भारत मे नफरत क्यू बढ़ती जा रही है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत के लोग आजकल बहुत सेल सेंटर यानी कि स्वार्थी हो गए हैं और वह अपने अपने परिवार जन के अलावा बाकी लोगों को बाकी लोगों के बारे में नहीं सोचते हैं कहीं ना कहीं तो इंसानियत भारत के लोगों में हुआ करती थी...जवाब पढ़िये
भारत के लोग आजकल बहुत सेल सेंटर यानी कि स्वार्थी हो गए हैं और वह अपने अपने परिवार जन के अलावा बाकी लोगों को बाकी लोगों के बारे में नहीं सोचते हैं कहीं ना कहीं तो इंसानियत भारत के लोगों में हुआ करती थी एक दूसरे के प्रति एक विश्वास एक प्यार हुआ करता था वह सब भावनाएं मिल चुकी हैं और आजकल लोग बहुत ही मटेरियलिस्टिक हो चुके हैं पैसे के पीछे भागने लगे हैं जिसकी वजह से मुझे नफरत की भावना है वह बहुत बढ़ती जा रही है और लोगों के वर्चस्व एक तरह से मिटा रही है जो हुआ करता था पहले और अब एक नफरत एक कर जाती एक था इन सब चीजों की भावनाओं ने और उसमें जगह ले ली है इंसानियत की भावना की जगह तो इसी वजह से भारत में जो नफरत है वह बढ़ती जा रही है और लोगों को एक नया और एक नई नफरत की दुनिया में रहने लगे हैं जहां पर सिर्फ अपने बारे में सोचते हैं अपने परिजनों के बारे में सोचते और उससे आगे वह कुछ नहीं सोचते हैं और ना ही मानते हैं तो यह इस वजह से हो रहा है क्योंकि भारत में एक कलर चेंज आया है अमेठी डिस्ट्रिक्ट दुनिया बना कर चला गया है और लोग आजकल पैसा और चीजों से ज्यादा भावनाओं को रिश्तो को अहमियत नहीं देते हैं और यही चीज है जो नफरत को बढ़ावा दे रहे हैं हमारे देश मेंBharat Ke Log Aajkal Bahut Cell Center Yani Ki Swaarthi Ho Gaye Hain Aur Wah Apne Apne Parivar Jan Ke Alava Baki Logon Ko Baki Logon Ke Baare Mein Nahi Sochte Hain Kahin Na Kahin To Insaniyat Bharat Ke Logon Mein Hua Karti Thi Ek Dusre Ke Prati Ek Vishwas Ek Pyar Hua Karta Tha Wah Sab Bhavanae Mil Chuki Hain Aur Aajkal Log Bahut Hi Materiyalistik Ho Chuke Hain Paise Ke Piche Bhagne Lage Hain Jiski Wajah Se Mujhe Nafrat Ki Bhavna Hai Wah Bahut Badhti Ja Rahi Hai Aur Logon Ke Verchasva Ek Tarah Se Mita Rahi Hai Jo Hua Karta Tha Pehle Aur Ab Ek Nafrat Ek Kar Jati Ek Tha In Sab Chijon Ki Bhavnao Ne Aur Usamen Jagah Le Lee Hai Insaniyat Ki Bhavna Ki Jagah To Isi Wajah Se Bharat Mein Jo Nafrat Hai Wah Badhti Ja Rahi Hai Aur Logon Ko Ek Naya Aur Ek Nayi Nafrat Ki Duniya Mein Rehne Lage Hain Jahan Par Sirf Apne Baare Mein Sochte Hain Apne Parijano Ke Baare Mein Sochte Aur Usse Aage Wah Kuch Nahi Sochte Hain Aur Na Hi Manate Hain To Yeh Is Wajah Se Ho Raha Hai Kyonki Bharat Mein Ek Color Change Aaya Hai Amethi District Duniya Bana Kar Chala Gaya Hai Aur Log Aajkal Paisa Aur Chijon Se Jyada Bhavnao Ko Rishto Ko Ahamiyat Nahi Dete Hain Aur Yahi Cheez Hai Jo Nafrat Ko Badhawa De Rahe Hain Hamare Desh Mein
Likes  3  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में नफरत बनने की बहुत सारी कारण है इसमें पहला कारण कि हमारी जो राजनेता हैं वह अपनी वोट बैंकिंग के लिए लोगों को जाति के नाम पर धर्म के नाम पर एक दूसरे से बचें और अपने जाति को मतलब एक दिखा दिखा जात...जवाब पढ़िये
