जलवायु परिवर्तनों के लिहाज से भारत को सबसे कमजोर देश घोषित किया गया, जलवायु परिवर्तन से हमारे किसानों पर क्या असर होगा? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जलवायु परिवर्तन से काफी असर होगा एग्रिकल्चर पर जो कि बहुत बड़ा हिस्सा है हमारी 19 me का इंडिया की अनामिका एंड जिससे कि किसानों पर तो काफी असर हो गई होगा सिर्फ उनकी जमीन कम ही आदमी का अच्छे से आती है न...
जवाब पढ़िये
जलवायु परिवर्तन से काफी असर होगा एग्रिकल्चर पर जो कि बहुत बड़ा हिस्सा है हमारी 19 me का इंडिया की अनामिका एंड जिससे कि किसानों पर तो काफी असर हो गई होगा सिर्फ उनकी जमीन कम ही आदमी का अच्छे से आती है ना इंग्लिश की जलवायु परिवर्तन जो हो रहा है हमारे यहां पर वह जो बहुत पीटते हो रहा है इंसान विकास ऑफ इंडस्ट्रियल रिलेशन एंड ऑफ द ग्रीन हाउस इफेक्ट इंडिया में सबसे ज्यादा ध्यान नहीं दे रहे हैं इसका बदलती चले जा रहे हैं होता है यह है कि फसल काटने का वक्त होता है फसल काटने से पहली बारिश हो जाती है क्लाइमेट चेंज उसकी वजह से जिसकी वजह होती है जलवायु परिवर्तन और जब यह चीजें होंगी और जब फसल जो है कटनी के लिए तैयार है और उसे बारिश हो जाएगी या फिर उन पर ओले गिर जाएंगे तो फसल होती है वह बर्बाद हो जाती है जो कि बहुत बड़ा लॉस हो जाता है किसानों के लिए तरीके से जब क्लाइमेट कंडीशन की हम बात करें तो अगर किसी पर्टिकुलर स्टेट में फॉर्मेट एक कंडीशन किसी जमाने में कुछ हुआ करते थे उस हिसाब से ही कोई क्रॉप उगाया जाता था लेकिन क्योंकि अप्लाई माटे कंडीशन जो है वह बदलती जा रही है जलवायु परिवर्तन होता चला जा रहा है इस वजह से वह क्लॉक जो है उसको सही टेंपरेचर नहीं मिलता है उसको सही क्लाइमेट नहीं मिलता है उठने के लिए पानी जो है पानी की किल्लत बहुत ज्यादा हो रही है जिसकी वजह से किसान जो है वह अपने लाइन पर सही तरीके से वेजिटेशन नहीं कर पाते हैं सही तरीके से पानी नहीं कर पाते हैं और यह सारी चीजें क्लाइमेट कंडीशन जलवायु परिवर्तन की वजह से ही हो रही हैJalvayu Pariwartan Se Kafi Asar Hoga Agriculture Par Jo Ki Bahut Bada Hissa Hai Hamari 19 Me Ka India Ki Anamika End Jisse Ki Kisano Par To Kafi Asar Ho Gayi Hoga Sirf Unki Jameen Kum Hi Aadmi Ka Acche Se Aati Hai Na English Ki Jalvayu Pariwartan Jo Ho Raha Hai Hamare Yahan Par Wah Jo Bahut Pitate Ho Raha Hai Insaan Vikash Of Industrial Relation End Of D Green House Effect India Mein Sabse Jyada Dhyan Nahi De Rahe Hain Iska Badalati Chale Ja Rahe Hain Hota Hai Yeh Hai Ki Fasal Katne Ka Waqt Hota Hai Fasal Katne Se Pehli Barish Ho Jati Hai Climate Change Uski Wajah Se Jiski Wajah Hoti Hai Jalvayu Pariwartan Aur Jab Yeh Cheezen Hongi Aur Jab Fasal Jo Hai Katni Ke Liye Taiyaar Hai Aur Use Barish Ho Jayegi Ya Phir Un Par Ole Gir Jaenge To Fasal Hoti Hai Wah Barbad Ho Jati Hai Jo Ki Bahut Bada Loss Ho Jata Hai Kisano Ke Liye Tarike Se Jab Climate Condition Ki Hum Baat Karen To Agar Kisi Particular State Mein Format Ek Condition Kisi Jamaane Mein Kuch Hua Karte The Us Hisab Se Hi Koi Crop Ugaya Jata Tha Lekin Kyonki Apply Mate Condition Jo Hai Wah Badalati Ja Rahi Hai Jalvayu Pariwartan Hota Chala Ja Raha Hai Is Wajah Se Wah Clock Jo Hai Usko Sahi Temperature Nahi Milta Hai Usko Sahi Climate Nahi Milta Hai Uthane Ke Liye Pani Jo Hai Pani Ki Killat Bahut Jyada Ho Rahi Hai Jiski Wajah Se Kisan Jo Hai Wah Apne Line Par Sahi Tarike Se Vejiteshan Nahi Kar Paate Hain Sahi Tarike Se Pani Nahi Kar Paate Hain Aur Yeh Saree Cheezen Climate Condition Jalvayu Pariwartan Ki Wajah Se Hi Ho Rahi Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जलवायु परिवर्तन से सबसे ज्यादा खतरा भारत को है उसके बाद पाकिस्तान फिलीपींस और बांग्लादेश का नंबर आता है ग्लोबल बैंक एचएसबीसी में जलवायु परिवर्तन से होने वाले नुकसान की चपेट में आने वाली देशों की एक लि...
