क्या कम महिला अधिकारी होना एक कारण है कि भारतीय महिलाएँ पुलिस स्टेशन जाने में असहज महसूस करती हैं? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मैं इस बात से पूरी तरीके से सहमत नहीं हूं कि महिला अधिकारी जो है वह कम होने की वजह से पुलिस जो भारतीय महिलाएं हैं वह पुलिस स्टेशन जाने में असहज महसूस करती हैं मैं समझता हूं कि कोई भी व्यक्ति जो ...जवाब पढ़िये
देखिए मैं इस बात से पूरी तरीके से सहमत नहीं हूं कि महिला अधिकारी जो है वह कम होने की वजह से पुलिस जो भारतीय महिलाएं हैं वह पुलिस स्टेशन जाने में असहज महसूस करती हैं मैं समझता हूं कि कोई भी व्यक्ति जो एक ही चाहे वह इंसान नामर्द हो औरत हो या कोई भी हो वह बहुत ही ज्यादा वह पुलिस स्टेशन जाने में असहज महसूस करता क्योंकि पुलिस ने जो 25 वर्ष होते उनका रवैया और उनका व्यवहार बहुत ही खराब रहता है आम जनता के लिए वह स्वयं इस तरीके के बीच में काम करते हैं और उनका खुद इतना ज्यादा हिम्मत ईशान होता है कि कोई भी जनता आती उसके साथ अच्छा व्यवहार नहीं करते हैं तो कोई भी व्यक्ति जो है वह पुलिस स्टेशन जाना नहीं चाहता और अवार्ड करना चाहता पुलिस स्टेशन क्योंकि उसको दिखाइए सीमेंट लगता है और इसलिए यह बात से भक्ति महिलाओं पर ही लागू नहीं होती है मुख्य तौर पर मैं समझता हूं कि पुलिस वालों को एक ट्रेनिंग देने की जरूरत है और वह ट्रेनिंग से उनको एक जो भी वियर है कि पब्लिक के साथ कैसे पटाया जाए उसमें उनको ट्रेनिंग दी जानी चाहिए ताकि मर्द या औरत हर एक आदमी वहां परDekhie Main Is Baat Se Puri Tarike Se Sahmat Nahi Hoon Ki Mahila Adhikari Jo Hai Wah Kum Hone Ki Wajah Se Police Jo Bhartiya Mahilaye Hain Wah Police Station Jaane Mein Asahaj Mahsus Karti Hain Main Samajhata Hoon Ki Koi Bhi Vyakti Jo Ek Hi Chahe Wah Insaan Namard Ho Aurat Ho Ya Koi Bhi Ho Wah Bahut Hi Jyada Wah Police Station Jaane Mein Asahaj Mahsus Karta Kyonki Police Ne Jo 25 Varsh Hote Unka Ravaiya Aur Unka Vyavhar Bahut Hi Kharab Rehta Hai Aam Janta Ke Liye Wah Swayam Is Tarike Ke Beech Mein Kaam Karte Hain Aur Unka Khud Itna Jyada Himmat Ishan Hota Hai Ki Koi Bhi Janta Aati Uske Saath Accha Vyavhar Nahi Karte Hain To Koi Bhi Vyakti Jo Hai Wah Police Station Jana Nahi Chahta Aur Award Karna Chahta Police Station Kyonki Usko Dikhaaiye Cement Lagta Hai Aur Isliye Yeh Baat Se Bhakti Mahilaon Par Hi Laagu Nahi Hoti Hai Mukhya Taur Par Main Samajhata Hoon Ki Police Walon Ko Ek Training Dene Ki Zaroorat Hai Aur Wah Training Se Unko Ek Jo Bhi Wear Hai Ki Public Ke Saath Kaise Pataya Jaye Usamen Unko Training Di Jani Chahiye Taki Mard Ya Aurat Har Ek Aadmi Wahan Par
Likes  17  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपकी यह बात बिल्कुल सही है कि पुलिस स्टेशन में इतने जो नामर्द होते हैं इतने इंस्पेक्टर ग्रह होते हैं मेल इंस्पेक्टर होते हैं तो इसके कारण महिला जो है जिसके साथ कोई घटना हो चुकी है रेट वगैरा यह सब जैसी...जवाब पढ़िये
