अक्सर इंसान अपने माँ बाप के धर्म पर जिंदगी जीते है और उनको धर्म के बारे में कुछ पता नहीं होता इस लिये के वह अपने माँ बाप के धर्म पर जिंदगी जीते है तो ये लोग क्या करें ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे भारत में जितने भी धर्म है जैसे कि हिंदू मुसलमान धर्म सिक्ख धर्म ईसाई धर्म कोई धर्म नहीं सिखाता है हमें आपस में प्यार सिखाता है लोगों की इज्जत करना बड़ों की इज्जत करना छोटों को प्यार देना सिखाता ...जवाब पढ़िये
हमारे भारत में जितने भी धर्म है जैसे कि हिंदू मुसलमान धर्म सिक्ख धर्म ईसाई धर्म कोई धर्म नहीं सिखाता है हमें आपस में प्यार सिखाता है लोगों की इज्जत करना बड़ों की इज्जत करना छोटों को प्यार देना सिखाता है आने के बाद बदलता है धर्म कभी भी किसी को बलात्कार नहीं सिखाता है तो आप अपने अंदर से ही सोच को निकाली क्या मुझे जरूरत हम यह रास्ते पर चलने को सिखाया है आप जो धर्म की अच्छाई को सीखे कोई भी धर्म से हमें बुरा सिखाता नहीं हमारे जैसे लोग हमारे राजनेता हमारे आसपास के लोग हमारी सोसायटी जो हमें बुरा करना सिखाती है हमेशा इंसान की जिंदगी में जीना जीना चाहिए कि आपका जीवन जो है बेहतर हो सकेHamare Bharat Mein Jitne Bhi Dharm Hai Jaise Qi Hindu Musalman Dharm Sikkh Dharm Isai Dharm Koi Dharm Nahin Sikhaataa Hai Human Apsha Mein Pyaar Sikhaataa Hai Logon Ki Izzat Krna Badon Ki Izzat Krna Chhoto Co Pyaar Dena Sikhaataa Hai Aane K Baad Badlata Hai Dharm Kabhi Bhi Kisi Co Balatkar Nahin Sikhaataa Hai To Aap Apne Andorra Se Hea Soch Co Nikali Kya Mujhe Jarurat Hum Yeh Raste Per Chalane Co Sikhaya Hai Aap Joe Dharm Ki Acchai Co Siikhe Koi Bhi Dharm Se Human Bura Sikhaataa Nahin Hamare Jaise Log Hamare Rajneta Hamare Aaspass K Log Hamari Sociaty Joe Human Bura Krna Sikhaati Hai Hamesha Insaan Ki Jindagi Mein Jeena Jeena Chahie Qi Aapka Jeevan Joe Hai Behtar Ho Skye
Likes  11  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब कोई इंसान जन्म लेता है तो वह जिस परिवार में जन्म लेता है उसी के अनुसार उस धर्म का पालन करता है और उसी धर्म और उसी परिवार के संस्कारों और बच्चा होने तक वह उसी धर्म को मानता भी है और उसी धर्म को समझत...जवाब पढ़िये
जब कोई इंसान जन्म लेता है तो वह जिस परिवार में जन्म लेता है उसी के अनुसार उस धर्म का पालन करता है और उसी धर्म और उसी परिवार के संस्कारों और बच्चा होने तक वह उसी धर्म को मानता भी है और उसी धर्म को समझता भी है अगर वह हिंदू धर्म में पैदा हुआ है हिंदू परिवार में पैदा हुआ है तो हिंदू धर्म सीखेगा इसी तरह से अगर हो सिख मुस्लिम या ईसाई परिवार में पैदा हुआ है तो वह ध्यान दीजिएगा तो यह हमारे जन्म के साथ ही हमारा धर्म जुड़ जाता है लेकिन जैसे-जैसे हम बड़े होते हैं वैसे वैसे हम दूसरे धर्मों को भी देखते हैं सुनते हैं समझते हैं यह तो आप भी मानेंगे कि कोई भी धर्म गलत शिक्षा नहीं देता साड़ी की धर्मों में ईश्वर को माना गया है और ईश्वर एक है सभी धर्म नहीं कहते हैं कोई भी धर्म आपको गलत राह पर चलने के लिए प्रेरित नहीं करता है हर