क्या हिंसा को खत्म करना संभव है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या क्या है यह समझो जब भी समझा नहीं जाएगा कि क्या क्या है हिंसा क्या है ना समझ गए तुम नहीं समझे तो हो सकता है तुम्हारे इरादे बड़े पाक साफ हो तुम मेरी जरूरत ही नहीं है तो तुम जो कुछ करोगे तो तुम्हार...
जवाब पढ़िये
क्या क्या है यह समझो जब भी समझा नहीं जाएगा कि क्या क्या है हिंसा क्या है ना समझ गए तुम नहीं समझे तो हो सकता है तुम्हारे इरादे बड़े पाक साफ हो तुम मेरी जरूरत ही नहीं है तो तुम जो कुछ करोगे तो तुम्हारे लिए और समस्त विश्व के लिए कष्ट का कारण बनेगा यह अपने इरादों के साथ ही तुम जगत का नासूर बन जाओ क्यों होती है कि देखिए मैं आपके लिए कुछ खाने को लेकर आता हूं पता ही नहीं होगा स्कोर कस्टर्ड तुम प्रदर्शित करने जब तुम्हें यह भी लग रहा है कि तुम ने जानबूझकर करी है तब भी कुछ ऐसा जरूर होता है जो तुम समझ नहीं रहे हो इसलिए समझने पर समझा समझता ही नहीं प्यार कीKya Kya Hai Yeh Samjho Jab Bhi Samjha Nahi Jayega Ki Kya Kya Hai Hinsa Kya Hai Na Samajh Gaye Tum Nahi Samjhe To Ho Sakta Hai Tumhare Irade Bade Pak Saaf Ho Tum Meri Zaroorat Hi Nahi Hai To Tum Jo Kuch Karoge To Tumhare Liye Aur Samast Vishwa Ke Liye Kasht Ka Kaaran Banega Yeh Apne Iradon Ke Saath Hi Tum Jagat Ka Nasur Ban Jao Kyon Hoti Hai Ki Dekhie Main Aapke Liye Kuch Khane Ko Lekar Aata Hoon Pata Hi Nahi Hoga Score Custard Tum Pradarshit Karne Jab Tumhein Yeh Bhi Lag Raha Hai Ki Tum Ne Janbujhkar Kari Hai Tab Bhi Kuch Aisa Jarur Hota Hai Jo Tum Samajh Nahi Rahe Ho Isliye Samjhne Par Samjha Samajhata Hi Nahi Pyar Ki
Likes  12  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा मानना है कि इन सबवाप खत्म नहीं कर पाओगे हां उसको कम करने का संभव प्रयास किया जा सकता है यदि हम एक संगठन के तौर पर काम करें जैसे कि हम जिस मोहल्ले में गांव में रहते हैं उस मोहल्ले उस गांव के लोग...
जवाब पढ़िये
मेरा मानना है कि इन सबवाप खत्म नहीं कर पाओगे हां उसको कम करने का संभव प्रयास किया जा सकता है यदि हम एक संगठन के तौर पर काम करें जैसे कि हम जिस मोहल्ले में गांव में रहते हैं उस मोहल्ले उस गांव के लोगों को युवा वर्ग को एक दूसरे के साथ जोड़ कर रखी है कोई भी परवाह होता है और आता है उसमें आप सब एक साथ मिलकर उस शहर को मनाए और किसी भी कोई भी आयोजन किया जा रहा है तो उस आयोजन को भी सभी के सहयोग से पूरा करने की कोशिश करें आपस में लगाओ सा हो जाता है और इसमें हिस्सा बढ़ने का चांसेस बहुत कम हो जाता है निशा पांडे का मेन कारण जो है एक तो आक्रोश है और दूसरा चीज जो है