आप किस समय महसूस करते हैं की आपके जीवन का उद्देश्य क्या है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सभी लोगों को यह समझना बहुत जरूरी है कि उनके जीवन का उद्देश्य क्या है उनका लक्ष्य क्या है और वह इसे कैसे प्राप्त कर सकते हैं तो यह चीज़ें सभी लोगों को कभी ना कभी तो जरूर समझ में आती हैं लेकिन हो सकता ह...जवाब पढ़िये
सभी लोगों को यह समझना बहुत जरूरी है कि उनके जीवन का उद्देश्य क्या है उनका लक्ष्य क्या है और वह इसे कैसे प्राप्त कर सकते हैं तो यह चीज़ें सभी लोगों को कभी ना कभी तो जरूर समझ में आती हैं लेकिन हो सकता है उस समय काफी समय बीत गया हो और वह अपने जीवन के लक्ष्य को अपने उद्देश्य को प्राप्त करने में सफल ना हो पाए तो मुझे लगता है कि अगर मैं अपनी बात करूं तो मुझे उस समय अपने उद्देश्य का पता चलता है जब मैं किसी परेशानी में होता हूं या फिर मैं अगर 2 से 3 दिन ऐसे टाइम वेस्ट कर देता हूं तो फिर मुझे लगने लगता है कि मैं ऐसा क्यों कर रहा हूं और यह कितना गलत है मेरे जीवन का उद्देश्य क्या है मेरा गोल क्या है उसे मैं कैसे पाऊंगा अगर मैं इसी तरह से अपना समय बर्बाद करूंगा तू इस तरह से मुझे मैं ऐसा महसूस होने लगता है कि मैं अपना समय व्यर्थ में ही गवा रहा हूं और जो मुझे आपने लाइफ में करना है उसके लिए मैं प्रयास नहीं कर पा रहा हूं तब मुझे समझ में आता है कि मेरे जीवन का उद्देश्य क्या है और इसके लिए मुझे कितनी मेहनत करने की जरूरत है ना कि इधर-उधर टाइम वेस्ट करने कीSabhi Logon Ko Yeh Samajhna Bahut Zaroori Hai Ki Unke Jeevan Ka Uddeshya Kya Hai Unka Lakshya Kya Hai Aur Wah Ise Kaise Prapt Kar Sakte Hain To Yeh Chizen Sabhi Logon Ko Kabhi Na Kabhi To Jarur Samajh Mein Aati Hain Lekin Ho Sakta Hai Us Samay Kafi Samay Beet Gaya Ho Aur Wah Apne Jeevan Ke Lakshya Ko Apne Uddeshya Ko Prapt Karne Mein Safal Na Ho Paye To Mujhe Lagta Hai Ki Agar Main Apni Baat Karun To Mujhe Us Samay Apne Uddeshya Ka Pata Chalta Hai Jab Main Kisi Pareshani Mein Hota Hoon Ya Phir Main Agar 2 Se 3 Din Aise Time West Kar Deta Hoon To Phir Mujhe Lagne Lagta Hai Ki Main Aisa Kyun Kar Raha Hoon Aur Yeh Kitna Galat Hai Mere Jeevan Ka Uddeshya Kya Hai Mera Gol Kya Hai Use Main Kaise Paunga Agar Main Isi Tarah Se Apna Samay Barbad Karunga Tu Is Tarah Se Mujhe Main Aisa Mahsus Hone Lagta Hai Ki Main Apna Samay Vyarth Mein Hi Gawa Raha Hoon Aur Jo Mujhe Aapne Life Mein Karna Hai Uske Liye Main Prayas Nahi Kar Pa Raha Hoon Tab Mujhe Samajh Mein Aata Hai Ki Mere Jeevan Ka Uddeshya Kya Hai Aur Iske Liye Mujhe Kitni Mehnat Karne Ki Zaroorat Hai Na Ki Idhar Udhar Time West Karne Ki
