क्या आपको लगता है कि भगवान एक भौतिक अंतरिक्ष में रहता है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जहां तक भगवान जी की बात आती हैं भगवान तो है यह सबको पता है पर कहां है किस रूप में है कौन सी दुनिया में है इसी दुनिया में है वह कहां से देख रहे हैं कहां से हमारे जो है करनी और हमें गाइड कर रहे है...जवाब पढ़िये
देखिए जहां तक भगवान जी की बात आती हैं भगवान तो है यह सबको पता है पर कहां है किस रूप में है कौन सी दुनिया में है इसी दुनिया में है वह कहां से देख रहे हैं कहां से हमारे जो है करनी और हमें गाइड कर रहे हैं यह किसी को नहीं पता है जो आपको सही और गलत में और आपका जो है करवा डिसाइड करती है आप जैसा करोगे वैसा भरोगे कहना यह सही होगा जैसा बोओगे वैसा फल पाओगे भी यही है कर्म यही है और जो होगा कि एक अच्छी राह पर चलना एक वह जो भगवान जो रास्ते को गाइड कर रहे हैं उस पथ पर चलना सही को सही का साथ देना पॉजिटिव रहनाDekhie Jahan Tak Bhagwan Ji Ki Baat Aati Hain Bhagwan To Hai Yeh Sabko Pata Hai Par Kahan Hai Kis Roop Mein Hai Kaun Si Duniya Mein Hai Isi Duniya Mein Hai Wah Kahan Se Dekh Rahe Hain Kahan Se Hamare Jo Hai Karni Aur Hume Guide Kar Rahe Hain Yeh Kisi Ko Nahi Pata Hai Jo Aapko Sahi Aur Galat Mein Aur Aapka Jo Hai Karava Decide Karti Hai Aap Jaisa Karoge Waisa Bharoge Kehna Yeh Sahi Hoga Jaisa Booge Waisa Fal Paoge Bhi Yahi Hai Karm Yahi Hai Aur Jo Hoga Ki Ek Acchi Raah Par Chalna Ek Wah Jo Bhagwan Jo Raste Ko Guide Kar Rahe Hain Us Path Par Chalna Sahi Ko Sahi Ka Saath Dena Positive Rehna
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विवेक चने की सबसे पहली चीज तो मैं भगवान कोई व्यक्ति है जो बैठकर सब देख रहा है और जिसके हाथ में सब कुछ है मैं इस चीज में बिलीव नहीं करती मेरे हिसाब से कोई स्प्रिचुअल एनर्जी है कोई पॉजिटिव एनर्जी हमारे ...जवाब पढ़िये
विवेक चने की सबसे पहली चीज तो मैं भगवान कोई व्यक्ति है जो बैठकर सब देख रहा है और जिसके हाथ में सब कुछ है मैं इस चीज में बिलीव नहीं करती मेरे हिसाब से कोई स्प्रिचुअल एनर्जी है कोई पॉजिटिव एनर्जी हमारे एनवायरनमेंट में है भगवान कहना उसे ठीक नहीं होगा मुझे ऐसा नहीं लगता कि अगर हमने इस जन्म में कुछ गलत किया है तो भगवान हमें स्वर्ग या नर्क देंगे उस हिसाब से मैं यहां बिलीव नहीं करती पर मैं यह जरूर बिलीव करती की जरूरत एक एनर्जी है एक पॉजिटिव एनर्जी है जो हमें गाइड करती रहती है वह हमारे अंदर से निकलते बनर्जी तो भगवान के एक दूसरे से मिल जाता बिलीव नहीं है इसे डिस्टेंस में कि वह बैठकर हमारे सारे काम देखते रहते हैं अगर वह है तो वह कहीं ना कहीं तो रहते ही होंगे वैसे भी हमें पाकिस्तान इसके बारे में कुछ पता नहीं है कि वहां पर लाइफ कैसी है मार्च के बारे में जाना शुरू किया है लेकिन बहुत रिपेयर 14 कम पहुंच ही नहीं सकते अब तक तो नहीं पहुंच सकते तो हो तो तोVivek Chane Ki Sabse Pehli Cheez To Main Bhagwan Koi Vyakti Hai Jo Baithkar Sab Dekh Raha Hai Aur Jiske Hath Mein Sab Kuch Hai Main Is Cheez Mein Believe Nahi Karti Mere Hisab Se Koi Sprichual Energy Hai Koi Positive Energy Hamare Environment Mein Hai Bhagwan Kehna Use Theek Nahi Hoga Mujhe Aisa Nahi Lagta Ki Agar Humne Is Janm