आज के जीवन में आप कितने भारतीय संस्कृति का पालन कर रहे हैं? ...

Likes  0  Dislikes

3 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
विकी मैं एक छोटे शहर से आता हूं मेरी जो स्कूलिंग हुई वह ऐसे विद्यालय में हुई जहां सबसे ज्यादा फोकस संस्कार भारतीय संस्कृति नैतिक शिक्षा के ऊपर आ तो मोदी जी लगभग 12 साल की जो शिक्षा की ऐसी स्कूल में नहीं जहां भारतीय संस्कृति को बहुत ज्यादा सिखाया गया और वह मुझे लगता है कि मेरे अंदर है और मैं उसको पालन भी करता हूं हां समय के साथ सब चीज चीज होती लेकिन कुछ ऐसे गुण होते हैं जो आदमी की कभी नहीं चेंज होते उसके व्यक्तित्व से हम कभी नहीं चाहते तो मुझे लगता है कहीं ना कि वह मेरे अंदर है और मुझे इस पर गर्व हैVikee Main Ek Chote Sheher Se Aata Hoon Meri Jo Schooling Hui Wah Aise Vidyalaya Mein Hui Jahan Sabse Jyada Focus Sanskar Bhartiya Sanskriti Naitik Shiksha Ke Upar Aa To Modi Ji Lagbhag 12 Saal Ki Jo Shiksha Ki Aisi School Mein Nahi Jahan Bhartiya Sanskriti Ko Bahut Jyada Sikhaya Gaya Aur Wah Mujhe Lagta Hai Ki Mere Andar Hai Aur Main Usko Palan Bhi Karta Hoon Haan Samay Ke Saath Sab Cheez Cheez Hoti Lekin Kuch Aise Gun Hote Hain Jo Aadmi Ki Kabhi Nahi Change Hote Uske Vyaktitva Se Hum Kabhi Nahi Chahte To Mujhe Lagta Hai Kahin Na Ki Wah Mere Andar Hai Aur Mujhe Is Par Garv Hai
Likes  4  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

अतिरिक्त विकल्प यहां दिखाई देते हैं!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
भारतीय संस्कृति बहुत ही व्यापक है और हमारे द्वारा भारतीय संस्कृति के भाव से नियमों का पालन किया जाता है कि हमारी संस्कृति की बात की जाती तो हमारी संस्कृति में सब कुछ आ जाता है जो हमारे मानसिक गतिविधियों के द्वारा संचालित होता है जैसे सोचना विचारना कार्य करना दूसरों का सम्मान समाज के रूप में व्यवहार इत्यादि तो देखिए मेरे द्वारा ही बहुत से कार्य किए जाते हैं देखिए बड़े माता-पिता की आज्ञा का पालन करना बड़ों का आदर करना गुरुजनों का सम्मान करना फिर या एश्वर्या पूर्ण कार्य करना है जैसे कोई भी कार्य ईश्वर प्रदान होता हमारी संस्कृति में तो मैं भी नहाते समय ईश्वर का नाम लेना होता है या एग्जाम देने जाना हो तो ईश्वर की वंदना की जाती है खेलने भी जाता हूं तो फिर में प्रवेश करने से पहले धरती को स्पर्श करके प्रणाम करता हूं साथ ही साथ जो भी सांस्कृतिक सद्भाव हमारी संस्कृति सिखाती है दूसरे धर्म का सम्मान करना दूसरे संप्रदाय का सम्मान करना वह भी मैं करता हूं तो देखिए हमारे संस्कृति में जो भी हैं हमारे यहां जो भी डांस के फॉर्म है उनको भी मैं देखना पसंद करता हूं अरे जो भी गाने गाए जाते हैं कब तक लिखते थे अभी सब को मैं देखना पसंद करता हूं लेकिन सब का पालन करता हूं लेकिन यह किस भारतीय संस्कृत तक ही मैं सहमत नहीं हूं जो पश्चिमी संस्कृति है उसका अनुसरण करता हूं उनकी भेजो अच्छा ज्ञान है उनको भी मैं देखता हूं और धारण करता हूं तो मेरे द्वारा भारतीय संस्कृति के जितने भी गाने में से बहुत सारे गुणों को पालन किया जाता है मसलन जैसे औरतों की हमारे यहां सम्मान करने की बात की जाती है कि मैं करता हूं ऐसे बहुत से बात है जो कि जाती है जिसको आप बिना तो नहीं किया जा सकता लेकिन हमारे मानसिक गुणों द्वारा हमारे व्यवहार के द्वारा भारतीय संस्कृति के मूल तत्व को पालन किया जाता हैBhartiya Sanskriti Bahut Hi Vyapak