Likes  13  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां भाई मैं महसूस करता हूं कि मुझे आगे क्या करना है मेरे जीवन का उद्देश्य क्या है हर पल महसूस करता रहता हूं मुझे यह करना है वह करना है मैं गंगा सरस्वती की परीक्षा लेता हूं...जवाब पढ़िये
हां भाई मैं महसूस करता हूं कि मुझे आगे क्या करना है मेरे जीवन का उद्देश्य क्या है हर पल महसूस करता रहता हूं मुझे यह करना है वह करना है मैं गंगा सरस्वती की परीक्षा लेता हूंHaan Bhai Main Mahsus Karta Hoon Ki Mujhe Aage Kya Karna Hai Mere Jeevan Ka Uddeshya Kya Hai Har Pal Mahsus Karta Rehta Hoon Mujhe Yeh Karna Hai Wah Karna Hai Main Ganga Saraswati Ki Pariksha Leta Hoon
Likes  5  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे ऐसा लगता है कि हालांकि हमें यह लगता है कि हमारे जीवन का एक ही उद्देश्य है ऐसा होता नहीं है हर पड़ाव में हमारे जीवन के हम एक हमारे दिमाग में एक उद्देश्य होता है चाहे वह में पता हो चाहे ना हो हम सब...जवाब पढ़िये
मुझे ऐसा लगता है कि हालांकि हमें यह लगता है कि हमारे जीवन का एक ही उद्देश्य है ऐसा होता नहीं है हर पड़ाव में हमारे जीवन के हम एक हमारे दिमाग में एक उद्देश्य होता है चाहे वह में पता हो चाहे ना हो हम सब कॉन्शियस ले उसी की तरफ बढ़ने की कोशिश करते हैं तो मुझे ऐसा नहीं लगता कि कोई समय बता सकते हैं कि मैं स्कूल में था तब मुझे अपने जीवन का उद्देश्य पता चल गया था यह मेरी शादी हुई तब मुझे लगता है कि हर पड़ाव में हर टाइम आप अपने जीवन का उद्देश्य जानते हैं सब काउंसिल असली ही सही पर उस टाइम के लिए आपके जीवन का उद्देश्य होता है आगे जाकर फिर वह भले ही बदल जाएMujhe Aisa Lagta Hai Ki Halanki Hume Yeh Lagta Hai Ki Hamare Jeevan Ka Ek Hi Uddeshya Hai Aisa Hota Nahi Hai Har Padav Mein Hamare Jeevan Ke Hum Ek Hamare Dimag Mein Ek Uddeshya Hota Hai Chahe Wah Mein Pata Ho Chahe Na Ho Hum Sab Kanshiyas Le Ussi Ki Taraf Badhne Ki Koshish Karte Hain To Mujhe Aisa Nahi Lagta Ki Koi Samay Bata Sakte Hain Ki Main School Mein Tha Tab Mujhe Apne Jeevan Ka Uddeshya Pata Chal Gaya Tha Yeh Meri Shadi Hui Tab Mujhe Lagta Hai Ki Har Padav Mein Har Time Aap Apne Jeevan Ka Uddeshya Jante Hain Sab Council Asli Hi Sahi Par Us Time Ke Liye Aapke Jeevan Ka Uddeshya Hota Hai Aage Jaakar Phir Wah Bhale Hi Badal Jaye
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर किसी की अपनी कॉलिंग होती हैं और अगर मैं अपनी पर्सनल बात करूं तो मेरी बचपन से यही थी कि मुझे जो मैं भी कह रही हूं मैं भी स्पोर्ट्स में हूं और मैं उसकी रिपोर्टिंग कमेंट्री वगैरह सब कुछ करना पसंद करती...जवाब पढ़िये
