भगवान है या नहीं? ...

500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

निश्चित रूप से भगवान है और जो लोग यह कहते हैं कि भगवान नहीं है वह अल्पज्ञ है मूर्ख है और इस प्रकार के लोगों की भीड़ जो है वह देश में बढ़ती जा रही है इसको चाहे आप आधुनिकता के लिए पहुंचे पाश्चात्य संस्कृति का प्रभाव कह लें या फिर इसको व्यक्ति की मूर्ति और बेवकूफी खेलें हम बहुत ज्यादा अल्पज्ञ है हमें अपने थोड़े से ज्ञान पर बड़ा ही अहंकार हो जाता है हमें पता कुछ नहीं होता लेकिन हम सोचते हैं कि हमें सब कुछ पता है और हम उन लोगों की बातों को नकारना शुरू कर देते हैं जो कि बहुत कुछ विशाल ज्ञान लिए हुए थे यदि हम अपने उपनिषदों को उठाते हैं यदि अपने धर्म संस्कृति के ग्रंथों को उठाते हैं जी हम वेदांत को उठाते हैं और यदि उन लोगों से कहे जो कि कहते हैं कि ईश्वर नहीं है वह लोग जो कहते हैं ईश्वर नहीं है वह शास्त्रों के 1 श्लोक का अनुवाद नहीं कर सकते उन्हें समझ ही नहीं है कि वह सबके है क्या उनका मानसिक स्तर ही इतना न ताकि उन सब चीज़ों कौन समझ सके हमारे शास्त्र कहते हैं कि क्लेश कर्म विप आकाशीय परामर्श पुरुष विशेष ईश्वर की जो ईश्वर है वह हर प्रकार के किले शो से परे हैं प्लीज क्या होते हैं कि अभी दास मिता राग द्वेष अभिनिवेश आफ पंच क्लेश आफ यह 5 प्लेस होते हैं जो जिन से परे है ईश्वर व सर्वज्ञ है सर्व सर्व डीजे में हनी कि वह सब कुछ जानने वाले हैं वह सदस्य थे इस बार रहने वाले हैं उनका अक्षय नहीं हो सकता वह पृथ्वी के सभी विषयों से उत्तम है हमारी भावनाओं से भी परे हैं वह प्रभावी है यानी कि उन्हें किसी चीज से प्रभावित नहीं किया जा सकता निराकार है उनका आकार भी नहीं है और सब जगह व्याप्त है जैसे कि श्री कृष्ण हमारे भगवान श्रीराम यह सब ईश्वर के अवतार थे वह हमारे मार्गदर्शन के लिए पृथ्वी पर आए लेकिन यदि हम बात करते हैं ईश्वर के व्यापक स्वरूप की तो वह कण-कण में विद्यमान है और यदि हम थोड़े से भी अपनी बुद्धि को सही मार्ग पर लाना चाहते हैं थोड़ा समझना चाहते हैं जीवन को
निश्चित रूप से भगवान है और जो लोग यह कहते हैं कि भगवान नहीं है वह अल्पज्ञ है मूर्ख है और इस प्रकार के लोगों की भीड़ जो है वह देश में बढ़ती जा रही है इसको चाहे आप आधुनिकता के लिए पहुंचे पाश्चात्य संस्कृति का प्रभाव कह लें या फिर इसको व्यक्ति की मूर्ति और बेवकूफी खेलें हम बहुत ज्यादा अल्पज्ञ है हमें अपने थोड़े से ज्ञान पर बड़ा ही अहंकार हो जाता है हमें पता कुछ नहीं होता लेकिन हम सोचते हैं कि हमें सब कुछ पता है और हम उन लोगों की बातों को नकारना शुरू कर देते हैं जो कि बहुत कुछ विशाल ज्ञान लिए हुए थे यदि हम अपने उपनिषदों को उठाते हैं यदि अपने धर्म संस्कृति के ग्रंथों को उठाते हैं जी हम वेदांत को उठाते हैं और यदि उन लोगों से कहे जो कि कहते हैं कि ईश्वर नहीं है वह लोग जो कहते हैं ईश्वर नहीं है वह शास्त्रों के 1 श्लोक का अनुवाद नहीं कर सकते उन्हें समझ ही नहीं है कि वह सबके है क्या उनका मानसिक स्तर ही इतना न ताकि उन सब चीज़ों कौन समझ सके हमारे शास्त्र कहते हैं कि क्लेश कर्म विप आकाशीय परामर्श पुरुष विशेष ईश्वर की जो ईश्वर है वह हर प्रकार के किले शो से परे हैं प्लीज क्या होते हैं कि अभी दास मिता राग द्वेष अभिनिवेश आफ पंच क्लेश आफ यह 5 प्लेस होते हैं जो