जवाब पढ़िये
जलवायु परिवर्तन से सबसे ज्यादा खतरा भारत को है उसके बाद पाकिस्तान फिलीपींस और बांग्लादेश का नंबर आता है ग्लोबल बैंक एचएसबीसी में जलवायु परिवर्तन से होने वाले नुकसान की चपेट में आने वाली देशों की एक लिस्ट जारी की है जिसमें भारत सबसे पहले स्थान पर हैं तो मुझे लगता है जलवायु परिवर्तन जो एक अब बहुत बड़ी समस्या बनती जा रही है जिसकी वजह से धरती का तापमान हर वर्ष बढ़ रहा है और ऐसा लगता है कि आने वाले कुछ सालों में टेंप्रेचर अत्यधिक बढ़ जाएगा जिससे कि जो भी जनजीवन है वह काफी अस्त-व्यस्त हो सकता है और जो जानवर भी उन पर भी इसका बुरा असर पड़ेगा तो जहां तक बात है भारत के किसानों की वह पहले से ही काफी परेशान है क्योंकि जो मॉनसून है वह सही तरीके से कभी आता है कभी नहीं आता है कभी बारिश होती है या फिर कभी नहीं तो सूखे की स्थिति पहले से ही बहुत ज्यादा है और अगर जलवायु परिवर्तन होता है तू जो किसान हैं उनकी उत्पादन क्षमता और कम हो जाएगी और सूखे की जो समस्या है वह दिन-प्रतिदिन और पड़ेगी तो मुझे लगता है की आप सभी लोगों को इस विषय में गंभीर होने की आवश्यकता है कि किस प्रकार जलवायु परिवर्तन पर लगाम लगाई जा सके नहीं तो वह दिन दूर नहीं कि जब पूरी मानव प्रजाति ही इस जलवायु परिवर्तन की भेंट चढ़ जाएगा और दुनिया से मानव जाति का जो अस्तित्व है वह हमेशा के लिए खत्म हो जाएगाJalvayu Pariwartan Se Sabse Jyada Khatra Bharat Ko Hai Uske Baad Pakistan Philippines Aur Bangladesh Ka Number Aata Hai Global Bank HSBC Mein Jalvayu Pariwartan Se Hone Wale Nuksan Ki Chapet Mein Aane Wali Deshon Ki Ek List Jaari Ki Hai Jisme Bharat Sabse Pehle Sthan Par Hain To Mujhe Lagta Hai Jalvayu Pariwartan Jo Ek Ab Bahut Badi Samasya Banti Ja Rahi Hai Jiski Wajah Se Dharti Ka Taapman Har Varsh Badh Raha Hai Aur Aisa Lagta Hai Ki Aane Wale Kuch Salon Mein Temperature Atyadhik Badh Jayega Jisse Ki Jo Bhi Janjivan Hai Wah Kafi Ast Vyasta Ho Sakta Hai Aur Jo Janwar Bhi Un Par Bhi Iska Bura Asar Padega To Jahan Tak Baat Hai Bharat Ke Kisano Ki Wah Pehle Se Hi Kafi Pareshan Hai Kyonki Jo Mansun Hai Wah Sahi Tarike Se Kabhi Aata Hai Kabhi Nahi Aata Hai Kabhi Barish Hoti Hai Ya Phir Kabhi Nahi To Sukhe Ki Sthiti Pehle Se Hi Bahut Jyada Hai Aur Agar Jalvayu Pariwartan Hota Hai Tu Jo Kisan Hain Unki Utpadan Kshamta Aur Kum Ho Jayegi Aur Sukhe Ki Jo Samasya Hai Wah Din Pratidin Aur Padegi To Mujhe Lagta Hai Ki Aap Sabhi Logon Ko Is Vishay Mein Gambhir Hone Ki Avashyakta Hai Ki Kis Prakar Jalvayu Pariwartan Par Lagaam Lagai Ja Sake Nahi To Wah Din Dur Nahi Ki Jab Puri Manav Prajati Hi Is Jalvayu Pariwartan Ki Bhent Chadh Jayega Aur Duniya Se Manav Jati Ka Jo Astitv Hai Wah Hamesha Ke Liye Khatam Ho Jayega
