क्या एक धर्म की तुलना दुसरे धरम से करना उचित है क्या यह समस्या कट्टरता उत्पन्न करती है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह रिंग धर्म की अलग विशेषताएं होती हैं और वह विशेषताएं जो है वह अपने धर्म में ही सबको पता चलता है इसलिए जो भी धर्म है एक दूसरे के धर्म को बिल्कुल भी तुलना नहीं करना चाहिए गलत है एक अगर कोई मुस्लिम है ...जवाब पढ़िये
यह रिंग धर्म की अलग विशेषताएं होती हैं और वह विशेषताएं जो है वह अपने धर्म में ही सबको पता चलता है इसलिए जो भी धर्म है एक दूसरे के धर्म को बिल्कुल भी तुलना नहीं करना चाहिए गलत है एक अगर कोई मुस्लिम है तो अगर कोई हिंदू है तो इन्हीं जुड़े हुए एक दूसरे के धर्म को तुलना नहीं करना चाहिए क्योंकि यह सही नहीं है इसलिए चुप कट्टरपंथी ज्योति किस बहुत ज्यादा होता है बहुत ज्यादा दंगे से शादी होते तो यह नहीं करना चाहिए उचित नहीं हैYeh Rimg Dharm Ki Eluga Visheshtaen Hoti Hain Aur Wah Visheshtaen Joe Hai Wah Apne Dharm Mein Hea Sabako Patta Chalata Hai Eeslie Joe Bhi Dharm Hai Ek Dusre K Dharm Co Bilkool Bhi Tulna Nahin Krna Chahie Galat Hai Ek Agar Koi Muslim Hai To Agar Koi Hindu Hai To Inheen Jude Huye Ek Dusre K Dharm Co Tulna Nahin Krna Chahie Kyonki Yeh Sahi Nahin Hai Eeslie Chup Kattarapanthi Jyoti Kiss Bahut Jyada Hota Hai Bahut Jyada Dange Se Shadi Hote To Yeh Nahin Krna Chahie Uchit Nahin Hai
Likes  8  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Ek Dharam Ki Tulna Dusre Dharam Se Karna Uchit Hai Kya Yeh Samasya Kattartaa Utpann Karti Hai

vokalandroid