हर किसी की अपनी कॉलिंग होती हैं और अगर मैं अपनी पर्सनल बात करूं तो मेरी बचपन से यही थी कि मुझे जो मैं भी कह रही हूं मैं भी स्पोर्ट्स में हूं और मैं उसकी रिपोर्टिंग कमेंट्री वगैरह सब कुछ करना पसंद करती हूं कि मेरी बचपन की कॉलिंग थी मीडिया में आना और रेस्तरां से यहां कैमरा फेस करना या ऑडियो में या वीडियो में या इमेजेस में या कांटेक्ट में किसी न किसी के थ्रू बने रहना और फिर से पूछ कि कोई मुझे ऑफिस से 24:00 तक आ गई कि यह मुझे सोच नहीं जाना है उसी तरफ मेरा जो काम है रुझान है तुम कॉलिंग कि डिपेंड करता है कई लोगों को 508 की एज में कॉलिंग आदि कई लोग 30 32 की याद में कॉलिंग उनको आती है कई लोग को बचपन से मेरे साथ वह बचपन से उनकी कॉलिंग उनको बता कर रखी रहती है क्यों नहीं क्या करना है लाइफ में तो ऐसी कोई वह कोई वह नहीं होता इस वक्त नहीं है बट आप आप उसको महसूस करता था जिसके लिए आप अपने पर काम कर ले हमें बचपन से बहुत सोचने विचारने में माहिर रही हूं इसलिए मेरे लिए मेरी कॉलिंग बड़ी जल्दी आ गई जो लोग अपने ध्यान देते हैं वह गोविंदा फ्लोर में रहते हैं वह हिंदी नहीं आतीHar Kisi Ki Apni Calling Hoti Hain Aur Agar Main Apni Personal Baat Karun To Meri Bachpan Se Yahi Thi Ki Mujhe Jo Main Bhi Keh Rahi Hoon Main Bhi Sports Mein Hoon Aur Main Uski Reporting Commentary Vagairah Sab Kuch Karna Pasand Karti Hoon Ki Meri Bachpan Ki Calling Thi Media Mein Aana Aur Restaurant Se Yahan Camera Face Karna Ya Audio Mein Ya Video Mein Ya Images Mein Ya Contact Mein Kisi N Kisi Ke Through Bane Rehna Aur Phir Se Pooch Ki Koi Mujhe Office Se 24:00 Tak Aa Gayi Ki Yeh Mujhe Soch Nahi Jana Hai Ussi Taraf Mera Jo Kaam Hai Rujhan Hai Tum Calling Ki Depend Karta Hai Kai Logon Ko 508 Ki Age Mein Calling Aadi Kai Log 30 32 Ki Yaad Mein Calling Unko Aati Hai Kai Log Ko Bachpan Se Mere Saath Wah Bachpan Se Unki Calling Unko Bata Kar Rakhi Rehti Hai Kyun Nahi Kya Karna Hai Life Mein To Aisi Koi Wah Koi Wah Nahi Hota Is Waqt Nahi Hai But Aap Aap Usko Mahsus Karta Tha Jiske Liye Aap Apne Par Kaam Kar Le Hume Bachpan Se Bahut Sochne Vicharane Mein Mahir Rahi Hoon Isliye Mere Liye Meri Calling Badi Jaldi Aa Gayi Jo Log Apne Dhyan Dete Hain Wah Govinda Floor Mein Rehte Hain Wah Hindi Nahi Aati
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए किसी भी व्यक्ति को सक्सेसफुल होने के लिए अपने जीवन में जो लक्ष्य उसने स्थापित किया है उसको फॉलो करना बहुत ज्यादा जरूरी होता है और मैं अगर बात करूं अपनी तो मैं यह उद्देश्य की बात तब सोचता हूं और ...जवाब पढ़िये
