हमारे एजुकेशन सिस्टम को चेंज करने के लिए हमें क्या करना चाहिए ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

DJ एजुकेशन सिस्टम में अगर चीज लेकर आना है तो हमें और हम सबको मिलकर बहुत सारी छोटी और बड़ी चीजों पर ध्यान देना पड़ेगा जैसे पहले जीती है कि आपको पता है जो वह भी हमारे एजुकेशन मिनिस्टर हैं और जितने भी लीडर से वह कहीं ना कहीं उनका वर्णन करते हैं एजुकेशन को तो आप बताइए क्या हम लोग सही तरीके से हम को रिप्रेजेंट करते हैं उनको वोट देते हैं हम लोग जातिवाद पर वोट देते हमको जिसकी वजह से जो हमारे रिप्रजेंटेटिव है वह अच्छे से लेट नहीं हो पाते हैं और हमारे एजुकेशन सुधार नहीं आ पाता है एग्जांपल के तौर पर गवर्नमेंट स्कूल की हालत बहुत खराब है और एक भी बच्चा पॉलिटिकल लीडर्स का कभी गवर्नमेंट स्कूल में नहीं पड़ता तो आप खुद ही सोचिए उनको भी पता है कि गवर्नमेंट स्कूल की हालत खराब है पहली चीज दूसरी चीज हम लोग जो डोनेशन देते हैं और तो हमें यह कुछ होना चाहिए कि हम लोग कभी कभी यादों नेशंस देते हैं और कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए तो यह चीज गलत है हमें ऐसा नहीं करना चाहिए और कोई कॉलेज हमें ऐसा करने को मजबूर कर रहा है देने के लिए या फिर उन सब चीजों को फॉलो करने के लिए मजबूर कर रहा था मैं इसके खिलाफ एक्शन लेना चाहिए क्योंकि वैद्य और हमें एक्शन लेना चाहिए ताकि आगे से ऐसा ना हो कि है कि हमारे जो पॉलिसी एजुकेशन पॉलिसी में कोई भी फॉर्म नहीं आ रहा है और हमारी एजुकेशन मिनिस्टर हो इस समय इस पर ध्यान नहीं दे रहे हैं और ना ही बच्चों पर स्क्रीन डोर आर्टिकल ऑन दी जाती है जिससे बच्चा पढ़े लिखे होने के बाद भी अनपढ़ रह जाता है उनको जॉब नहीं मिलती है तो इन सब चीजों पर हमारे घर में को ध्यान देना चाहिए और टेंथ ट्वेल्थ में जो भी नकल मिलती है इस समय यूपी बोर्ड में मिलती है तेंदुलकर के बच्चों को भी ऐसी के बच्चों को अवश्य पास हो जाते हैं पढ़े लिखे होने के बाद अनपढ़ होते हैं तो इसमें सुधार ले कर आना चाहिए और एक करोड़ सिस्टम है उसको सुधार ले कर आना चाहिए ताकि बचा अच्छे से पढ़ सके तो भी सारी चीजें हैं हमारे गवर्नमेंट को देखना चाहिए और उसके दोस्त उधार लेकर आना चाहिए और जो भी वह नियम निकालती है उसको अच्छे से फॉलो करें चाहे वह एग्जामिनेशन की डेट हो हर चीज को अच्छी टाइम पर हो अच्छी तरीके से फॉलो करना चाह
Romanized Version
DJ एजुकेशन सिस्टम में अगर चीज लेकर आना है तो हमें और हम सबको मिलकर बहुत सारी छोटी और बड़ी चीजों पर ध्यान देना पड़ेगा जैसे पहले जीती है कि आपको पता है जो वह भी हमारे एजुकेशन मिनिस्टर हैं और जितने भी लीडर से वह कहीं ना कहीं उनका वर्णन करते हैं एजुकेशन को तो आप बताइए क्या हम लोग सही तरीके से हम को रिप्रेजेंट करते हैं उनको वोट देते हैं हम लोग जातिवाद पर वोट देते हमको जिसकी वजह से जो हमारे रिप्रजेंटेटिव है वह अच्छे से लेट नहीं हो पाते हैं और हमारे एजुकेशन सुधार नहीं आ पाता है एग्जांपल के तौर पर गवर्नमेंट स्कूल की हालत बहुत खराब है और एक