Likes  18  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिग्गी जलवायु परिवर्तन का सबसे ज्यादा खतरा एशियन कंट्री स्कोर है उसमें भारत आता है पाकिस्तान बांग्लादेश श्रीलंका बहुत सारी घंटी जाते हैं जिनको सबसे ज्यादा खतरा है भारत उसमें जब फर्स्ट पोजीशन पर ही आता...
जवाब पढ़िये
डिग्गी जलवायु परिवर्तन का सबसे ज्यादा खतरा एशियन कंट्री स्कोर है उसमें भारत आता है पाकिस्तान बांग्लादेश श्रीलंका बहुत सारी घंटी जाते हैं जिनको सबसे ज्यादा खतरा है भारत उसमें जब फर्स्ट पोजीशन पर ही आता है और जिस प्रकार ग्लोबल वॉर्मिंग हो रही है आप देखिए सर्दियां मुश्किल से 15 या 20 दिन की रहती है और उसके बाद गर्मी आपकी फ्रेंड से लेकर और अक्टूबर-नवंबर तक जाती है तू कहीं ना कहीं यह दिखाता है कि बहुत ज्यादा क्लाइमेट चेंज हो रहा है उसका सबसे बड़ा ही बचे यही है कि ग्लोबल वॉर्मिंग बहुत हो रही है और फसलों की अगर मैं बात करूं तो आप देखिए जब किसान को बहुत ज्यादा जरूरत बादशाह की होती तो बरसात नहीं होती और जब हम बरसात की जरूरत होती है बहुत ज्यादा बरसात हो जाती है जिस वजह से पूरा फसल चक्र बिगड़ गया है तो कहीं ना कहीं इसके उपाय खोजने होंगे और ग्लोबल वार्मिंग बढ़ रही है तो कहीं सरकार का भी ध्यान इस तरफ है जो नेशनल है उसने भी सरकार को फटकार लगाई है यह उपाय आपको करना ही पड़ेंगे जिससे लोगों को ना होDiggi Jalvayu Pariwartan Ka Sabse Jyada Khatra Asian Country Score Hai Usamen Bharat Aata Hai Pakistan Bangladesh Sri Lanka Bahut Saree Ghanti Jaate Hain Jinako Sabse Jyada Khatra Hai Bharat Usamen Jab First Position Par Hi Aata Hai Aur Jis Prakar Global Warming Ho Rahi Hai Aap Dekhie Sardiyan Mushkil Se 15 Ya 20 Din Ki Rehti Hai Aur Uske Baad Garmi Aapki Friend Se Lekar Aur October November Tak Jati Hai Tu Kahin Na Kahin Yeh Dikhaata Hai Ki Bahut Jyada Climate Change Ho Raha Hai Uska Sabse Bada Hi Bache Yahi Hai Ki Global Warming Bahut Ho Rahi Hai Aur Fasalon Ki Agar Main Baat Karun To Aap Dekhie Jab Kisan Ko Bahut Jyada Zaroorat Badshah Ki Hoti To Barsat Nahi Hoti Aur Jab Hum Barsat Ki Zaroorat Hoti Hai Bahut Jyada Barsat Ho Jati Hai Jis Wajah Se Pura Fasal Chakra Bigad Gaya Hai To Kahin Na Kahin Iske Upay Khojne Honge Aur Global Warming Badh Rahi Hai To Kahin Sarkar Ka Bhi Dhyan Is Taraf Hai Jo National Hai Usne Bhi Sarkar Ko Phatakar Lagai Hai Yeh Upay Aapko Karna Hi Padenge Jisse Logon Ko Na Ho
Likes  4  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आदित्य जलवायु परिवर्तन में जो है उसमें भारत को सबसे कमजोर देश में घोषित किया गया क्योंकि भारत जो है जितने भी पोलूशन और जितने भी ग्लोबल वार्मिंग अकेले जा रहे हैं तो उस को कंट्रोल करने में जो भारत है वह...
