आपकी पसंदीदा परिवार की परंपरा क्या है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरी पसंदीदा परंपरा यह है कि बहुत सालों से बनाने वाले कारखाने को जब हम किसी फेस्टिवल में बनाते हैं तो मुझे बहुत अच्छा लगता है यह जो बनाते हैं हमारे दादा दादा दादी और हमारे यहां से स्थल जो बनाते हैं उस...
जवाब पढ़िये
मेरी पसंदीदा परंपरा यह है कि बहुत सालों से बनाने वाले कारखाने को जब हम किसी फेस्टिवल में बनाते हैं तो मुझे बहुत अच्छा लगता है यह जो बनाते हैं हमारे दादा दादा दादी और हमारे यहां से स्थल जो बनाते हैं उसको फेस्टिवल में बनाते हैं और उनके जो सामान होते हैं वह बहुत यूनिक होते हैं और कुछ ना कुछ साइंटिफिक रीजन के लिए याद करते हैं जैसे की हम और दिवाली दिवाली से पहले बहुत सारी स्वीट खाते हैं क्योंकि जब दिवाली आ रहा है उसके बाद सिर विंटर सीजन आ जाएगा तो हमें विंटर के लिए प्रिपेयर करने के लिए हम ही चीज वह जो चीज बहुत ही देता है जैसे कि अदरक तो हम ज्यादा खाते हैं कुछ स्वीट में डालकर तो यह जो आप परिवार मेरे परिवार की परंपरा है मुझे बहुत अच्छा लगता हैMeri Pasandida Parampara Yeh Hai Ki Bahut Salon Se Banane Wale Karkhane Ko Jab Hum Kisi Festival Mein Banate Hain To Mujhe Bahut Accha Lagta Hai Yeh Jo Banate Hain Hamare Dada Dada Dadi Aur Hamare Yahan Se Sthal Jo Banate Hain Usko Festival Mein Banate Hain Aur Unke Jo Saamaan Hote Hain Wah Bahut Unique Hote Hain Aur Kuch Na Kuch Scientific Reason Ke Liye Yaad Karte Hain Jaise Ki Hum Aur Diwali Diwali Se Pehle Bahut Saree Sweet Khate Hain Kyonki Jab Diwali Aa Raha Hai Uske Baad Sir Winter Season Aa Jayega To Hume Winter Ke Liye Pripeyar Karne Ke Liye Hum Hi Cheez Wah Jo Cheez Bahut Hi Deta Hai Jaise Ki Adrak To Hum Jyada Khate Hain Kuch Sweet Mein Dalkar To Yeh Jo Aap Parivar Mere Parivar Ki Parampara Hai Mujhe Bahut Accha Lagta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा पसंदीदा परिवर्तन मेरा ही होगा मैं एक जो परंपरा हम लोग निभाते वह परंपरा नहीं है सच एडिशन बोलो या जो भी बोलो कि हम लोग ऐसे करते कि यह हर रेल कहीं ना कहीं पूरी फैमिली गेट टूगेदर करती है कहीं ना कहीं...
जवाब पढ़िये
मेरा पसंदीदा परिवर्तन मेरा ही होगा मैं एक जो परंपरा हम लोग निभाते वह परंपरा नहीं है सच एडिशन बोलो या जो भी बोलो कि हम लोग ऐसे करते कि यह हर रेल कहीं ना कहीं पूरी फैमिली गेट टूगेदर करती है कहीं ना कहीं बाहर जाकर ताकि एक आउटिंग भी हो जाते हैं और सब को एक ब्रेक भी मिल जाता है अपनी बिजी लाइफ से बच्चों लोग को लेकर सब फैमिली से हमारा बड़ा परिवार भी है तो सब को एकजुट मिलकर वह मस्ती भी हो जाती है और फिर एक फैमिली को फीलिंग वापस भी आ जाते क्योंकि हम लोग सब अलग-अलग शहरों में रहते हैं तो उससे बार-बार हर टाइम मिलना नहीं हो पाता बट ऐसे अगर हर साल में एक एक जगह कहीं कहीं जाते हैं तो घूमना भी हो जाते हैं और फिर फैमिली गेट पर बिजी हो जाती हो सकता इंजॉयमेंट भी हो जाता हैMera Pasandida Pariwartan Mera Hi Hoga Main Ek Jo Parampara Hum Log Nibhate Wah Parampara Nahi Hai Sach Edition Bolo Ya Jo Bhi Bolo Ki Hum Log Aise Karte Ki Yeh Har Rail Kahin Na Kahin Puri Family Get Together Karti Hai Kahin Na Kahin Bahar Jaakar Taki Ek Outing Bhi Ho Jaate Hain Aur