भी बच्चा पॉलिटिकल लीडर्स का कभी गवर्नमेंट स्कूल में नहीं पड़ता तो आप खुद ही सोचिए उनको भी पता है कि गवर्नमेंट स्कूल की हालत खराब है पहली चीज दूसरी चीज हम लोग जो डोनेशन देते हैं और तो हमें यह कुछ होना चाहिए कि हम लोग कभी कभी यादों नेशंस देते हैं और कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए तो यह चीज गलत है हमें ऐसा नहीं करना चाहिए और कोई कॉलेज हमें ऐसा करने को मजबूर कर रहा है देने के लिए या फिर उन सब चीजों को फॉलो करने के लिए मजबूर कर रहा था मैं इसके खिलाफ एक्शन लेना चाहिए क्योंकि वैद्य और हमें एक्शन लेना चाहिए ताकि आगे से ऐसा ना हो कि है कि हमारे जो पॉलिसी एजुकेशन पॉलिसी में कोई भी फॉर्म नहीं आ रहा है और हमारी एजुकेशन मिनिस्टर हो इस समय इस पर ध्यान नहीं दे रहे हैं और ना ही बच्चों पर स्क्रीन डोर आर्टिकल ऑन दी जाती है जिससे बच्चा पढ़े लिखे होने के बाद भी अनपढ़ रह जाता है उनको जॉब नहीं मिलती है तो इन सब चीजों पर हमारे घर में को ध्यान देना चाहिए और टेंथ ट्वेल्थ में जो भी नकल मिलती है इस समय यूपी बोर्ड में मिलती है तेंदुलकर के बच्चों को भी ऐसी के बच्चों को अवश्य पास हो जाते हैं पढ़े लिखे होने के बाद अनपढ़ होते हैं तो इसमें सुधार ले कर आना चाहिए और एक करोड़ सिस्टम है उसको सुधार ले कर आना चाहिए ताकि बचा अच्छे से पढ़ सके तो भी सारी चीजें हैं हमारे गवर्नमेंट को देखना चाहिए और उसके दोस्त उधार लेकर आना चाहिए और जो भी वह नियम निकालती है उसको अच्छे से फॉलो करें चाहे वह एग्जामिनेशन की डेट हो हर चीज को अच्छी टाइम पर हो अच्छी तरीके से फॉलो करना चाहDJ Education System Mein Agar Cheez Lekar Aana Hai To Hume Aur Hum Sabko Milkar Bahut Saree Choti Aur Badi Chijon Par Dhyan Dena Padega Jaise Pehle Jeeti Hai Ki Aapko Pata Hai Jo Wah Bhi Hamare Education Minister Hain Aur Jitne Bhi Leader Se Wah Kahin Na Kahin Unka Vernon Karte Hain Education Ko To Aap Bataiye Kya Hum Log Sahi Tarike Se Hum Ko Represent Karte Hain Unko Vote Dete Hain Hum Log Jaatiwad Par Vote Dete Hamko Jiski Wajah Se Jo Hamare Representative Hai Wah Acche Se Let Nahi Ho Paate Hain Aur Hamare Education Sudhaar Nahi Aa Pata Hai Example Ke Taur Par Government School Ki Halat Bahut Kharab Hai Aur Ek Bhi Baccha Political Leaders Ka Kabhi Government School Mein Nahi Padata To Aap Khud Hi Sochie Unko Bhi Pata Hai Ki Government School Ki Halat Kharab Hai Pehli Cheez Dusri Cheez Hum Log Jo Donation Dete Hain Aur To Hume Yeh Kuch Hona Chahiye Ki Hum Log Kabhi Kabhi Yaadon Nations Dete Hain Aur College Mein Admission Lene Ke Liye To Yeh Cheez Galat Hai Hume Aisa Nahi Karna Chahiye Aur Koi College Hume Aisa Karne Ko Majboor Kar Raha Hai Dene Ke Liye Ya Phir Un Sab Chijon Ko Follow Karne Ke Liye Majboor Kar Raha Tha Main Iske Khilaf Action Lena Chahiye Kyonki Vaidya Aur Hume Action Lena