भारत पुडुचेरी के संघ शासित प्रदेशों की जानकारी क्या है? ...

पुदुच्चेरी, (पहले पॉन्डिचेरी), भारत गणराज्य का एक केन्द्र शासित प्रदेश है। पहले पुदुच्चेरी एक फ्रांसीसी उपनिवेश था जिसमे ४ पृथक जिलों का समावेश था। पुदुच्चेरी का नाम पॉन्डिचरी इसके सबसे बड़े जिले पुदुच्चेरी के नाम पर पड़ा था।भारत का यह क्षेत्र लगभग 300 वर्षों तक फ्रांसीसी अधिकार में रहा है और आज भी यहां फ्रांसीसी वास्तुशिल्प और संस्कृति देखने को मिल जाती है। पुराने समय में यह फ्रांस के साथ होने वाले व्यापार का मुख्य केंद्र था। आज अनेक पर्यटक इसके सुंदर समुद्र तटों और तत्कालीन सभ्यता की झलक पाने के लिए यहां आते हैं। केवल पर्यटन की दृष्टि से ही नहीं बल्कि आध्यात्मिक और धार्मिक दृष्टि से भी यह स्थान बहुत महत्वपूर्ण है। इस कारण प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में पर्यटक यहां आते हैं।
Romanized Version
पुदुच्चेरी, (पहले पॉन्डिचेरी), भारत गणराज्य का एक केन्द्र शासित प्रदेश है। पहले पुदुच्चेरी एक फ्रांसीसी उपनिवेश था जिसमे ४ पृथक जिलों का समावेश था। पुदुच्चेरी का नाम पॉन्डिचरी इसके सबसे बड़े जिले पुदुच्चेरी के नाम पर पड़ा था।भारत का यह क्षेत्र लगभग 300 वर्षों तक फ्रांसीसी अधिकार में रहा है और आज भी यहां फ्रांसीसी वास्तुशिल्प और संस्कृति देखने को मिल जाती है। पुराने समय में यह फ्रांस के साथ होने वाले व्यापार का मुख्य केंद्र था। आज अनेक पर्यटक इसके सुंदर समुद्र तटों और तत्कालीन सभ्यता की झलक पाने के लिए यहां आते हैं। केवल पर्यटन की दृष्टि से ही नहीं बल्कि आध्यात्मिक और धार्मिक दृष्टि से भी यह स्थान बहुत महत्वपूर्ण है। इस कारण प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में पर्यटक यहां आते हैं।Puducherry Pehle Pandicheri Bharat Ganrajya Ka Ek Kendra Shaasit Pradesh Hai Pehle Puducherry Ek Fransisi Upnivesh Thaa Jisme 4 Prithak Jilon Ka Samaavesh Thaa Puducherry Ka Naam Pandichari Iske Sabse Bade Zile Puducherry K Naam Per Pada Thaa Bharat Ka Yeh Kshetra Lagbhag 300 Varshon Tak Fransisi Adhikar Mein Raha Hai Aur Aj Bhi Yahaan Fransisi Vastushilp Aur Sanskriti Dakhane Co Mill Jaati Hai Purane Samay Mein Yeh France K Sathe Hone Wale Vyapar Ka Mukhya Kendr Thaa Aj Aneka Paryatak Iske Sundar Samudra Tato Aur Tatkalin Sabhyata Ki Jhalak Payne K Lie Yahaan Aate Hain Keval Puratan Ki Drishti Se Hea Nahin Walkie Adhyatmik Aur Dharmik Drishti Se Bhi Yeh Sthan Bahut Mahatvapoorn Hai Is Karan Prativarsh Laakhon Ki Sankhya Mein Paryatak Yahaan Aate Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Bharat Puducheri Ke Sangh Shasit Pradeshon Ki Jankari Kya Hai ,


vokalandroid