चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत देश में जातिवाद बिल्कुल खत्म हो सकता है जातिवाद जो है वह भारत देश का बहुत जल्दी खत्म हो जाएगा अगर जो लोगों की सोच है उसमें बदलाव आएगा लोगों की सोच पर ही बिल्कुल डिपेंड करता है जातिवाद आप किसी और जाति के बारे में ऐसा सोचने की मेरी जात का नहीं है या वह मेरी जात का नहीं है तो ऐसे नहीं चलेगा अगर भारत के अंदर डेवलपमेंट लेकर आना है भारत को एक ऊंचे देश के तौर पर अब देखना चाहते हैं तो यह जो सोचा यह सब में बदल जानी चाहिए और जो कुछ ना कुछ आपको बढ़िया करना पड़ेगा कुछ ना कुछ क्रिएटिव सबको करना पड़ेगा देखे यूएस जर्मनी रसिया जैसे बहुत सारे शहर है जो कि एकदम डेवलप्ड कंट्री जी सारी की सारी एकदम डाउनलोड बाय क्यों है क्योंकि लोग पैसों के बारे में अपने बारे में नहीं सोचते हैं अपने देश के बारे में ज्यादा सोचते हैं तो उसकी वजह से वह डेवलपर होते हैं
Romanized Version
भारत देश में जातिवाद बिल्कुल खत्म हो सकता है जातिवाद जो है वह भारत देश का बहुत जल्दी खत्म हो जाएगा अगर जो लोगों की सोच है उसमें बदलाव आएगा लोगों की सोच पर ही बिल्कुल डिपेंड करता है जातिवाद आप किसी और जाति के बारे में ऐसा सोचने की मेरी जात का नहीं है या वह मेरी जात का नहीं है तो ऐसे नहीं चलेगा अगर भारत के अंदर डेवलपमेंट लेकर आना है भारत को एक ऊंचे देश के तौर पर अब देखना चाहते हैं तो यह जो सोचा यह सब में बदल जानी चाहिए और जो कुछ ना कुछ आपको बढ़िया करना पड़ेगा कुछ ना कुछ क्रिएटिव सबको करना पड़ेगा देखे यूएस जर्मनी रसिया जैसे बहुत सारे शहर है जो कि एकदम डेवलप्ड कंट्री जी सारी की सारी एकदम डाउनलोड बाय क्यों है क्योंकि लोग पैसों के बारे में अपने बारे में नहीं सोचते हैं अपने देश के बारे में ज्यादा सोचते हैं तो उसकी वजह से वह डेवलपर होते हैंBharat Desh Mein Jaatiwad Bilkul Khatam Ho Sakta Hai Jaatiwad Jo Hai Wah Bharat Desh Ka Bahut Jaldi Khatam Ho Jayega Agar Jo Logon Ki Soch Hai Usamen Badlav Aaega Logon Ki Soch Par Hi Bilkul Depend Karta Hai Jaatiwad Aap Kisi Aur Jati Ke Bare Mein Aisa Sochne Ki Meri Jaat Ka Nahi Hai Ya Wah Meri Jaat Ka Nahi Hai To Aise Nahi Chalega Agar Bharat Ke Andar Development Lekar Aana Hai Bharat Ko Ek Unche Desh Ke Taur Par Ab Dekhna Chahte Hain To Yeh Jo Socha Yeh Sab Mein Badal Jani Chahiye Aur Jo Kuch Na Kuch Aapko Badhiya Karna Padega Kuch Na Kuch Creative Sabko Karna Padega Dekhe US Germany Rasiya Jaise Bahut Sare Sheher Hai Jo Ki Ekdam Developed Country G Saree Ki Saree Ekdam Download By Kyon Hai Kyonki Log Paison Ke Bare Mein Apne Bare Mein Nahi Sochte Hain Apne Desh Ke Bare Mein Zyada Sochte Hain To Uski Wajah Se Wah Developer Hote Hain
Likes  9  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

अगर भारत में जातिवादी व्यवस्था की जगह साम्यवादी व्यवस्था आ जाए तो क्या होगा? ...

निकितन भारत कब प्रवृत्ति होने का मतलब एक रास्ता तो खुल जाएगा जातिवाद व्यवस्था अगर है तो बहुत सारे से रिजर्वेशन रसीला बहुत गलत सारे लोग पास हो रहे हैं लेकिन अगर यह समाजवाद समाज की सबसे गरीब देश लोहे कोजवाब पढ़िये
ques_icon

भारत में जाति व्यवस्था कब लागू हुआ और वे कौन लोग लागू किया और इसके पीछे कारण क्या था? ...