Mein Kuch Galat Kiya Hai To Bhagwan Hume Swarg Ya Nark Denge Us Hisab Se Main Yahan Believe Nahi Karti Par Main Yeh Jarur Believe Karti Ki Zaroorat Ek Energy Hai Ek Positive Energy Hai Jo Hume Guide Karti Rehti Hai Wah Hamare Andar Se Nikalte Banerjee To Bhagwan Ke Ek Dusre Se Mil Jata Believe Nahi Hai Ise Distance Mein Ki Wah Baithkar Hamare Sare Kaam Dekhte Rehte Hain Agar Wah Hai To Wah Kahin Na Kahin To Rehte Hi Honge Waise Bhi Hume Pakistan Iske Baare Mein Kuch Pata Nahi Hai Ki Wahan Par Life Kaisi Hai March Ke Baare Mein Jana Shuru Kiya Hai Lekin Bahut Repair 14 Kum Pahunch Hi Nahi Sakte Ab Tak To Nahi Pahunch Sakte To Ho To To
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय दर्शन में भगवान के स्वरुप को लेकर काफी अलग-अलग धारणाएं हैं पर जो अद्वैत वेदांत है उसके सिद्धांतों की रात से भगवान या फिर ब्राह्मण जो अंतिम अलौकिक शक्ति है वह भौतिक अंतरिक्ष के अंदर भी है और भौत...जवाब पढ़िये
भारतीय दर्शन में भगवान के स्वरुप को लेकर काफी अलग-अलग धारणाएं हैं पर जो अद्वैत वेदांत है उसके सिद्धांतों की रात से भगवान या फिर ब्राह्मण जो अंतिम अलौकिक शक्ति है वह भौतिक अंतरिक्ष के अंदर भी है और भौतिक अंतरिक्ष के परिधि है और भौतिक अंतरिक्ष में अध्ययन की है कहता है कोई एक जगह नहीं है जो ब्राह्मण को रोक सकती है तो भौतिक अंतरिक्ष खुद भी ब्राह्मण का ही अंग है क्योंकि ब्राह्मण पूरे अंतरिक्ष में विद्यमान है कोई भी ऐसी जगह नहीं है बहुत अंतरिक्ष में जहां ब्राह्मण नहीं हैBhartiya Darshan Mein Bhagwan Ke Swarup Ko Lekar Kafi Alag Alag Dharnae Hain Par Jo Advait Vedant Hai Uske Siddhanto Ki Raat Se Bhagwan Ya Phir Brahman Jo Antim Alaukik Shakti Hai Wah Bhautik Antariksh Ke Andar Bhi Hai Aur Bhautik Antariksh Ke Paridhi Hai Aur Bhautik Antariksh Mein Adhyayan Ki Hai Kahata Hai Koi Ek Jagah Nahi Hai Jo Brahman Ko Rok Sakti Hai To Bhautik Antariksh Khud Bhi Brahman Ka Hi Ang Hai Kyonki Brahman Poore Antariksh Mein Vidyaman Hai Koi Bhi Aisi Jagah Nahi Hai Bahut Antariksh Mein Jahan Brahman Nahi Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां मुझे लगता है कि भगवान 1 घंटे का अंतरिक्ष में रहता है वह इस दुनिया में जैसे ही जैसे हैं वैसे दिखते ही नहीं है लेकिन वह एक बहुत पॉजिटिव एनर्जी होता है जो अपने अंदर होता है अब आप जरा सोचिए कि अगर किस...जवाब पढ़िये
हां मुझे लगता है कि भगवान 1 घंटे का अंतरिक्ष में रहता है वह इस दुनिया में जैसे ही जैसे हैं वैसे दिखते ही नहीं है लेकिन वह एक बहुत पॉजिटिव एनर्जी होता है जो अपने अंदर होता है अब आप जरा सोचिए कि अगर किसी ने आपको मदद किया तो आप कहते हैं कि वह थैंक गॉड या आप भगवान जैसे मुझे मदद किए थे तो ऐसी बात होती है तो भगवान जरूर ही होता है आपको अगर भगवान में यकीन नहीं है तो बस आपको ही इसमें यकीन करना है कि हमेशा हमारे लिए पॉजिटिव एनर्जी होता है जो इस पूरी दुनिया को बंद कर दे और एक रहता हैHaan Mujhe Lagta Hai Ki Bhagwan 1 Ghante Ka Antariksh Mein Rehta Hai Wah Is Duniya Mein Jaise Hi Jaise Hain Waise Dikhte Hi Nahi Hai Lekin Wah Ek Bahut Positive Energy Hota Hai Jo Apne Andar Hota Hai Ab Aap Jara Sochie