जातिवाद कैसे खत्म हो सकता है ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जो जातिवाद जातिवाद वाला झोटा लेना और जो यह फीलिंग है यह वह लोग ज्यादा सोचते हैं और बोलो इस चीज को ज्यादा फॉलो करते हैं जोकि कम पढ़े लिखे हैं आप देख सकते हो उठा कर तू मेरे सबसे पहला रीज़न तो यही है कि सब जातिवाद और इन चीजों के बारे में अवेयरनेस रहनी चाहिए लोगों को और बड़े लोग सब पढ़ेंगे लिखेंगे अच्छे से तो उनको समझ में आएगा कि जातिवाद कुछ नहीं होता और यह सब बेकार की बात है आदमी का और देश का डेवलपमेंट ऑफिसर एक पर्टिकुलर लुक्का डेवलपमेंट पढ़ाई लिखाई जो होता है और अन्य बातों से होता है ना कि जातिवाद से होता है तो मैं इंस्पेक्टर पढ़ाई लिखाई तो है ही उसमें कोई दो राय नहीं है दूसरी चीज है कि हमारी पोलिटिकल पार्टीज डिपाजिट पोलिटिकल पार्टीज है उसमें काफी अच्छे लोग भी हैं काफी बुरे लोग भी हैं तो वह चाहे इस जातिवाद कटम को खत्म तो नहीं कम से कम कॉल तो कर सकते हैं लेकिन वह खुद इसका मुद्दा बनाकर फायदा उठाते हैं हर जगह पोलिटिकल पार्टीज जातिवाद का मुद्दा उठाकर उठाती रहती है तो उससे यह लगता है कि जैसे हम लोग भी चीज का अवेयरनेस फैलाने के लिए उस उस टॉपिक के बारे में रैली निकालते हैं वह इसी तरह जातिवाद का रैली निकालते ऐसा लगता है तो आप सूजी की पहली रिमाइंड मिलोगे फिट हो जाता है और फिट कर दिया जाता है जातिवाद कोई चीज गलत है 30 चीज हमारी मीडिया मीडिया ने आपने सुना ही होगा कहीं भी कुछ होता तो सीधे जातिवाद को लेकर मीडिया पर टारगेट करती है और समझाती है हिंदू और मुस्लिम में यह हुआ या फिर किसी खास के ऊपर तू ही सब चीज गलत है हमारी कोशिश करना चाहिए मीडिया को किस तरीके से न्यूज़ को ना दिखाएं और कम से कम सही नहीं लिखा है और ऐसे मोटिवेट करें ताकि देखने वाले लोग भी इसको सही तरीके से लें और जो हम रिजर्वेशन देते हैं वह जातिवाद पर नहीं देना चाहिए ऐट लीस्ट पर उनकी एजुकेशन मत देना चाहिए जो इसमें नहीं देना चाहिए तो कम-से-कम नौकरी माइंड से यह तो नकली कर जातिवाद वाला एक्टर थैंक यू
Romanized Version
देखिए जो जातिवाद जातिवाद वाला झोटा लेना और जो यह फीलिंग है यह वह लोग ज्यादा सोचते हैं और बोलो इस चीज को ज्यादा फॉलो करते हैं जोकि कम पढ़े लिखे हैं आप देख सकते हो उठा कर तू मेरे सबसे पहला रीज़न तो यही है कि सब जातिवाद और इन चीजों के बारे में अवेयरनेस रहनी चाहिए लोगों को और बड़े लोग सब पढ़ेंगे लिखेंगे अच्छे से तो उनको समझ में आएगा कि जातिवाद कुछ नहीं होता और यह सब बेकार की बात है आदमी का और देश का डेवलपमेंट ऑफिसर एक पर्टिकुलर लुक्का डेवलपमेंट पढ़ाई लिखाई जो होता है और अन्य बातों से होता है ना कि जातिवाद से होता है तो मैं इंस्पेक्टर पढ़ाई लिखाई तो है ही उसमें कोई दो राय नहीं है दूसरी चीज है कि हमारी पोलिटिकल पार्टीज डिपाजिट पोलिटिकल पार्टीज है उसमें काफी अच्छे लोग भी हैं काफी बुरे लोग भी हैं तो वह चाहे इस जातिवाद कटम को खत्म तो नहीं कम से कम कॉल तो कर सकते हैं लेकिन वह खुद इसका मुद्दा बनाकर फायदा उठाते हैं हर जगह पोलिटिकल पार्टीज जातिवाद का मुद्दा उठाकर उठाती रहती है तो उससे यह लगता है कि जैसे हम लोग भी चीज का अवेयरनेस फैलाने के लिए उस उस टॉपिक के बारे में रैली निकालते