हम अपने देश को कैसे डेवलप कर सकते हैं ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा भी देखो देश का देश है ना यह जब जब जब जब होगा जब...जवाब पढ़िये
ऐसा भी देखो देश का देश है ना यह जब जब जब जब होगा जब हम सब लोग जाएंगे तो हम सब लोग चाहे यदि की 123 हमारे लिप लॉक हम सब लोग इसके प्रति प्रयत्न करें हम हर जगह जहां देखें वहां स्वच्छता बनाए जाते हैं और जिस पथ को भी और समाजवादी सब मिटा दे दो मेरे हिसाब से देश ऐप आपसी में दंगों में ना फंस कर देश की तरक्की में हाथ घटाएगाAisa Bhi Dekho Desh Ka Desh Hai Na Yeh Jab Jab Jab Jab Hoga Jab Hum Sab Log Jaenge To Hum Sab Log Chahe Yadi Ki 123 Hamare Lip Lock Hum Sab Log Iske Prati Prayatn Karen Hum Har Jagah Jahan Dekhen Wahan Svachchhata Banaye Jaate Hain Aur Jis Path Ko Bhi Aur Samajwadi Sab Mita De Do Mere Hisab Se Desh App Aapasi Mein Dango Mein Na Phans Kar Desh Ki Tarakki Mein Hath Ghatayega
Likes  4  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन किसी भी राष्ट्र को डेवलप करने में उसके नागरिकों का बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान...जवाब पढ़िये
लेकिन किसी भी राष्ट्र को डेवलप करने में उसके नागरिकों का बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान होता है तो हम अपने स्तर पर देश को कैसे डेवलप कर सकते हैं तो अगर हमें खुद को खुद के देश को डेवलप करना है जो सपनों में खुद को डेवलप करना होगा एक अच्छा नागरिक की एक अच्छे राष्ट्र का निर्माण करता है तो आप यह प्रयास करें कि एक अच्छा नागरिक बने अपने राष्ट्र के विपरीत किसी भी कार्य ना करें हमेशा वही कार्य करें जो आपकी राष्ट्र के हित में है तो आप अपने आप को भी डेवलप करेंगे तो इससे भी देश जब लाभ होगा तो मैं प्रयास करना चाहिए कि हम खुद को डेवलप करना है कुछ मुश्किल फुल बनाए अपने प्रति व्यक्ति आय जंक्शन को बढ़ाएं अपने आपको इसी तरह अपने आप को डेवलप करें जो अपने आप को डेवलप करने से भी हमारा देश डेवलप होगा और तो और हम अपने क्षेत्रीय स्तर पर भी कार्य कर सकते हैं हमें अपने आसपास के रहने वाले लोगों को भी डेवलप करके अपने राष्ट्र को डेवलप कर सकते हैंLekin Kisi Bhi Rashtra Ko Develop Karne Mein Uske Naagrikon Ka Bahut Hi Mahatvapurna Yogdan Hota Hai To Hum Apne Sthar Par Desh Ko Kaise Develop Kar Sakte Hain To Agar Hume Khud Ko Khud Ke Desh Ko Develop Karna Hai Jo Sapnon Mein Khud Ko Develop Karna Hoga Ek Accha Nagarik Ki Ek Acche Rashtra Ka Nirmaan Karta Hai To Aap Yeh Prayas Karen Ki Ek Accha Nagarik Bane Apne Rashtra Ke Viparit Kisi Bhi Karya Na Karen Hamesha Wahi Karya Karen Jo Aapki Rashtra Ke Hit Mein Hai To Aap Apne Aap Ko Bhi Develop Karenge To Isse Bhi Desh Jab Labh Hoga To Main Prayas Karna Chahiye Ki Hum Khud Ko Develop Karna Hai Kuch Mushkil Full Banaye Apne Prati Vyakti Aay Junction Ko Badhaye Apne Aapko Isi Tarah Apne Aap Ko Develop Karen Jo Apne Aap Ko Develop Karne Se Bhi Hamara Desh Develop Hoga Aur To Aur Hum Apne Kshetriya Sthar Par Bhi Karya Kar Sakte Hain Hume Apne Aaspass Ke Rehne Wali Logon Ko Bhi Develop Karke Apne Rashtra Ko Develop Kar Sakte Hain