जिन से परे है ईश्वर व सर्वज्ञ है सर्व सर्व डीजे में हनी कि वह सब कुछ जानने वाले हैं वह सदस्य थे इस बार रहने वाले हैं उनका अक्षय नहीं हो सकता वह पृथ्वी के सभी विषयों से उत्तम है हमारी भावनाओं से भी परे हैं वह प्रभावी है यानी कि उन्हें किसी चीज से प्रभावित नहीं किया जा सकता निराकार है उनका आकार भी नहीं है और सब जगह व्याप्त है जैसे कि श्री कृष्ण हमारे भगवान श्रीराम यह सब ईश्वर के अवतार थे वह हमारे मार्गदर्शन के लिए पृथ्वी पर आए लेकिन यदि हम बात करते हैं ईश्वर के व्यापक स्वरूप की तो वह कण-कण में विद्यमान है और यदि हम थोड़े से भी अपनी बुद्धि को सही मार्ग पर लाना चाहते हैं थोड़ा समझना चाहते हैं जीवन को
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे भगवान है या नहीं यह बहुत ही एक निजी सवाल है सबकी अपनी अपनी मान्यता होती हैं मान्यताएं होती हैं तो तुम मेरे साथ से पूछे तो भगवान है से असली में तो नहीं है बट अभी मैं अपने आप को जब भी कोई मुश्किल पेश करता हूं तो मैं अपना दिल आशा दिलाता हूं अपने आपको कि नहीं कोई ऊपर वाला मेरे को थोड़ी मदद करें इस मामले में भर्ती है ऐसा ही एक तरीका होता है अपने आपको थोड़ी संतुष्टि देने का और अपने आप को सब कौन से असली कहने का कि नहीं मुझे जो नहीं मिल रहा जिस चीज फिल्म प्ले कर रहा हूं कि आप कैसी हो जाए तो उसके लिए मुझे और काम करना चाहिए तो उससे मेरे को और मोटिवेशन मिलता कि हां मैं तब भी कर सकता हूं काम तो भगवान मुझे तो नहीं लगता कि भगवान है
Romanized Version
मुझे भगवान है या नहीं यह बहुत ही एक निजी सवाल है सबकी अपनी अपनी मान्यता होती हैं मान्यताएं होती हैं तो तुम मेरे साथ से पूछे तो भगवान है से असली में तो नहीं है बट अभी मैं अपने आप को जब भी कोई मुश्किल पेश करता हूं तो मैं अपना दिल आशा दिलाता हूं अपने आपको कि नहीं कोई ऊपर वाला मेरे को थोड़ी मदद करें इस मामले में भर्ती है ऐसा ही एक तरीका होता है अपने आपको थोड़ी संतुष्टि देने का और अपने आप को सब कौन से असली कहने का कि नहीं मुझे जो नहीं मिल रहा जिस चीज फिल्म प्ले कर रहा हूं कि आप कैसी हो जाए तो उसके लिए मुझे और काम करना चाहिए तो उससे मेरे को और मोटिवेशन मिलता कि हां मैं तब भी कर सकता हूं काम तो भगवान मुझे तो नहीं लगता कि भगवान हैMujhe Bhagwan Hai Ya Nahin Yeh Bahut Hea Ek Niji Sawal Hai Sabaki Apni Apni Manyata Hoti Hain Manyataen Hoti Hain To Tum Mere Sathe Se Poochhe To Bhagwan Hai Se Asli Mein To Nahin Hai But Abhi Main Apne Aap Co Jab Bhi Koi Mushkil Pesh Karata Hoon To Main Apna Dil Asha Dilata Hoon Apne Aapko Qi Nahin Koi Upar Wala Mere Co Thodi Madada Karein Is Mamle Mein Bharti Hai Aisa Hea Ek Tarika Hota Hai Apne Aapko Thodi Santushti Dane Ka Aur Apne Aap Co Sub Kaun Se Asli Kahane Ka Qi Nahin Mujhe Joe Nahin Mill Raha Jisha Chij Film Play Car Raha Hoon Qi Aap Kaisi Ho Jae To Uske Lie Mujhe Aur Kama Krna Chahie To Usase Mere Co Aur Motivation Milta Qi Han Main Taba Bhi Car Sakta Hoon Kama To Bhagwan Mujhe To Nahin Lagta Qi Bhagwan Hai
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Bhagwan Hai Ya Nahi,Is God Or Not?,Kya Bhagwan Hai Ya Nahi, Bhagwan Na Geet,


vokalandroid