हैं वह इसी तरह जातिवाद का रैली निकालते ऐसा लगता है तो आप सूजी की पहली रिमाइंड मिलोगे फिट हो जाता है और फिट कर दिया जाता है जातिवाद कोई चीज गलत है 30 चीज हमारी मीडिया मीडिया ने आपने सुना ही होगा कहीं भी कुछ होता तो सीधे जातिवाद को लेकर मीडिया पर टारगेट करती है और समझाती है हिंदू और मुस्लिम में यह हुआ या फिर किसी खास के ऊपर तू ही सब चीज गलत है हमारी कोशिश करना चाहिए मीडिया को किस तरीके से न्यूज़ को ना दिखाएं और कम से कम सही नहीं लिखा है और ऐसे मोटिवेट करें ताकि देखने वाले लोग भी इसको सही तरीके से लें और जो हम रिजर्वेशन देते हैं वह जातिवाद पर नहीं देना चाहिए ऐट लीस्ट पर उनकी एजुकेशन मत देना चाहिए जो इसमें नहीं देना चाहिए तो कम-से-कम नौकरी माइंड से यह तो नकली कर जातिवाद वाला एक्टर थैंक यूDekhie Jo Jaatiwad Jaatiwad Wala Jhota Lena Aur Jo Yeh Feeling Hai Yeh Wah Log Jyada Sochte Hain Aur Bolo Is Cheez Ko Jyada Follow Karte Hain Joki Kum Padhe Likhe Hain Aap Dekh Sakte Ho Utha Kar Tu Mere Sabse Pehla Rizan To Yahi Hai Ki Sab Jaatiwad Aur In Chijon Ke Baare Mein Awareness Rahani Chahiye Logon Ko Aur Bade Log Sab Padhenge Likhenge Acche Se To Unko Samajh Mein Aayega Ki Jaatiwad Kuch Nahi Hota Aur Yeh Sab Bekar Ki Baat Hai Aadmi Ka Aur Desh Ka Development Officer Ek Particular Lukka Development Padhai Likhai Jo Hota Hai Aur Anya Baaton Se Hota Hai Na Ki Jaatiwad Se Hota Hai To Main Inspector Padhai Likhai To Hai Hi Usamen Koi Do Rai Nahi Hai Dusri Cheez Hai Ki Hamari Political Parties Deposit Political Parties Hai Usamen Kafi Acche Log Bhi Hain Kafi Bure Log Bhi Hain To Wah Chahe Is Jaatiwad Katam Ko Khatam To Nahi Kum Se Kum Call To Kar Sakte Hain Lekin Wah Khud Iska Mudda Banakar Fayda Uthaatey Hain Har Jagah Political Parties Jaatiwad Ka Mudda Uthaakar Uthaati Rehti Hai To Usse Yeh Lagta Hai Ki Jaise Hum Log Bhi Cheez Ka Awareness Phailane Ke Liye Us Us Topic Ke Baare Mein Rally Nikalate Hain Wah Isi Tarah Jaatiwad Ka Rally Nikalate Aisa Lagta Hai To Aap Suji Ki Pehli Remind Miloge Fit Ho Jata Hai Aur Fit Kar Diya Jata Hai Jaatiwad Koi Cheez Galat Hai 30 Cheez Hamari Media Media Ne Aapne Suna Hi Hoga Kahin Bhi Kuch Hota To Seedhe Jaatiwad Ko Lekar Media Par Target Karti Hai Aur Samajhaati Hai Hindu Aur Muslim Mein Yeh Hua Ya Phir Kisi Khas Ke Upar Tu Hi Sab Cheez Galat Hai Hamari Koshish Karna Chahiye Media Ko Kis Tarike Se News Ko Na Dikhaen Aur Kum Se Kum Sahi Nahi Likha Hai Aur Aise Motivate Karen Taki Dekhne Wale Log Bhi Isko Sahi Tarike Se Lein Aur Jo Hum Reservation Dete Hain Wah Jaatiwad Par Nahi Dena Chahiye At Least Par Unki Education Mat Dena Chahiye Jo Isme Nahi Dena Chahiye To Kum Se Kum Naukri Mind Se Yeh To Nakli Kar Jaatiwad Wala Actor Thank You
Likes  2  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

भारत में अभी भी कही जातिवाद देखा जाता है क्या यह जातिवाद समाप्त नहीं हो सकती ? ...

