Sakta Hai Yeh Desh To Unke Dwara Chalaya Jana Chahiye Mahila Purush Ka Koi Prashna Nahi Hai Dhanyavad
Likes  15  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे नहीं लगता कि इसमें सोचने या लगने वाली कोई बात है कि महिलाओं द्वारा देश को चलाया जाना चाहिए इसमें महिला और पुरुष वाली कोई बात नहीं होनी चाहिए जो भी काबिल है उसे उसकी काबिलियत के अनुसार पद और कार्य मिलना चाहिए अगर कोई महिला देश को चलाने के काबिल है तू पसंद है वह देश को चला सकती है और ऐसा हमारे देश में हुआ है इंदिरा गांधी जी हमारे देश की पहली पहली महिला प्रधानमंत्री थी और आज भी हमारे देश में उन्हें सफलता सफलतम प्रधानमंत्री के रूप में जाना जाता है वह निडर साहसी और राजनीति में काफी जानकारी रखने वाली निपुण महिला थी और वह इस काबिल थी कि वह प्रधानमंत्री बने और इसीलिए वह प्रधानमंत्री बनी और उनकी वक्त में काफी अच्छी तरह से उन्होंने देश की बागडोर संभाली काफी परिवर्तन आए देश में और जब प्रधानमंत्री बने उसके बाद से ही हमारे देश में महिलाओं के प्रति लोगों की सोच में बदलाव आया और यह सही है कि आपकी काबिलियत आप के गुण आपको एक पद तक पहुंचाते हैं ना कि आपका जेंडर आपका फोन आया आपका स्त्री होना आपकी काबिलियत के लिए मायने नहीं रखता है आपकी काबिलियत उस पद के लिए मायने रखती है जिस पत्थर का पहुंचना चाहते हैं इसलिए जरूरी है कि आप उसके लिए काबिल हूं आप में कितने गुण हो आप में इतनी योग्यता हो कि आप वह कार्य कर सके तो आप जरूर उस पद तक पहुंच सकते हैं और उस कार्य को कर सकते हैं उसके लिए आपका स्त्री-पुरुष होना कोई मायने नहीं रखता है बस आपका काबिल होने मायने रखता है आपका योग्य होना मायने रखता है और आपकी काबिलियत आप के पद पर पहुंचने के बाद दिखाई देती है
Romanized Version
मुझे नहीं लगता कि इसमें सोचने या लगने वाली कोई बात है कि महिलाओं द्वारा देश को चलाया जाना चाहिए इसमें महिला और पुरुष वाली कोई बात नहीं होनी चाहिए जो भी काबिल है उसे उसकी काबिलियत के अनुसार पद और कार्य मिलना चाहिए अगर कोई महिला देश को चलाने के काबिल है तू पसंद है वह देश को चला सकती है और ऐसा हमारे देश में हुआ है इंदिरा गांधी जी हमारे देश की पहली पहली महिला प्रधानमंत्री थी और आज भी हमारे देश में उन्हें सफलता सफलतम प्रधानमंत्री के रूप में जाना जाता है वह निडर साहसी और राजनीति में काफी जानकारी रखने वाली निपुण महिला थी और वह इस काबिल थी कि वह प्रधानमंत्री बने और इसीलिए वह प्रधानमंत्री बनी और उनकी वक्त में काफी अच्छी तरह से उन्होंने देश की बागडोर संभाली काफी परिवर्तन आए देश में और जब प्रधानमंत्री बने उसके बाद से ही हमारे देश में महिलाओं के प्रति लोगों की सोच में बदलाव आया और यह सही है कि आपकी काबिलियत आप के गुण आपको एक पद तक पहुंचाते हैं ना कि आपका जेंडर आपका फोन आया आपका स्त्री होना आपकी काबिलियत के लिए मायने नहीं रखता है आपकी काबिलियत उस पद के लिए मायने रखती है जिस पत्थर का पहुंचना चाहते हैं इसलिए जरूरी है कि आप उसके लिए काबिल हूं आप में कितने गुण हो आप में इतनी योग्यता हो कि आप वह कार्य कर सके तो आप जरूर उस पद तक पहुंच सकते हैं और उस कार्य को कर सकते हैं उसके लिए आपका स्त्री-पुरुष होना कोई मायने नहीं रखता है बस आपका काबिल होने मायने रखता है आपका योग्य होना मायने रखता है और आपकी काबिलियत आप के पद पर पहुंचने के बाद दिखाई देती हैMujhe Nahin Lagta Qi Ismein Sochne Ya Lagane Wali Koi Baat Hai Qi Mahilao Dwara Desh Co Chalaya Jaana Chahie Ismein Mahila Aur Purush Wali Koi Baat Nahin Honi Chahie Joe Bhi Kabil Hai Usse Uski Kabiliyat K Anusar Pad Aur Karya Melina Chahie Agar Koi Mahila Desh Co Chalane K Kabil Hai Tu Pasad Hai Wah Desh Co Challa Sakti Hai Aur Aisa Hamare Desh Mein Hua Hai INDIRA Gandhi G Hamare Desh Ki Pehli Pehli Mahila Pradhaanmatree Thi Aur Aj Bhi Hamare Desh Mein Unhein Safalta Safalatam Pradhaanmatree K Roop Mein Jaana Jaata Hai Wah Nidar Sahasi Aur Rajniti Mein Kaafi Jankari Rakhne Wali Nipun Mahila Thi Aur Wah Is Kabil Thi Qi Wah Pradhaanmatree Bane Aur Isiliye Wah Pradhaanmatree Bani Aur Unki Vakt Mein Kaafi Achchhee Turha Se Unhonne Desh Ki Bagdor Sambhali Kaafi Parivartan Ae Desh Mein Aur Jab Pradhaanmatree Bane Uske Baad Se Hea Hamare Desh Mein Mahilao K Prati Logon Ki Soch Mein Badlav Yaya Aur Yeh Sahi Hai Qi Aapki Kabiliyat Aap K Gun Aapko Ek Pad Tak Pahunchate Hain Na Qi Aapka Gender Aapka Phone Yaya Aapka Stree Hona Aapki Kabiliyat K Lie Maine Nahin Rakhta Hai Aapki Kabiliyat Oosh Pad K Lie Maine Rakhti Hai Jisha Patthar Ka Pahunchana Chahte Hain Eeslie Zaroori Hai Qi Aap Uske Lie Kabil Hoon Aap Mein Kitne Gun Ho Aap Mein Itni Yogita Ho Qi Aap Wah Karya Car Skye To Aap Jarur Oosh Pad Tak Pahunch Sakte Hain Aur Oosh Karya Co Car Sakte Hain Uske Lie Aapka Stree Purush Hona Koi Maine Nahin Rakhta Hai Bus Aapka Kabil Hone Maine Rakhta Hai Aapka Yogya Hona Maine Rakhta Hai Aur Aapki Kabiliyat Aap K Pad Per Pahunchane K Baad Dikhaai Deti Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आप ने सवाल किया देश की महिलाओं पर घरेलू बारे में लेडीस
Romanized Version
क्या आप ने सवाल किया देश की महिलाओं पर घरेलू बारे में लेडीसKya Aap Ne Sawal Kiya Desh Ki Mahilao Per Gharelu Baare Mein Lady
Likes  19  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Kya Aapko Lagta Hai Ki Desh Ko Mahilaon Dwara Chalaya Jana Chahiye,


vokalandroid