आपकी यह बात बिल्कुल सही है कि पुलिस स्टेशन में इतने जो नामर्द होते हैं इतने इंस्पेक्टर ग्रह होते हैं मेल इंस्पेक्टर होते हैं तो इसके कारण महिला जो है जिसके साथ कोई घटना हो चुकी है रेट वगैरा यह सब जैसी बलात्कार रोमांटिक SMS कैसे रिजल्ट बनेंगे कितने ज्यादा लोगों के बीच में तुझे शर्म की भावना होती है महिलाएं किसी महिला के साथ इस तरीके क्राइम लेट हो रहे हैं और इस तरीके की अश्लील बातें करते हो साथ नहीं देते हैं तुम बिन नहीं लिखते हैंAapki Yeh Baat Bilkul Sahi Hai Ki Police Station Mein Itne Jo Namard Hote Hain Itne Inspector Grah Hote Hain Mail Inspector Hote Hain To Iske Kaaran Mahila Jo Hai Jiske Saath Koi Ghatna Ho Chuki Hai Rate Vagaira Yeh Sab Jaisi Balatkar Romantic SMS Kaise Result Banenge Kitne Jyada Logon Ke Beech Mein Tujhe Sharm Ki Bhavna Hoti Hai Mahilaye Kisi Mahila Ke Saath Is Tarike Crime Let Ho Rahe Hain Aur Is Tarike Ki Ashleel Batein Karte Ho Saath Nahi Dete Hain Tum Bin Nahi Likhte Hain
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा नहीं है कि भारत में महिला अधिकार कम है यह तो बिल्कुल गलत होगा क्योंकि जितने ज्यादा अधिकार भारत में महिलाओं को है उसने शायद ही देश दुनिया में किसी और देश में आप देखने को मिलेगा आपको बहुत ही अलग अलग...जवाब पढ़िये
ऐसा नहीं है कि भारत में महिला अधिकार कम है यह तो बिल्कुल गलत होगा क्योंकि जितने ज्यादा अधिकार भारत में महिलाओं को है उसने शायद ही देश दुनिया में किसी और देश में आप देखने को मिलेगा आपको बहुत ही अलग अलग कानून है जैसे कि जब आप जब उनको गिरफ्तार करने के लिए अगर कोई पुलिस की ओर से आएगा तो हम महिला पुलिस का होना बहुत जरूरी है उन्हें को यूंही रोक नहीं सकता इसके अलावा रात में अंधेरा होने के बाद आप उन्हें गिरफ्तार नहीं कर सकते प्लस फांसी की सजा नहीं हो सकती तो बहुत सारी कंडीशन से आग अंदर इंडियन पीनल कोड आप महिलाओं को बहुत सारे अधिकार होता मैंने बहुत वेट किया जाता है ऐसा नहीं करना चाहिए कैसे देखे गए हैं ऐसे में महिलाओं को कहा भी जाता है कि वह पुलिस वालों से दिल ना करें अगर कुछ होता है तो जो घर के जो घर के आदमी लोग होते हैं वही लोग मसले को समझना आपस में सहीAisa Nahi Hai Ki Bharat Mein Mahila Adhikaar Kum Hai Yeh To Bilkul Galat Hoga Kyonki Jitne Jyada Adhikaar Bharat Mein Mahilaon Ko Hai Usne Shayad Hi Desh Duniya Mein Kisi Aur Desh Mein Aap Dekhne Ko Milega Aapko Bahut Hi Alag Alag Kanoon Hai Jaise Ki Jab Aap Jab Unko Giraftar Karne Ke Liye Agar Koi Police Ki Oar Se Aayega To Hum Mahila Police Ka Hona Bahut Zaroori Hai Unhen Ko Yunhi Rok Nahi Sakta Iske Alava Raat Mein Andhera Hone Ke Baad Aap Unhen Giraftar Nahi Kar Sakte Plus Fansi Ki Saja Nahi Ho Sakti To Bahut Saree Condition Se Aag Andar Indian Penal Code Aap Mahilaon Ko Bahut Sare Adhikaar Hota Maine Bahut Wait Kiya Jata Hai Aisa Nahi Karna Chahiye Kaise Dekhe Gaye Hain Aise Mein Mahilaon Ko Kaha Bhi Jata Hai Ki Wah Police Walon Se Dil Na Karen Agar Kuch Hota Hai To Jo Ghar Ke Jo Ghar Ke Aadmi Log Hote Hain Wahi Log Masale Ko Samajhna Aapas Mein Sahi
