कितने % चाहते भारत में राजतंत्र स्थापित हो एक राजा और फिर पूरा भारत उसकी प्रजा रूपी संतान? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे नहीं लगता है कि आजाद भारत की जनता ऐसा चाहेगी कि राजतंत्र फिर से आए प्राचीन समय में हमने इतिहास में पढ़ा है कि राजा महाराजाओं का शासन हुआ करता था और प्रजा उनकी संतान के रूप में रहा करती थी लेकिन जो राजा महाराजा दयालु धार्मिक और प्रजा का हित चाहने वाले थे उनके राज्यों में ही से प्रजा सुखी और सुकून से रह सकती थी वरना जो राजा निर्गुण सो जाते थे धर्मांध हो जाते थे उनका प्रजा पर बहुत अच्छे अत्याचार रहता था वह हर चीज में अपने निर्गुण जीता रखते थे वही वही करना पड़ता था जनता को जो वह चाहते थे लेकिन 1947 में हमारी हमारा भारत आजाद हुआ उसके बाद से भारत की जनता ने स्वतंत्रता में था और अब पूर्ण स्वतंत्रता की आधी हो गई है स्वतंत्रता एक नियमत है कुदरत की भगवान की जो हर इंसान को मिलनी चाहिए और हमें अब मिली है और हम जानते हैं स्वतंत्रता के माई क्या है स्वतंत्रता क्या है स्वतंत्रता कितना महत्वपूर्ण है आज भी कितनी जगह कितने लोगों को यह पता नहीं है कि उनके अधिकार किया है वह कहां स्वतंत्र है तो वह करते हैं लेकिन हमारे संविधान में नागरिकों को बहुत सारे अधिकार मिले हैं बहुत सारी स्वतंत्रता दी गई है इसलिए नागरिकों को उनका जानना और समझना बहुत आवश्यक X राजा के शासन के अंतर्गत रहने का मतलब है कि आप अपनी सारी स्वतंत्रता को खो देंगे आपको वही करना पड़ेगा जो वह राजा चाहेगा अगर राजा अच्छा हुआ तो फिर भी ठीक है लेकिन अगर ऐसा हुआ तो जनता का जीना मुश्किल हो जाएगा और मुझे नहीं लगता कि आज की युवा पर भी ऐसा चाहेगी आज की युवक को तो और स्वतंत्रता चाहिए और स्वतंत्रता चाहिए और स्वतंत्रता चाहिए उन्हें हर चीज में स्वतंत्रता चाहिए तो मुझे नहीं लगता कि राजतंत्र अच्छा माना जाएगा या अच्छा रहेगा या जनता से माने
Romanized Version
मुझे नहीं लगता है कि आजाद भारत की जनता ऐसा चाहेगी कि राजतंत्र फिर से आए प्राचीन समय में हमने इतिहास में पढ़ा है कि राजा महाराजाओं का शासन हुआ करता था और प्रजा उनकी संतान के रूप में रहा करती थी लेकिन जो राजा महाराजा दयालु धार्मिक और प्रजा का हित चाहने वाले थे उनके राज्यों में ही से प्रजा सुखी और सुकून से रह सकती थी वरना जो राजा निर्गुण सो जाते थे धर्मांध हो जाते थे उनका प्रजा पर बहुत अच्छे अत्याचार रहता था वह हर चीज में अपने निर्गुण जीता रखते थे वही वही करना पड़ता था जनता को जो वह चाहते थे लेकिन 1947 में हमारी हमारा भारत आजाद हुआ उसके बाद से भारत की जनता ने स्वतंत्रता में था और अब पूर्ण स्वतंत्रता की आधी हो गई है स्वतंत्रता एक नियमत है कुदरत की भगवान की जो हर इंसान को मिलनी चाहिए और हमें अब मिली है और हम जानते हैं स्वतंत्रता के माई क्या है स्वतंत्रता क्या है स्वतंत्रता कितना महत्वपूर्ण है आज भी कितनी जगह कितने लोगों को यह पता नहीं है कि उनके अधिकार किया है वह कहां स्वतंत्र है तो वह करते हैं लेकिन हमारे संविधान में नागरिकों को बहुत सारे अधिकार मिले हैं बहुत सारी स्वतंत्रता दी गई है इसलिए नागरिकों को उनका जानना और समझना बहुत आवश्यक X राजा के शासन के अंतर्गत रहने का मतलब है कि आप अपनी सारी स्वतंत्रता को खो देंगे आपको वही करना पड़ेगा जो वह राजा