जैसे भ्रष्टाचार बढ़ता है तो मुझसे करके जिला लोगों के मन में एक द्वेष की भावना पैदा होती है जैसे कोई वैकेंसी निकली है कोई आ पहुंच के कारण और पैसों की कमी के कारण जो टैलेंटेड बच्चे हैं वह किसी रह जाते हैं और जो पैसे के बल पर निशा के बल पर पहुंचकर बल पर वह पद हासिल कर लेते तो कई गरीब तबके के लोग हैं और इंसान नहीं है कि ऐसे लोगों को साथ लेकर चली और जितना हो सके उतना ही भ्रष्ट लोगों को चुनिए और कम कीजिए बिल्कुल खत्म तो नहीं हो सकतीMera Manana Hai Ki In Sabvap Khatam Nahi Kar Paoge Haan Usko Kam Karne Ka Sambhav Prayas Kiya Ja Sakta Hai Yadi Hum Ek Sangathan Ke Taur Par Kaam Karen Jaise Ki Hum Jis Mohalle Mein Gav Mein Rehte Hain Us Mohalle Us Gav Ke Logon Ko Yuva Varg Ko Ek Dusre Ke Saath Jod Kar Rakhi Hai Koi Bhi Parvaah Hota Hai Aur Aata Hai Usamen Aap Sab Ek Saath Milkar Us Sheher Ko Manaye Aur Kisi Bhi Koi Bhi Aayojan Kiya Ja Raha Hai To Us Aayojan Ko Bhi Sabhi Ke Sahyog Se Pura Karne Ki Koshish Karen Aapas Mein Lagao Sa Ho Jata Hai Aur Isme Hissa Badhne Ka Chances Bahut Kam Ho Jata Hai Nisha Pandey Ka Main Kaaran Jo Hai Ek To Aakrosh Hai Aur Doosra Cheez Jo Hai Jaise Bhrashtachar Badhta Hai To Mujhse Karke Jila Logon Ke Man Mein Ek Dvesh Ki Bhavna Paida Hoti Hai Jaise Koi Vacancy Nikli Hai Koi Aa Pahunch Ke Kaaran Aur Paison Ki Kami Ke Kaaran Jo Talented Bacche Hain Wah Kisi Rah Jaate Hain Aur Jo Paise Ke Bal Par Nisha Ke Bal Par Pahunchakar Bal Par Wah Pad Hasil Kar Lete To Kai Garib Tabke Ke Log Hain Aur Insaan Nahi Hai Ki Aise Logon Ko Saath Lekar Chali Aur Jitna Ho Sake Utana Hi Bhrasht Logon Ko Chuniye Aur Kam Kijiye Bilkul Khatam To Nahi Ho Sakti
Likes  35  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां हिंसा को खत्म करना संभव है पर्सन तक संभव है और यह हिंसा को मेरे ख्याल से सिर्फ बीएसपी की गवर्नमेंट ही कम कर सकती है...
जवाब पढ़िये
जी हां हिंसा को खत्म करना संभव है पर्सन तक संभव है और यह हिंसा को मेरे ख्याल से सिर्फ बीएसपी की गवर्नमेंट ही कम कर सकती हैG Haan Hinsa Ko Khatam Karna Sambhav Hai Person Tak Sambhav Hai Aur Yeh Hinsa Ko Mere Khayal Se Sirf Bsp Ki Government Hi Kam Kar Sakti Hai
Likes  10  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

निश्चित ही अमित शाह को खत्म कर सकते हैं उसके लिए हमें अपने मानव समाज को और शिक्षित बनाना होगा हमें उसको आध्यात्मिक ए तो प्रशिक्षित बनाना होगा हम निरंतर ही भौतिक विज्ञान की तरफ मनुष्य को अग्रसर कर रहे ...