Sab Ko Ek Break Bhi Mil Jata Hai Apni Busy Life Se Bacchon Log Ko Lekar Sab Family Se Hamara Bada Parivar Bhi Hai To Sab Ko Ekjoot Milkar Wah Masti Bhi Ho Jati Hai Aur Phir Ek Family Ko Feeling Wapas Bhi Aa Jaate Kyonki Hum Log Sab Alag Alag Shaharon Mein Rehte Hain To Usse Baar Baar Har Time Milna Nahi Ho Pata But Aise Agar Har Saal Mein Ek Ek Jagah Kahin Kahin Jaate Hain To Ghumana Bhi Ho Jaate Hain Aur Phir Family Get Par Busy Ho Jati Ho Sakta Injayament Bhi Ho Jata Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

TV पसंदीदा परिवार की परंपरा जो है हर व्यक्ति की हर परिवार की अलग अलग हो सकती है अलग-अलग रिफरेंस में आप बता सकते हैं लेकिन मेरी जो विशेष तौर पर अपने परिवार की परंपरा विषय वस्तु है कि हमारा जो है एक जॉइ...
जवाब पढ़िये
TV पसंदीदा परिवार की परंपरा जो है हर व्यक्ति की हर परिवार की अलग अलग हो सकती है अलग-अलग रिफरेंस में आप बता सकते हैं लेकिन मेरी जो विशेष तौर पर अपने परिवार की परंपरा विषय वस्तु है कि हमारा जो है एक जॉइंट फैमिली है ज्वाइन परिवार है तो उसमें हमेशा से परंपरा रही है कि जब सब काम करेंगे हर किसी काम में सब एक साथ मिल जुलकर करेंगे अगर खाना भी खाएंगे तो एक ही टेबल पर एक ही समय एक साथ बैठकर खाएंगे ऐसा नहीं है कि सब अलग अलग रूम में जाएंगे अपने अपने कमरे में बैठकर खाएंगे यस पूरे दिन जो है अपने अपने कामों में रहेंगे ऐसा कोई भी प्रॉब्लम नहीं है यही परंपरा मेरी सबसे फेवरेट है अपने परिवार की कि जितने भी काम हो चाहे कोई फंक्शन हो चाहे कोई इवेंट को त्योहारों कुछ खाना पीना बनाना अगर किसी दूसरी फैमिली के भी आए हैं तब भी जो है सब मिल जुल के साथ काम करते हैं एक दूसरे का हाथ बटाते हैं इन जॉइंट फैमिली है किचन एक है उसके बावजूद अगर आप देखें घर का काम हो यह तमाम चीजें तो उसमें जिम्मेदारी हैTV Pasandida Parivar Ki Parampara Jo Hai Har Vyakti Ki Har Parivar Ki Alag Alag Ho Sakti Hai Alag Alag Reference Mein Aap Bata Sakte Hain Lekin Meri Jo Vishesh Taur Par Apne Parivar Ki Parampara Vishay Vastu Hai Ki Hamara Jo Hai Ek Joint Family Hai Join Parivar Hai To Usamen Hamesha Se Parampara Rahi Hai Ki Jab Sab Kaam Karenge Har Kisi Kaam Mein Sab Ek Saath Mil Zulker Karenge Agar Khana Bhi Khayenge To Ek Hi Table Par Ek Hi Samay Ek Saath Baithkar Khayenge Aisa Nahi Hai Ki Sab Alag Alag Room Mein Jaenge Apne Apne Kamre Mein Baithkar Khayenge Yash Poore Din Jo Hai Apne Apne Kamon Mein Rahenge Aisa Koi Bhi Problem Nahi Hai Yahi Parampara Meri Sabse Favourite Hai Apne Parivar Ki Ki Jitne Bhi Kaam Ho Chahe Koi Function Ho Chahe Koi Event Ko Tyoharon Kuch Khana Peena Banana Agar Kisi Dusri Family Ke Bhi Aaye Hain Tab Bhi Jo Hai Sab Mil Jul Ke Saath Kaam Karte Hain Ek Dusre Ka Hath Batate Hain In Joint Family Hai Kitchen Ek Hai Uske Bawajud Agar Aap Dekhen Ghar Ka Kaam Ho Yeh Tamam Cheezen To Usamen Jimmedari Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक मैसेज तो मैंने भी ऐसा मिली का एक रिश्ता हूं जो ताऊजी या चालू है जो बाकी सब लोग को अलग-अलग शहरों में अलग-अलग जगह पर रह रहे हैं बट फिर भी हमारे से बड़े से परिवार की जो इतना अलग अलग दुनिया में रह रहा ...