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने दिल को डेवलप करना चाहते हैं लेकिन देश को तो ना मिली डेवलप करने...जवाब पढ़िये
अपने दिल को डेवलप करना चाहते हैं लेकिन देश को तो ना मिली डेवलप करने के लिए हमारे राजनेताओं के जमाई प्रधान मंत्री होते हैं जो राष्ट्रपति होते हैं यह लोग जो है जब कर पाएंगे हम अपने आप को अपने आप करना चाहते उसके लिए आपको तो पहले तो जितने भी बुराई होती है देश में जहां भी कराएंगे वहां पर आपका आवाज उठानी चाहिए साथी सट्टा पर रोजगार जो है क्या बनाएंगे तो बाहर से बेरोजगारी खत्म होगी उस जगह अच्छी बातें बताएं लोगों से अच्छी बातें शेयर करें लोगों को अच्छे से लेकर जाए तो क्या उपाय कम उम्र का महीना हाथ होता है वह क्या करेंगे कि रोजगार लाएंगे भारत में नए-नए जो होते हैं कि नए-नए जो विकास लेकर के विकास में जो कार्यक्रम होता है वह लेकर आएंगे तब मैं अपने आप में इंग्लिश लेकर आएंगे हम अपने आता हम अपने आप अंदर में बदलाव लेकर आगे तुम्हारी जब जब मैं तो बिल्कुल होते हैं तो पहले अपने आप को डेवलप करें तभी तो दे दोApne Dil Ko Develop Karna Chahte Hain Lekin Desh Ko To Na Mili Develop Karne Ke Liye Hamare Rajnetao Ke Jamai Pradhan Mantri Hote Hain Jo Rashtrapati Hote Hain Yeh Log Jo Hai Jab Kar Payenge Hum Apne Aap Ko Apne Aap Karna Chahte Uske Liye Aapko To Pehle To Jitne Bhi Burayi Hoti Hai Desh Mein Jahan Bhi Karaenge Wahan Par Aapka Aawaj Uthani Chahiye Sathi Satta Par Rojgar Jo Hai Kya Banayenge To Bahar Se Berojgari Khatam Hogi Us Jagah Acchi Batein Bataen Logon Se Acchi Batein Share Karen Logon Ko Acche Se Lekar Jaye To Kya Upay Kam Umar Ka Mahina Hath Hota Hai Wah Kya Karenge Ki Rojgar Layenge Bharat Mein Naye Naye Jo Hote Hain Ki Naye Naye Jo Vikash Lekar Ke Vikash Mein Jo Karyakram Hota Hai Wah Lekar Aayenge Tab Main Apne Aap Mein English Lekar Aayenge Hum Apne Aata Hum Apne Aap Andar Mein Badlav Lekar Aage Tumhari Jab Jab Main To Bilkul Hote Hain To Pehle Apne Aap Ko Develop Karen Tabhi To De Do
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश के प्रथम उनको शिक्षित होकर के देशभक्ति के भागों के साथ कर सकते...जवाब पढ़िये
हमारे देश के प्रथम उनको शिक्षित होकर के देशभक्ति के भागों के साथ कर सकते हैं मेरे विचार से भारत में भी देश भक्ति की भावना की बात बड़ी कमी है यहां के नागरिकों में मैंने यह पाया है कि देश भक्ति की भावना कम है जिस वक्त कम है लोग अपने स्वार्थ के लिए कुछ भी कर सकते हैं किसी भी सीमा से बाहर जा सकते हैं नियंत्रण से आउट हो सकते हैं जबकि यह होना चाहिए देशभक्त नागरिक अपनी जान तो दे सकता है लेकिन अपने देश के लिए किसी प्रकार की कोई हानि सहन नहीं कर सकता देश का अपमान नहीं कर सकता देश का अपमान के बारे में सोच भी नहीं सकता है