मुसलमान कितनी शादी कर सकता है ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सिख मुसलमान 4 शादी कर सकता है मगर एक शर्त पर कर सकता है कि जब वह अपनी चारु बीवियों को बराबर का हक बराबर का दर्जा दे सके उनकी जरूरत की चीजों को मैया करा सकें अगर वह ऐसा नहीं कर सकता तो उसके लिए शादी जायज नहीं होगी
Romanized Version
सिख मुसलमान 4 शादी कर सकता है मगर एक शर्त पर कर सकता है कि जब वह अपनी चारु बीवियों को बराबर का हक बराबर का दर्जा दे सके उनकी जरूरत की चीजों को मैया करा सकें अगर वह ऐसा नहीं कर सकता तो उसके लिए शादी जायज नहीं होगीSikh Musalman 4 Shadi Kar Sakta Hai Magar Ek Sart Par Kar Sakta Hai Ki Jab Wah Apni Charu Beeviyon Ko Barabar Ka Haq Barabar Ka Darja De Sake Unki Zaroorat Ki Chijon Ko Maiya Kara Sakein Agar Wah Aisa Nahi Kar Sakta Toh Uske Liye Shadi Jayaz Nahi Hogi
Likes  14  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

एक लड़की हमसे शादी करने को कह कर वो किसी और के साथ शादी कर लिया तो हम क्या करें? ...

दीप कोई लड़की आपसे शादी करने को कह कर किसी और से शादी कर लेती है तो आप क्या कर सकते हैं तो कुछ नहीं कर सकती क्योंकि ऑलरेडी इसकी शादी हो गई है अब और आगे बात को ले जाकर कुछ फायदा भी नहीं है कि आपजवाब पढ़िये
ques_icon

मैं एक लड़की से प्यार करता हूँ और वह लड़की मेरे गांव की ही है इससे पहले हमारे गांव में कोई प्यार वाली शादी नहीं हुई है और हम उसी लड़की से शादी करना चाहते हैं तो हमको क्या करना चाहिए? ...

आप इस लड़की से प्यार करते हैं आपकी गांव की है कि गांव में कि कोई शादी नहीं हुई है और आप उस लड़की शादी करना चाहते हैं और थे कि गांव में पहुंचने की समस्याएं हो सकती है क्योंकि पहले से बहुत सारी गांव मेंजवाब पढ़िये
ques_icon

मैं एक मुस्लिम लड़की से सदी करना चाहता हूँ लकिन उसके घर वाले नहीं मान रहे हैं मैं क्या करूँ?  ...

मुस्लिम क्या दूसरे धर्म में शादी करते हैं तो यह सारे दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा क्योंकि जैसे ही आप धर्म बदलकर या फिर किसी दूसरे धर्म में शादी के लिए जाते हैं तो उनकी उनके जो पेरेंट्स होते हैं उनके जवाब पढ़िये
ques_icon

घरवाले बोलते हैं शादी कर लो लेकिन मैं अभी शादी नहीं करना चाहता मैं क्या करूँ? ...

शादी के बारे में और कुछ वक्त भी डिसाइड कर जपा पूरी तरह तैयार है क्योंकि शादी किस क्वालिटी होती है दुकानों में के लिए आप अच्छे हैं स्टाइल है तो टेस्ट तो शादी कर सकते हैं आपको लगता है कि शादी करना चाहिएजवाब पढ़िये
ques_icon

मैं एक लड़की से प्यार करता हूं और उसकी शादी भी करना चाहता हूं बट वह लड़की मुझसे शादी करने के लिए तैयार नहीं तो मैं क्या करूं? ...

अगर आप किसी से प्यार करते हैं और उससे आप शादी करना चाहते हैं पर अगर वह लड़की आपसे शादी नहीं करना चाहती है उसमें जो है वह बहुत ही ज्यादा अहम फैसला है अगर कोई आपके साथ जिंदगी बिताने को राजी नहीं है तो आजवाब पढ़िये
ques_icon

कोई व्यक्ति ग्रेजुएशन कर रहा है तो उसे शादी करनी चाहिए या नहीं, शादी कब करना ठीक है? ...