जवाब पढ़िये
एक मैसेज तो मैंने भी ऐसा मिली का एक रिश्ता हूं जो ताऊजी या चालू है जो बाकी सब लोग को अलग-अलग शहरों में अलग-अलग जगह पर रह रहे हैं बट फिर भी हमारे से बड़े से परिवार की जो इतना अलग अलग दुनिया में रह रहा है इसकी एक परंपरा जो हमेशा से बटन से लिया जब से टेस्ट मैच देख रही हूं वह यह कि कोई किसी भी शहर में रह रहा हूं कोई कहीं भी हो लेकिन हम साल में एक दिन सब मिलते हैं जो हमारा जो पुश्तैनी घर है जहां पर गांव में और उस दिन हम सब वहां मिल कर सब साथ में बहुत मजे करते हैं तब अच्छा गाना होता है पता है हम लोग के लिए दूर-दूर रहेंगे और टाइम नहीं है का बहाना बनाएंगे तो वह और जो उनके बच्चों में जुड़ा होना चाहिए अपने कर्म को लेकर या कुछ भी नहीं रह पाएगा तो मुझे बहुत पसंद है कि हमारे साथEk Massage To Maine Bhi Aisa Mili Ka Ek Rishta Hoon Jo Thauji Ya Chalu Hai Jo Baki Sab Log Ko Alag Alag Shaharon Mein Alag Alag Jagah Par Rah Rahe Hain But Phir Bhi Hamare Se Bade Se Parivar Ki Jo Itna Alag Alag Duniya Mein Rah Raha Hai Iski Ek Parampara Jo Hamesha Se Button Se Liya Jab Se Test Match Dekh Rahi Hoon Wah Yeh Ki Koi Kisi Bhi Sheher Mein Rah Raha Hoon Koi Kahin Bhi Ho Lekin Hum Saal Mein Ek Din Sab Milte Hain Jo Hamara Jo Pushtaini Ghar Hai Jahan Par Gav Mein Aur Us Din Hum Sab Wahan Mil Kar Sab Saath Mein Bahut Maje Karte Hain Tab Accha Gaana Hota Hai Pata Hai Hum Log Ke Liye Dur Dur Rahenge Aur Time Nahi Hai Ka Bahana Banayenge To Wah Aur Jo Unke Bacchon Mein Juda Hona Chahiye Apne Karm Ko Lekar Ya Kuch Bhi Nahi Rah Payega To Mujhe Bahut Pasand Hai Ki Hamare Saath
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरी जॉब परिवार के सबसे पसंदीदा परंपरा जो है मुझे वह लगती है क्या हाल-चाल जो है किसी भी फेस्टिवल पर जो है खासकर होली और दिवाली पर जो है वह अलग अलग टाइप के स्वादिष्ट पकवान बनते जैसे गुजिया दही बड़ा हुआ...
