ग्राम पंचायत प्रतिनिधियों के चुनाव कैसे होते है? ...

ग्राम सभा सदस्यों द्वारा प्रत्यक्ष निर्वाचन प्रणाली द्वारा प्रधान का चुनाव किया जायेगा। यदि पंचायत के सामान्य चुनाव में प्रधान का चुनाव नहीं हो पाता है तथा पंचायत के लिए दो तिहार्इ से कम सदस्य ही चनु े जाते है उस दशा में सरकार एक प्रशासनिक समिति बनायेगी। जिसकी सदस्य संख्या सरकार तय करेगी। सरकार एक प्रशासक भी नियुक्त कर सकती है। प्रशासनिक समिति व प्रशासक का कार्यकाल 6 माह से अधिक नहीं होगा। इस अवधि में ग्राम पंचायत, उसकी समितियों तथा प्रधान के सभी अधिकार इसमें निहित होंगे। इन छ: माह में नियत प्रक्रिया द्वारा पंचायत का गठन किया जायेगा।संविधान के 73वें संशोधन अधिनियम द्वारा पंचायती राज संस्थाओं को मजबूती प्रदान की गर्इ है। इस अधिनियम के द्वारा स्थानीय स्वशासन व विकास की इकार्इयों को एक पहचान मिली है। त्रिस्तरीय पंचायत व्यवस्था में ग्राम पंचायत ग्राम विकास की पहली इकार्इ मानी गर्इ है। गांव के लोगों के सबसे नजदीक होने के कारण इसका अत्यधिक महत्व है। ग्राम प्रधान, उपप्रधान व सदस्यों से मिलकर ग्राम पंचायत बनती है।
Romanized Version
ग्राम सभा सदस्यों द्वारा प्रत्यक्ष निर्वाचन प्रणाली द्वारा प्रधान का चुनाव किया जायेगा। यदि पंचायत के सामान्य चुनाव में प्रधान का चुनाव नहीं हो पाता है तथा पंचायत के लिए दो तिहार्इ से कम सदस्य ही चनु े जाते है उस दशा में सरकार एक प्रशासनिक समिति बनायेगी। जिसकी सदस्य संख्या सरकार तय करेगी। सरकार एक प्रशासक भी नियुक्त कर सकती है। प्रशासनिक समिति व प्रशासक का कार्यकाल 6 माह से अधिक नहीं होगा। इस अवधि में ग्राम पंचायत, उसकी समितियों तथा प्रधान के सभी अधिकार इसमें निहित होंगे। इन छ: माह में नियत प्रक्रिया द्वारा पंचायत का गठन किया जायेगा।संविधान के 73वें संशोधन अधिनियम द्वारा पंचायती राज संस्थाओं को मजबूती प्रदान की गर्इ है। इस अधिनियम के द्वारा स्थानीय स्वशासन व विकास की इकार्इयों को एक पहचान मिली है। त्रिस्तरीय पंचायत व्यवस्था में ग्राम पंचायत ग्राम विकास की पहली इकार्इ मानी गर्इ है। गांव के लोगों के सबसे नजदीक होने के कारण इसका अत्यधिक महत्व है। ग्राम प्रधान, उपप्रधान व सदस्यों से मिलकर ग्राम पंचायत बनती है।Gram Sabha Sadasyon Dwara Pratyaksh Nirvachan Pranali Dwara Pradhan Ka Chunav Kiya Jayega Yadi Panchayat K Samanya Chunav Mein Pradhan Ka Chunav Nahin Ho Pauta Hai Tatha Panchayat K Lie Though Tihari Se Come Sadasya Hea Chanu E Jaate Hai Oosh Desa Mein Sarkar Ek Prashasnik Samiti Banayegi Jiskee Sadasya Sankhya Sarkar Taya Karegii Sarkar Ek Prshaasak Bhi Niyukt Car Sakti Hai Prashasnik Samiti Va Prshaasak Ka Karaikal 6 Maha Se Adhik Nahin Hoga Is Awadhi Mein Gram Panchayat Uski Samitiyon Tatha Pradhan K Sabhi Adhikar Ismein Nihit Honge In Ch Maha Mein Niyat Prakriya Dwara Panchayat Ka Gathan Kiya Jayega Samvidhan K Ven Sanshodhan Adhiniyam Dwara Panchayati Raj Sasthaon Co Majbutee Pradan Ki Gari Hai Is Adhiniyam K Dwara Sthaniya Svashasan Va Vikas Ki Ikariyon Co Ek Pehchan Mili Hai Tristariya Panchayat Vyavastha Mein Gram Panchayat Gram Vikas Ki Pehli Ikari Maani Gari Hai Ganv K Logon K Sabse Najdik Hone K Karan Iska Atydhik Mahatva Hai Gram Pradhan Upapradhan Va Sadasyon Se Milkar Gram Panchayat Banati Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Gram Panchayat Pratinidhiyo Ke Chunav Kaise Hote Hai ,Gram Panchayat Ka Gathan,


vokalandroid