देखिए किसी भी व्यक्ति को सक्सेसफुल होने के लिए अपने जीवन में जो लक्ष्य उसने स्थापित किया है उसको फॉलो करना बहुत ज्यादा जरूरी होता है और मैं अगर बात करूं अपनी तो मैं यह उद्देश्य की बात तब सोचता हूं और महसूस करता हूं जब मैं अपने जो मोटिव है और जो काम करता हूं जब मैं वह पूरा नहीं कर पाता हूं और अन सक्सेसफुल हो जाता हूं उसके बाद जब मैं यह सोचता हूं तो मुझे पता चलता है कि मैंने जो उद्देश्य सोचा था मैंने उसको तो फॉलो किया ही नहीं मैं अपने लक्ष्य को अच्छी तरीके से बना ही नहीं पाया तू यह मैसेज मैं बार-बार हार जाता हूं और फिर दोबारा से वही करने की राह में चल बैठता हूं और अपने लक्ष्य को एक अच्छी तरीके से निर्धारित नहीं कर पाता और भटक जाता हूं तब मुझे अपने इस बात की याद आती है और सोचता हूं मैं इस बारे में हल्की लक्ष्य को निर्धारित करना बहुत ज्यादा जरूरी है अगर आप लक्ष्य निर्धारित नहीं करते और कंफ्यूज रहते हैं और उद्देश्य नहीं बनाते हैं तब तक आप सक्सेसफुल नहीं बन सकते कभी तो इसको करना बहुत ज्यादा जरूरी होता है और आजकल लोग अपने उद्देश्य को भूल कर फालतू की बातों में और इधर उधर की बातों में लग जाते हैं और अन्य काम करते हैं जिसकी वजह से वह कहीं ना कहीं अन सक्सेसफुल रह जाते हैंDekhie Kisi Bhi Vyakti Ko Successful Hone Ke Liye Apne Jeevan Mein Jo Lakshya Usne Sthapit Kiya Hai Usko Follow Karna Bahut Jyada Zaroori Hota Hai Aur Main Agar Baat Karun Apni To Main Yeh Uddeshya Ki Baat Tab Sochta Hoon Aur Mahsus Karta Hoon Jab Main Apne Jo Motiv Hai Aur Jo Kaam Karta Hoon Jab Main Wah Pura Nahi Kar Pata Hoon Aur An Successful Ho Jata Hoon Uske Baad Jab Main Yeh Sochta Hoon To Mujhe Pata Chalta Hai Ki Maine Jo Uddeshya Socha Tha Maine Usko To Follow Kiya Hi Nahi Main Apne Lakshya Ko Acchi Tarike Se Bana Hi Nahi Paya Tu Yeh Massage Main Baar Baar Haar Jata Hoon Aur Phir Dobara Se Wahi Karne Ki Raah Mein Chal Baithta Hoon Aur Apne Lakshya Ko Ek Acchi Tarike Se Nirdharit Nahi Kar Pata Aur Bhatak Jata Hoon Tab Mujhe Apne Is Baat Ki Yaad Aati Hai Aur Sochta Hoon Main Is Baare Mein Halki Lakshya Ko Nirdharit Karna Bahut Jyada Zaroori Hai Agar Aap Lakshya Nirdharit Nahi Karte Aur Confuse Rehte Hain Aur Uddeshya Nahi Banate Hain Tab Tak Aap Successful Nahi Ban Sakte Kabhi To Isko Karna Bahut Jyada Zaroori Hota Hai Aur Aajkal Log Apne Uddeshya Ko Bhul Kar Faltu Ki Baaton Mein Aur Idhar Udhar Ki Baaton Mein Lag Jaate Hain Aur Anya Kaam Karte Hain Jiski Wajah Se Wah Kahin Na Kahin An Successful Rah Jaate Hain
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे लगता है कि हम में से ज्यादातर लोग अपना जीवन ऐसे ही उद्देश्यहीन बता देते हैं क्योंकि जीवन इतना व्यस्त रहता है उस की आपाधापी में हम अपना मेल ज्योतिष होता है जीने का फोकी भूल जाते हैं हम भूल जाते है...जवाब पढ़िये