जवाब पढ़िये
निश्चित ही अमित शाह को खत्म कर सकते हैं उसके लिए हमें अपने मानव समाज को और शिक्षित बनाना होगा हमें उसको आध्यात्मिक ए तो प्रशिक्षित बनाना होगा हम निरंतर ही भौतिक विज्ञान की तरफ मनुष्य को अग्रसर कर रहे हैं लेकिन भौतिक विज्ञान बुद्धि पर काम करता है विवेक पर नहीं ध्यान रहे बुद्धि और विवेक में अंतर है हम बुद्धि की तरफ बढ़े लेकिन विवेकता हमारे अंदर नहीं आ रही है आध्यात्मिक शक्ति को बढ़ावा देना जरूरी है विज्ञान के तौर पर हम आध्यात्मिक शक्ति को विज्ञान के तौर पर बढ़ावा दे सकते हैं और इंसान जैसी करो जैसी भाई लोग लालच के अंदर क्यों मारे गलत विचार इन को खत्म किया जा सकता है हमें भौतिक विज्ञान और आध्यात्मिक विज्ञान को साथ में लेकर चलना होगा हमें मानव जीवन को और भी सरल और और भी प्रेम से भर सकते हैं और इसमें करुणा भर सकते हैं हमें अपनी शिक्षा पद्धति बदलनी होगी उदाहरण के लिए जब कोई छोटा सा बच्चा पलता है जन्म लेने के बाद उसके अंदर की चीजे झंकार यह क्रोध यह लालजी चीजें कहां से आती है वह समाज उसको देता है घर में देखता है अपने मां बाप को को कॉल करते हुए लड़ते हुए समाज में देखता है इन चीजों को धीरे धीरे उसके अंदर यह चीजें पड़ती है अगर यह जीवन इस बच्चे को कहीं भी अलग जगह कहीं पर को हमनेNishchit Hi Amit Shah Ko Khatam Kar Sakte Hain Uske Liye Hume Apne Manav Samaaj Ko Aur Shikshit Banana Hoga Hume Usko Aadhyatmik A To Prashikshit Banana Hoga Hum Nirantar Hi Bhautik Vigyan Ki Taraf Manushya Ko Agrasar Kar Rahe Hain Lekin Bhautik Vigyan Buddhi Par Kaam Karta Hai Vivek Par Nahi Dhyan Rahe Buddhi Aur Vivek Mein Antar Hai Hum Buddhi Ki Taraf Badhe Lekin Vivekata Hamare Andar Nahi Aa Rahi Hai Aadhyatmik Shakti Ko Badhawa Dena Zaroori Hai Vigyan Ke Taur Par Hum Aadhyatmik Shakti Ko Vigyan Ke Taur Par Badhawa De Sakte Hain Aur Insaan Jaisi Karo Jaisi Bhai Log Lalach Ke Andar Kyon Maare Galat Vichar In Ko Khatam Kiya Ja Sakta Hai Hume Bhautik Vigyan Aur Aadhyatmik Vigyan Ko Saath Mein Lekar Chalna Hoga Hume Manav Jeevan Ko Aur Bhi Saral Aur Aur Bhi Prem Se Bhar Sakte Hain Aur Isme Karuna Bhar Sakte Hain Hume Apni Shiksha Paddhatee Badalni Hogi Udaharan Ke Liye Jab Koi Chota Sa Baccha Palotaa Hai Janm Lene Ke Baad Uske Andar Ki Cheeje Jhankar Yeh Krodh Yeh Lalji Cheezen Kahaan Se Aati Hai Wah Samaaj Usko Deta Hai Ghar Mein Dekhta Hai Apne Maa Baap Ko Ko Call Karte Huye Ladtey Huye Samaaj Mein Dekhta Hai In Chijon Ko Dhire Dhire Uske Andar Yeh Cheezen Padhti Hai Agar Yeh Jeevan Is Bacche Ko Kahin Bhi Alag Jagah Kahin Par Ko Humne
Likes  27  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज हमारे देश में बहुत सारी समस्याएं हैं और उन समस्याओं में प्रमुख समस्याएं हिंसा आज सभी लोग हिंसा के प्रति ज्यादा आकर्षित हो जाते हैं ना कि शांति से कोई करने की कोशिश करता है तो क्या फर्क पड़ जाएगा बा...