Hai Aur Hamare Dwara Bhartiya Sanskriti Ke Bhav Se Niyamon Ka Palan Kiya Jata Hai Ki Hamari Sanskriti Ki Baat Ki Jati To Hamari Sanskriti Mein Sab Kuch Aa Jata Hai Jo Hamare Mansik Gatividhiyon Ke Dwara Sanchalit Hota Hai Jaise Sochna Vichaarnaa Karya Karna Dusron Ka Samman Samaaj Ke Roop Mein Vyavhar Ityadi To Dekhie Mere Dwara Hi Bahut Se Karya Kiye Jaate Hain Dekhie Bade Mata Pita Ki Aagya Ka Palan Karna Badon Ka Aadar Karna Gurujanon Ka Samman Karna Phir Ya Eshwarya Poorn Karya Karna Hai Jaise Koi Bhi Karya Ishwar Pradan Hota Hamari Sanskriti Mein To Main Bhi Nahate Samay Ishwar Ka Naam Lena Hota Hai Ya Exam Dene Jana Ho To Ishwar Ki Vandana Ki Jati Hai Khelne Bhi Jata Hoon To Phir Mein Pravesh Karne Se Pehle Dharti Ko Sparsh Karke Pranam Karta Hoon Saath Hi Saath Jo Bhi Sanskritik Sadbhav Hamari Sanskriti Sikhati Hai Dusre Dharm Ka Samman Karna Dusre Sampraday Ka Samman Karna Wah Bhi Main Karta Hoon To Dekhie Hamare Sanskriti Mein Jo Bhi Hain Hamare Yahan Jo Bhi Dance Ke Form Hai Unko Bhi Main Dekhna Pasand Karta Hoon Arre Jo Bhi Gaane Gaye Jaate Hain Kab Tak Likhte The Abhi Sab Ko Main Dekhna Pasand Karta Hoon Lekin Sab Ka Palan Karta Hoon Lekin Yeh Kis Bhartiya Sanskrit Tak Hi Main Sahmat Nahi Hoon Jo Pashchimi Sanskriti Hai Uska Anusaran Karta Hoon Unki Bhejo Accha Gyaan Hai Unko Bhi Main Dekhta Hoon Aur Dharan Karta Hoon To Mere Dwara Bhartiya Sanskriti Ke Jitne Bhi Gaane Mein Se Bahut Sare Gunon Ko Palan Kiya Jata Hai Maslan Jaise Auraton Ki Hamare Yahan Samman Karne Ki Baat Ki Jati Hai Ki Main Karta Hoon Aise Bahut Se Baat Hai Jo Ki Jati Hai Jisko Aap Bina To Nahi Kiya Ja Sakta Lekin Hamare Mansik Gunon Dwara Hamare Vyavhar Ke Dwara Bhartiya Sanskriti Ke Mul Tatva Ko Palan Kiya Jata Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
भारतीय संस्कृति की बात आती है तो भारतीय संस्कृति का एसेंस है प्यार मोहब्बत अमन और शांति से एक दूसरे के साथ जिंदगी गुजारना अब हम सिर्फ अपने घरवालों की बारे में बात नहीं करेंगे इस बारे में हमारे पड़ोसी हुए पर हमारी दोस्त है हमारी जानकारी हुई या कोई अजनबी ही क्यों ना हुआ उसे प्यार से पेश आना यह भारतीय संस्कृति का एसेंस है आजकल बहुत सारी ड्रेस हो रही है बहुत सारे लड़ाई झगड़े इस बात को लेकर हो रहे हैं कि अगर आपने बचपन में पहन लिया तो आप इंडिया नहीं रहा है पर अगर आप खाना खा रहे हैं तुम बोली बोल रहे हैं तो इसका मतलब यह हुआ कि आप इंडियन नहीं रहे लेकिन नहीं ऐसा कुछ भी नहीं है अगर हम वेस्टर्न कल्चर को अपनी कल अपने कल्चर के अंदर इन वॉल कर रहे हैं अपनी डेली लाइफ तालमेल कॉल करें तो हम रो कर रहे हैं तरीके से मुझे अपना रहे हैं हम यह नहीं करेगी अपने कल्चर को रिप्लेस करके क्योंकि वक्त के साथ-साथ हमें आगे बढ़ना जरूरी है और अगर हम ऑफिस इन काशीपुर नहीं अपनाते हैं उसको अपनी बोलचाल में नहीं डालते हैं तो हम आज तक कंट्री बहुत पीछे रह जाएंगे सर इंपॉर्टेंट कि हम उसका सिर को भी अपना आते रहे लेकिन हाशिम टाइम है मुझसे कि जो ऐसे जिसके बारे में मैंने बात करी थी प्यार मोहब्बत और अमन शांति से एक दूसरे के साथ जिंदगी बिताना जो जॉइंट फैमिली का कल्चर है यह इंडियन सभ्यता जो है हमारी इंडियन संस्कृति से निकल कर आया है