मुझे लगता है कि हम में से ज्यादातर लोग अपना जीवन ऐसे ही उद्देश्यहीन बता देते हैं क्योंकि जीवन इतना व्यस्त रहता है उस की आपाधापी में हम अपना मेल ज्योतिष होता है जीने का फोकी भूल जाते हैं हम भूल जाते हैं कि हम क्यों जी रहे हैं हमारा एम क्या है जीवन का यह हमारा हमने कोई उद्देश्य निर्धारित नहीं किया होता है ऐसे ही जिंदगी व्यस्त चलती रहती है और हम उसे चलाते रहते हैं हमारा कोई एक उद्देश्य नहीं होता है इसके लिए कि हमें इस उद्देश्य की मंजिल तक पहुंचना है और इस मंजिल को पाना है और यह हमारा उद्देश्य है क्योंकि एक उद्देश्य लेकर चलना हर किसी के बस की बस की बात नहीं है इंसान सोचता तो बहुत कुछ है लेकिन वह कर नहीं पाता है और इतनी व्यस्त जिंदगी में बच्चों का भविष्य बच्चों के लिए जीना परिवार के लिए जीना परिवार की जिम्मेदारियां इन सब में वह अपना खुद का जो तेज होता है मैं उसे भूल जाता है अभी आ जा कर मुझे कभी-कभी लगता है कि काश अपने खाली वक्त में अच्छे से बिता पाते यदि मेरे जीवन का भी कोई उद्देश्य मैंने रखा होता तो लेकिन कोई बात नहीं अभी भी मेरे पास वक्त है और मैं अभी भी अपने जीवन को एक उद्देश्य एक निर्धारित कर कर उसके अनुसार अपना जीवन जी सकती हूं और मैंने ऐसा सोचा है और मैं ऐसा कर भी रही हूं और मैं औरों को भी सलाह दूंगी कि आप अपने जीवन काल और वाक्य बनाइए अवश्य रखें इस तक आपको पहुंचना है यह कार्य को करना है और इसकी मंजिल तक आप को कैसे किस तरह पहुंचना है उसके बारे में आपको सोचना है तो आपकी जिंदगी एकदम सरल हस मत हो जाएगी और आप बिल्कुल भी खाली वक्त में परेशानी महसूस नहीं करेंगेMujhe Lagta Hai Ki Hum Mein Se Jyadatar Log Apna Jeevan Aise Hi Uddeshyahin Bata Dete Hain Kyonki Jeevan Itna Vyasta Rehta Hai Us Ki Apadhapi Mein Hum Apna Mail Jyotish Hota Hai Jeene Ka Foki Bhul Jaate Hain Hum Bhul Jaate Hain Ki Hum Kyun Ji Rahe Hain Hamara Em Kya Hai Jeevan Ka Yeh Hamara Humne Koi Uddeshya Nirdharit Nahi Kiya Hota Hai Aise Hi Zindagi Vyasta Chalti Rehti Hai Aur Hum Use Chalte Rehte Hain Hamara Koi Ek Uddeshya Nahi Hota Hai Iske Liye Ki Hume Is Uddeshya Ki Manjil Tak Pahunchana Hai Aur Is Manjil Ko Pana Hai Aur Yeh Hamara Uddeshya Hai Kyonki Ek Uddeshya Lekar Chalna Har Kisi Ke Bus Ki Bus Ki Baat Nahi Hai Insaan Sochta To Bahut Kuch Hai Lekin Wah Kar Nahi Pata Hai Aur Itni Vyasta Zindagi Mein Bacchon Ka Bhavishya Bacchon Ke Liye Jeena Parivar Ke Liye Jeena Parivar Ki Jimmedariya In Sab Mein Wah Apna Khud Ka Jo Tez Hota Hai Main Use Bhul Jata Hai Abhi Aa Ja Kar Mujhe Kabhi