ना किसी के अपने देखते हुए किसी को कर लेता अपने देश के विकास में हमारे स्वार्थ आड़े आ जाते हैं हम भारतीयों में एक विशेषता है कि अपने स्वार्थ के लिए कि मुझे ₹10 का लाभ हो रहा है तो चाय संपत्ति कितनी बर्बाद हो जाए चाहे कितनी भी टूट जाए तो नुकसान हो जाए अब देखिए रोज के धरने देते हैं रोज की तरह रोक लेते हैं उसकी ट्रेनों को रोक लेते हैं एक नया सिस्टम चल गया है जिससे बात की तकलीफ में पारित होता है क्योंकि सूची 12 बस आपने अभी बंद करके तैयार हुई और बस में यदि आग लगा दी जाए तो देश का नुकसान हुआ ना देश के प्रमुख के लिए सब बातें जाकर के इन्हीं बातों पर कमेंट होते हैं तो देश के विकास में पूर्व तन मन धन के साथ में सहयोग करें हमारे देखते हुए सार्वजनिक ना तो नुकसान ना हम खुद नुकसान करें यह तो हमें विकास में सहयोग करना है सहयोग करने के लिए लोगों को प्रेरित करना है और पूर्ण रूप से जब हम शिक्षित हो जाएंगे देश भक्ति की भावना जागृत हो जाएंगे तो निश्चित रूप से हमारा भारत देश उन्हें अपनी गरिमा को प्राप्त कर लेगाHamare Desh Ke Pratham Unko Shikshit Hokar Ke Deshbhakti Ke Bhaagon Ke Saath Kar Sakte Hain Mere Vichar Se Bharat Mein Bhi Desh Bhakti Ki Bhavna Ki Baat Badi Kami Hai Yahan Ke Naagrikon Mein Maine Yeh Paya Hai Ki Desh Bhakti Ki Bhavna Kam Hai Jis Waqt Kam Hai Log Apne Swartha Ke Liye Kuch Bhi Kar Sakte Hain Kisi Bhi Seema Se Bahar Ja Sakte Hain Niyantran Se Out Ho Sakte Hain Jabki Yeh Hona Chahiye Deshbhakt Nagarik Apni Jaan To De Sakta Hai Lekin Apne Desh Ke Liye Kisi Prakar Ki Koi Hani Sahan Nahi Kar Sakta Desh Ka Apman Nahi Kar Sakta Desh Ka Apman Ke Bare Mein Soch Bhi Nahi Sakta Hai Na Kisi Ke Apne Dekhte Huye Kisi Ko Kar Leta Apne Desh Ke Vikash Mein Hamare Swartha Ade Aa Jaate Hain Hum Bharatiyon Mein Ek Visheshata Hai Ki Apne Swartha Ke Liye Ki Mujhe ₹ Ka Labh Ho Raha Hai To Chai Sampatti Kitni Barbad Ho Jaye Chahe Kitni Bhi Toot Jaye To Nuksan Ho Jaye Ab Dekhie Roj Ke Dharne Dete Hain Roj Ki Tarah Rok Lete Hain Uski Traino Ko Rok Lete Hain Ek Naya System Chal Gaya Hai Jisse Baat Ki Takleef Mein Paarit Hota Hai Kyonki Suchi 12 Bus Aapne Abhi Band Karke Taiyaar Hui Aur Bus Mein Yadi Aag Laga Di Jaye To Desh Ka Nuksan Hua Na Desh Ke Pramukh Ke Liye Sab Batein Jaakar Ke Inhin Baaton Par Comment Hote Hain To Desh Ke Vikash Mein Purv Tan Man Dhan Ke Saath Mein Sahyog Karen Hamare Dekhte Huye Sarvajanik Na To Nuksan Na Hum Khud Nuksan Karen Yeh To Hume Vikash Mein Sahyog Karna Hai Sahyog Karne Ke Liye Logon Ko Prerit Karna Hai Aur Poorn Roop Se Jab Hum Shikshit Ho Jaenge Desh Bhakti Ki Bhavna Jaagarrit Ho Jaenge To Nishchit Roop Se Hamara Bharat Desh Unhen Apni Garima Ko Prapt Kar Lega
Likes  10  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Hum Apne Desh Ko Kaise Develop Kar Sakte Hain ?, How Can We Develop Our Country?