देखिए धर्म जी जातिवाद किया कर मैं बात करूं आज भी जातिवाद ने हमारे भारत को बुरी तरह से झगड़ा हुआ है दो या तीन जगह नहीं भारत की कौन सी जगह में और आपको व जातिवाद बिक जायेगा चाहे वह बड़े शहरों से दिल्ली अजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जातिवाद कैसे खत्म हो इसके विषय में बाबा साहेब ने जो उपाय बताया था वह गौर करने लायक है जिस पर जातिवाद समाप्त करने वाले संगठनों का ध्यान नहीं जाता या पर देना नहीं चाहते बाबासाहेब ने जो उपाय और कारण बताया था यदि उन पर आप तक ध्यान दिया गया होता तो यह समस्या कब के समाप्त हो चुकी होती है बाबासाहेब ने कहा था जाती ईटों की दीवार या कांटेदार तारों की लाइन जैसी कोई भौतिक वस्तु नहीं है जो हिंदुओं को मेल मिलाप से रोकती हो और जिसे तोड़ना आवश्यक हो जाती एक धारणा है और यह एक मानसिक स्थिति है आते जाते को नष्ट करने का अर्थ भौतिक रुकावटों को दूर करना नहीं है इसके अर्थ विचारात्मक परिवर्तन से है जाति व्यवस्था बोली हो सकती है जाति के आधार पर ऐसा घटिया आचरण किया जा सकता है जिसे मानव के प्रति आम अनुष्का कहा जा सकता है फिर भी अस्वीकार करना कि हिंदू लोगों द्वारा जाति प्रथम आने का कारण या नहीं उनका व्यवहार आमंत्रित और अन्य पूर्ण होता है
Romanized Version
जातिवाद कैसे खत्म हो इसके विषय में बाबा साहेब ने जो उपाय बताया था वह गौर करने लायक है जिस पर जातिवाद समाप्त करने वाले संगठनों का ध्यान नहीं जाता या पर देना नहीं चाहते बाबासाहेब ने जो उपाय और कारण बताया था यदि उन पर आप तक ध्यान दिया गया होता तो यह समस्या कब के समाप्त हो चुकी होती है बाबासाहेब ने कहा था जाती ईटों की दीवार या कांटेदार तारों की लाइन जैसी कोई भौतिक वस्तु नहीं है जो हिंदुओं को मेल मिलाप से रोकती हो और जिसे तोड़ना आवश्यक हो जाती एक धारणा है और यह एक मानसिक स्थिति है आते जाते को नष्ट करने का अर्थ भौतिक रुकावटों को दूर करना नहीं है इसके अर्थ विचारात्मक परिवर्तन से है जाति व्यवस्था बोली हो सकती है जाति के आधार पर ऐसा घटिया आचरण किया जा सकता है जिसे मानव के प्रति आम अनुष्का कहा जा सकता है फिर भी अस्वीकार करना कि हिंदू लोगों द्वारा जाति प्रथम आने का कारण या नहीं उनका व्यवहार आमंत्रित और अन्य पूर्ण होता हैJaatiwad Kaise Khatam Ho Iske Vishay Mein Baba Saheb Ne Jo Upay Bataya Tha Wah Gaur Karne Layak Hai Jis Par Jaatiwad Samapt Karne Wale Sangathano Ka Dhyan Nahi Jata Ya Par Dena Nahi Chahte Babasaheb Ne Jo Upay Aur Kaaran Bataya Tha Yadi Un Par Aap Tak Dhyan Diya Gaya Hota To Yeh Samasya Kab Ke Samapt Ho Chuki Hoti Hai Babasaheb Ne Kaha Tha Jati Eto Ki Diwar Ya Kantedar Taaron Ki Line Jaisi Koi Bhautik Vastu Nahi Hai Jo Hinduon Ko Mail Milap Se Rokati Ho Aur Jise Todana Aavashyak Ho Jati Ek Dharan Hai Aur Yeh Ek Mansik Sthiti Hai Aate Jaate Ko Nasht Karne Ka Arth Bhautik Rukawaton Ko Dur Karna Nahi Hai Iske Arth Vicharatmak Pariwartan Se Hai Jati Vyavastha Boli Ho Sakti Hai Jati Ke Aadhar Par Aisa Ghatiya Aacharan Kiya Ja Sakta Hai Jise Manav Ke Prati Aam Anushka Kaha Ja Sakta Hai Phir Bhi Aswikar Karna Ki Hindu Logon Dwara Jati Pratham Aane Ka Kaaran Ya Nahi Unka Vyavhar Aamantrit Aur Anya Poorn Hota Hai