भारत में जाति व्यवस्था सबसे बहुत पुराने समय से चली आ रही है और यहां का जो जाती है मीन वह हिंदू जाति है और हिंदू धर्म सबसे पहले यहां पर चालू हुआ था तो हिंदू रिलिजन है हमारा धर्म है कास्ट है जो भारत मेंजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विदेश में जो जातिवाद है उसका आधार ही पोलिटिकल पार्टीज रखती हैं क्योंकि जातिवाद बहुत सालों से चला आ रहा है पहले भी यह दो प्रकार के लोग होते थे वह लोगों का आज के लोगों को अपनाया शोषण करते थे और वह अपने आप को ऊपर मानते थे और लोग आकाश की लड़ाई के दलित और SC ST लोगों को नीचे मानते थे और जब से हमारे देश आजाद हुआ है उसके पास अभी पोलिटिकल पार्टीज अपना वोट बैंक बढ़ाने के लिए भी जातिवाद करा है और वही जो इलेक्शन कमीशन है उसने भी एक तरह से कई कई जगह पर स्थित क्यों निकालते हैं इलेक्शन के लिए वह भी जाति या फिर किसी धर्म के हिसाब से निकालते हैं कि यहां पर सिर्फ इसी इसी जाति का इंसान खड़ा हो सकता है या इस जहां पर सिर्फ यही जाति के लोग इलेक्शन में खड़े हो सकते हैं जो इस तरह से जातिवाद को बढ़ावा दे रहा होता है तो ना तो सिर्फ पोलिटिकल पार्टीज बल्कि हमारे जो देश के एडमिनिस्ट्रेटिव गवर्मेंट है वह भी जातिवाद को एक तरह से बढ़ावा दे रही है तो अब जो जातिवाद है वह सब लोग अपने माइंड से पूरी तरह खत्म करेंगे अभी जाकर यह सोच बदल पाएगी जातिवाद करने की और उसके अलावा एजुकेशन भी बहुत बड़ी चीज होती है जो कि जातिवाद को खत्म करने में हेल्प कर सकती है और क्योंकि जब इंसान पढ़ा लिखा होता है तो उन्हें जाति और धर्म से ज्यादा फर्क नहीं पड़ता है और वह इंसान की काबिलियत दूसरे इंसान की काबिल है देखने की कोशिश करते हैं लोग ना कि उसकी जाति या धर्म तो अगर इंसान पढ़ा लिखा है तो भी हो जाती को ज्यादा महत्व नहीं देते तो वह जातिवाद को कहीं ना कहीं खत्म करने के लिए भी हेल्प करती एजुकेशन वही तो जातिवाद कब खत्म होगा यह तो हम नहीं बता सकता लेकिन अगर देश में एजुकेशन का स्कोर बढ़ेगा लोग पढ़े लिखे होंगे तो जातिवाद काफी हद तक कम मानेंगे बोलो तो वही जाकर जातिवाद खत्म हो पाएगा
Romanized Version
विदेश में जो जातिवाद है उसका आधार ही पोलिटिकल पार्टीज रखती हैं क्योंकि जातिवाद बहुत सालों से चला आ रहा है पहले भी यह दो प्रकार के लोग होते थे वह लोगों का आज के लोगों को अपनाया शोषण करते थे और वह अपने आप को ऊपर मानते थे और लोग आकाश की लड़ाई के दलित और SC ST लोगों को नीचे मानते थे और जब से हमारे देश आजाद हुआ है उसके पास अभी पोलिटिकल पार्टीज अपना वोट बैंक बढ़ाने के लिए भी जातिवाद करा है और वही जो इलेक्शन कमीशन है उसने भी एक तरह से कई कई जगह पर स्थित क्यों निकालते हैं इलेक्शन के लिए वह भी जाति या फिर किसी धर्म के हिसाब से निकालते हैं कि यहां पर सिर्फ इसी इसी जाति का इंसान खड़ा हो सकता है या इस जहां पर सिर्फ यही जाति के लोग इलेक्शन में खड़े हो सकते हैं जो इस तरह से जातिवाद को बढ़ावा दे रहा होता है तो ना तो सिर्फ पोलिटिकल पार्टीज बल्कि हमारे जो देश के एडमिनिस्ट्रेटिव गवर्मेंट है वह भी जातिवाद को एक तरह से बढ़ावा