हरी सब्जियों का महत्व क्या है? ...

पत्तीदार हरी शाक-सब्जियाँ शरीर के उचित विकास एवं अच्छे स्वास्थ के लिए आवश्यक होती है,क्योंकि इसमें सभी जरूरी पोषक तत्व उपस्थित होते हैं । भारत में कई तरह की हरी सब्जियों को खाया जाता है, इनमे से कुछ हैं पालक, तोटाकुरा, गोंगुरा, मेथी, सहजन की पत्तियाँ और पुदिना आदि। पत्तेवाली सब्जियां लौहयुक्त होती हैं । लौह की कमी से एनीमिया जैसी बीमारी हो सकती है, जो गर्भवती स्तनपान करानेवाली महिलाओं में आम है । रोज खानेवाले भोजन में हरी पत्तीदार सब्जियों का सेवन एनीमिया को रोकने में सहायक होता है। वह स्वास्थ के लिए लाभदायक भी होता है। हरी पत्तीदार सब्जियों में कैल्शियम, बीटा कैरोटिन एवं विटामिन सी भी काफी मात्रा में पाये जाते हैं। भारत में लगभग पांच वर्ष से कम आयुवाले 39,000 बच्चे हर वर्ष विटामिन ए की कमी से अन्धेपन का शिकार हो जाते हैं। हरी पत्तीदार सब्जियों में उपस्थित कैरोटिन शरीर में विटामिन ए में परिवर्तित हो जाता है, जिससे अन्धेपन को रोका जा सकता है । हरी सब्जियों में विटामिन सी को बचाये रखने के लिए उन्हें ज्यादा देर तक पकाना अनुचित है, क्योंकि पोषक तत्व जो मसूड़े को शक्ति प्रदान करते हैं, अधिक पकाने से नष्ट हो जाते हैं। हरी सब्जियों में विटामिन बी कॉम्पलेक्स भी पाया जाता है।
Romanized Version
पत्तीदार हरी शाक-सब्जियाँ शरीर के उचित विकास एवं अच्छे स्वास्थ के लिए आवश्यक होती है,क्योंकि इसमें सभी जरूरी पोषक तत्व उपस्थित होते हैं । भारत में कई तरह की हरी सब्जियों को खाया जाता है, इनमे से कुछ हैं पालक, तोटाकुरा, गोंगुरा, मेथी, सहजन की पत्तियाँ और पुदिना आदि। पत्तेवाली सब्जियां लौहयुक्त होती हैं । लौह की कमी से एनीमिया जैसी बीमारी हो सकती है, जो गर्भवती स्तनपान करानेवाली महिलाओं में आम है । रोज खानेवाले भोजन में हरी पत्तीदार सब्जियों का सेवन एनीमिया को रोकने में सहायक होता है। वह स्वास्थ के लिए लाभदायक भी होता है। हरी पत्तीदार सब्जियों में कैल्शियम, बीटा कैरोटिन एवं विटामिन सी भी काफी मात्रा में पाये जाते हैं। भारत में लगभग पांच वर्ष से कम आयुवाले 39,000 बच्चे हर वर्ष विटामिन ए की कमी से अन्धेपन का शिकार हो जाते हैं। हरी पत्तीदार सब्जियों में उपस्थित कैरोटिन शरीर में विटामिन ए में परिवर्तित हो जाता है, जिससे अन्धेपन को रोका जा सकता है । हरी सब्जियों में विटामिन सी को बचाये रखने के लिए उन्हें ज्यादा देर तक पकाना अनुचित है, क्योंकि पोषक तत्व जो मसूड़े को शक्ति प्रदान करते हैं, अधिक पकाने से नष्ट हो जाते हैं। हरी सब्जियों में विटामिन बी कॉम्पलेक्स भी पाया जाता है।Pattidar Hari Shauk Sabjiyan Sharir K Uchit Vikas Even Achchhe Swasth K Lie Aavashyak Hoti Hai Kyonki Ismein Sabhi Zaroori Poshak Tatv Upasthit Hote Hain Bharat Mein Kai Turha Ki Hari Sabjiyon Co Khaya Jaata Hai Iname Se Kuch Hain Palak Totakura Gongura Methi Sahjan Ki Pattiyan Aur Pudina Aadi Pattevali Sabjiyan Lauhayukt Hoti Hain Lauh Ki Kami Se Enimiya Jaisi Bimari Ho Sakti Hai Joe Garbhwati Stanpan Karanevali Mahilao Mein Am Hai Roj Khanewale Bhojan Mein Hari Pattidar Sabjiyon Ka Sawan Enimiya Co Rokne Mein Sahaik Hota Hai Wah Swasth K Lie Laabhdayak Bhi Hota Hai Hari Pattidar Sabjiyon Mein Calcium Beta Kairotin Even Vitamin C Bhi Kaafi Maatra Mein Paye Jaate Hain Bharat Mein Lagbhag Panch Varsh Se Come Ayuvale 39,000 Bacche Her Varsh Vitamin A Ki Kami Se Andhepan Ka Shikaar Ho Jaate Hain Hari Pattidar Sabjiyon Mein Upasthit Kairotin Sharir Mein Vitamin A Mein Pariwartit Ho Jaata Hai Jisase Andhepan Co Roka Ja Sakta Hai Hari Sabjiyon Mein Vitamin C Co Bachaye Rakhne K Lie Unhein Jyada Their Tak Pakana Anuchit Hai Kyonki Poshak Tatv Joe Masude Co Shakti Pradan Karte Hain Adhik Pakane Se Nest Ho Jaate Hain Hari Sabjiyon Mein Vitamin B Kampaleks Bhi PAYA Jaata Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Hari Sabjiyon Ka Mahatva Kya Hai ,हरी सब्जियों का महत्व,


vokalandroid