पंजाब के विधायकों के साथ बैठक है आज,क्या AAP को टूटने से बचा पाएंगे अरविंद केजरीवाल? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कुछ ही दिनों पहले मानहानि के एक मामले में अकाली दल के नेता बिक्रम मजीठिया से लिखित तौर पर माफी मांगी थी और इसी वजह से पंजाब में जो आप नेता हैं वह काफी गुस्से में है और एक तरह से बगावत कर रहे हैं और आज इसी सिलसिले में दिल्ली में अरविंद केजरीवाल पार्टी के पंजाब के जो भी विधायक हैं उनकी बैठक बुलाई है जिसमें वह अपनी बात रखेंगे लेकिन इस बैठक में पंजाब के विधायक और विपक्ष के नेता सुखपाल खैहरा ने बैठक में आने से मना कर दिया है मैंने यह कहा कि जो भी अगर मीटिंग होगी तो उसे चंडीगढ़ में किया जाए इसी वजह से वह दिल्ली नहीं आ रहे हैं अब पार्टी के सामने यह भी बड़ा संकट पैदा हो गया है कि क्या इस बैठक में पंजाब से आम आदमी पार्टी के सभी विधायक हिस्सा लेंगे या फिर नहीं लेंगे और मुझे लगता है कि अगर बैठक होती है और अरविंद केजरीवाल अपनी बात रखने में कायम रखते हैं तू बिल्कुल सारे विधायकों को साथ रखा जा सकता है और आम आदमी पार्टी को टूटने से बचाया जा सकता है हालांकि अरविंद केजरीवाल का यह जो डिसीजन था उस पर आम आदमी पार्टी के बहुत सारे विधायक और नेता उंगलियां उठा रहे हैं कि इस तरह से जो भी अरविंद केजरीवाल ने फैसला लिया है उसे आम आदमी की छवि जो है वह बहुत खराब हुई है और लोग मजाक उड़ा रहे हैं आम आदमी पार्टी का लेकिन अरविंद केजरीवाल भी एक राजनेता है और कोशिश बिल्कुल वह पूरी करेंगे कि वह अपनी पार्टी को बचाने और अपनी जो भी बातें हैं जिसकी वजह से उन्होंने यह डिसीजन लिया है वह सभी विधायकों के सामने सभी नेताओं के सामने रखेंगे तो मुझे लगता है कि अरविंद केजरीवाल बिल्कुल कामयाब होंगे अपनी इस कोशिश में क्योंकि उन्होंने पहले भी यूटन तो लिया ही है मतलब अपने बयान से वह पलट गए हैं लेकिन फिर भी उनकी जो पार्टी है वह अभी तक कायम है तो मुझे लगता है इस पर भी अरविंद केजरीवाल सभी को मनाने में कामयाब रहेंगे
Romanized Version
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कुछ ही दिनों पहले मानहानि के एक मामले में अकाली दल के नेता बिक्रम मजीठिया से लिखित तौर पर माफी मांगी थी और इसी वजह से पंजाब में जो आप नेता हैं वह काफी गुस्से में है और एक तरह से बगावत कर रहे हैं और आज इसी सिलसिले में दिल्ली में अरविंद केजरीवाल पार्टी के पंजाब के जो भी विधायक हैं उनकी बैठक बुलाई है जिसमें वह अपनी बात रखेंगे लेकिन इस बैठक में पंजाब के विधायक और विपक्ष के नेता सुखपाल खैहरा ने बैठक में आने से मना कर दिया है मैंने यह कहा कि जो भी अगर मीटिंग होगी तो उसे चंडीगढ़ में किया जाए इसी वजह से वह दिल्ली नहीं आ रहे हैं अब पार्टी के सामने यह भी बड़ा संकट पैदा हो गया है कि क्या इस बैठक में पंजाब से आम आदमी पार्टी के सभी विधायक हिस्सा लेंगे या फिर नहीं लेंगे और मुझे लगता है कि अगर बैठक होती है और अरविंद केजरीवाल अपनी बात रखने में कायम रखते हैं तू बिल्कुल सारे विधायकों को साथ रखा जा सकता है और आम आदमी पार्टी को टूटने से बचाया जा सकता है हालांकि