जवाब पढ़िये
आज हमारे देश में बहुत सारी समस्याएं हैं और उन समस्याओं में प्रमुख समस्याएं हिंसा आज सभी लोग हिंसा के प्रति ज्यादा आकर्षित हो जाते हैं ना कि शांति से कोई करने की कोशिश करता है तो क्या फर्क पड़ जाएगा बाकी सारी दुनिया तो ऐसा नहीं कर रही है और बात सही है अगर एक इंसान भी अपनी तरफ से कोशिश करता है ऐसा करने की अहिंसक रहने की शांति बनाए रखने की कुछ लोग और उससे जुड़ते हैं और इस तरह जूते जूते कारवां बन जाता है लेकिन कहीं ना कहीं यह भावना लुप्त होती जा रही है यह संभव है अगर हम चाहे हम भूले तो हम ही कर सकते हैं और खत्म करना हर चीज का एक लाख की शुरुआत करना पहला कदम है जिसकी हमें कोशिश करनी चाहिए और अगर नहीं करनी है मुझे नहीं करनी है मुझे झगड़ा नहीं करना है इसे हर दिल को समझाना है तो सामने वाले चाहे कितना ही चाहे वह आपसे अहिंसा के साथ बात करने की कोशिश करेगा क्योंकि आप हमेशा शांत है चुप हैं और हिंसा को बढ़ावा नहीं दे रही है हम सबको मिलकर करनी पड़ेगी और अगर हम सब एक हो जाए हमारे विचार एक हो जाए अगर वाकई में शांति चाहते हैं अपने देश में अच्छा माहौल चाहते हैं अपनी वीडियो को देना चाहते हैं तो हमें यह करनाAaj Hamare Desh Mein Bahut Saree Samasyaen Hain Aur Un Samasyaon Mein Pramukh Samasyaen Hinsa Aaj Sabhi Log Hinsa Ke Prati Zyada Aakarshit Ho Jaate Hain Na Ki Shanti Se Koi Karne Ki Koshish Karta Hai To Kya Fark Padh Jayega Baki Saree Duniya To Aisa Nahi Kar Rahi Hai Aur Baat Sahi Hai Agar Ek Insaan Bhi Apni Taraf Se Koshish Karta Hai Aisa Karne Ki Ahinsak Rehne Ki Shanti Banaye Rakhne Ki Kuch Log Aur Usse Judate Hain Aur Is Tarah Jute Jute Karavan Ban Jata Hai Lekin Kahin Na Kahin Yeh Bhavna Lupt Hoti Ja Rahi Hai Yeh Sambhav Hai Agar Hum Chahe Hum Bhule To Hum Hi Kar Sakte Hain Aur Khatam Karna Har Cheez Ka Ek Lakh Ki Shuruvat Karna Pehla Kadam Hai Jiski Hume Koshish Karni Chahiye Aur Agar Nahi Karni Hai Mujhe Nahi Karni Hai Mujhe Jhagda Nahi Karna Hai Ise Har Dil Ko Samajhana Hai To Samane Wali Chahe Kitna Hi Chahe Wah Aapse Ahinsha Ke Saath Baat Karne Ki Koshish Karega Kyonki Aap Hamesha Shaant Hai Chup Hain Aur Hinsa Ko Badhawa Nahi De Rahi Hai Hum Sabko Milkar Karni Padegi Aur Agar Hum Sab Ek Ho Jaye Hamare Vichar Ek Ho Jaye Agar Vaakai Mein Shanti Chahte Hain Apne Desh Mein Accha Maahaul Chahte Hain Apni Video Ko Dena Chahte Hain To Hume Yeh Karna
Likes  18  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के कुछ तत्व ऐसे होते हैं जिन्हें खत्म तो नहीं किया जा सकता पर मुझे लगता है उन्हें कम जरूर किया जा सकता है और जो मेरा विचार यह है कि हिंसा को कम तो हम जरूर कर सकते हैं और उसका तरीका है क्या आपस में ...