Chahiye Taki Aage Se Aisa Na Ho Ki Hai Ki Hamare Jo Policy Education Policy Mein Koi Bhi Form Nahi Aa Raha Hai Aur Hamari Education Minister Ho Is Samay Is Par Dhyan Nahi De Rahe Hain Aur Na Hi Bacchon Par Screen Dor Article On Di Jati Hai Jisse Baccha Padhe Likhe Hone Ke Baad Bhi Anapadh Rah Jata Hai Unko Job Nahi Milti Hai To In Sab Chijon Par Hamare Ghar Mein Ko Dhyan Dena Chahiye Aur Tenth Twelfth Mein Jo Bhi Nakal Milti Hai Is Samay Up Board Mein Milti Hai Tendulkar Ke Bacchon Ko Bhi Aisi Ke Bacchon Ko Avashya Paas Ho Jaate Hain Padhe Likhe Hone Ke Baad Anapadh Hote Hain To Isme Sudhaar Le Kar Aana Chahiye Aur Ek Crore System Hai Usko Sudhaar Le Kar Aana Chahiye Taki Bacha Acche Se Padh Sake To Bhi Saree Cheezen Hain Hamare Government Ko Dekhna Chahiye Aur Uske Dost Udhar Lekar Aana Chahiye Aur Jo Bhi Wah Niyam Nikalati Hai Usko Acche Se Follow Karen Chahe Wah Examination Ki Date Ho Har Cheez Ko Acchi Time Par Ho Acchi Tarike Se Follow Karna Chah
Likes  3  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

हमारे एजुकेशन सिस्टम में इतनी कमियां क्यों है और इन्हें किस तरह बदला जा सकता है ? ...

हमार एजुकेशन सिस्टम में जो भी कमियां है वह सारी यह सरकारी ऑफिसर की वजह से ही है तो इन को जो भी एजुकेशन सिस्टम में सुधार लाने के लिए कोई बड़ा मजा लेना चाहिए तो उससे यह होगा कि एजुकेशन सिस्टम जो भी है वजवाब पढ़िये
ques_icon

क्या भारतीय सिक्षा विधि  को आज की बढ़ती बेरोजगारों की समस्या को देखकर आज की शिक्षा को रोजगारपरक बनाने पर विचार करना चाहिए? ...

यश इस बात से मैं पूर्णता सहमत हूं क्योंकि आज की जो हमारी शिक्षा है यह छात्र छात्राओं को रोजगार देने में समर्थ नहीं है इसलिए बेरोजगारों की संख्या बढ़ती जा रही है इनको देखकर कि कितना हैदर होता है कि वेसजवाब पढ़िये
ques_icon

हमारे देश की शिक्षा प्रणाली में practical से ज्यादा लिखित चीजों पर ध्यान क्यों देते हैं ? ...

हमारे देश के शिक्षा प्रणाली में हम बोले थे ना मार्क्स कव्वाली देते हैं यही कारण है कि हम प्रार्थी अपने बेहतर रूप से याद करना पसंद करते हैं देखते कि हमारी नॉलेज कितनी है बस इतना ही मिक्सर करते हैं कि हजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारी एजुकेशन सिस्टम में बदलाव आवश्यक है आज की बच्ची शिक्षा से भाग रहे हैं वह स्कूल नहीं जाना चाहते क्योंकि स्कूल में उन पर दबाव और तनाव रहता है उन्हें वहां एक अच्छा और खुशनुमा माहौल नहीं मिलता हम आज एक लक्ष्य केंद्रित शिक्षा की ओर जा रहे हैं इसमें अंतिम नतीजा महत्वपूर्ण होता जा रहा है जीवन नहीं हमारी जो प्राचीन और प्रारंभिक शिक्षा व्यवस्था थी उसमें बच्चों को एक शिक्षक के गुरु को सौंप दिया जाता था पुरे विश्वास के साथ और उस समय बच्चों को सभी विषयों की शिक्षा मिलती थी हमें फिर से शिक्षा में योग और आध्यात्मिकता को लाना चाहिए इससे शिक्षक व