अरविंद केजरीवाल का यह जो डिसीजन था उस पर आम आदमी पार्टी के बहुत सारे विधायक और नेता उंगलियां उठा रहे हैं कि इस तरह से जो भी अरविंद केजरीवाल ने फैसला लिया है उसे आम आदमी की छवि जो है वह बहुत खराब हुई है और लोग मजाक उड़ा रहे हैं आम आदमी पार्टी का लेकिन अरविंद केजरीवाल भी एक राजनेता है और कोशिश बिल्कुल वह पूरी करेंगे कि वह अपनी पार्टी को बचाने और अपनी जो भी बातें हैं जिसकी वजह से उन्होंने यह डिसीजन लिया है वह सभी विधायकों के सामने सभी नेताओं के सामने रखेंगे तो मुझे लगता है कि अरविंद केजरीवाल बिल्कुल कामयाब होंगे अपनी इस कोशिश में क्योंकि उन्होंने पहले भी यूटन तो लिया ही है मतलब अपने बयान से वह पलट गए हैं लेकिन फिर भी उनकी जो पार्टी है वह अभी तक कायम है तो मुझे लगता है इस पर भी अरविंद केजरीवाल सभी को मनाने में कामयाब रहेंगेDelhi Ke Mukhyamantri Arvind Kejriwal Ne Kuch Hi Dinon Pehle Manhani Ke Ek Mamle Mein Akali Dal Ke Neta Bikram Majithia Se Likhit Taur Par Maafi Maangi Thi Aur Isi Wajah Se Punjab Mein Jo Aap Neta Hain Wah Kafi Gusse Mein Hai Aur Ek Tarah Se Bagavat Kar Rahe Hain Aur Aaj Isi Silsile Mein Delhi Mein Arvind Kejriwal Party Ke Punjab Ke Jo Bhi Vidhayak Hain Unki Baithak Bulaai Hai Jisme Wah Apni Baat Rakhenge Lekin Is Baithak Mein Punjab Ke Vidhayak Aur Vipaksh Ke Neta Sukhpal Khaihra Ne Baithak Mein Aane Se Mana Kar Diya Hai Maine Yeh Kaha Ki Jo Bhi Agar Meeting Hogi To Use Chandigarh Mein Kiya Jaye Isi Wajah Se Wah Delhi Nahi Aa Rahe Hain Ab Party Ke Samane Yeh Bhi Bada Sankat Paida Ho Gaya Hai Ki Kya Is Baithak Mein Punjab Se Aam Aadmi Party Ke Sabhi Vidhayak Hissa Lenge Ya Phir Nahi Lenge Aur Mujhe Lagta Hai Ki Agar Baithak Hoti Hai Aur Arvind Kejriwal Apni Baat Rakhne Mein Kayam Rakhate Hain Tu Bilkul Sare Vidhayakon Ko Saath Rakha Ja Sakta Hai Aur Aam Aadmi Party Ko Tutane Se Bachaya Ja Sakta Hai Halanki Arvind Kejriwal Ka Yeh Jo Decision Tha Us Par Aam Aadmi Party Ke Bahut Sare Vidhayak Aur Neta Ungaliyan Utha Rahe Hain Ki Is Tarah Se Jo Bhi Arvind Kejriwal Ne Faisla Liya Hai Use Aam Aadmi Ki Chawi Jo Hai Wah Bahut Kharab Hui Hai Aur Log Mazak Uda Rahe Hain Aam Aadmi Party Ka Lekin Arvind Kejriwal Bhi Ek Rajneta Hai Aur Koshish Bilkul Wah Puri Karenge Ki Wah Apni Party Ko Bachane Aur Apni Jo Bhi Batein Hain Jiski Wajah Se Unhone Yeh Decision Liya Hai Wah Sabhi Vidhayakon Ke Samane Sabhi Netaon Ke Samane Rakhenge To Mujhe Lagta Hai Ki Arvind Kejriwal Bilkul Kamyab Honge Apni Is Koshish Mein Kyonki Unhone Pehle Bhi Yutan To Liya Hi Hai Matlab Apne Bayan Se Wah Palat Gaye Hain Lekin Phir Bhi Unki Jo Party Hai Wah Abhi Tak Kayam Hai To Mujhe Lagta Hai Is Par Bhi Arvind Kejriwal Sabhi Ko Manane Mein Kamyab Rahenge
Likes  13  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