Kabhi Lagta Hai Ki Kash Apne Khaali Waqt Mein Acche Se Bita Paate Yadi Mere Jeevan Ka Bhi Koi Uddeshya Maine Rakha Hota To Lekin Koi Baat Nahi Abhi Bhi Mere Paas Waqt Hai Aur Main Abhi Bhi Apne Jeevan Ko Ek Uddeshya Ek Nirdharit Kar Kar Uske Anusar Apna Jeevan Ji Sakti Hoon Aur Maine Aisa Socha Hai Aur Main Aisa Kar Bhi Rahi Hoon Aur Main Auron Ko Bhi Salah Dungi Ki Aap Apne Jeevan Kaal Aur Vaakya Banaaie Avashya Rakhen Is Tak Aapko Pahunchana Hai Yeh Karya Ko Karna Hai Aur Iski Manjil Tak Aap Ko Kaise Kis Tarah Pahunchana Hai Uske Baare Mein Aapko Sochna Hai To Aapki Zindagi Ekdam Saral Has Mat Ho Jayegi Aur Aap Bilkul Bhi Khaali Waqt Mein Pareshani Mahsus Nahi Karenge
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां देखें जब बात नहीं होता है एक समय होता है जब आपको कोई मतलब कर देता है कि आप कुछ नहीं कर सकते आप अच्छा परफॉर्म नहीं कर रहे हैं या आपके जो मेंटल होते हैं जिसको मेंटल मानते हैं तो उसको अगर आप पर देखें...जवाब पढ़िये
हां देखें जब बात नहीं होता है एक समय होता है जब आपको कोई मतलब कर देता है कि आप कुछ नहीं कर सकते आप अच्छा परफॉर्म नहीं कर रहे हैं या आपके जो मेंटल होते हैं जिसको मेंटल मानते हैं तो उसको अगर आप पर देखें तो आपको जरूर मोटिवेशन मेथी और फिर अपना जो लक्ष्य है वह याद आने लगता है कि हमारा क्या लगता है उसे पाने के लिए क्या हमको करना है और जो उसे ऑपरेशन ऑफ मोटिवेशन है वह तो मिलती ही मिलती है मुझे कभी-कभी ज्यादा पड़ जाता है और अगर आपको दीवार पर चिपका कर रखेंगे आपको क्या चाहिए और आप क्या करना चाहते हैं तो आप जो है वह दिल्ली सुबह उठकर ने तो जब भी आप दीवार पर देखे तो वह बात आपको रिमाइंड होगी तो मुझे पता है आप के दिमाग में रहेगा और आपको सही से काम करेंगेHaan Dekhen Jab Baat Nahi Hota Hai Ek Samay Hota Hai Jab Aapko Koi Matlab Kar Deta Hai Ki Aap Kuch Nahi Kar Sakte Aap Accha Perform Nahi Kar Rahe Hain Ya Aapke Jo Mental Hote Hain Jisko Mental Manate Hain To Usko Agar Aap Par Dekhen To Aapko Jarur Motivation Methi Aur Phir Apna Jo Lakshya Hai Wah Yaad Aane Lagta Hai Ki Hamara Kya Lagta Hai Use Pane Ke Liye Kya Hamko Karna Hai Aur Jo Use Operation Of Motivation Hai Wah To Milti Hi Milti Hai Mujhe Kabhi Kabhi Jyada Padh Jata Hai Aur Agar Aapko Diwar Par Chipaka Kar Rakhenge Aapko Kya Chahiye Aur Aap Kya Karna Chahte Hain To Aap Jo Hai Wah Delhi Subah Uthakar Ne To Jab Bhi Aap Diwar Par Dekhe To Wah Baat Aapko Remind Hogi To Mujhe Pata Hai Aap Ke Dimag Mein Rahega Aur Aapko Sahi Se Kaam Karenge