जवाब पढ़िये
आदित्य जलवायु परिवर्तन में जो है उसमें भारत को सबसे कमजोर देश में घोषित किया गया क्योंकि भारत जो है जितने भी पोलूशन और जितने भी ग्लोबल वार्मिंग अकेले जा रहे हैं तो उस को कंट्रोल करने में जो भारत है वह नाकाम रहा है और आप देख सकते हैं कि जितने भी मेट्रोपोलिस है उसमें पोलूशन का लेवल जो है जो बॉर्डर लाइन होती है उसको क्लोज कर के भी कई गुना आगे चला जा चुका है डबल ट्रिपल चला गया लेकिन फिर भी हमारी सरकारी जो है उस को कंट्रोल करने में नाकाम रही है और जिस दिन धुआं उठेगा जिस दिन में कुछ दिखाई देना बंद हो जाएगा उस दिन जो इलेक्शन में आएंगे बाकि दिन लोग भूल जाते हैं कि पोलूशन नाम की भी कोई चीज है और जरूरत है जो जलवायु परिवर्तन है उसे किसानों का जरूरत पड़ेगी जो पहले रहती है वहीं हवा रही ना पानी जो है वह लेती है जो पॉलिटिक्स रहता है और वह पॉलिटेक्निक तो हम इंसान भी उसको उसी को खाएंगे तो हमारे अंदर भी जो है वही चीज जाएगा तो इन डायरेक्टली जो वह घूम फिर कर वहीं पर आता है तो मेरे को लगता कि लोगों को समझना चाहिए पोलूशन को थोड़ा कंट्रोल करना चाहिए और सरकार को भी मेरे को लगता है थोड़ा एक्टिव होना चाहिए इन सब चीजों में उनकी सरकार रूल इन कमेंट करेंगे तभी लोगों से कॉल करने वाला हैAditya Jalvayu Pariwartan Mein Jo Hai Usamen Bharat Ko Sabse Kamjor Desh Mein Ghoshit Kiya Gaya Kyonki Bharat Jo Hai Jitne Bhi Pollution Aur Jitne Bhi Global Warming Akele Ja Rahe Hain To Us Ko Control Karne Mein Jo Bharat Hai Wah Nakam Raha Hai Aur Aap Dekh Sakte Hain Ki Jitne Bhi Metropolis Hai Usamen Pollution Ka Level Jo Hai Jo Border Line Hoti Hai Usko Close Kar Ke Bhi Kai Guna Aage Chala Ja Chuka Hai Double Triple Chala Gaya Lekin Phir Bhi Hamari Sarkari Jo Hai Us Ko Control Karne Mein Nakam Rahi Hai Aur Jis Din Dhuan Uthega Jis Din Mein Kuch Dikhai Dena Band Ho Jayega Us Din Jo Election Mein Aayenge Baki Din Log Bhul Jaate Hain Ki Pollution Naam Ki Bhi Koi Cheez Hai Aur Zaroorat Hai Jo Jalvayu Pariwartan Hai Use Kisano Ka Zaroorat Padegi Jo Pehle Rehti Hai Wahin Hawa Rahi Na Pani Jo Hai Wah Leti Hai Jo Politics Rehta Hai Aur Wah Polytechnic To Hum Insaan Bhi Usko Ussi Ko Khayenge To Hamare Andar Bhi Jo Hai Wahi Cheez Jayega To In Directly Jo Wah Ghum Phir Kar Wahin Par Aata Hai To Mere Ko Lagta Ki Logon Ko Samajhna Chahiye Pollution Ko Thoda Control Karna Chahiye Aur Sarkar Ko Bhi Mere Ko Lagta Hai Thoda Active Hona Chahiye In Sab Chijon Mein Unki Sarkar Rule In Comment Karenge Tabhi Logon Se Call Karne Wala Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

PK जलवायु का खेती पर किसानों पर बहुत फर्क पड़ता है कैसी जलवायु है उसके ऊपर डिपेंड करता कि किस तरीके खेती होगी जिससे हम नोट की बात करें तो यहां पर बीट बाली ज्यादा उगाया जाता है अगर हम जहां पानी कम है व...