अगरबत्ती ग्रेजुएशन कर शादी करनी चाहिए निर्भीक राजू सेलिब्रेशन कर रहे हैं तो कमा नहीं रहे होंगे शादी करें तो एक बेटी होती है और उसे निभाने के लिए पैसे कमाने तो बहुत मुश्किल हो जाएगी तो फिर कोई जॉब ढूंढजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इस्लाम धर्म में एक आदमी को चार शादी करने की इजाजत दी गई है यानी एक मुसलमान चार शादी कर सकता है मगर हम अपने समाज में अपने अड़ोस पड़ोस में देखे तो कोई 12 के सीए से मिलेगी जब किसी की एक से ज्यादा शादी हुई थी और इस्लाम में जब ने इन चार साधु की इजाजत इसलिए दी थी ताकि जो लड़ाई में या बीमारी की वजह से जो लोग मर जाते हैं तो उन विधवाओं को आश्रित उम्मीदवार को आशिक नहीं रह पाते जिनके उनका पालन पोषण नहीं हो पाता तो उनको सहारा देने के लिए शादी करने की इजाजत दी गई थी ना कि सो के लिए अपने समाज में देखें 1% भी लोग ऐसे नहीं मिलेंगे इनकी एक से ज्यादा शादी हुई हो
Romanized Version
इस्लाम धर्म में एक आदमी को चार शादी करने की इजाजत दी गई है यानी एक मुसलमान चार शादी कर सकता है मगर हम अपने समाज में अपने अड़ोस पड़ोस में देखे तो कोई 12 के सीए से मिलेगी जब किसी की एक से ज्यादा शादी हुई थी और इस्लाम में जब ने इन चार साधु की इजाजत इसलिए दी थी ताकि जो लड़ाई में या बीमारी की वजह से जो लोग मर जाते हैं तो उन विधवाओं को आश्रित उम्मीदवार को आशिक नहीं रह पाते जिनके उनका पालन पोषण नहीं हो पाता तो उनको सहारा देने के लिए शादी करने की इजाजत दी गई थी ना कि सो के लिए अपने समाज में देखें 1% भी लोग ऐसे नहीं मिलेंगे इनकी एक से ज्यादा शादी हुई होIslam Dharam Mein Ek Aadmi Ko Char Shadi Karne Ki Ijajat Di Gayi Hai Yani Ek Musalman Char Shadi Kar Sakta Hai Magar Hum Apne Samaaj Mein Apne Ados Pados Mein Dekhe Toh Koi 12 Ke Ca Se Milegi Jab Kisi Ki Ek Se Zyada Shadi Hui Thi Aur Islam Mein Jab Ne In Char Sadhu Ki Ijajat Isliye Di Thi Taki Jo Ladai Mein Ya Bimari Ki Wajah Se Jo Log Mar Jaate Hain Toh Un Vidhawao Ko Aashrit Ummidvar Ko Aashik Nahi Reh Paate Jinke Unka Palan Poshan Nahi Ho Pata Toh Unko Sahara Dene Ke Liye Shadi Karne Ki Ijajat Di Gayi Thi Na Ki So Ke Liye Apne Samaaj Mein Dekhen 1% Bhi Log Aise Nahi Milenge Inki Ek Se Zyada Shadi Hui Ho
Likes  21  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक आदमी को कई कारणों से 4 महीना 1 तक शादी करने की इजाजत है जिससे दोनों पुरुष और महिलाओं को फायदा हो सकता है सबसे पहले या पैगंबर के मामले में महिलाओं की मदद कर सकता है जहां वह अक्सर गरीब महिलाओं या महिलाओं के साथ शादी करते हैं जिनके पति युद्ध में मारे गए थे या उनके मदद करने या उन्हें बचाने के लिए करते हैं दूसरा जैसे कि राकेट इब्राहिम के रूप में विवाहित हैं वह उस व्यक्ति को एक बच्चे को सहन कर सकते हैं जब पहली पत्नी नहीं कर सकती एक महिला को गर्भ धारण करने की असमर्थता छोड़ने की वजह वह दूसरे से विवाह करता है और उन्हें दोनों न्याय के साथ माना जाता है और अंत में एक आदमी के मामले में एक और महिला के साथ व्यभिचार करने के लिए परीक्षा परीक्षा दी इस आदमी के बाद लेकर एक गंभीर पाप भी आ सकता अल्लाह ने आदमी को अपने कानून की भीतर आसानी दिया है और आदमी को एक और महिला से शादी करने की अनुमति दी है इसका उद्देश्य मनुष्य और महिलाओं के को गंभीर पाप करने से रोकना है बहुत से लोग इस कानून को पुरुषों के लिए स्वार्थी जोड़े के रूप में देखते हैं लेकिन वास्तव में इसका मतलब पुरुषों और महिलाओं को दोनों में आसानी है या कई पत्नियों के साथ मजे करने का बहाना नहीं है बल्कि वास्तव में इसका मतलब है कि पुरुषों और महिलाओं को अपने जीवन के तरीकों से सुलझाया जा सकते हैं