धर्म आपको प्यार से ने सोचने तक रहने की प्रेरणा देता है और वही आपको सिखाता है तो आप बड़े होकर अपना धर्म जिसमें आपकी आता है उसे मान सकते हैं और इसके लिए जरूरी नहीं है कि आपको धर्मांतरण करना पड़े बिना धर्मांतरण करेगी अब किसी भी धर्म की अगर आपको अच्छा ही अच्छी लगती है तो हम अच्छाइयों को अपने जीवन में अपना सकते हैं आजकल इसके लिए ना तो किसी को रोका जाता है और ना ही किसी को मजबूर किया जाता है और परिवार वाले भी इन बातों को समझते हैं कि आज के बच्चे आज की जेनरेशन जाती पाती के भेदभाव को नहीं मानती है धर्म की भेदभाव को नहीं मानती है छुआछूत को नहीं मानती है इसीलिए आज अंतरजातीय विवाह को भी प्राथमिकता दी जा रही है उन्हें भी मान्यता मिल रही है इसलिए धर्म इंसान को जो से अच्छा लगे उस हिसाब से करना चाहिए बस उसका आचरण सही और सच होना चाहिएJab Koi Insaan Janm Lata Hai To Wah Jisha Parivar Mein Janm Lata Hai Ussi K Anusar Oosh Dharm Ka Palan Karata Hai Aur Ussi Dharm Aur Ussi Parivar K Sanskaron Aur Bacca Hone Tak Wah Ussi Dharm Co Manta Bhi Hai Aur Ussi Dharm Co Samajhataa Bhi Hai Agar Wah Hindu Dharm Mein Paida Hua Hai Hindu Parivar Mein Paida Hua Hai To Hindu Dharm Sikhega Isi Turha Se Agar Ho Sikh Muslim Ya Isai Parivar Mein Paida Hua Hai To Wah Dhyan Dijiyega To Yeh Hamare Janm K Sathe Hea Hamara Dharm Jud Jaata Hai Lekin Jaise Jaise Hum Bade Hote Hain Vaise Vaise Hum Dusre Dharmon Co Bhi Dekhte Hain Sunte Hain Samjhte Hain Yeh To Aap Bhi Manenge Qi Koi Bhi Dharm Galat Shiksha Nahin Deta Saree Ki Dharmon Mein Ishwar Co Mana Gaya Hai Aur Ishwar Ek Hai Sabhi Dharm Nahin Kehte Hain Koi Bhi Dharm Aapko Galat Raaha Per Chalane K Lie Prerit Nahin Karata Hai Her Dharm Aapko Pyaar Se Ne Sochne Tak Rahane Ki Prerna Deta Hai Aur Whey Aapko Sikhaataa Hai To Aap Bade Hokra Apna Dharm Jisamein Aapki Aata Hai Usse Maan Sakte Hain Aur Iske Lie Zaroori Nahin Hai Qi Aapko Dharmantaran Krna Pade Binaa Dharmantaran Karegii Aba Kisi Bhi Dharm Ki Agar Aapko Accha Hea Achchhee Lagati Hai To Hum Acchaiyon Co Apne Jeevan Mein Apna Sakte Hain Aajkal Iske Lie Na To Kisi Co Roka Jaata Hai Aur Na Hea Kisi Co Majboor Kiya Jaata Hai Aur Parivar Wale Bhi In Baaton Co Samjhte Hain Qi Aj K Bacche Aj Ki Generation Jaati Paati K Bhedbhav Co Nahin Manathi Hai Dharm Ki Bhedbhav Co Nahin Manathi Hai Chhuaachhoot Co Nahin Manathi Hai Isiliye Aj Antarajatiya Vivah Co Bhi Praathmikta They Ja Rahi Hai Unhein Bhi Manyata Mill Rahi Hai Eeslie Dharm Insaan Co Joe Se Accha Lage Oosh Hisaab Se Krna Chahie Bus Uska Aacharan Sahi Aur Such Hona Chahie
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Aksar Insaan Apne Maa Baap Ke Dharam Par Zindagi Jeete Hai Aur Unko Dharam Ke Bare Mein Kuch Pata Nahi Hota Is Liye Ke Wah Apne Maa Baap Ke Dharam Par Zindagi Jeete Hai Toh Ye Log Kya Karein ?

vokalandroid