विद्यार्थी दोनों को ही शांत व स्वस्थ तन मन और दिमाग मिलेंगे इससे तनाव कम होंगे और लोगों में लोग जो भी करेंगे बच्चे जो भी करेंगे खुशी में इच्छा से करेंगे सरकारी स्कूल में सुधार करके सभी के लिए सरकारी स्कूलों में पढ़ना अनिवार्य करना चाहिए जिससे उसने जो अमीरी गरीबी में विशेष शिक्षा का उद्देश्य सिर्फ एक अच्छी पोस्ट और अधिक धन कमाना नहीं हो होना चाहिए बल्कि बच्चों को अच्छा व्यवहार खुशमिजाज उपकारी दयालु और सभी से प्रेम करने की भावना से ओतप्रोत होना चाहिए क्योंकि यही बच्चे आगे जाकर भारत के नागरिक बनेंगे भारत के भविष्य निर्माता बनेंगे प्राचीन समय की तरह ही बच्चों को सभी क्षेत्रों में ज्ञान मिलना चाहिए ताकि वह बड़े होकर अपनी रुचि के अनुसार क्षेत्र को चुन सके शिक्षकों को भी सर आंखो पर नहीं ध्यान देना चाहिए बल्कि बच्चों के सर्वांगीण विकास पर ध्यान देना चाहिए बच्चों पर किताबों में पढ़ाई का भाड़ में तनाव कम होना चाहिए बच्चों को सुविधा युक्त व तनाव मुक्त विद्यालय मिलनी चाहिए जहां जाकर कोई खुशी का अनुभव करें विद्यालयों में बच्चों की संख्या कम होनी चाहिए जिससे शिक्षक उन पर पूरा ध्यान दे सके आज हमारे आज हमारे पास आर्थिक संसाधनों दुनिया के किसी भी कोने में पहुंचने के मौके हैं और हमारे देश के पास ऐसा नेतृत्व है जो इन तमाम बदलावों को साकार करने के लिए जड़ बुद्धि की है तो हमें हमारी शिक्षा पद्धति के बारे में पुनर्विचार का
Romanized Version
हमारी एजुकेशन सिस्टम में बदलाव आवश्यक है आज की बच्ची शिक्षा से भाग रहे हैं वह स्कूल नहीं जाना चाहते क्योंकि स्कूल में उन पर दबाव और तनाव रहता है उन्हें वहां एक अच्छा और खुशनुमा माहौल नहीं मिलता हम आज एक लक्ष्य केंद्रित शिक्षा की ओर जा रहे हैं इसमें अंतिम नतीजा महत्वपूर्ण होता जा रहा है जीवन नहीं हमारी जो प्राचीन और प्रारंभिक शिक्षा व्यवस्था थी उसमें बच्चों को एक शिक्षक के गुरु को सौंप दिया जाता था पुरे विश्वास के साथ और उस समय बच्चों को सभी विषयों की शिक्षा मिलती थी हमें फिर से शिक्षा में योग और आध्यात्मिकता को लाना चाहिए इससे शिक्षक व विद्यार्थी दोनों को ही शांत व स्वस्थ तन मन और दिमाग मिलेंगे इससे तनाव कम होंगे और लोगों में लोग जो भी करेंगे बच्चे जो भी करेंगे खुशी में इच्छा से करेंगे सरकारी स्कूल में सुधार करके सभी के लिए सरकारी स्कूलों में पढ़ना अनिवार्य करना चाहिए जिससे उसने जो अमीरी गरीबी में विशेष शिक्षा का उद्देश्य सिर्फ एक अच्छी पोस्ट और अधिक धन कमाना नहीं हो होना चाहिए बल्कि बच्चों को अच्छा व्यवहार खुशमिजाज उपकारी दयालु और सभी से प्रेम करने की भावना से ओतप्रोत होना चाहिए क्योंकि यही बच्चे आगे जाकर भारत के नागरिक बनेंगे भारत के भविष्य निर्माता बनेंगे प्राचीन समय की तरह ही बच्चों को सभी क्षेत्रों में ज्ञान मिलना चाहिए ताकि वह बड़े होकर अपनी रुचि के अनुसार क्षेत्र को चुन सके शिक्षकों को भी सर आंखो पर नहीं ध्यान देना चाहिए बल्कि बच्चों के सर्वांगीण विकास पर ध्यान देना चाहिए बच्चों पर किताबों में पढ़ाई का भाड़ में तनाव