ब्रह्मांड क्या है ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ब्रह्मांड संपूर्ण समय और अंतरिक्ष और उस की अंतर्वस्तु को कहते हैं ब्रह्मांड में सभी ग्रह तारे Galaxy आर्यमान विक्रम और सारा पदार्थ और सारी ऊर्जा शामिल है अवलोकन योग्य ब्रह्मांड का व्यास वर्तमान में लग ...जवाब पढ़िये

ब्रह्मांड संपूर्ण समय और अंतरिक्ष और उस की अंतर्वस्तु को कहते हैं ब्रह्मांड में सभी ग्रह तारे Galaxy आर्यमान विक्रम और सारा पदार्थ और सारी ऊर्जा शामिल है अवलोकन योग्य ब्रह्मांड का व्यास वर्तमान में लगभग 28 अरब पारसेक है पूरे ब्रह्मांड का व्यास ज्ञात है और यह अनंत हो सकता हैBrahmand Sampurna Samay Aur Antariksh Aur Us Ki Antarvastu Ko Kehte Hain Brahmand Mein Sabhi Grah Taare Galaxy Aaryamaan Vikram Aur Saara Padarth Aur Saree Urja Shamil Hai Avalokan Yogya Brahmand Ka Vyas Vartaman Mein Lagbhag 28 Arab Paarsek Hai Poore Brahmand Ka Vyas Gyaat Hai Aur Yeh Anant Ho Sakta Hai
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमन सभी अंतरिक्ष और समय और ग्रहण तारो आकाशगंगा और अन्य सभी प्रकार के पदार्थ और ऊर्जा सहित सामग्री है ...जवाब पढ़िये

नमन सभी अंतरिक्ष और समय और ग्रहण तारो आकाशगंगा और अन्य सभी प्रकार के पदार्थ और ऊर्जा सहित सामग्री हैNaman Sabhi Antariksh Aur Samay Aur Grahan Taroon Akashganga Aur Anya Sabhi Prakar Ke Padarth Aur Urja Sahit Samagri Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ब्रह्मांड दिखाई देने वाला जगत कहलाता जा रहा है और दूसरी ओर से सिकुड़ता भी जा रहा है लाखों सूर्य तारे और लड़कियों का जन्म है उसका अंत भी है जो जन्म है वह मरेगा भी सभी कुछ उसी धर्म से झरने और उसी में ल ...जवाब पढ़िये

ब्रह्मांड दिखाई देने वाला जगत कहलाता जा रहा है और दूसरी ओर से सिकुड़ता भी जा रहा है लाखों सूर्य तारे और लड़कियों का जन्म है उसका अंत भी है जो जन्म है वह मरेगा भी सभी कुछ उसी धर्म से झरने और उसी में लीन हो जाने वाले हैं यह ब्रह्मांड परिवर्तनशील है इस जगत का संचालन भी उसी शक्ति से सदा ही होता है जैसे कि सूर्य के आकर्षण से धरती अपनी धुरी पर टिकी हुई हो कर चले मांग है उसी तरह लाखों सूर्य और तारे एक महान सूर्य के आकर्षण सिद्धि गोकल संचालित हो रहे हैं इसी तरह लाखों महा सूर्य उसे ब्रह्म की शक्ति से ही जगत में विद्यमान है यहीं पर हैBrahmand Dikhai Dene Wala Jagat Kehlata Ja Raha Hai Aur Dusri Oar Se Sikudata Bhi Ja Raha Hai Laakhon Surya Taare Aur Ladkiyon Ka Janm Hai Uska Ant Bhi Hai Jo Janm Hai Wah Marega Bhi Sabhi Kuch Ussi Dharm Se Jharane Aur Ussi Mein Lean Ho Jaane Wale Hain Yeh Brahmand Parivartanshil Hai Is Jagat Ka Sanchalan Bhi Ussi Shakti Se Sada Hi Hota Hai Jaise Ki Surya Ke Aakarshan Se Dharti Apni Dhuri Par Tiki Hui Ho Kar Chale Maang Hai Ussi Tarah Laakhon Surya Aur Taare Ek Mahaan Surya Ke Aakarshan Siddhi Gokal Sanchalit Ho Rahe Hain Isi Tarah Laakhon Maha Surya Use Brahma Ki Shakti Se Hi Jagat Mein Vidyaman Hai Yahiin Par Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Brahmand Kya Hai ?, What Is Bramhamd