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां बिल्कुल लेकिन पुलिस स्टेशन में केवल पुलिस वाले ही नहीं वहां काफी सारे अपराधी होते हैं और अपराधियों की नजर कैसी होती है यह महिलाओं को भली भांति पता होता है लेकिन महिला पुलिस स्टेशन में अगर महिला...जवाब पढ़िये
जी हां बिल्कुल लेकिन पुलिस स्टेशन में केवल पुलिस वाले ही नहीं वहां काफी सारे अपराधी होते हैं और अपराधियों की नजर कैसी होती है यह महिलाओं को भली भांति पता होता है लेकिन महिला पुलिस स्टेशन में अगर महिला कॉन्स्टेबल महिला चौकीदार ही रहेंगी तो महिलाओं को भी लगेगा कि हां वहां पर पुलिस स्टेशन में जो केवल पुरुष होंगे तो ऐसा ऐसा महसूस होगा साथ ही एक ऐसी जगह तो केवल मर्दों से भरी हुई है कि वह अच्छी नहीं बुरे मर्दों से भी जिन्होंने पता नहीं कौन-कौन से क्राइम करके वहां पर पहुंचे हैं कि किसी को भी असहज महसूस होगा और महिलाओं को तो और भी ज्यादा असहज महसूस होगा क्योंकि हम एक ऐसी सिचुएशन से पहले बड़े हैं हमने ऐसे से जिले देखे जहां हमने हमेशा इन सिक्योरिटी होती है हमें हमेशा लगता है कि क्या पता अभी इंसान क्या करें हमारी अपनी ऐसी हुई हैJi Haan Bilkul Lekin Police Station Mein Kewal Police Wale Hi Nahi Wahan Kafi Sare Apradhi Hote Hain Aur Apradhiyon Ki Nazar Kaisi Hoti Hai Yeh Mahilaon Ko Bhali Bhanti Pata Hota Hai Lekin Mahila Police Station Mein Agar Mahila Constable Mahila Chaukidaar Hi Rahengi To Mahilaon Ko Bhi Lagega Ki Haan Wahan Par Police Station Mein Jo Kewal Purush Honge To Aisa Aisa Mahsus Hoga Saath Hi Ek Aisi Jagah To Kewal Mardon Se Bhari Hui Hai Ki Wah Acchi Nahi Bure Mardon Se Bhi Jinhone Pata Nahi Kaun Kaun Se Crime Karke Wahan Par Pahuche Hain Ki Kisi Ko Bhi Asahaj Mahsus Hoga Aur Mahilaon Ko To Aur Bhi Jyada Asahaj Mahsus Hoga Kyonki Hum Ek Aisi Situation Se Pehle Bade Hain Humne Aise Se Jile Dekhe Jahan Humne Hamesha In Security Hoti Hai Hume Hamesha Lagta Hai Ki Kya Pata Abhi Insaan Kya Karen Hamari Apni Aisi Hui Hai
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे कहीं ना कहीं एक उन्नाव महिलाओं का काम पुलिस स्टेशन जाने में से एक कारण है कि जब महिला अधिकारी जितनी होनी चाहिए पुलिस स्टेशन में उतनी नहीं होती है वहां पर पुरुष ज्यादा होते हैं तो मुझे लगता है फिर...जवाब पढ़िये
देखे कहीं ना कहीं एक उन्नाव महिलाओं का काम पुलिस स्टेशन जाने में से एक कारण है कि जब महिला अधिकारी जितनी होनी चाहिए पुलिस स्टेशन में उतनी नहीं होती है वहां पर पुरुष ज्यादा होते हैं तो मुझे लगता है फिर भी यहां पर कहीं ना कहीं महिलाओं की भी गलती है उन्हें डरना नहीं चाहिए जिससे उनका के पुलिस स्टेशन जाने का और उनसे कोई बुरा बर्ताव नहीं कर सकता बल्कि कॉन्स्टिट्यूशन हेलो ने हमारे लिए काफी सारे भूत कैसे बनाया जाए मुझे उनकी बहुत मदद करते हैं जैसे कि उनमें से एक है कि आप महिलाओं को ग्राहकों को पूछताछ करनी है तो आप को आप उन्हें