जवाब पढ़िये
आज के कुछ तत्व ऐसे होते हैं जिन्हें खत्म तो नहीं किया जा सकता पर मुझे लगता है उन्हें कम जरूर किया जा सकता है और जो मेरा विचार यह है कि हिंसा को कम तो हम जरूर कर सकते हैं और उसका तरीका है क्या आपस में अंडरस्टैंडिंग ज्यादा बढ़ा है अगर हम आपसे समझ को याद रखेंगे तो हम समझ जाएगा फिर सामने वाला कहना क्या चाह रहा है और हमें हिंसा करना नहीं पड़ेगा तो यह हमारे लिए बहुत बड़ा एडवांटेज हो जाएगा अगर हम एक दूसरे को समझ पाएंगे और उसे साफ सब हिंसा कम जरूर कर सकता है जो पूरी तरह खत्म करना मुझे नहीं पता कि संभव है कुछ ऐसे होते हैं जो मतलब होती है शुरुआत से और उनका होना भी एक रीजन होता है तो मुझे लगता है इन सब एक ऐसी चीज है जो शादी हो चली आ रही है यह तो मैं भी होती है हर वक्त हो गया है तो उसे खत्म कर पाना मुश्किल है पूरा काम जरूर कर सकते हैं हम सब हम सब मिलकर अपनी समझ पढ़ा देंगे तोAaj Ke Kuch Tatva Aise Hote Hain Jinhen Khatam To Nahi Kiya Ja Sakta Par Mujhe Lagta Hai Unhen Kam Jarur Kiya Ja Sakta Hai Aur Jo Mera Vichar Yeh Hai Ki Hinsa Ko Kam To Hum Jarur Kar Sakte Hain Aur Uska Tarika Hai Kya Aapas Mein Understanding Zyada Badha Hai Agar Hum Aapse Samajh Ko Yaad Rakhenge To Hum Samajh Jayega Phir Samane Vala Kehna Kya Chah Raha Hai Aur Hume Hinsa Karna Nahi Padega To Yeh Hamare Liye Bahut Bada Advantage Ho Jayega Agar Hum Ek Dusre Ko Samajh Payenge Aur Use Saaf Sab Hinsa Kam Jarur Kar Sakta Hai Jo Puri Tarah Khatam Karna Mujhe Nahi Pata Ki Sambhav Hai Kuch Aise Hote Hain Jo Matlab Hoti Hai Shuruvat Se Aur Unka Hona Bhi Ek Reason Hota Hai To Mujhe Lagta Hai In Sab Ek Aisi Cheez Hai Jo Shadi Ho Chali Aa Rahi Hai Yeh To Main Bhi Hoti Hai Har Waqt Ho Gaya Hai To Use Khatam Kar Pana Mushkil Hai Pura Kaam Jarur Kar Sakte Hain Hum Sab Hum Sab Milkar Apni Samajh Padha Denge To
Likes  10  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

......
जवाब पढ़िये
...
Likes  35  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे सबसे हिंसा को खत्म कर ना सके नहीं है क्योंकि हिंसा जो होती है वह इंसान के अंदर का एक प्रकार का स्वभाव होता कुछ लोगों का स्वभाव ही जो होता है बाय नेचर बाय बाय नेचर उनका उस प्रकार संसद लोकसभा वतन स...
जवाब पढ़िये
मेरे सबसे हिंसा को खत्म कर ना सके नहीं है क्योंकि हिंसा जो होती है वह इंसान के अंदर का एक प्रकार का स्वभाव होता कुछ लोगों का स्वभाव ही जो होता है बाय नेचर बाय बाय नेचर उनका उस प्रकार संसद लोकसभा वतन से आप बदल नहीं सकते लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि हिंसा का जो वातावरण को कभी कम नहीं होगा आप जो इस वातावरण को कम जरूर कर सकते हैं इसके जो इंसेंटिसाइड इंटेंसिटी आफ रीवा की हानि हो रही है लोगों की उसे जो है बिल्कुल कम कर सकते हो लेकिन पूरी तरह से जो हिंसा कभी भी खत्म नहीं हो सकतीMere Sabse Hinsa Ko Khatam Kar Na Sake Nahi Hai Kyonki Hinsa Jo Hoti Hai Wah Insaan Ke Andar Ka Ek Prakar Ka Swabhav Hota Kuch Logon Ka Swabhav Hi Jo Hota Hai By Nature By By Nature Unka Us Prakar Sansad Lok Sabha Vatan Se Aap Badal Nahi Sakte Lekin Iska Matlab Yeh Nahi Ki Hinsa Ka Jo Vatavaran Ko Kabhi Kam Nahi Hoga Aap Jo Is Vatavaran Ko Kam Jarur Kar Sakte Hain Iske Jo Insentisaid Intensity Of Reeva Ki Hani Ho Rahi Hai Logon Ki Use Jo Hai Bilkul Kam Kar Sakte Ho Lekin Puri Tarah Se Jo Hinsa Kabhi Bhi Khatam Nahi Ho Sakti
Likes  32  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जो हिंसा आतंकवाद नफरत ही सब कुछ चीजें हैं यह सब इंसानों की बनाई हुई है और इंसानों को बनाया वैसा कुछ भी नहीं है जो कौन से दो हर किसी को खत्म किया जा सकता है और आज के समय को देखते हुए हिंसा और हिट...