चाहेगा अगर राजा अच्छा हुआ तो फिर भी ठीक है लेकिन अगर ऐसा हुआ तो जनता का जीना मुश्किल हो जाएगा और मुझे नहीं लगता कि आज की युवा पर भी ऐसा चाहेगी आज की युवक को तो और स्वतंत्रता चाहिए और स्वतंत्रता चाहिए और स्वतंत्रता चाहिए उन्हें हर चीज में स्वतंत्रता चाहिए तो मुझे नहीं लगता कि राजतंत्र अच्छा माना जाएगा या अच्छा रहेगा या जनता से मानेMujhe Nahi Lagta Hai Ki Azad Bharat Ki Janta Aisa Chahegi Ki Rajtantra Phir Se Aaye Prachin Samay Mein Humne Itihas Mein Padha Hai Ki Raja Maharajaon Ka Shasan Hua Karta Tha Aur Praja Unki Santan Ke Roop Mein Raha Karti Thi Lekin Jo Raja Maharaja Dayaalu Dharmik Aur Praja Ka Hit Chahne Wale The Unke Rajyo Mein Hi Se Praja Sukhi Aur Sukoon Se Rah Sakti Thi Varana Jo Raja Nirgun So Jaate The Dharmandh Ho Jaate The Unka Praja Par Bahut Acche Atyachar Rehta Tha Wah Har Cheez Mein Apne Nirgun Jeeta Rakhate The Wahi Wahi Karna Padata Tha Janta Ko Jo Wah Chahte The Lekin 1947 Mein Hamari Hamara Bharat Azad Hua Uske Baad Se Bharat Ki Janta Ne Swatantrata Mein Tha Aur Ab Poorn Swatantrata Ki Aadhi Ho Gayi Hai Swatantrata Ek Niyamat Hai Kudrat Ki Bhagwan Ki Jo Har Insaan Ko Milani Chahiye Aur Hume Ab Mili Hai Aur Hum Jante Hain Swatantrata Ke My Kya Hai Swatantrata Kya Hai Swatantrata Kitna Mahatvapurna Hai Aaj Bhi Kitni Jagah Kitne Logon Ko Yeh Pata Nahi Hai Ki Unke Adhikaar Kiya Hai Wah Kahan Swatantra Hai To Wah Karte Hain Lekin Hamare Samvidhan Mein Naagrikon Ko Bahut Sare Adhikaar Mile Hain Bahut Saree Swatantrata Di Gayi Hai Isliye Naagrikon Ko Unka Janana Aur Samajhna Bahut Aavashyak X Raja Ke Shasan Ke Antargat Rehne Ka Matlab Hai Ki Aap Apni Saree Swatantrata Ko Kho Denge Aapko Wahi Karna Padega Jo Wah Raja Chahega Agar Raja Accha Hua To Phir Bhi Theek Hai Lekin Agar Aisa Hua To Janta Ka Jeena Mushkil Ho Jayega Aur Mujhe Nahi Lagta Ki Aaj Ki Yuva Par Bhi Aisa Chahegi Aaj Ki Yuvak Ko To Aur Swatantrata Chahiye Aur Swatantrata Chahiye Aur Swatantrata Chahiye Unhen Har Cheez Mein Swatantrata Chahiye To Mujhe Nahi Lagta Ki Rajtantra Accha Mana Jayega Ya Accha Rahega Ya Janta Se Mane
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


मुझे नहीं लगता भारत का कोई भी आदमी या कोई भी इंसान यह चाहेगा कि फिर से भारत में राजतंत्र स्थापित हो और एक राजा और बाकी सब लोग उसकी प्रजा क्योंकि हम सभी जानते हैं कि जब राजा हुआ करते थे जब राजाओं का जमाना हुआ करता था तो एक परिवार में से एक राजा होते थे उस उनकी बात उन्हीं के परिवार में से उनके बेटे उनके बेटे और उनकी सारी जनरेशन राजा बनती थी और उसमें हम कभी नहीं देख पाते थे कि जो मारा राजा है उसमें क्या गुण है क्या अच्छाइयां हैं और एक सिलेक्शन नहीं हो पाता था अच्छे राजा का सभी लोगों के बीच में से बल्कि सिर्फ एक ही परिवार में से सब राजा बना करते थे और उसके अलावा और राजा के पास हर तरह की ऑथॉरिटी होती थी वह जो चाहे वह कर सकते थे और प्रजा को उनकी हर हालत में बात माननी होती थी अगर वह किसी को न्याय पूर्ण निर्णय