पुलिस स्टेशन ना बुलाते हैं तो आप उनके उनके जगह पर जाकर आप उनसे वहां पर पूछताछ कर सकते आप ने एकदम से पुलिस स्टेशन लेकर नहीं जा सकते हैं काफी सारे महिलाओं के लिए छूट दी गई है तो मुझे सर्दी की महिलाओं को डरने की जरूरत नहीं है पर हां कुछ महिलाएं डर जाती है क्योंकि जो पुलिस वाले होते हैं शरीर में बहुत होते हैं वह थोड़े दाने सो जाते हैं और वह थोड़ा बुरा तरीके सेDekhe Kahin Na Kahin Ek Unnaav Mahilaon Ka Kaam Police Station Jaane Mein Se Ek Kaaran Hai Ki Jab Mahila Adhikari Jitni Honi Chahiye Police Station Mein Utani Nahi Hoti Hai Wahan Par Purush Jyada Hote Hain To Mujhe Lagta Hai Phir Bhi Yahan Par Kahin Na Kahin Mahilaon Ki Bhi Galti Hai Unhen Darna Nahi Chahiye Jisse Unka Ke Police Station Jaane Ka Aur Unse Koi Bura Bartaav Nahi Kar Sakta Balki Constitution Hello Ne Hamare Liye Kafi Sare Bhoot Kaise Banaya Jaye Mujhe Unki Bahut Madad Karte Hain Jaise Ki Unmen Se Ek Hai Ki Aap Mahilaon Ko Grahakon Ko Puchhtaach Karni Hai To Aap Ko Aap Unhen Police Station Na Bulate Hain To Aap Unke Unke Jagah Par Jaakar Aap Unse Wahan Par Puchhtaach Kar Sakte Aap Ne Ekdam Se Police Station Lekar Nahi Ja Sakte Hain Kafi Sare Mahilaon Ke Liye Chhut Di Gayi Hai To Mujhe Sardi Ki Mahilaon Ko Darane Ki Zaroorat Nahi Hai Par Haan Kuch Mahilaye Dar Jati Hai Kyonki Jo Police Wale Hote Hain Sharir Mein Bahut Hote Hain Wah Thode Daane So Jaate Hain Aur Wah Thoda Bura Tarike Se
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल किसी देखिए जब एक बार देख लेगी अगर कुछ और उनके उसके साथ हरासमेंट हुई है तू वह ऑफिस में ज्यादा इंपोर्टेंट होती है जब भी खूब मेल पुलिस ऑफिसर के सामने वह अपना सा सीमेंट का पूरा एक्सपीरियंस बोलत...जवाब पढ़िये
जी बिल्कुल किसी देखिए जब एक बार देख लेगी अगर कुछ और उनके उसके साथ हरासमेंट हुई है तू वह ऑफिस में ज्यादा इंपोर्टेंट होती है जब भी खूब मेल पुलिस ऑफिसर के सामने वह अपना सा सीमेंट का पूरा एक्सपीरियंस बोलती है क्योंकि वह इतना जो कि आप से नहीं हो पाता जितना वह एक सीनियर पुलिस ऑफिसर जितना वह समझ सकती है दुख वह मेल ऑफिसर नहीं कर पाता और यह भी होता है कि बहुत बड़ा मेला ऑफिसर अपना पोजीशन का मिस यूज करते हैं और तुलसीदास जो हरासमेंट हुआ है जो विक्टिम है उसी को बल्कि सीधा गलत ठहरा देते हैं और जो बल्कि मेल तो फीमेल ऑफिसर ऐसा नहीं करेगी बल्कि वह फीमेल ऑफिसर उनको ज्यादा सपोर्ट सिस्टम दे पाएगी तो इसी के क्या हाल है बहुत दिन हो ताकि हर आसमान के साथ रेप केस इसमें ज्यादातर महिला रिपोर्ट करने नहीं जाती हैJi Bilkul Kisi Dekhie Jab Ek Baar Dekh Legi Agar Kuch Aur Unke Uske Saath Harasment Hui Hai Tu Wah Office Mein Jyada Important Hoti Hai Jab Bhi Khoob Mail Police Officer Ke Samane Wah Apna Sa Cement Ka Pura Experience Bolti Hai Kyonki Wah Itna Jo Ki Aap Se Nahi Ho Pata Jitna Wah Ek Senior Police Officer Jitna Wah Samajh Sakti Hai Dukh Wah Mail Officer Nahi Kar