जवाब पढ़िये
देखिए जो हिंसा आतंकवाद नफरत ही सब कुछ चीजें हैं यह सब इंसानों की बनाई हुई है और इंसानों को बनाया वैसा कुछ भी नहीं है जो कौन से दो हर किसी को खत्म किया जा सकता है और आज के समय को देखते हुए हिंसा और हिटलर जितने ज्यादा बढ़ गई है वक्त की जरूरत यही है कि से खत्म कर दिया जाए जड़े हैं हमारे समाज की उसी को क्लिक कर रही है आज के समय में हिंसा हर प्रकार के धर्म को लेकर जाति को लेकर प्यार को लेकर भी लोग जो खेलेंगे इस तरह की बात है उसको लेकर भी ज्यादा तुझे खत्म करना बहुत ज्यादा जरूरी है खत्म कैसे किया जा सकता है वह यह कि मुझे लगता है बहुत सोंग्स वह सिर्फ और सिर्फ एजुकेशन अगर आप बच्चों को लोगों को एजुकेट करेंगे उनको पढ़ेंगे लिखेंगे समझ आएंगे उन्हें जरूरत वक्त की और कैसे यह चीज गलत है तो वह समझेंगे जो पढ़ा लिखा हुआ है वह बिल्कुल भी वरुण नहीं चाहेगा अट लीस्ट प्राइम लूपर बाद में वह अलग बात है कि जो यह आतंकवादी है या जो इशिता पर आते हैं यह लोग पर सेट कर लेते हैं लेकिन इस चांसेस कम हो जाएंगे एजुकेट करना ही ऐसा शुरू से मुझे लगता है जिसकी वजह से हिंसा जैसे कि से खत्म हो सकती हैंDekhie Jo Hinsa Aatankwad Nafrat Hi Sab Kuch Cheezen Hain Yeh Sab Insanon Ki Banai Hui Hai Aur Insanon Ko Banaya Waisa Kuch Bhi Nahi Hai Jo Kaon Se Do Har Kisi Ko Khatam Kiya Ja Sakta Hai Aur Aaj Ke Samay Ko Dekhte Huye Hinsa Aur Hitler Jitne Zyada Badh Gayi Hai Waqt Ki Zaroorat Yahi Hai Ki Se Khatam Kar Diya Jaye Jade Hain Hamare Samaaj Ki Ussi Ko Click Kar Rahi Hai Aaj Ke Samay Mein Hinsa Har Prakar Ke Dharm Ko Lekar Jati Ko Lekar Pyar Ko Lekar Bhi Log Jo Khelenge Is Tarah Ki Baat Hai Usko Lekar Bhi Zyada Tujhe Khatam Karna Bahut Zyada Zaroori Hai Khatam Kaise Kiya Ja Sakta Hai Wah Yeh Ki Mujhe Lagta Hai Bahut Songs Wah Sirf Aur Sirf Education Agar Aap Bacchon Ko Logon Ko EDUCATE Karenge Unko Padhenge Likhenge Samajh Aayenge Unhen Zaroorat Waqt Ki Aur Kaise Yeh Cheez Galat Hai To Wah Samjhenge Jo Padha Likha Hua Hai Wah Bilkul Bhi Varun Nahi Chahega At Least Prime Lupar Baad Mein Wah Alag Baat Hai Ki Jo Yeh Aatankwadi Hai Ya Jo Ishita Par Aate Hain Yeh Log Par Set Kar Lete Hain Lekin Is Chances Kam Ho Jaenge EDUCATE Karna Hi Aisa Shuru Se Mujhe Lagta Hai Jiski Wajah Se Hinsa Jaise Ki Se Khatam Ho Sakti Hain
Likes  22  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Hinsa Ko Khatam Karna Sambhav Hai

vokalandroid