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जातिवाद को खत्म करने के लिए आप बहुत लोगों ने बहुत ज्यादा प्रयास करें हैं और बहुत सारी चीजें पोलिटिकल पार्टीज भी करके आ चुकी है कई लोगों द्वारा ऐसे प्रयास करें गए हैं ताकि जातिवाद खत्म हमारे देश में और हम लोग एक अच्छा भारत बना पाए पर कोई भी इस प्रयास में पूरी तरह सफल नहीं रहा है क्योंकि सबसे बड़ी चीज क्या है जातिवाद से हमारे देश के जो पॉलिटिकल लीडर सेक्स और उनको बहुत फायदा होता है उनका वोट बैंक बढ़ता है और वह लोग जब भी इलेक्शन में खड़े होते हैं तो भी जाति के हिसाब से ही लोगों को खड़ा किया जाता है और वोट दी जाती है और इवन इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया ने भी कई कई जगह पर जातिवाद के हिसाब से ही सीटें बनाई हुई है किस जगह पर इस जाति का इंसान खड़ा होगा और इस जगह पर इस जाति का इंसान खड़ा होगा वहां के लोगों को देखें हिसाब से तो यह चीज जो जातिवाद है वह सिर्फ पोलिटिकल पार्टीज ही नहीं बल्कि हमारा रेलवे स्टेशन एडमिनिस्ट्रेशन डिपार्टमेंट हैं वह भी काफी हद तक करता है और वह भी इस बात को जानता है कि हमारे देश देश में जातिवाद खिचड़ी कितनी मजबूत हो चुकी है तो वह भी उसी बेसिस पर काम करते हैं तो मेरे हिसाब से तो जातिवाद को खत्म करने के लिए सबसे अच्छी चीज है वह हमारे देश में एक नैरो माइंडेड सोच को कम करना और अपने आप को एजुकेटेड बनाना हो सकता है अगर इंसान एजुकेशन कर लेता है किसी तरह से पढ़ा लिखा होता है तो वह सोच पाता है कि जो हर इंसान है वह एक ही तरह का है अब लेकिन किसी परिवार में या किसी जाति में पैदा होने से कोई इंसान बदला बदल नहीं जाता और उसकी जाति किसी इंसान की उसके बारे में नहीं बता सकती है हमें इंसान की अच्छाइयां और बुराइयां देखनी चाहिए ना कि उसकी जाति के आधार पर उसके बारे में पता लगाना चाहिए तो एजुकेशन यह चीज सिखाती है और अगर हमारे देश में एजुकेशन बढ़ पाएगी सब लोग पढ़े लिखे होंगे तभी जाकर हमारे देश में जातिवाद कहीं खत्म हो पाएगा लेकिन मुझे नहीं लगता कि जातिवाद इतनी जल्दी खत्म हो पाएगा आज से भी 50 साल आगे हो सकते हैं जब जातिवाद खत्म होगा
Romanized Version
जातिवाद को खत्म करने के लिए आप बहुत लोगों ने बहुत ज्यादा प्रयास करें हैं और बहुत सारी चीजें पोलिटिकल पार्टीज भी करके आ चुकी है कई लोगों द्वारा ऐसे प्रयास करें गए हैं ताकि जातिवाद खत्म हमारे देश में और हम लोग एक अच्छा भारत बना पाए पर कोई भी इस प्रयास में पूरी तरह सफल नहीं रहा है क्योंकि सबसे बड़ी चीज क्या है जातिवाद से हमारे देश के जो पॉलिटिकल लीडर सेक्स और उनको बहुत फायदा होता है उनका वोट बैंक बढ़ता है और वह लोग जब भी इलेक्शन में खड़े होते हैं तो भी जाति के हिसाब से ही लोगों को खड़ा किया जाता है और वोट दी जाती है और इवन इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया ने भी कई कई जगह पर जातिवाद के हिसाब से ही सीटें बनाई हुई है किस जगह पर इस जाति का इंसान खड़ा होगा और इस जगह पर इस जाति का इंसान खड़ा होगा वहां के लोगों को देखें हिसाब से तो यह चीज जो जातिवाद है वह सिर्फ पोलिटिकल पार्टीज ही नहीं बल्कि हमारा रेलवे स्टेशन एडमिनिस्ट्रेशन डिपार्टमेंट हैं वह भी काफी हद तक करता है और वह भी इस बात को जानता है कि हमारे देश देश में जातिवाद खिचड़ी कितनी मजबूत हो चुकी है तो वह भी उसी बेसिस पर काम करते हैं तो मेरे हिसाब से तो जातिवाद को खत्म करने के लिए सबसे