Ki Agar Kisi Ne Aapko Madad Kiya To Aap Kehte Hain Ki Wah Thank God Ya Aap Bhagwan Jaise Mujhe Madad Kiye The To Aisi Baat Hoti Hai To Bhagwan Jarur Hi Hota Hai Aapko Agar Bhagwan Mein Yakin Nahi Hai To Bus Aapko Hi Isme Yakin Karna Hai Ki Hamesha Hamare Liye Positive Energy Hota Hai Jo Is Puri Duniya Ko Band Kar De Aur Ek Rehta Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज की आधुनिकता का भत्ता ने मानव बुद्धि का हरण कर लिया है इस सब कुछ तो प्रमाण जाते हैं यदि ईश्वर है वह कहीं रहता है तो उसको प्रमाण दीजिए यदि प्रत्यक्ष नहीं दिखता तो वह होता ही नहीं है यह लोग की सबसे बड...जवाब पढ़िये
आज की आधुनिकता का भत्ता ने मानव बुद्धि का हरण कर लिया है इस सब कुछ तो प्रमाण जाते हैं यदि ईश्वर है वह कहीं रहता है तो उसको प्रमाण दीजिए यदि प्रत्यक्ष नहीं दिखता तो वह होता ही नहीं है यह लोग की सबसे बड़ी गलतफहमी है पता नहीं किस युग में जी रहे हैं याद रखिएगा यदि मनुष्य हैं तो हमारे एक हाथ में धर्म दूसरे हाथ में विज्ञान रहना चाहिए अभी तक है वरना जानवरों में हमारे में कोई फर्क नहीं रह जाएगा ईश्वर को जानना है ईश्वर के निवास स्थान को जानना है तो आपको विवेकानंद बनना होगा और रामकृष्ण परमहंस को ढूंढना होगा विवेकानंद विवेकानंद बनने के पहले पर विश्वास नहीं करते किंतु बाद में विश्वास की है पूरे विश्व में प्रचार किया जा सकता है कि स्वर होता है मैंने खुदा से तुझे खुद ढूंढना है कुछ ऐसे व्यक्तियों को जो बताते हैं प्रत्येक व्यक्ति किशोर कहां है क्या कर रहा है लेकिन ऐसे व्यक्ति बहुत कम है तो आपको भी छोड़ना चाहिए आप स्वयं के द्वारा इन प्रश्नों के उत्तर पा सकते हैं क्योंकि दूसरे के द्वारा बताए जाने पर विश्वास नहीं करेंगे आज इतने ही श्रेष्ठ पुरुष होते हैं जो ऐश्वर्या दर्शAaj Ki Adhunikata Ka Bhatta Ne Manav Buddhi Ka Haran Kar Liya Hai Is Sab Kuch To Pramaan Jaate Hain Yadi Ishwar Hai Wah Kahin Rehta Hai To Usko Pramaan Dijiye Yadi Pratyaksh Nahi Dikhta To Wah Hota Hi Nahi Hai Yeh Log Ki Sabse Badi Galatfahamee Hai Pata Nahi Kis Yug Mein Ji Rahe Hain Yaad Rakhiegaa Yadi Manushya Hain To Hamare Ek Hath Mein Dharm Dusre Hath Mein Vigyan Rehna Chahiye Abhi Tak Hai Varana Jaanvaro Mein Hamare Mein Koi Fark Nahi Rah Jayega Ishwar Ko Janana Hai Ishwar Ke Niwas Sthan Ko Janana Hai To Aapko Vivekananda Banana Hoga Aur Ramkrishna Paramhans Ko Dhundhana Hoga Vivekananda Vivekananda Banane Ke Pehle Par Vishwas Nahi Karte Kintu Baad Mein Vishwas Ki Hai Poore Vishwa Mein Prachar Kiya Ja Sakta Hai Ki Swar Hota Hai Maine Khuda Se Tujhe Khud Dhundhana Hai Kuch Aise Vyaktiyon Ko Jo Batatey Hain Pratyek Vyakti Kishore Kahan Hai Kya Kar Raha Hai Lekin Aise Vyakti Bahut Kum Hai To Aapko Bhi Chodna Chahiye Aap Swayam Ke Dwara In Prashnon Ke Uttar Pa Sakte Hain Kyonki Dusre Ke Dwara Bataye Jaane Par Vishwas Nahi Karenge Aaj Itne Hi Shreshtha Purush Hote Hain Jo Aishwarya Darsh
Likes  6  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Aapko Lagta Hai Ki Bhagwan Ek Bhautik Antariksh Mein Rehta Hai, Do You Think That God Lives In A Physical Space?

vokalandroid