जवाब पढ़िये
PK जलवायु का खेती पर किसानों पर बहुत फर्क पड़ता है कैसी जलवायु है उसके ऊपर डिपेंड करता कि किस तरीके खेती होगी जिससे हम नोट की बात करें तो यहां पर बीट बाली ज्यादा उगाया जाता है अगर हम जहां पानी कम है वहां की बात करें तो वहां अलग तरह की सब्जियां या खेती की जाती है जहां अलग तरह का जलवायु है वहां अलग तरीके की राधे चुपके से सुनने में आया है कि अगले कुछ सालों में जो धरती का टेंपरेचर है वह 4:00 पर्सेंट तक बढ़ जाएगा ऐसा होने के बाद जो जिस तरह की खेती पहले होती थी उसी से बहुत फर्क पड़ेगा बारिश की कमी हो जाएगी अगर ऐसा कुछ हुआ कॉटन यह बहुत सारी जो राइस वगैरह सब उगाने में प्रॉब्लम होगी एक्स्ट्रा पानी देना पड़ेगा इन सब चीजों के लिए अगर अगर बारिश की कमी होगी तो और भी सारी प्रॉब्लम सो जाएंगे जो हारवेस्टिंग सीजन जो रबी क्रॉप्स 1 तारीख को आपका पर्टिकुलर एक साइंस पेन होता है वह डिस्टर्ब हो जाएगा बंद किसानों को बहुत ज्यादा प्रॉब्लम हो जाएगी इसकी वजह सिर्फ किसानों को नहीं अगर यह चीज है जिसे जो टाइम टेबल अभी है वह बिगड़ जाएगा तो हम तो खाना लेट पहुंचेगा हम तो यह सारे जो ग्रीन था वह लेट पहुंचेंगे और प्राइसेस प्राइस बहुत ज्यादा हाई को जाएगा बहुत अच्छी चीजें हो जाएंगी तो अभी भी हमारे पास वक्त है कि कुछ थोड़ा बहुत ठीक कर ले जितना कर सकते हैं क्योंकि अगर यह सब चीजें हो गई तो अल्टीमेटली सब कुछ खत्म हुई जाएगाPK Jalvayu Ka Kheti Par Kisano Par Bahut Fark Padata Hai Kaisi Jalvayu Hai Uske Upar Depend Karta Ki Kis Tarike Kheti Hogi Jisse Hum Note Ki Baat Karen To Yahan Par Beat Baali Jyada Ugaya Jata Hai Agar Hum Jahan Pani Kum Hai Wahan Ki Baat Karen To Wahan Alag Tarah Ki Sabjiyan Ya Kheti Ki Jati Hai Jahan Alag Tarah Ka Jalvayu Hai Wahan Alag Tarike Ki Radhe Chupke Se Sunane Mein Aaya Hai Ki Agle Kuch Salon Mein Jo Dharti Ka Temperature Hai Wah 4:00 Percent Tak Badh Jayega Aisa Hone Ke Baad Jo Jis Tarah Ki Kheti Pehle Hoti Thi Ussi Se Bahut Fark Padega Barish Ki Kami Ho Jayegi Agar Aisa Kuch Hua Cotton Yeh Bahut Saree Jo Rice Vagairah Sab Ugaane Mein Problem Hogi Extra Pani Dena Padega In Sab Chijon Ke Liye Agar Agar Barish Ki Kami Hogi To Aur Bhi Saree Problem So Jaenge Jo Harvesting Season Jo Rabi Crops 1 Tarikh Ko Aapka Particular Ek Science Pen Hota Hai Wah Disturb Ho Jayega Band Kisano Ko Bahut Jyada Problem Ho Jayegi Iski Wajah Sirf Kisano Ko Nahi Agar Yeh Cheez Hai Jise Jo Time Table Abhi Hai Wah Bigad Jayega To Hum To Khana Let Pahunchega Hum To Yeh Sare Jo Green Tha Wah Let Pahunchenge Aur Praises Price Bahut Jyada Hi Ko Jayega Bahut Acchi Cheezen Ho Jaengi To Abhi Bhi Hamare Paas Waqt Hai Ki Kuch Thoda Bahut Theek Kar Le Jitna Kar Sakte Hain Kyonki Agar Yeh Sab Cheezen Ho Gayi To Altimetli Sab Kuch Khatam Hui Jayega
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल जलवायु परिवर्तन के लिए आते हैं क्योंकि हम लोग जब भी कहीं माइग्रेट करते हैं तो बहुत डिफरेंस आ जाता है हम इंडियन असली नोट की ब्लॉक जब नोट्स में रहते हैं तो भी उनको सूट पर लगता है बट नॉट के साउथ ...