जवाब पढ़िये
मेरी जॉब परिवार के सबसे पसंदीदा परंपरा जो है मुझे वह लगती है क्या हाल-चाल जो है किसी भी फेस्टिवल पर जो है खासकर होली और दिवाली पर जो है वह अलग अलग टाइप के स्वादिष्ट पकवान बनते जैसे गुजिया दही बड़ा हुआ तो यह सब खाने में है जो है मुझे बहुत ही लजीज लगा और बहुत ही पसंद है और दूसरी चीज मुझे यह अच्छी लगती है कि अगर किसी बड़े रिलेटिव के घर जाओ तो वह लोग जो है फिर थोड़े पैसे देते थे वह से जीते जो है अपना एक शाखा है जो निकल जाता है तो दोनों परंपरा मुझे बहुत पसंद हैMeri Job Parivar Ke Sabse Pasandida Parampara Jo Hai Mujhe Wah Lagti Hai Kya Haal Chaal Jo Hai Kisi Bhi Festival Par Jo Hai Khaskar Holi Aur Diwali Par Jo Hai Wah Alag Alag Type Ke Svaadisht Pakvaan Bante Jaise Gujiya Dahi Bada Hua To Yeh Sab Khane Mein Hai Jo Hai Mujhe Bahut Hi Lajij Laga Aur Bahut Hi Pasand Hai Aur Dusri Cheez Mujhe Yeh Acchi Lagti Hai Ki Agar Kisi Bade Relative Ke Ghar Jao To Wah Log Jo Hai Phir Thode Paise Dete The Wah Se Jeete Jo Hai Apna Ek Sakha Hai Jo Nikal Jata Hai To Dono Parampara Mujhe Bahut Pasand Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे घर में क्या होता है कि मकर सक्रांति के दिन जो 14 जनवरी को मनाया जाता है जिसे पूरे भारत में अलग-अलग रूप से मनाया जाता थी पोंगल कहीं लूटी के रूप में तू मेरे घर की तरफ क्या होता है कि स्पेशली मेरे ...
जवाब पढ़िये
हमारे घर में क्या होता है कि मकर सक्रांति के दिन जो 14 जनवरी को मनाया जाता है जिसे पूरे भारत में अलग-अलग रूप से मनाया जाता थी पोंगल कहीं लूटी के रूप में तू मेरे घर की तरफ क्या होता है कि स्पेशली मेरे परिवार में मकर सक्रांति के दिन जो घर के सबसे बड़े हैं सबसे पस आने वाला वही खाते हैं तो उस दिन हम सारे बच्चे जो मेरे दादाजी हैं उनके चारों ओर इर्द-गिर्द बैठ जाते हो नहीं जाने नहीं देते सुबह में उन्हें क्या कहा कि नहीं जाता जी सबसे पहले आप जल्दी-जल्दी खाएं क्योंकि हमें बहुत जोर की भूख लगी है और हमारे बच्चों अपने दादा जी के साथ मिलकर वार को नहीं छेड़ते हैं उन्हें परेशान करते हैं उन्हें कहते हैं कि जल्दी खाना है हमें बहुत भूख लगी है वह बिछड़ते नहीं आज तो मुझे भूख नहीं लगी आज तो मैं बिल्कुल नहीं खाऊंगा जब हम बच्चे थे बहुत छोटे थे तो हमें लगता था कि आ रही है तो सच है और हमें डर लगता था कि अगर आप ज्यादा जीने नहीं खाया तो क्या मैं पूरे दिन खाना नहीं मिलेगा पूरा परिवार साथ मेंHamare Ghar Mein Kya Hota Hai Ki Makar Sakranti Ke Din Jo 14 January Ko Manaya Jata Hai Jise Poore Bharat Mein Alag Alag Roop Se Manaya Jata Thi Pongal Kahin Looti Ke Roop Mein Tu Mere Ghar Ki Taraf Kya Hota Hai Ki Speshli Mere Parivar Mein Makar Sakranti Ke Din Jo Ghar Ke Sabse Bade Hain Sabse Pasha Aane Wala Wahi Khate Hain To Us Din Hum Sare Bacche Jo Mere Dadaji Hain Unke Charo Oar Ird Gird Baith Jaate Ho Nahi Jaane Nahi Dete Subah Mein Unhen Kya Kaha Ki Nahi Jata Ji Sabse Pehle Aap Jaldi Jaldi Khayen Kyonki Hume Bahut Jor Ki Bhukh Lagi Hai Aur Hamare Bacchon Apne Dada Ji Ke Saath Milkar Var Ko Nahi Chedte Hain Unhen Pareshan Karte Hain Unhen Kehte Hain Ki Jaldi Khana Hai Hume Bahut Bhukh Lagi Hai Wah Bichadate Nahi Aaj To Mujhe Bhukh Nahi Lagi Aaj To Main Bilkul Nahi Khaunga Jab Hum Bacche The Bahut Chote The To Hume Lagta Tha Ki Aa Rahi Hai To Sach Hai Aur Hume Dar Lagta Tha Ki Agar Aap Jyada Jeene Nahi Khaya To Kya Main Poore Din Khana Nahi Milega Pura Parivar Saath Mein
Likes  12  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Aapki Pasandida Parivar Ki Parampara Kya Hai, What Is The Tradition Of Your Favorite Family?

vokalandroid