फ्रांस के राष्ट्रपति चुनाव की प्रक्रिया क्या है? ...

फ्रांस के मौजूदा कानून के अनुसार यदि किसी नेता को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनना है तो उसे सबसे पहले अपनी उम्मीदवारी के पक्ष में देश के 500 मेयरों के हस्ताक्षर करवाने जरूरी हैं. इसके बाद फ्रांस का सुप्रीम कोर्ट इन हस्ताक्षरों की प्रमाणिकता की जांच करता है और उम्मीदवारी के लिए अंतिम मंजूरी देता है. फ्रांस में राष्ट्रपति का कार्यकाल पांच वर्ष का होता है. आम तौर पर राष्ट्रपति चुनाव दो चरणों में होता है लेकिन, यदि कोई उम्मीदवार पहले चरण में 50 फीसदी से ज्यादा मत हासिल करने में कामयाब हो जाता है तो उसे विजयी घोषित कर दिया जाता है और इस स्थिति में दूसरे चरण का चुनाव नहीं कराया जाता. लेकिन, यदि पहले दौर में कोई भी उम्मीदवार 50 फीसदी से ज्यादा वोट नहीं हासिल कर पाता तो दूसरे दौर का चुनाव कराया जाता है. पहले दौर में शीर्ष पर रहे दो उम्मीदवारों के बीच ही दूसरे दौर में वोटिंग होती है. इस साल 23 अप्रैल को हुए मतदान में इमानुएल माक्रों 24.1 फीसदी वोट पाकर पहले स्थान पर रहे जबकि, मरीन ले पेन 21.3 फीसदी वोट के साथ दूसरे स्थान पर रहीं. 7 मई को इन दोनों के बीच ही दूसरे और अंतिम दौर का मुकाबला होगा!!!
Romanized Version
फ्रांस के मौजूदा कानून के अनुसार यदि किसी नेता को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनना है तो उसे सबसे पहले अपनी उम्मीदवारी के पक्ष में देश के 500 मेयरों के हस्ताक्षर करवाने जरूरी हैं. इसके बाद फ्रांस का सुप्रीम कोर्ट इन हस्ताक्षरों की प्रमाणिकता की जांच करता है और उम्मीदवारी के लिए अंतिम मंजूरी देता है. फ्रांस में राष्ट्रपति का कार्यकाल पांच वर्ष का होता है. आम तौर पर राष्ट्रपति चुनाव दो चरणों में होता है लेकिन, यदि कोई उम्मीदवार पहले चरण में 50 फीसदी से ज्यादा मत हासिल करने में कामयाब हो जाता है तो उसे विजयी घोषित कर दिया जाता है और इस स्थिति में दूसरे चरण का चुनाव नहीं कराया जाता. लेकिन, यदि पहले दौर में कोई भी उम्मीदवार 50 फीसदी से ज्यादा वोट नहीं हासिल कर पाता तो दूसरे दौर का चुनाव कराया जाता है. पहले दौर में शीर्ष पर रहे दो उम्मीदवारों के बीच ही दूसरे दौर में वोटिंग होती है. इस साल 23 अप्रैल को हुए मतदान में इमानुएल माक्रों 24.1 फीसदी वोट पाकर पहले स्थान पर रहे जबकि, मरीन ले पेन 21.3 फीसदी वोट के साथ दूसरे स्थान पर रहीं. 7 मई को इन दोनों के बीच ही दूसरे और अंतिम दौर का मुकाबला होगा!!!France K Maujudaa Kanun K Anusar Yadi Kisi Neta Co Rastrapati Pad Ka Ummidwaar Banana Hai To Usse Sabse Pehle Apni Ummeedvaari K Pax Mein Desh K 500 Meyaron K Hastakshar Karwane Zaroori Hain Iske Baad France Ka SUPREME Court In Hastaksharon Ki Pramanikta Ki Janch Karata Hai Aur Ummeedvaari K Lie Antim Manjuri Deta Hai France Mein Rastrapati Ka Karaikal Panch Varsh Ka Hota Hai Am Taur Per Rastrapati Chunav Though Charanon Mein Hota Hai Lekin Yadi Koi Ummidwaar Pehle Charan Mein 50 Fisdi Se Jyada Matt Hashil Karne Mein Kamyab Ho Jaata Hai To Usse Vijayi Ghosit Car Diya Jaata Hai Aur Is Sthiti Mein Dusre Charan Ka Chunav Nahin Karaya Jaata Lekin Yadi Pehle Daur Mein Koi Bhi Ummidwaar 50 Fisdi Se Jyada Voot Nahin Hashil Car Pauta To Dusre Daur Ka Chunav Karaya Jaata Hai Pehle Daur Mein Sheers Per Rahe Though Ummidavaron K Beach Hea Dusre Daur Mein Voting Hoti Hai Is Saul 23 Aprail Co Huye Matdan Mein Emmanuel Makron 24.1 Fisdi Voot Paakara Pehle Sthan Per Rahe Jbki Marine Le Pen 21.3 Fisdi Voot K Sathe Dusre Sthan Per Rahin 7 Mai Co In Donon K Beach Hea Dusre Aur Antim Daur Ka Mukabala Hoga
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:France Ke Rashtrapati Chunav Ki Prakriya Kya Hai ,


vokalandroid