Pata Aur Yeh Bhi Hota Hai Ki Bahut Bada Mela Officer Apna Position Ka Miss Use Karte Hain Aur Tulsidas Jo Harasment Hua Hai Jo Victim Hai Ussi Ko Balki Sidhaa Galat Thahara Dete Hain Aur Jo Balki Mail To Female Officer Aisa Nahi Karegi Balki Wah Female Officer Unko Jyada Support System De Payegi To Isi Ke Kya Haal Hai Bahut Din Ho Taki Har Aasman Ke Saath Rape Case Isme Jyadatar Mahila Report Karne Nahi Jati Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार देसी जैसे कि आपका प्रश्न है कि क्या कम महिला अधिकारी होने के कारण भारतीय महिला पुलिस स्टेशन जाने में असहज महसूस कर दी हैं तू जहां तक मेरी सोच है मुझे ऐसा बिल्कुल नहीं लगता कि हमारे देश में कम ...जवाब पढ़िये
नमस्कार देसी जैसे कि आपका प्रश्न है कि क्या कम महिला अधिकारी होने के कारण भारतीय महिला पुलिस स्टेशन जाने में असहज महसूस कर दी हैं तू जहां तक मेरी सोच है मुझे ऐसा बिल्कुल नहीं लगता कि हमारे देश में कम महिला अधिकारी होने के कारण भारतीय महिला पुलिस स्टेशन में कम जाती हूं जहां तक मुझे लगता है कि हमारे भारत में जो महिला साक्षरता है वह बहुत कम है और महिलाओं को ज्ञान भी कम है और जब महिलाओं को शिक्षा प्राप्त नहीं होती तो उनमें आत्मविश्वास का विकास नहीं होता और जब तक हमारे हृदय में हमारे शरीर में आत्मविश्वास ना हो तो हम कोई भी कार्य करने में असहज महत्व महसूस करते हैं वही हालत हमारी भारतीय महिलाओं की है जिस दिन भारतीय महिलाओं में आत्मविश्वास आ जाएगा तो मैं खुद को थाने में जाएंगी और अपनी जो भी परेशानी होगी उसको बताएंगे लेकिन इसके विपरीत जो महिलाएं पढ़ी लिखी होती हैं और जिन में आत्मविश्वास होता हैNamaskar Desi Jaise Ki Aapka Prashna Hai Ki Kya Kum Mahila Adhikari Hone Ke Kaaran Bhartiya Mahila Police Station Jaane Mein Asahaj Mahsus Kar Di Hain Tu Jahan Tak Meri Soch Hai Mujhe Aisa Bilkul Nahi Lagta Ki Hamare Desh Mein Kum Mahila Adhikari Hone Ke Kaaran Bhartiya Mahila Police Station Mein Kum Jati Hoon Jahan Tak Mujhe Lagta Hai Ki Hamare Bharat Mein Jo Mahila Saksharta Hai Wah Bahut Kum Hai Aur Mahilaon Ko Gyaan Bhi Kum Hai Aur Jab Mahilaon Ko Shiksha Prapt Nahi Hoti To Unmen Aatmvishvaas Ka Vikash Nahi Hota Aur Jab Tak Hamare Hridaya Mein Hamare Sharir Mein Aatmvishvaas Na Ho To Hum Koi Bhi Karya Karne Mein Asahaj Mahatva Mahsus Karte Hain Wahi Halat Hamari Bhartiya Mahilaon Ki Hai Jis Din Bhartiya Mahilaon Mein Aatmvishvaas Aa Jayega To Main Khud Ko Thane Mein Jaengi Aur Apni Jo Bhi Pareshani Hogi Usko Batayenge Lekin Iske Viparit Jo Mahilaye Padhi Likhi Hoti Hain Aur Jin Mein Aatmvishvaas Hota Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Kam Mahila Adhikari Hona Ek Kaaran Hai Ki Bharatiya Mahilayein Police Station Jaane Mein Asahaj Mahsus Karti Hain, Is It A Reason To Be A Low Female Officer That Indian Women Feel Uncomfortable Going To The Police Station? , Krimalrt

vokalandroid