कम होना चाहिए बच्चों को सुविधा युक्त व तनाव मुक्त विद्यालय मिलनी चाहिए जहां जाकर कोई खुशी का अनुभव करें विद्यालयों में बच्चों की संख्या कम होनी चाहिए जिससे शिक्षक उन पर पूरा ध्यान दे सके आज हमारे आज हमारे पास आर्थिक संसाधनों दुनिया के किसी भी कोने में पहुंचने के मौके हैं और हमारे देश के पास ऐसा नेतृत्व है जो इन तमाम बदलावों को साकार करने के लिए जड़ बुद्धि की है तो हमें हमारी शिक्षा पद्धति के बारे में पुनर्विचार काHamari Education System Mein Badlav Aavashyak Hai Aaj Ki Bacchi Shiksha Se Bhag Rahe Hain Wah School Nahi Jana Chahte Kyonki School Mein Un Par Dabaav Aur Tanaav Rehta Hai Unhen Wahan Ek Accha Aur Maahaul Nahi Milta Hum Aaj Ek Lakshya Kendrit Shiksha Ki Oar Ja Rahe Hain Isme Antim Natija Mahatvapurna Hota Ja Raha Hai Jeevan Nahi Hamari Jo Prachin Aur Prarambhik Shiksha Vyavastha Thi Usamen Bacchon Ko Ek Shikshak Ke Guru Ko Saunp Diya Jata Tha Poore Vishwas Ke Saath Aur Us Samay Bacchon Ko Sabhi Vishyon Ki Shiksha Milti Thi Hume Phir Se Shiksha Mein Yog Aur Aadhyatmikta Ko Lana Chahiye Isse Shikshak V Vidyarthi Dono Ko Hi Shaant V Swasth Tan Man Aur Dimag Milenge Isse Tanaav Kam Honge Aur Logon Mein Log Jo Bhi Karenge Bacche Jo Bhi Karenge Khushi Mein Icha Se Karenge Sarkari School Mein Sudhaar Karke Sabhi Ke Liye Sarkari Schoolon Mein Padhna Anivarya Karna Chahiye Jisse Usne Jo Amiri Garibi Mein Vishesh Shiksha Ka Uddeshya Sirf Ek Acchi Post Aur Adhik Dhan Kamana Nahi Ho Hona Chahiye Balki Bacchon Ko Accha Vyavhar Upakari Dayaalu Aur Sabhi Se Prem Karne Ki Bhavna Se Hona Chahiye Kyonki Yahi Bacche Aage Jaakar Bharat Ke Nagarik Banenge Bharat Ke Bhavishya Nirmaata Banenge Prachin Samay Ki Tarah Hi Bacchon Ko Sabhi Kshetro Mein Gyaan Milna Chahiye Taki Wah Bade Hokar Apni Ruchi Ke Anusar Kshetra Ko Chun Sake Shikshakon Ko Bhi Sar Aankho Par Nahi Dhyan Dena Chahiye Balki Bacchon Ke Vikash Par Dhyan Dena Chahiye Bacchon Par Kitabon Mein Padhai Ka Bhad Mein Tanaav Kam Hona Chahiye Bacchon Ko Suvidha Yukta V Tanaav Mukt Vidyalaya Milani Chahiye Jahan Jaakar Koi Khushi Ka Anubhav Karen Vidyaalayon Mein Bacchon Ki Sankhya Kam Honi Chahiye Jisse Shikshak Un Par Pura Dhyan De Sake Aaj Hamare Aaj Hamare Paas Aarthik Sansadhanon Duniya Ke Kisi Bhi Kone Mein Pahuchne Ke Mauke Hain Aur Hamare Desh Ke Paas Aisa Netritva Hai Jo In Tamam Badlaon Ko Saakar Karne Ke Liye Jad Buddhi Ki Hai To Hume Hamari Shiksha Paddhatee Ke Bare Mein Punarvichar Ka
Likes  3  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Hamare Education System Ko Change Karne Ke Liye Humein Kya Karna Chahiye,What Should We Do To Change Our Education System,


vokalandroid