दीपावली क्यों सेलिब्रेट करते है ? ...

दीपावली के दिन अयोध्या के राजा राम अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे। अयोध्यावासियों का ह्रदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से प्रफुल्लित हो उठा था। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीपक जलाए। कार्तिक मास की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी। तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं। यह पर्व अधिकतर ग्रिगेरियन कैलन्डर के अनुसार अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है। दीपावली दीपों का त्योहार है। भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है। दीवाली यही चरितार्थ करती है- असतो माऽ सद्गमय, तमसो माऽ ज्योतिर्गमय। दीपावली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है। कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती हैं। लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं। घरों में मरम्मत, रंग-रोगन, सफ़ेदी आदि का कार्य होने लगता है। लोग दुकानों को भी साफ़ सुथरा कर सजाते हैं। बाज़ारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है। दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।
Romanized Version
दीपावली के दिन अयोध्या के राजा राम अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे। अयोध्यावासियों का ह्रदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से प्रफुल्लित हो उठा था। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीपक जलाए। कार्तिक मास की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी। तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं। यह पर्व अधिकतर ग्रिगेरियन कैलन्डर के अनुसार अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है। दीपावली दीपों का त्योहार है। भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है। दीवाली यही चरितार्थ करती है- असतो माऽ सद्गमय, तमसो माऽ ज्योतिर्गमय। दीपावली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है। कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती हैं। लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं। घरों में मरम्मत, रंग-रोगन, सफ़ेदी आदि का कार्य होने लगता है। लोग दुकानों को भी साफ़ सुथरा कर सजाते हैं। बाज़ारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है। दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।Deepavali K Din Ayodhya K Raja Ram Apne Chaudah Varsh K Vanwas K Pashchat Laute The Ayodhyavasiyon Ka Hraday Apne Param Priy Raja K Aagaman Se Prafullit Ho Utha Thaa Shree Ram K Swaagat Mein Ayodhyavasiyon Ne GHEE K Deepak Jalaae Kartik Mass Ki Saghan Kali Amavasya Ki Wah Rathri Diyon Ki Roshni Se Jagamaga Uthii Taba Se Aj Tak Bhartiya Prati Varsh Yeh Prakash Parv Harsh Va Ullas Se Manate Hain Yeh Parv Adhiktar Grigeriyan Kailandar K Anusar Aktubar Ya Navambar Mahine Mein Padata Hai Deepavali Dipon Ka Tyohaar Hai Bhartiyo Ka Vishwas Hai Qi Satya Ki Sada Jeet Hoti Hai Jhuth Ka Naash Hota Hai Diwali Yahi Charitarth Karti Hai Asato Maऽ Sadgamay Tamaso Maऽ Jyotirgamay Deepavali Swachhta Va Prakash Ka Parv Hai Kai Saptah Purva Hea Deepavali Ki Taiyaariyaan Aarambh Ho Jaati Hain Log Apne Ghro Dukaano Aadi Ki Safai Ka Karya Aarambh Car Dete Hain Ghro Mein Marammat Rang Rogan Safedi Aadi Ka Karya Hone Lagta Hai Log Dukaano Co Bhi Saf Suthra Car Sajate Hain Bazaron Mein Galiyon Co Bhi Sunehri Jhandiyon Se Sajaya Jaata Hai Deepavali Se Pehle Hea Ghar Mohalle Bazar Sub Saf Suthre Va Sajay Dhaje Nazar Aate Hain
Likes  22  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


दीपावली के दिन अयोध्या के राजा राम अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे। अयोध्यावासियों का ह्रदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से प्रफुल्लित हो उठा था। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीपक जलाए। कार्तिक मास की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी। तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं। यह पर्व अधिकतर ग्रिगेरियन कैलन्डर के अनुसार अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है। दीपावली दीपों का त्योहार है। भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है। दीवाली यही चरितार्थ करती है- असतो माऽ सद्गमय, तमसो माऽ ज्योतिर्गमय। दीपावली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है। कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती हैं। लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं। घरों में मरम्मत, रंग-रोगन, सफ़ेदी आदि का कार्य होने लगता है। लोग दुकानों को भी साफ़ सुथरा कर सजाते हैं। बाज़ारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है। दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।
Romanized Version
दीपावली के दिन अयोध्या के राजा राम अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे। अयोध्यावासियों का ह्रदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से प्रफुल्लित हो उठा था। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीपक जलाए। कार्तिक मास की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी। तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं। यह पर्व अधिकतर ग्रिगेरियन कैलन्डर के अनुसार अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है। दीपावली दीपों का त्योहार है। भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है। दीवाली यही चरितार्थ करती है- असतो माऽ सद्गमय, तमसो माऽ ज्योतिर्गमय। दीपावली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है। कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती हैं। लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं। घरों में मरम्मत, रंग-रोगन, सफ़ेदी आदि का कार्य होने लगता है। लोग दुकानों को भी साफ़ सुथरा कर सजाते हैं। बाज़ारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है। दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं। Deepavali K Din Ayodhya K Raja Ram Apne Chaudah Varsh K Vanwas K Pashchat Laute The Ayodhyavasiyon Ka Hraday Apne Param Priy Raja K Aagaman Se Prafullit Ho Utha Thaa Shree Ram K Swaagat Mein Ayodhyavasiyon Ne GHEE K Deepak Jalaae Kartik Mass Ki Saghan Kali Amavasya Ki Wah Rathri Diyon Ki Roshni Se Jagamaga Uthii Taba Se Aj Tak Bhartiya Prati Varsh Yeh Prakash Parv Harsh Va Ullas Se Manate Hain Yeh Parv Adhiktar Grigeriyan Kailandar K Anusar Aktubar Ya Navambar Mahine Mein Padata Hai Deepavali Dipon Ka Tyohaar Hai Bhartiyo Ka Vishwas Hai Qi Satya Ki Sada Jeet Hoti Hai Jhuth Ka Naash Hota Hai Diwali Yahi Charitarth Karti Hai Asato Maऽ Sadgamay Tamaso Maऽ Jyotirgamay Deepavali Swachhta Va Prakash Ka Parv Hai Kai Saptah Purva Hea Deepavali Ki Taiyaariyaan Aarambh Ho Jaati Hain Log Apne Ghro Dukaano Aadi Ki Safai Ka Karya Aarambh Car Dete Hain Ghro Mein Marammat Rang Rogan Safedi Aadi Ka Karya Hone Lagta Hai Log Dukaano Co Bhi Saf Suthra Car Sajate Hain Bazaron Mein Galiyon Co Bhi Sunehri Jhandiyon Se Sajaya Jaata Hai Deepavali Se Pehle Hea Ghar Mohalle Bazar Sub Saf Suthre Va Sajay Dhaje Nazar Aate Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Deepawali Kyon Celebrate Karte Hai ?

vokalandroid