भी नहीं दे रहा है तो भी कोई बात नहीं होती थी और प्रजा उनका जो भी निर्णय हुआ करता था उसको सिर झुका कर मारना पड़ता था प्रजा को जो कि एक तरह से टॉर्चर हो गया और एक तरह से खोला था कि अगर एक इंसान के हाथ मैं आ जाती है तो बाकी सब का उसमें कोई हिस्सा नहीं रहता और वहीं अगर हम लोकतंत्र की सरकार रखेंगे और लोकतंत्र स्थापित होगा तो उसमें हर इंसान की वैल्यू होती है हर इंसान अपने हिसाब से अपनी अकल से वोट डाल सकता है और लोग अपना राजा चुन सकता है जो कि एक कोई भी पॉलिटिकल पार्टी के लीडर चुनते हैं हम लोग जिस तरह आजकल तो यह जो डांस हुआ करता था वह एक फुल बॉडी वाला पावर होता था किसी एक इंसान के पास वही हाल लोकतंत्र में जो पावर है वह सब के पीछे बैठी हुई है और जो कि ज्यादा अच्छा कहा जा सकता है क्योंकि जब पावर एक इंसान के हाथ में होती है तो उसका फैसला आखिरी होता है परंतु के पावर फटी हुई है तो सब लोग मिलकर फैसला लिख सकते हैंMujhe Nahi Lagta Bharat Ka Koi Bhi Aadmi Ya Koi Bhi Insaan Yeh Chahega Ki Phir Se Bharat Mein Rajtantra Sthapit Ho Aur Ek Raja Aur Baki Sab Log Uski Praja Kyonki Hum Sabhi Jante Hain Ki Jab Raja Hua Karte The Jab Rajao Ka Jamana Hua Karta Tha To Ek Parivar Mein Se Ek Raja Hote The Us Unki Baat Unhin Ke Parivar Mein Se Unke Bete Unke Bete Aur Unki Saree Generation Raja Banti Thi Aur Usamen Hum Kabhi Nahi Dekh Paate The Ki Jo Mara Raja Hai Usamen Kya Gun Hai Kya Acchaiyan Hain Aur Ek Selection Nahi Ho Pata Tha Acche Raja Ka Sabhi Logon Ke Beech Mein Se Balki Sirf Ek Hi Parivar Mein Se Sab Raja Bana Karte The Aur Uske Alava Aur Raja Ke Paas Har Tarah Ki Athariti Hoti Thi Wah Jo Chahe Wah Kar Sakte The Aur Praja Ko Unki Har Halat Mein Baat Maanani Hoti Thi Agar Wah Kisi Ko Nyay Poorn Nirnay Bhi Nahi De Raha Hai To Bhi Koi Baat Nahi Hoti Thi Aur Praja Unka Jo Bhi Nirnay Hua Karta Tha Usko Sir Jhuka Kar Maarna Padata Tha Praja Ko Jo Ki Ek Tarah Se Torture Ho Gaya Aur Ek Tarah Se Khola Tha Ki Agar Ek Insaan Ke Hath Main Aa Jati Hai To Baki Sab Ka Usamen Koi Hissa Nahi Rehta Aur Wahin Agar Hum Loktantra Ki Sarkar Rakhenge Aur Loktantra Sthapit Hoga To Usamen Har Insaan Ki Value Hoti Hai Har Insaan Apne Hisab Se Apni Akal Se Vote Dal Sakta Hai Aur Log Apna Raja Chun Sakta Hai Jo Ki Ek Koi Bhi Political Party Ke Leader Chunate Hain Hum Log Jis Tarah Aajkal To Yeh Jo Dance Hua Karta Tha Wah Ek Full Body Wala Power Hota Tha Kisi Ek Insaan Ke Paas Wahi Haal Loktantra Mein Jo Power Hai Wah Sab Ke Piche Baithi Hui Hai Aur Jo Ki Jyada Accha Kaha Ja Sakta Hai Kyonki Jab Power Ek Insaan Ke Hath Mein Hoti Hai To Uska Faisla Aakhiri Hota Hai Parantu Ke Power Fati Hui Hai To Sab Log Milkar Faisla Likh Sakte Hain
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Kitne % Chahte Bharat Mein Rajtantra Sthapit Ho Ek Raja Aur Phir Pura Bharat Uski Praja Rupee Santan,How Many% Want A Monarchy To Be Established In India, A King, And Then The Whole Of India As His People?,


vokalandroid