अच्छी चीज है वह हमारे देश में एक नैरो माइंडेड सोच को कम करना और अपने आप को एजुकेटेड बनाना हो सकता है अगर इंसान एजुकेशन कर लेता है किसी तरह से पढ़ा लिखा होता है तो वह सोच पाता है कि जो हर इंसान है वह एक ही तरह का है अब लेकिन किसी परिवार में या किसी जाति में पैदा होने से कोई इंसान बदला बदल नहीं जाता और उसकी जाति किसी इंसान की उसके बारे में नहीं बता सकती है हमें इंसान की अच्छाइयां और बुराइयां देखनी चाहिए ना कि उसकी जाति के आधार पर उसके बारे में पता लगाना चाहिए तो एजुकेशन यह चीज सिखाती है और अगर हमारे देश में एजुकेशन बढ़ पाएगी सब लोग पढ़े लिखे होंगे तभी जाकर हमारे देश में जातिवाद कहीं खत्म हो पाएगा लेकिन मुझे नहीं लगता कि जातिवाद इतनी जल्दी खत्म हो पाएगा आज से भी 50 साल आगे हो सकते हैं जब जातिवाद खत्म होगाJaatiwad Ko Khatam Karne Ke Liye Aap Bahut Logon Ne Bahut Jyada Prayas Karen Hain Aur Bahut Saree Cheezen Political Parties Bhi Karke Aa Chuki Hai Kai Logon Dwara Aise Prayas Karen Gaye Hain Taki Jaatiwad Khatam Hamare Desh Mein Aur Hum Log Ek Accha Bharat Bana Paye Par Koi Bhi Is Prayas Mein Puri Tarah Safal Nahi Raha Hai Kyonki Sabse Badi Cheez Kya Hai Jaatiwad Se Hamare Desh Ke Jo Political Leader Sex Aur Unko Bahut Fayda Hota Hai Unka Vote Bank Badhta Hai Aur Wah Log Jab Bhi Election Mein Khade Hote Hain To Bhi Jati Ke Hisab Se Hi Logon Ko Khada Kiya Jata Hai Aur Vote Di Jati Hai Aur Even Election Commision Of India Ne Bhi Kai Kai Jagah Par Jaatiwad Ke Hisab Se Hi Seaten Banai Hui Hai Kis Jagah Par Is Jati Ka Insaan Khada Hoga Aur Is Jagah Par Is Jati Ka Insaan Khada Hoga Wahan Ke Logon Ko Dekhen Hisab Se To Yeh Cheez Jo Jaatiwad Hai Wah Sirf Political Parties Hi Nahi Balki Hamara Railway Station Administration Department Hain Wah Bhi Kafi Had Tak Karta Hai Aur Wah Bhi Is Baat Ko Jaanta Hai Ki Hamare Desh Desh Mein Jaatiwad Khichdi Kitni Mazboot Ho Chuki Hai To Wah Bhi Ussi Basis Par Kaam Karte Hain To Mere Hisab Se To Jaatiwad Ko Khatam Karne Ke Liye Sabse Acchi Cheez Hai Wah Hamare Desh Mein Ek Narrow Minded Soch Ko Kum Karna Aur Apne Aap Ko Educated Banana Ho Sakta Hai Agar Insaan Education Kar Leta Hai Kisi Tarah Se Padha Likha Hota Hai To Wah Soch Pata Hai Ki Jo Har Insaan Hai Wah Ek Hi Tarah Ka Hai Ab Lekin Kisi Parivar Mein Ya Kisi Jati Mein Paida Hone Se Koi Insaan Badla Badal Nahi Jata Aur Uski Jati Kisi Insaan Ki Uske Baare Mein Nahi Bata Sakti Hai Hume Insaan Ki Acchaiyan Aur Buraiyan Dekhani Chahiye Na Ki Uski Jati Ke Aadhar Par Uske Baare Mein Pata Lagana Chahiye To Education Yeh Cheez Sikhati Hai Aur Agar Hamare Desh Mein Education Badh Payegi Sab Log Padhe Likhe Honge Tabhi Jaakar Hamare Desh Mein Jaatiwad Kahin Khatam Ho Payega Lekin Mujhe Nahi Lagta Ki Jaatiwad Itni Jaldi Khatam Ho Payega Aaj Se Bhi 50 Saal Aage Ho Sakte Hain Jab Jaatiwad Khatam Hoga
Likes  3  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Jaatiwad Kaise Khatam Ho Sakta Hai,How Racism Can End,Jativad In Hindi, Jativad,


vokalandroid