Romanized Version
एक आदमी को कई कारणों से 4 महीना 1 तक शादी करने की इजाजत है जिससे दोनों पुरुष और महिलाओं को फायदा हो सकता है सबसे पहले या पैगंबर के मामले में महिलाओं की मदद कर सकता है जहां वह अक्सर गरीब महिलाओं या महिलाओं के साथ शादी करते हैं जिनके पति युद्ध में मारे गए थे या उनके मदद करने या उन्हें बचाने के लिए करते हैं दूसरा जैसे कि राकेट इब्राहिम के रूप में विवाहित हैं वह उस व्यक्ति को एक बच्चे को सहन कर सकते हैं जब पहली पत्नी नहीं कर सकती एक महिला को गर्भ धारण करने की असमर्थता छोड़ने की वजह वह दूसरे से विवाह करता है और उन्हें दोनों न्याय के साथ माना जाता है और अंत में एक आदमी के मामले में एक और महिला के साथ व्यभिचार करने के लिए परीक्षा परीक्षा दी इस आदमी के बाद लेकर एक गंभीर पाप भी आ सकता अल्लाह ने आदमी को अपने कानून की भीतर आसानी दिया है और आदमी को एक और महिला से शादी करने की अनुमति दी है इसका उद्देश्य मनुष्य और महिलाओं के को गंभीर पाप करने से रोकना है बहुत से लोग इस कानून को पुरुषों के लिए स्वार्थी जोड़े के रूप में देखते हैं लेकिन वास्तव में इसका मतलब पुरुषों और महिलाओं को दोनों में आसानी है या कई पत्नियों के साथ मजे करने का बहाना नहीं है बल्कि वास्तव में इसका मतलब है कि पुरुषों और महिलाओं को अपने जीवन के तरीकों से सुलझाया जा सकते हैंEk Aadmi Ko Kai Kaarno Se 4 Mahina 1 Tak Shadi Karne Ki Ijajat Hai Jisse Dono Purush Aur Mahilaon Ko Fayda Ho Sakta Hai Sabse Pehle Ya Paigambar Ke Mamle Mein Mahilaon Ki Madad Kar Sakta Hai Jahan Wah Aksar Garib Mahilaon Ya Mahilaon Ke Saath Shadi Karte Hain Jinke Pati Yudh Mein Maare Gaye The Ya Unke Madad Karne Ya Unhen Bachane Ke Liye Karte Hain Doosra Jaise Ki Raaket Ibrahim Ke Roop Mein Vivaahit Hain Wah Us Vyakti Ko Ek Bacche Ko Sahan Kar Sakte Hain Jab Pehli Patni Nahi Kar Sakti Ek Mahila Ko Garbh Dharan Karne Ki Asamarthata Chodane Ki Wajah Wah Dusre Se Vivah Karta Hai Aur Unhen Dono Nyay Ke Saath Mana Jata Hai Aur Ant Mein Ek Aadmi Ke Mamle Mein Ek Aur Mahila Ke Saath Vyabhichar Karne Ke Liye Pariksha Pariksha Di Is Aadmi Ke Baad Lekar Ek Gambhir Paap Bhi Aa Sakta Allah Ne Aadmi Ko Apne Kanoon Ki Bheetar Aasani Diya Hai Aur Aadmi Ko Ek Aur Mahila Se Shadi Karne Ki Anumati Di Hai Iska Uddeshya Manushya Aur Mahilaon Ke Ko Gambhir Paap Karne Se Rokna Hai Bahut Se Log Is Kanoon Ko Purushon Ke Liye Swaarthi Jode Ke Roop Mein Dekhte Hain Lekin Vaastav Mein Iska Matlab Purushon Aur Mahilaon Ko Dono Mein Aasani Hai Ya Kai Patniyon Ke Saath Maje Karne Ka Bahana Nahi Hai Balki Vaastav Mein Iska Matlab Hai Ki Purushon Aur Mahilaon Ko Apne Jeevan Ke Trikon Se Sulajhaya Ja Sakte Hain
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Musalman Kitni Shadi Kar Sakta Hai ?,How Many Muslims Can Marry?,


vokalandroid