दे रही है तो अब जो जातिवाद है वह सब लोग अपने माइंड से पूरी तरह खत्म करेंगे अभी जाकर यह सोच बदल पाएगी जातिवाद करने की और उसके अलावा एजुकेशन भी बहुत बड़ी चीज होती है जो कि जातिवाद को खत्म करने में हेल्प कर सकती है और क्योंकि जब इंसान पढ़ा लिखा होता है तो उन्हें जाति और धर्म से ज्यादा फर्क नहीं पड़ता है और वह इंसान की काबिलियत दूसरे इंसान की काबिल है देखने की कोशिश करते हैं लोग ना कि उसकी जाति या धर्म तो अगर इंसान पढ़ा लिखा है तो भी हो जाती को ज्यादा महत्व नहीं देते तो वह जातिवाद को कहीं ना कहीं खत्म करने के लिए भी हेल्प करती एजुकेशन वही तो जातिवाद कब खत्म होगा यह तो हम नहीं बता सकता लेकिन अगर देश में एजुकेशन का स्कोर बढ़ेगा लोग पढ़े लिखे होंगे तो जातिवाद काफी हद तक कम मानेंगे बोलो तो वही जाकर जातिवाद खत्म हो पाएगाVidesh Mein Jo Jaatiwad Hai Uska Aadhar Hi Political Parties Rakhti Hain Kyonki Jaatiwad Bahut Salon Se Chala Aa Raha Hai Pehle Bhi Yeh Do Prakar Ke Log Hote The Wah Logon Ka Aaj Ke Logon Ko Apnaya Shoshan Karte The Aur Wah Apne Aap Ko Upar Manate The Aur Log Akash Ki Ladai Ke Dalit Aur SC ST Logon Ko Neeche Manate The Aur Jab Se Hamare Desh Azad Hua Hai Uske Paas Abhi Political Parties Apna Vote Bank Badhane Ke Liye Bhi Jaatiwad Kra Hai Aur Wahi Jo Election Commision Hai Usne Bhi Ek Tarah Se Kai Kai Jagah Par Sthit Kyun Nikalate Hain Election Ke Liye Wah Bhi Jati Ya Phir Kisi Dharm Ke Hisab Se Nikalate Hain Ki Yahan Par Sirf Isi Isi Jati Ka Insaan Khada Ho Sakta Hai Ya Is Jahan Par Sirf Yahi Jati Ke Log Election Mein Khade Ho Sakte Hain Jo Is Tarah Se Jaatiwad Ko Badhawa De Raha Hota Hai To Na To Sirf Political Parties Balki Hamare Jo Desh Ke Edaministretiv Goverment Hai Wah Bhi Jaatiwad Ko Ek Tarah Se Badhawa De Rahi Hai To Ab Jo Jaatiwad Hai Wah Sab Log Apne Mind Se Puri Tarah Khatam Karenge Abhi Jaakar Yeh Soch Badal Payegi Jaatiwad Karne Ki Aur Uske Alava Education Bhi Bahut Badi Cheez Hoti Hai Jo Ki Jaatiwad Ko Khatam Karne Mein Help Kar Sakti Hai Aur Kyonki Jab Insaan Padha Likha Hota Hai To Unhen Jati Aur Dharm Se Jyada Fark Nahi Padata Hai Aur Wah Insaan Ki Kabiliyat Dusre Insaan Ki Kaabil Hai Dekhne Ki Koshish Karte Hain Log Na Ki Uski Jati Ya Dharm To Agar Insaan Padha Likha Hai To Bhi Ho Jati Ko Jyada Mahatva Nahi Dete To Wah Jaatiwad Ko Kahin Na Kahin Khatam Karne Ke Liye Bhi Help Karti Education Wahi To Jaatiwad Kab Khatam Hoga Yeh To Hum Nahi Bata Sakta Lekin Agar Desh Mein Education Ka Score Badhega Log Padhe Likhe Honge To Jaatiwad Kafi Had Tak Kum Maneange Bolo To Wahi Jaakar Jaatiwad Khatam Ho Payega
Likes  3  Dislikes      
WhatsApp_icon
