समान अछूत समुदाय में से एक है या दलित जिन्हें अब आधुनिक भारत के सकारात्मक प्रभाव व्यवस्था में अनुसूचित जाति के रूप में वर्गीकृत किया गया हैSaman Achut Samuday Mein Se Ek Hai Ya Dalit Jinhen Ab Aadhunik Bharat Ke Sakaratmak Prabhav Vyavastha Mein Anusuchit Jati Ke Roop Mein Vargikrit Kiya Gaya Hai
Likes  2  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

जब नील आर्मस्ट्रांग चंद्रमा पर गये थे तब कौन से व्यक्ति ने उस अंतरिक्ष यान में कक्षा मे चक्कर लगाते रहे? ...

आज के राइट इन हंड्रेड सिक्सटी नाइन में जो अप लोअर लेवल जो प्रोग्राम थी पहली बार चंद्रमा पर भूल गए थे उनमें 333 जिनमें सबसे पहले नील आर्मस्ट्रांग थे जो कि उनके हेड थे फिर माइकल कॉलिंस और एडमिन ईयर इन थजवाब पढ़िये
ques_icon

नील आर्म्सट्रांग के बाद नासा ने अब तक चांद पर कोई मनुष्य क्यों नहीं भेजा ? ...

नीलम सॉन्ग के बाद नासा में चांद के ऊपर काफी लोग गए हैं लेकिन अभी चांद पर जाना डिस्कंटीन्यू कर दिया क्योंकि जो प्रेसिडेंट है यूनाइटेड स्टेट के टॉयलेट ऐसे ना होगा उन्होंने बहुत ज्यादा कोई सपोर्ट नहीं दिजवाब पढ़िये
ques_icon

मिशन मून में चाइना द्वारा भेजे गये यान को चंद्रमा के डार्क एरिया मे उतरने में सफलता प्राप्त हो गयी है या चाइना केवल गलत प्रचार कर रहा है? ...

मिशन मून में चाइना भेजें ज्ञान को चंद्रमा के डाल कर दिया में उतरने में सफलता प्राप्त हो गई या चाइना केवल गलत प्रचार कर रहा है चंद्रमा चीन का चीन ने कहा है कि उसने चंद्रमा की दूसरी ओर के हिस्से में रोबजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चमार अथवा चर्मकार भारतीय उपमहाद्वीप में पाई जाने वाली जाति समूह है वर्तमान समय में यह जाति अनुसूचित जातियों की श्रेणी में आती है यह जाती अस्पृश्यता की कृपा का शिकार भी रही है इस जाति के लोग परंपरागत रूप से चमड़े के व्यवहार से जुड़े रहे हैं संपूर्ण भारत में चमार जाति अनुसूचित जातियों में अधिक संख्या में पाई जाने वाली जाती है चीन का मुख्य अवयव चमड़ी की वस्तु बनाने तथा व्यापार करना है आजादी के पहले तक इन जाति के लोगों को चमड़े का काम करने के लिए विवश किया गया तथा संविधान बनने से पूर्व तक इनको अछूतों की श्रेणी में रखा जाता था अंग्रेजों के आने से पहले तक भारत में चमार जाति के लोगों को ऊपर बहुत याद ना आए तथा जुल्म किए गए आजादी के बाद इनके ऊपर ऊपर हो रहे जुल्मों या यातना यातनाओं को रोकने के लिए इनको भारत के संविधान में अनुसूचित जाति की श्रेणी में रखा गया तथा सभी तरह के जुल्म तथा यातनाओं को प्रतिबंधित कर दिया गया इसके बावजूद भी देश में कुछ जगह पर इन जातियों तथा अन्य अनुसूचित जातियों के साथ यातनाएं आज भी होती है
Romanized Version
चमार अथवा चर्मकार भारतीय उपमहाद्वीप में पाई जाने वाली जाति समूह है वर्तमान समय में यह जाति अनुसूचित जातियों की श्रेणी में आती है यह जाती अस्पृश्यता की कृपा का शिकार भी रही है इस जाति के लोग परंपरागत रूप से चमड़े के व्यवहार से जुड़े रहे हैं संपूर्ण भारत में चमार जाति अनुसूचित जातियों में अधिक संख्या में पाई जाने वाली जाती है चीन का मुख्य अवयव चमड़ी की वस्तु बनाने तथा व्यापार करना है आजादी के पहले तक इन जाति के लोगों को चमड़े का काम करने के लिए विवश किया गया तथा संविधान बनने से पूर्व तक इनको अछूतों की श्रेणी में रखा जाता था अंग्रेजों के आने से पहले तक भारत में चमार जाति के लोगों को ऊपर बहुत याद ना आए तथा जुल्म किए गए आजादी के बाद इनके ऊपर ऊपर हो रहे जुल्मों या यातना यातनाओं को रोकने के लिए इनको भारत के संविधान में अनुसूचित जाति की श्रेणी में रखा गया तथा सभी तरह के जुल्म तथा यातनाओं को प्रतिबंधित कर दिया गया इसके बावजूद भी देश में कुछ जगह पर इन जातियों तथा अन्य अनुसूचित जातियों के साथ यातनाएं आज भी होती हैChamaar Athwa Charmakar Bhartiya Upmahadweep Mein Payi Jaane Wali Jati Samuh Hai Vartaman Samay Mein Yeh Jati Anusuchit Jaatiyo Ki Shrenee Mein Aati Hai Yeh Jati Asprishyata Ki Kripa Ka Shikar Bhi Rahi Hai Is Jati Ke Log Paramparagat Roop Se Chamade Ke Vyavhar Se Jude Rahe Hain Sampurna Bharat Mein Chamaar Jati Anusuchit Jaatiyo Mein Adhik Sankhya Mein Payi Jaane Wali Jati Hai Chin Ka Mukhya Avyab Chamadi Ki Vastu Banane Tatha Vyapar Karna Hai Azadi Ke Pehle Tak In Jati Ke Logon Ko Chamade Ka Kaam Karne Ke Liye Vivash Kiya Gaya Tatha Samvidhan Banane Se Purv Tak Inko Achuton Ki Shrenee Mein Rakha Jata Tha Angrejo Ke Aane Se Pehle Tak Bharat Mein Chamaar Jati Ke Logon Ko Upar Bahut Yaad Na Aaye Tatha Zulm Kiye Gaye Azadi Ke Baad Inke Upar Upar Ho Rahe Julmon Ya Yatana Yatnaon Ko Rokne Ke Liye Inko Bharat Ke Samvidhan Mein Anusuchit Jati Ki Shrenee Mein Rakha Gaya Tatha Sabhi Tarah Ke Zulm Tatha Yatnaon Ko Pratibandhit Kar Diya Gaya Iske Bawajud Bhi Desh Mein Kuch Jagah Par In Jaatiyo Tatha Anya Anusuchit Jaatiyo Ke Saath Yatnaen Aaj Bhi Hoti Hai
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Chamaar Kaun Hai,Who Is The Moon?,Site:getvokal.com,


vokalandroid