क्या दिल्ली में अरविंद केजरीवाल की सरकार फिर से बननी चाहिए और क्यों ? ...

दिल्ली की जहां तक बात सहित दिल्ली गवर्नमेंट काफी योगदान रहा है बहुत सारे इंडेक्स की बात करते हैं तो एक रिपोर्ट आया था उसमें प्राइज ऑफ बिजनेस है जिसमें कि अवश्य इंडिया की रैंकिंग बहुत सुधरी है और यह दोजवाब पढ़िये
ques_icon

कुमार विश्वास और अरविंद केजरीवाल के बीच का टकराव का अंजाम क्या हो सकता है? ...

आम आदमी पार्टी वैसे ही अब धीरे-धीरे करके अरविंद केजरीवाल की पार्टी बन गई है और अरविंद केजरीवाल जो एक अपने को डेमोक्रेटिक लीडर की तरह प्रोजेक्ट कर देता था इस तरीके से सुप्रीमो हो गया सुप्रीम कमांडर हो जवाब पढ़िये
ques_icon

कमल हासन द्वारा पार्टी ऐलान पर अरविंद केजरीवाल का जाना उनके लिए फायदा या नुकसान ? ...

देसी कि आपसे पूछा है कि कमल हसन द्वारा जो पार्टी अलार्म की गई है उसमें अरविंद केजरीवाल का खाना फायदेमंद हुआ या नुकसान जी हां अगर उन्होंने पार्टी के लॉन्च की है ऑफिस से कुछ दिमाग में लिखे जो है अपनों नजवाब पढ़िये
ques_icon

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का मजाक उड़ाते हुए लोग उन्हें खुजलीवाल के नाम से बुलाते है क्या यह सही है ? ...

देखिए दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल सबसे पहले बता दो उन लोगों को जो उनका मजाक उड़ाते हैं कि माना कि वह आपको पसंद नहीं है या उनकी गलत राजनीति तो इसका यह मतलब नहीं कि आप उनका मजाक उड़ाया खजवाब पढ़िये
ques_icon

अरविंद केजरीवाल केरला हिंसा पर समर्थन करने के बारे में आपका क्या विचार है? ...

ब्लूटूथ हिंसा एक ऐसी चीज है जो कहीं भी बर्दाश्त नहीं की जा सकती चाहे वह कमेंट में बैलेंस सोचा किसी अदर तरह की हिंसा हो अगर केजरीवाल जी इंसा के समर्थन में आए तो इससे शर्मनाक बात कोई हो ही नहीं सकती ऑल जवाब पढ़िये
ques_icon

क्या कुमार विश्वास और अरविंद केजरीवाल दरमियान के मतभेद दूर हो सकते हैं ? ...

रानी के अभी कैसा नीमच हैं जिन पर कुमार विश्वास और अरविंद केजरीवाल के बीच में जो है थोड़ा मतभेद चल रहा है और वह जो मतलब है वह उन्हें को पता है और उनको सॉल्व करना भी उनके ऊपर है वह सोशल करना चाहते हैं यजवाब पढ़िये
ques_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Punjab Ke Vidhayakon Ke Saath Baithak Hai Aaj Kya AAP Ko Tutne Se Bacha Payenge Arvind Kejriwal,Today There Is A Meeting With The MLAs Of Punjab, Will Arvind Kejriwal Save AAP From The Break?,


vokalandroid