गाजियाबाद में एसिड हमला-आरोपी, विक्टिम का सबसे अच्छा दोस्त ही है, क्या दोस्तों के बीच के मतभेद को इस स्तर तक ले जाना चाहिए? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल बिल्कुल भी नहीं दोस्तों के बीच के जो मतभेद होते हैं वह तो इस तरीके से नहीं जाने थीम पार्क में तो कहूंगी कि जो हुआ यह बिल्कुल भी अच्छा नहीं हुआ है तो किसी के साथ भी नहीं होना चाहिए दोस्तों की ब...
जवाब पढ़िये
बिल्कुल बिल्कुल भी नहीं दोस्तों के बीच के जो मतभेद होते हैं वह तो इस तरीके से नहीं जाने थीम पार्क में तो कहूंगी कि जो हुआ यह बिल्कुल भी अच्छा नहीं हुआ है तो किसी के साथ भी नहीं होना चाहिए दोस्तों की बात ना करें अगर किसी आम इंसान के बकरा बकरी राजस्थान के बारे में भारत अगर करते हैं तो भी मैं यह कहूंगी कि उसके ऊपर ऐसा तो नहीं शुरू होना चाहिए था क्योंकि दोस्त होते हैं वह हमारे दिल के करीब होते हैं कभी-कभी ऐसा भी होता है कि हम से ज्यादा अपने दोस्तों को मानते गर्लफ्रेंड बॉयफ्रेंड हस्बैंड से ज्यादा अपने दोस्तों को मानते हैं और वही दो जब धोखा दे जाए धोखा यह है कि एसिड अटैक विक्टिम जो है उसके ऊपर आशिक काटा तो हुआ है बाहर तो भाव आज ही आए हैं लेकिन पर आए हैं वह तो शायद कभी रही ही हो पाए क्योंकि सबसे अच्छे दोस्त हैं जो ऐसा काम किया होगा तो उस इंसान को मैं कह नहीं सकते बयां नहीं कर सकती कि कितना बुरा लगा होगा उसकी आत्मा को दुख होगा कि उसके इतने अच्छे दोस्तों के साथ ऐसा किया है अंधभक्ति में नहीं कहूंगी कि गुस्सा जो है वह हमें कंट्रोल करना चाहिए 311 रेंस फैमिली के साथ राह चलते भी हमें अपना गुस्सा कंट्रोल करना चाहिए क्योंकि गुस्से से बड़ा सारी दुनिया में कोई नहीं है गुस्से में इंसान क्या नहीं कर सकता है और फिर करने के बाद हमेशा पछताता है तो गुस्सा जब आए हमें उसे पी लेना चाहिए यह कोई गलत डायलॉग नहीं है कि गुस्से को पी जाओ उससे को पीना बिल्कुल सही बताओगे कि गुस्सा आए तो 10 तक की गिनती हमेशा फिल्मी डायलॉग फिल्मी है तरीका है यह लेकिन 10 तक की गिनती करें आपका गुस्सा धीरे-धीरे शांत हो जाएगा जब शांत हो जाए तभी किसी शिशु को लेकर समझे सोचे और फिर कदम उठाएं गुस्से में लिया हुआ कोई भी कदम कभी भी सही निकल कर नहीं आता है और यह बहुत ही ज्यादा दुखद है कि किसी दोस्त ने किसी दोस्त के ऊपर होगी इतने अच्छे दोस्त ने किसी दोस्त के ऊपर शायरी सेटBilkul Bilkul Bhi Nahi Doston Ke Beech Ke Jo Matbhed Hote Hain Wah To Is Tarike Se Nahi Jaane Theme Park Mein To Kahungi Ki Jo Hua Yeh Bilkul Bhi Accha Nahi Hua Hai To Kisi Ke Saath Bhi Nahi Hona Chahiye Doston Ki Baat Na Karen Agar Kisi Aam Insaan Ke Bakara Bakri Rajasthan Ke Baare Mein Bharat Agar Karte Hain To Bhi Main Yeh Kahungi Ki Uske Upar Aisa To Nahi Shuru Hona Chahiye Tha Kyonki Dost Hote Hain Wah Hamare Dil Ke Karib Hote Hain Kabhi Kabhi Aisa Bhi Hota Hai Ki Hum Se Jyada Apne Doston Ko Manate Girlfriend Boyfriend Husband Se