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह ठीक है सब लोगों के लिए अलग-अलग सब्जेक्टिव रहेगा क्योंकि यह पैसा है कि यह जो एक रियलाइजेशन है कि लाइफ का मीनिंग क्या है कि लाइफ क्यों है और उद्देश्य क्या है जीवन का यही सब के लिए अलग-अलग पॉइंट में आ...जवाब पढ़िये
यह ठीक है सब लोगों के लिए अलग-अलग सब्जेक्टिव रहेगा क्योंकि यह पैसा है कि यह जो एक रियलाइजेशन है कि लाइफ का मीनिंग क्या है कि लाइफ क्यों है और उद्देश्य क्या है जीवन का यही सब के लिए अलग-अलग पॉइंट में आता है जिंदगी में सबके राइटिंग नाटक जो आता है मैंने जो सुना है और एक्सपीरियंस क्या है और जो आसपास के लोग से जो बातचीत हुई है और जो ऐसे अगर पता चला है तू साल तक तब होता है जब एक एक तो है कि जब बहुत एक इतनी बड़ी कुछ इंसिडेंट हो जाती क्यों जो आज चली में लाइफ को बहुत ज्यादा ही उल्टी तेरी कर देती हूं उल्टा-पुल्टा कर देती है कितना खतरनाक एक्सीडेंट हो जाता है या इतना शॉपिंग इंसिडेंट होता है हो जाता है तो उसमें भी उस वक्त यह बहुत ज्यादा रियलाइजेशन हो जाता है कि जिंदगी का उद्देश्य क्या है और फिर वह वैसे ही खुद को भी चेंज करने की कोशिश करते हैं ताकि वह जो बात है उसको फॉलो कर सकें नहीं तो फिर आई थिंक जब एक एहसासों ट्यूशन आ जाता है जब हम अपने लॉस्ट में है तब भी आए थे कि बिलाल कभी-कभी आ जाता है कि हमारा जीवन का उद्देश्य क्या है और हमें इसमें क्या करना चाहिएYeh Theek Hai Sab Logon Ke Liye Alag Alag Subjective Rahega Kyonki Yeh Paisa Hai Ki Yeh Jo Ek Realization Hai Ki Life Ka Meaning Kya Hai Ki Life Kyun Hai Aur Uddeshya Kya Hai Jeevan Ka Yahi Sab Ke Liye Alag Alag Point Mein Aata Hai Zindagi Mein Sabke Writing Natak Jo Aata Hai Maine Jo Suna Hai Aur Experience Kya Hai Aur Jo Aaspass Ke Log Se Jo Batchit Hui Hai Aur Jo Aise Agar Pata Chala Hai Tu Saal Tak Tab Hota Hai Jab Ek Ek To Hai Ki Jab Bahut Ek Itni Badi Kuch Incident Ho Jati Kyun Jo Aaj Chali Mein Life Ko Bahut Jyada Hi Ulti Teri Kar Deti Hoon Ulta Pulta Kar Deti Hai Kitna Khatarnak Accident Ho Jata Hai Ya Itna Shopping Incident Hota Hai Ho Jata Hai To Usamen Bhi Us Waqt Yeh Bahut Jyada Realization Ho Jata Hai Ki Zindagi Ka Uddeshya Kya Hai Aur Phir Wah Waise Hi Khud Ko Bhi Change Karne Ki Koshish Karte Hain Taki Wah Jo Baat Hai Usko Follow Kar Saken Nahi To Phir Eye Think Jab Ek Ehasason Tuition Aa Jata Hai Jab Hum Apne Lost Mein Hai Tab Bhi Aaye The Ki Bilal Kabhi Kabhi Aa Jata Hai Ki Hamara Jeevan Ka Uddeshya Kya Hai Aur Hume Isme Kya Karna Chahiye
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दीदी किसी के भी जीवन में एक लक्ष्य का एक उद्देश्य का मोटर का होना बहुत जरूरी है और व्यक्ति और वह व्यक्ति जिसने अपने जीवन में पहुंचे प्रदेश के पॉजिटिव मोटर्स बनाए हैं वह अपने जीवन में जो भी काम करेगा व...जवाब पढ़िये