भारत में नफरत बनने की बहुत सारी कारण है इसमें पहला कारण कि हमारी जो राजनेता हैं वह अपनी वोट बैंकिंग के लिए लोगों को जाति के नाम पर धर्म के नाम पर एक दूसरे से बचें और अपने जाति को मतलब एक दिखा दिखा जाते पोलिटिकल न्यूज़ रखते हैं और पॉलिटिकल जीते जीत भी आम जनता के अंदर नफरत बढ़ती जा रही है वह तो बस जाति के नाम पर एक दूसरे को बांटे और हमारे अंदर नफरत बढ़ती गई और हमारी दोस्ती खत्म नहीं हो पाती है पहली गलती हमारी अगर हमें कोई नहीं तो हम बस जाते हैं ऐसा नहीं है जाति के नाम पर धर्म के नाम पर कोई भी हो पहले तो हमें सोचना चाहिए कि हां यह सही है यह भी मुझे नफरत काफी बरती जा रही है नफरतें दाल बाटी अच्छे काम करें ताकि लोग जो है जाने के बाद में हमारा नाम जो है अच्छे कामों से याद रखेंBharat Mein Nafrat Banane Ki Bahut Saree Kaaran Hai Isme Pehla Kaaran Ki Hamari Jo Rajneta Hain Wah Apni Vote Banking Ke Liye Logon Ko Jati Ke Naam Par Dharm Ke Naam Par Ek Dusre Se Bache Aur Apne Jati Ko Matlab Ek Dikha Dikha Jaate Political News Rakhate Hain Aur Political Jeete Jeet Bhi Aam Janta Ke Andar Nafrat Badhti Ja Rahi Hai Wah To Bus Jati Ke Naam Par Ek Dusre Ko Bante Aur Hamare Andar Nafrat Badhti Gayi Aur Hamari Dosti Khatam Nahi Ho Pati Hai Pehli Galti Hamari Agar Hume Koi Nahi To Hum Bus Jaate Hain Aisa Nahi Hai Jati Ke Naam Par Dharm Ke Naam Par Koi Bhi Ho Pehle To Hume Sochna Chahiye Ki Haan Yeh Sahi Hai Yeh Bhi Mujhe Nafrat Kafi Barti Ja Rahi Hai Nafraten Dal Bati Acche Kaam Karen Taki Log Jo Hai Jaane Ke Baad Mein Hamara Naam Jo Hai Acche Kamon Se Yaad Rakhen
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में नफरत क्यों बढ़ती जा रही है इसलिए बढ़ती जा रही है क्योंकि हमारी जो धर्म है पहले तो धर्म की बात करते हैं धर्म में जो वह डिफरेंसेस आ गए हैं एक दूसरे धर्म दूसरे धर्म को कुछ बोल देता है दूसरा दम प...जवाब पढ़िये
भारत में नफरत क्यों बढ़ती जा रही है इसलिए बढ़ती जा रही है क्योंकि हमारी जो धर्म है पहले तो धर्म की बात करते हैं धर्म में जो वह डिफरेंसेस आ गए हैं एक दूसरे धर्म दूसरे धर्म को कुछ बोल देता है दूसरा दम पिक्चर दम को कुछ बोल देता है धर्मों की वजह से जो है लड़ाई हो रही है हमें क्या करना चाहिए कि एक दूसरे के धर्म को नहीं बोलना चाहिए क्योंकि सबका मालिक एक होता है तो हमें रिलीजिंग के लिए कुछ एक दूसरे को कुछ नहीं बोलना चाहिए और यह समझना चाहिए कि हमारा भगवान एक ही है तो उसके आधार पर ही चलना चाहिए तो उसकी वजह से जो है नफरत थोड़ी कम होगी अगर ऐसे ही चलता रहा तो नफ़रतें आगे बढ़ती रहेगीBharat Mein Nafrat Kyun Badhti Ja Rahi Hai Isliye Badhti Ja Rahi Hai Kyonki Hamari Jo Dharm Hai Pehle To Dharm Ki Baat Karte Hain Dharm Mein Jo Wah Difarenses Aa Gaye Hain Ek Dusre Dharm Dusre Dharm Ko Kuch Bol Deta Hai Doosra Dum Picture Dum Ko Kuch Bol Deta Hai Dharmon Ki Wajah Se Jo Hai Ladai Ho Rahi Hai Hume Kya Karna Chahiye Ki Ek Dusre Ke Dharm Ko Nahi Bolna Chahiye Kyonki Sabka Malik Ek Hota Hai To Hume Releasing Ke Liye Kuch Ek Dusre Ko Kuch Nahi Bolna Chahiye Aur Yeh Samajhna Chahiye Ki Hamara Bhagwan Ek Hi Hai To Uske Aadhar Par Hi Chalna Chahiye To Uski Wajah Se Jo Hai Nafrat Thodi Kum Hogi Agar Aise Hi Chalta Raha To Nafraten Aage Badhti Rahegi
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Bharat Mein Nafrat Kyun Badhti Ja Rahi Hai, Hate Qi Is Growing In India? , Nafrat Se Nafrat Badhti Hai

vokalandroid