वह इसीलिए आया है ताकि हम एक दूसरे को प्यार मोहब्बत से जीना सिखा पाए और यह मुझे अच्छा लगता है इसके मैसेज पर मैसेज करूंगी कि हां थोड़ा सा हम यह कहेंगे कि हम अपनी संस्कृति का पालन नहीं कर पा रहे हैं चक्कर में जिस तरीके से हम एक दूसरे को ठीक करने लग गए हैं जिस तरीके से रिलीज़ उनके नाम पर हम एक दूसरे से लड़ने लग गए हैं जिस तरीके से काट के नाम पर हम एक दूसरे से लड़ने लगे हैं यह बात मुझे ऐसा लगता है कि इंडियन हमें अपनी संस्कृति से पिछड़ रही है बिकॉज़ ऑफ द कंट्री ऑफ द इंडियन सिटीजन हम यह कहेंगे कि हमारी जो कल्चर है वह हमें एकता अनेकता में एकता सिखाता है और वह हम अभी पूरी तरीके से फॉलो नहीं कर रहे हैं तो रहे हैं ना कि हम जोड़ रहे हैं एक दूसरे को एक दूसरे सेBhartiya Sanskriti Ki Baat Aati Hai To Bhartiya Sanskriti Ka Esens Hai Pyar Mohabbat Aman Aur Shanti Se Ek Dusre Ke Saath Zindagi Gujarana Ab Hum Sirf Apne Gharwaalon Ki Baare Mein Baat Nahi Karenge Is Baare Mein Hamare Padoshi Hue Par Hamari Dost Hai Hamari Jankari Hui Ya Koi Ajnabee Hi Kyun Na Hua Use Pyar Se Pesh Aana Yeh Bhartiya Sanskriti Ka Esens Hai Aajkal Bahut Saree Dress Ho Rahi Hai Bahut Sare Ladai Jhagde Is Baat Ko Lekar Ho Rahe Hain Ki Agar Aapne Bachpan Mein Pahan Liya To Aap India Nahi Raha Hai Par Agar Aap Khana Kha Rahe Hain Tum Boli Bol Rahe Hain To Iska Matlab Yeh Hua Ki Aap Indian Nahi Rahe Lekin Nahi Aisa Kuch Bhi Nahi Hai Agar Hum Western Culture Ko Apni Kal Apne Culture Ke Andar In Wall Kar Rahe Hain Apni Daily Life Talmel Call Karen To Hum Ro Kar Rahe Hain Tarike Se Mujhe Apna Rahe Hain Hum Yeh Nahi Karegi Apne Culture Ko Replace Karke Kyonki Waqt Ke Saath Saath Hume Aage Badhana Zaroori Hai Aur Agar Hum Office In Kashipur Nahi Apanate Hain Usko Apni Bolchal Mein Nahi Daalte Hain To Hum Aaj Tak Country Bahut Piche Rah Jaenge Sar Important Ki Hum Uska Sir Ko Bhi Apna Aate Rahe Lekin Hashim Time Hai Mujhse Ki Jo Aise Jiske Baare Mein Maine Baat Kari Thi Pyar Mohabbat Aur Aman Shanti Se Ek Dusre Ke Saath Zindagi Bitana Jo Joint Family Ka Culture Hai Yeh Indian Sabhyata Jo Hai Hamari Indian Sanskriti Se Nikal Kar Aaya Hai Wah Isliye Aaya Hai Taki Hum Ek Dusre Ko Pyar Mohabbat Se Jeena Sikha Paye Aur Yeh Mujhe Accha Lagta Hai Iske Massage Par Massage Karungi Ki Haan Thoda Sa Hum Yeh Kahenge Ki Hum Apni Sanskriti Ka Palan Nahi Kar Pa Rahe Hain Chakkar Mein Jis Tarike Se Hum Ek Dusre Ko Theek Karne Lag Gaye Hain Jis Tarike Se Riliz Unke Naam Par Hum Ek Dusre Se Ladane Lag Gaye Hain Jis Tarike Se Kaat Ke Naam Par Hum Ek Dusre Se Ladane Lage Hain Yeh Baat Mujhe Aisa Lagta Hai Ki Indian Hume Apni Sanskriti Se Pichad Rahi Hai Bikaz Of D Country Of D Indian Citizen Hum Yeh Kahenge Ki Hamari Jo Culture Hai Wah Hume Ekta Anekata Mein Ekta Sikhata Hai Aur Wah Hum Abhi Puri Tarike Se Follow Nahi Kar Rahe Hain To Rahe Hain Na Ki Hum Jod Rahe Hain Ek Dusre Ko Ek Dusre Se
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Aaj Ke Jeevan Mein Aap Kitne Bhartiya Sanskriti Ka Palan Kar Rahe Hain, How Many Indian Cultures Are You Following In Today's Life?





मन में है सवाल?