दीदी किसी के भी जीवन में एक लक्ष्य का एक उद्देश्य का मोटर का होना बहुत जरूरी है और व्यक्ति और वह व्यक्ति जिसने अपने जीवन में पहुंचे प्रदेश के पॉजिटिव मोटर्स बनाए हैं वह अपने जीवन में जो भी काम करेगा वह उस लक्ष्य को पाने की कोशिश के लिए ही करेगा तो ऐसे समय पर जब आप हार मान रहे हो या फिर ऐसे समय पर जब आपको लगे कि यह तो बहुत गलत हो रही है या वह समय है जब आप हिम्मत हारने लगे तब आपको अपने बहुत देर से याद कर लेनी चाहिए और आज से मैं खुद की बात करूं तू अब जैसे जब से थोड़ा सा समझ में आना शुरू हुआ आज तक क्या कुछ हो रहा है तब से मेरे लाइफ में डिसाइड कर लिया था जो सीरिया में चल रहा है टेररिज्म इतने बुरे तरीके से बच्चों को व्यक्त कर रहा है मैं कैसे ना कैसे इनकी हेल्प जरूर करूंगी और अब मैं जो पढ़ रही हूं या मैं जो आगे पढ़ने वाली हूं या मैं जो भी करूंगी वह उस उद्देश्य को पूरा करने के लिए ही होगा तो ऐसे ही कभी-कभी भाई जान आपका अपना देश संभल जाता है कई बार आप हमें जैसे ट्रीटमेंट होता है कि आपको यही चीज करनी है तो उस टाइम पर Pardesi अपना लक्ष्य महसूस करते हैंDidi Kisi Ke Bhi Jeevan Mein Ek Lakshya Ka Ek Uddeshya Ka Motor Ka Hona Bahut Zaroori Hai Aur Vyakti Aur Wah Vyakti Jisne Apne Jeevan Mein Pahuche Pradesh Ke Positive Motors Banaye Hain Wah Apne Jeevan Mein Jo Bhi Kaam Karega Wah Us Lakshya Ko Pane Ki Koshish Ke Liye Hi Karega To Aise Samay Par Jab Aap Haar Maan Rahe Ho Ya Phir Aise Samay Par Jab Aapko Lage Ki Yeh To Bahut Galat Ho Rahi Hai Ya Wah Samay Hai Jab Aap Himmat Haarne Lage Tab Aapko Apne Bahut Der Se Yaad Kar Leni Chahiye Aur Aaj Se Main Khud Ki Baat Karun Tu Ab Jaise Jab Se Thoda Sa Samajh Mein Aana Shuru Hua Aaj Tak Kya Kuch Ho Raha Hai Tab Se Mere Life Mein Decide Kar Liya Tha Jo Syria Mein Chal Raha Hai Terrorism Itne Bure Tarike Se Bacchon Ko Vyakt Kar Raha Hai Main Kaise Na Kaise Inki Help Jarur Karungi Aur Ab Main Jo Padh Rahi Hoon Ya Main Jo Aage Padhne Wali Hoon Ya Main Jo Bhi Karungi Wah Us Uddeshya Ko Pura Karne Ke Liye Hi Hoga To Aise Hi Kabhi Kabhi Bhai Jaan Aapka Apna Desh Sambhal Jata Hai Kai Baar Aap Hume Jaise Treatment Hota Hai Ki Aapko Yahi Cheez Karni Hai To Us Time Par Pardesi Apna Lakshya Mahsus Karte Hain
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Aap Kis Samay Mahsus Karte Hain Ki Aapke Jeevan Ka Uddeshya Kya Hai, At What Time Do You Feel That What Is The Purpose Of Your Life?

vokalandroid