Jyada Apne Doston Ko Manate Hain Aur Wahi Do Jab Dhokha De Jaye Dhokha Yeh Hai Ki Acid Attack Victim Jo Hai Uske Upar Ashik Kaata To Hua Hai Bahar To Bhav Aaj Hi Aaye Hain Lekin Par Aaye Hain Wah To Shayad Kabhi Rahi Hi Ho Paye Kyonki Sabse Acche Dost Hain Jo Aisa Kaam Kiya Hoga To Us Insaan Ko Main Keh Nahi Sakte Bayan Nahi Kar Sakti Ki Kitna Bura Laga Hoga Uski Aatma Ko Dukh Hoga Ki Uske Itne Acche Doston Ke Saath Aisa Kiya Hai Andhbhakti Mein Nahi Kahungi Ki Gussa Jo Hai Wah Hume Control Karna Chahiye 311 Rens Family Ke Saath Raah Chalte Bhi Hume Apna Gussa Control Karna Chahiye Kyonki Gusse Se Bada Saree Duniya Mein Koi Nahi Hai Gusse Mein Insaan Kya Nahi Kar Sakta Hai Aur Phir Karne Ke Baad Hamesha Pachhataata Hai To Gussa Jab Aaye Hume Use P Lena Chahiye Yeh Koi Galat Dialogue Nahi Hai Ki Gusse Ko P Jao Usse Ko Peena Bilkul Sahi Bataaoge Ki Gussa Aaye To 10 Tak Ki Ginti Hamesha Filmy Dialogue Filmy Hai Tarika Hai Yeh Lekin 10 Tak Ki Ginti Karen Aapka Gussa Dhire Dhire Shaant Ho Jayega Jab Shaant Ho Jaye Tabhi Kisi Shishu Ko Lekar Samjhe Soche Aur Phir Kadam Uthaen Gusse Mein Liya Hua Koi Bhi Kadam Kabhi Bhi Sahi Nikal Kar Nahi Aata Hai Aur Yeh Bahut Hi Jyada Dukhad Hai Ki Kisi Dost Ne Kisi Dost Ke Upar Hogi Itne Acche Dost Ne Kisi Dost Ke Upar Shaayari Set
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गाजियाबाद में जो AC लेटे हुए हैं इस तरह की घटनाएं आए दिन होती रहती हैं खबरों में हमेशा सुर्खियों में रहती हैं इस तरह की घटनाएं की किसी ने अपने दोस्त पर ही स्पीड चेक दिया और खासकर एक सर्वे भी आया था टा...
जवाब पढ़िये
गाजियाबाद में जो AC लेटे हुए हैं इस तरह की घटनाएं आए दिन होती रहती हैं खबरों में हमेशा सुर्खियों में रहती हैं इस तरह की घटनाएं की किसी ने अपने दोस्त पर ही स्पीड चेक दिया और खासकर एक सर्वे भी आया था टाइम से इंडिया में जिसमें यह देखा गया था कि कोई भी क्राइम इस तरह के क्राइम जो जिस को अंजाम दिया जाता है उसमें ज्यादातर करीबी या जाने वाले दोस्त या फैमिली फ्रेंड इस तरह के लोग होते हैं क्योंकि वह आपको बड़े करीब से जानते हैं और अगर उन्हें आपसे कोई आपत्ति है तो उन्हें बुरा भी बहुत लगता है आपकी बातों का और वह सिर्फ ऐसे गलत तरीके से काम को अंजाम देते हैं पर यह मेरा मानना है कि दिमाग की विकृति है कभी भी ऐसा नहीं करना चाहिए बहुत ही इन ही मन है किसी पर सिर्फ किसी की जिंदगी बरबाद कर देती है उसके चेहरे खराब हो जाते हैं और काफी उसके लिए एक बहुत ही अच्छा कानून बनाना चाहिए और इसके में प्रावधान भी होना चाहिए कि बहुत ज्यादा कड़ी से कड़ी सजा हो और कुछ ऐसे मामले में हुए हैं सजा दी गई है और इस तरह के एसिड अटैक का सीन इन द पूर्ण है इसलिए बहुत ही अफसोस की बात है कि आजकल के जमाने में भी ऐसी घटनाएं होती हैं तो यह समाज यह दिमाग