जवाब पढ़िये
बिल्कुल जलवायु परिवर्तन के लिए आते हैं क्योंकि हम लोग जब भी कहीं माइग्रेट करते हैं तो बहुत डिफरेंस आ जाता है हम इंडियन असली नोट की ब्लॉक जब नोट्स में रहते हैं तो भी उनको सूट पर लगता है बट नॉट के साउथ माइग्रेट करते हैं या साउथ दो भेज दो भेज दो इसको कहीं भी किसी भी सॉन्ग को जरूर डिफरेंट कर देते हैं तब प्रॉब्लम क्रिएट हो जाती है वह तो काफी हद तक सलूशन और वहां का जो लेवल है बहुत डिफिकल्ट हो जाता है हर एक जगह के इंसान का दूसरी जगह पर रह पाना 10 का करार दिया गया है और और जीवन किसानों पर थोड़ा बहुत असर पड़ता है क्योंकि पोलूशन का असर उनकी फसल पर पड़ता है जिससे पूरा डेवलपर प्रॉपर्ली प्रोसेस्ड फूड हमें नहीं मिल पाता और उनकी जो क्वालिटी होती है वह गिर जाती है करो कि साथ-साथ जमीन भी बंजर होती जाती है खराब हो जाती है तो ऐसे में किसानों के लिए बड़ा नुकसान है इंडिया का जो सीन रेस्टोरेंट में हो रहे हो सबBilkul Jalvayu Pariwartan Ke Liye Aate Hain Kyonki Hum Log Jab Bhi Kahin Migrate Karte Hain To Bahut Difference Aa Jata Hai Hum Indian Asli Note Ki Block Jab Notes Mein Rehte Hain To Bhi Unko Suit Par Lagta Hai But Not Ke South Migrate Karte Hain Ya South Do Bhej Do Bhej Do Isko Kahin Bhi Kisi Bhi Song Ko Jarur Different Kar Dete Hain Tab Problem Create Ho Jati Hai Wah To Kafi Had Tak Salution Aur Wahan Ka Jo Level Hai Bahut Difficult Ho Jata Hai Har Ek Jagah Ke Insaan Ka Dusri Jagah Par Rah Pana 10 Ka Karar Diya Gaya Hai Aur Aur Jeevan Kisano Par Thoda Bahut Asar Padata Hai Kyonki Pollution Ka Asar Unki Fasal Par Padata Hai Jisse Pura Developer Properly Processed Food Hume Nahi Mil Pata Aur Unki Jo Quality Hoti Hai Wah Gir Jati Hai Karo Ki Saath Saath Jameen Bhi Banjar Hoti Jati Hai Kharab Ho Jati Hai To Aise Mein Kisano Ke Liye Bada Nuksan Hai India Ka Jo Seen Restaurant Mein Ho Rahe Ho Sab
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Jalvayu Parivartanon Ke Lihaj Se Bharat Ko Sabse Kamjor Desh Ghoshit Kiya Gaya Jalvayu Parivartan Se Hamare Kisano Par Kya Asar Hoga, India Has Been Declared The Most Vulnerable Country In Terms Of Climate Change, How Will Climate Change Affect Our Farmers?

vokalandroid