देखिए देश में जो है जातिवाद बिल्कुल खत्म हो सकता है हां यह बात सच है कि जातिवाद जैसी पुरानी सोच आज तक भारत जैसे देश में है और जातिवाद मेरे हिसाब से एक मुख्य कारण रहेगी यही कारण है जिसके लिए भारत जो है आगे प्रगतिशील नहीं हो पा रहा एक डेवलप्ड देश नहीं बन पा रहे भारत का नाका पर भारत में हम कह सकते हैं जातिवाद खत्म हो सकता है अगर हमारी सरकार हमारे राजनेता जो है जाति के नाम पर जातिवाद के नाम पर राजनीति न करें या जातिवाद के नाम पर वोट बैंक ना करे तो उससे जो है जातिवाद खत्म हो सकता है और सिर्फ यही नहीं अगर जो भी राजनेता गरम देखें जिस प्रकार से कोरेगांव भीम का 360 हुआ था वह भी जातिवाद पर ही था वह जिस प्रकार से हम कह सकते हो आप मुख्य आरोपी जो कि RSS से उनका जुड़ाव सागर सरकार जन्नत कड़ा से कहना सजा देती है या फिर आसक्त केस लगाती है तब जाकर जो लोग जातिवाद के नाम पर भड़काने वाले जो है वह में भय रहेगा और कहीं नहीं से यह समाज में एक मैसेज भी आ जाएगा कि जातिवाद के नाम पर अगर जो भी आग फैल आएगा तो उससे जो है जमाना जो है उसका सामना करना पड़ेगा सदा कभी सामना करना पड़ेगा तो खाना कहां पर ऐसे तरीके से और सिर्फ यही नहीं अगर देश में कानून भी बने जातिवाद के नाम पर या फिर हम समाज के लोग समाज के नेता या फिर हमारी सरकार खुद यह सोचा कि जातिवाद को खत्म कर देना चाहिए तब जाकर जो है देश में जातिवाद खत्म हो सकता हैDekhie Desh Mein Jo Hai Jaatiwad Bilkul Khatam Ho Sakta Hai Haan Yeh Baat Sach Hai Ki Jaatiwad Jaisi Purani Soch Aaj Tak Bharat Jaise Desh Mein Hai Aur Jaatiwad Mere Hisab Se Ek Mukhya Kaaran Rahegi Yahi Kaaran Hai Jiske Liye Bharat Jo Hai Aage Pragatisheel Nahi Ho Pa Raha Ek Developed Desh Nahi Ban Pa Rahe Bharat Ka Naka Par Bharat Mein Hum Keh Sakte Hain Jaatiwad Khatam Ho Sakta Hai Agar Hamari Sarkar Hamare Rajneta Jo Hai Jati Ke Naam Par Jaatiwad Ke Naam Par Rajneeti N Karen Ya Jaatiwad Ke Naam Par Vote Bank Na Kare To Usse Jo Hai Jaatiwad Khatam Ho Sakta Hai Aur Sirf Yahi Nahi Agar Jo Bhi Rajneta Garam Dekhen Jis Prakar Se Koregaon Bhim Ka 360 Hua Tha Wah Bhi Jaatiwad Par Hi Tha Wah Jis Prakar Se Hum Keh Sakte Ho Aap Mukhya Aaropi Jo Ki RSS Se Unka Judaav Sagar Sarkar Jannat Kada Se Kehna Saja Deti Hai Ya Phir Asakt Case Lagati Hai Tab Jaakar Jo Log Jaatiwad Ke Naam Par Bhadkaane Wale Jo Hai Wah Mein Bhay Rahega Aur Kahin Nahi Se Yeh Samaaj Mein Ek Massage Bhi Aa Jayega Ki Jaatiwad Ke Naam Par Agar Jo Bhi Aag Fail Aayega To Usse Jo Hai Jamana Jo Hai Uska Samana Karna Padega Sada Kabhi Samana Karna Padega To Khana Kahan Par Aise Tarike Se Aur Sirf Yahi Nahi Agar Desh Mein Kanoon Bhi Bane Jaatiwad Ke Naam Par Ya Phir Hum Samaaj Ke Log Samaaj Ke Neta Ya Phir Hamari Sarkar Khud Yeh Socha Ki Jaatiwad Ko Khatam Kar Dena Chahiye Tab Jaakar Jo Hai Desh Mein Jaatiwad Khatam Ho Sakta Hai
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Kya Desh Mein Jaatiwad Khatam Ho Sakta Hai ?,Can The Caste End In The Country?,


vokalandroid