की विकृति है मानसिक प्रॉब्लम होता है लोगों में तो ही ऐसा वह गुस्से में कुछ भी कर देते हैं तो वह कभी भी दोस्ती में की छोटी मोटी दरार हुई है कोई भी बड़े झगड़े भी हुए तो इस तरह की घटना हो कभी अंजाम नहीं देना चाहिए क्योंकि यह बहुत ही इन्हीं मैन है और इसके लिए जरूर एक सख्त कानून बनाना चाहिए ताकि और लोग कभी इसे दोबारा दोहराने के लिए सोचे बिना वह लेकिन अगर वह कभी दोहराए भी तो उन्हें बहुत ज्यादा सजा होनी चाहिए ताकि यह एक मैसेज जाए समाज में और वह दोबारा को इस तरह के घटना को अंजाम तो छोरे उसे सोचने से भी वह दूर रहेंGhaziabad Mein Jo AC Lete Hue Hain Is Tarah Ki Ghatnaye Aaye Din Hoti Rehti Hain Khabaro Mein Hamesha Surkhiyon Mein Rehti Hain Is Tarah Ki Ghatnaye Ki Kisi Ne Apne Dost Par Hi Speed Check Diya Aur Khaskar Ek Survey Bhi Aaya Tha Time Se India Mein Jisme Yeh Dekha Gaya Tha Ki Koi Bhi Crime Is Tarah Ke Crime Jo Jis Ko Anjaam Diya Jata Hai Usamen Jyadatar Karibi Ya Jaane Wale Dost Ya Family Friend Is Tarah Ke Log Hote Hain Kyonki Wah Aapko Bade Karib Se Jante Hain Aur Agar Unhen Aapse Koi Apatti Hai To Unhen Bura Bhi Bahut Lagta Hai Aapki Baaton Ka Aur Wah Sirf Aise Galat Tarike Se Kaam Ko Anjaam Dete Hain Par Yeh Mera Manana Hai Ki Dimag Ki Vikriti Hai Kabhi Bhi Aisa Nahi Karna Chahiye Bahut Hi In Hi Man Hai Kisi Par Sirf Kisi Ki Zindagi Barabad Kar Deti Hai Uske Chehrey Kharab Ho Jaate Hain Aur Kafi Uske Liye Ek Bahut Hi Accha Kanoon Banana Chahiye Aur Iske Mein Pravadhan Bhi Hona Chahiye Ki Bahut Jyada Kadi Se Kadi Saja Ho Aur Kuch Aise Mamle Mein Hue Hain Saja Di Gayi Hai Aur Is Tarah Ke Acid Attack Ka Seen In D Poorn Hai Isliye Bahut Hi Afasos Ki Baat Hai Ki Aajkal Ke Jamaane Mein Bhi Aisi Ghatnaye Hoti Hain To Yeh Samaaj Yeh Dimag Ki Vikriti Hai Mansik Problem Hota Hai Logon Mein To Hi Aisa Wah Gusse Mein Kuch Bhi Kar Dete Hain To Wah Kabhi Bhi Dosti Mein Ki Choti Moti Daraar Hui Hai Koi Bhi Bade Jhagde Bhi Hue To Is Tarah Ki Ghatna Ho Kabhi Anjaam Nahi Dena Chahiye Kyonki Yeh Bahut Hi Inhin Man Hai Aur Iske Liye Jarur Ek Sakht Kanoon Banana Chahiye Taki Aur Log Kabhi Ise Dobara Doharane Ke Liye Soche Bina Wah Lekin Agar Wah Kabhi Dohraye Bhi To Unhen Bahut Jyada Saja Honi Chahiye Taki Yeh Ek Massage Jaye Samaaj Mein Aur Wah Dobara Ko Is Tarah Ke Ghatna Ko Anjaam To Chhoray Use Sochne Se Bhi Wah Dur Rahen
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Ghaziabad Mein Acid Hamla Aaropi Victim Ka Sabse Accha Dost Hi Hai Kya Doston Ke Beech Ke Matbhed Ko Is Sthar Tak Le Jana Chahiye, Acid Attack In Ghaziabad Is The Best Friend Of Victim, Should The Differences Between Friends Be Taken To This Level?

vokalandroid