क्या पूरे देश में एकता हो सकती है ? ...

हमारे पूरे देश में एकता जरूर हो सकती हैं अगर यहां के लोग थोड़ा सा संयम बरतें और भड़काऊ भाषणों के चक्कर में ना पड़ें क्योंकि कई बार ऐसा देखने को मिलता है कि जो नेता है वह अपने फायदे के लिए इस तरह का बयान देते हैं जिससे दो धर्मों के बीच में विवाद पैदा हो जाता है और कई युवा ऐसे हैं जो बिना सोचे समझे बस नेताओं की बातों में आ जाते हैं और दूसरे धर्म के लोगों के साथ मारपीट करते हैं हाल के दिनों में इस तरह की घटनाएं काफी बढ़ गई है और उत्तर प्रदेश में हमने देखा कि किस तरह से दो धर्मों के लोगों के बीच में दंगे फसाद हुए तो अगर हमें पूरे देश में एकता स्थापित करनी है तो उसके लिए हमें खुद का दिमाग इस्तेमाल करने की जरूरत है और दूसरे लोगों की बातों में आना नहीं चाहिए हमें क्योंकि अगर हम दूसरे धर्म के लोगों के साथ मारपीट करेंगे तो कभी भी हमारे देश में एकता नहीं आ पाएगी हमारा देश एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है यानि कि सभी धर्मों को बराबर समझा गया है और सभी धर्म के लोग मिल जुल कर रहते हैं तो हमें इस बात पर ध्यान देने की आवश्यकता है कि हम अपने देश को कैसे मजबूत बनाएं और उसके लिए यही जरूरी है कि आपस में हम सारे लोग मिलजुल कर रहे तभी हमारे देश में एकता आ पाएगीHamare Poore Desh Mein Ekta Jarur Ho Sakti Hain Agar Yahan Ke Log Thoda Sa Sanyam Baratain Aur Bhadkau Bhashano Ke Chakkar Mein Na Paden Kyonki Kai Baar Aisa Dekhne Ko Milta Hai Ki Jo Neta Hai Wah Apne Fayde Ke Liye Is Tarah Ka Bayan Dete Hain Jisse Do Dharmon Ke Beech Mein Vivad Paida Ho Jata Hai Aur Kai Yuva Aise Hain Jo Bina Soche Samjhe Bus Netaon Ki Baaton Mein Aa Jaate Hain Aur Dusre Dharm Ke Logon Ke Saath Marapit Karte Hain Haal Ke Dinon Mein Is Tarah Ki Ghatnaye Kafi Badh Gayi Hai Aur Uttar Pradesh Mein Humne Dekha Ki Kis Tarah Se Do Dharmon Ke Logon Ke Beech Mein Denge Fasad Hue To Agar Hume Poore Desh Mein Ekta Sthapit Karni Hai To Uske Liye Hume Khud Ka Dimag Istemal Karne Ki Zaroorat Hai Aur Dusre Logon Ki Baaton Mein Aana Nahi Chahiye Hume Kyonki Agar Hum Dusre Dharm Ke Logon Ke Saath Marapit Karenge To Kabhi Bhi Hamare Desh Mein Ekta Nahi Aa Payegi Hamara Desh Ek Dharmanirapeksh Rashtra Hai Yani Ki Sabhi Dharmon Ko Barabar Samjha Gaya Hai Aur Sabhi Dharm Ke Log Mil Jul Kar Rehte Hain To Hume Is Baat Par Dhyan Dene Ki Avashyakta Hai Ki Hum Apne Desh Ko Kaise Mazboot Banaye Aur Uske Liye Yahi Zaroori Hai Ki Aapas Mein Hum Sare Log Miljul Kar Rahe Tabhi Hamare Desh Mein Ekta Aa Payegi
Likes  16  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Poore Desh Mein Ekta Ho Sakti Hai ?, Is There Unity In The Whole Country?

vokalandroid