कपास की खेती के लिए उत्तम मिट्टी कौन सी है ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कपास की खेती के लिए एक शील्ड लोन नाम की अध्यक्ष है वह भी यूज़ कर सकते हो...
जवाब पढ़िये
कपास की खेती के लिए एक शील्ड लोन नाम की अध्यक्ष है वह भी यूज़ कर सकते होKapaas Ki Kheti Ke Liye Ek Shield Loan Naam Ki Adhyaksh Hai Wah Bhi Use Kar Sakte Ho
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


कपास की खेती के लिए उत्तम मिट्टी कौन सी है के बारे में जानकारी यह है, मिट्टी के खनिजों के मोंटमोरोनोनिटिक और बीडेलिटिक समूह में मिट्टी आम तौर पर समृद्ध होती है। काली मिट्टी कपास की फसल के लिए सबसे उपयुक्त है इसलिए इसे काली कपास मिट्टी के रूप में भी जाना जाता है। कपास के अलावा, मिट्टी गेहूं, मूंगफली, मिर्च, तंबाकू और ज्वार जैसी फसलों की खेती के लिए उपयुक्त है।
Romanized Version
कपास की खेती के लिए उत्तम मिट्टी कौन सी है के बारे में जानकारी यह है, मिट्टी के खनिजों के मोंटमोरोनोनिटिक और बीडेलिटिक समूह में मिट्टी आम तौर पर समृद्ध होती है। काली मिट्टी कपास की फसल के लिए सबसे उपयुक्त है इसलिए इसे काली कपास मिट्टी के रूप में भी जाना जाता है। कपास के अलावा, मिट्टी गेहूं, मूंगफली, मिर्च, तंबाकू और ज्वार जैसी फसलों की खेती के लिए उपयुक्त है। Kapaas Ki Kheti Ke Liye Uttam Mitti Kaon Si Hai Ke Bare Mein Jankari Yeh Hai Mitti Ke Khanijon Ke Montamorononitik Aur Bidelitik Samuh Mein Mitti Aam Taur Par Samriddh Hoti Hai Kali Mitti Kapaas Ki Phasal Ke Liye Sabse Upayukt Hai Isliye Ise Kali Kapaas Mitti Ke Roop Mein Bhi Jana Jata Hai Kapaas Ke Alava Mitti Gehun Mungfaali Mirch Tambaku Aur Jowar Jaisi Fasalon Ki Kheti Ke Liye Upayukt Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
कपास की खेती के लिए एक शील्ड लोन नाम की अध्यक्ष है वह भी यूज़ कर सकते हो
Romanized Version
कपास की खेती के लिए एक शील्ड लोन नाम की अध्यक्ष है वह भी यूज़ कर सकते होKapaas Ki Kheti Ke Liye Ek Shield Loan Naam Ki Adhyaksh Hai Wah Bhi Use Kar Sakte Ho
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
कपास की खेती के लिए काली मिट्टी अच्छी होती है । आमतौर पर कपास को वर्षा आधारित फसल माना जाता है। यह उन क्षेत्रों में भी किया जाता है जहाँ सुनिश्चित सिंचाई नहीं होती है। काली मिट्टी पानी को बरक़रार रख सकती है जो वर्षा आधारित फसलों को उगाने के लिए बहुत उपयोगी गुण है। मिट्टी की बनावट कपास की वृद्धि के लिए सहायक है। इसलिए कपास उगाने के लिए काली मिट्टी अधिक उपयुक्त होती है।
Romanized Version
कपास की खेती के लिए काली मिट्टी अच्छी होती है । आमतौर पर कपास को वर्षा आधारित फसल माना जाता है। यह उन क्षेत्रों में भी किया जाता है जहाँ सुनिश्चित सिंचाई नहीं होती है। काली मिट्टी पानी को बरक़रार रख सकती है जो वर्षा आधारित फसलों को उगाने के लिए बहुत उपयोगी गुण है। मिट्टी की बनावट कपास की वृद्धि के लिए सहायक है। इसलिए कपास उगाने के लिए काली मिट्टी अधिक उपयुक्त होती है। Kapaas Ki Kheti Ke Liye Kali Mitti Acchi Hoti Hai Aamtaur Par Kapaas Ko Varsha Aadharit Phasal Mana Jata Hai Yeh Un Kshetro Mein Bhi Kiya Jata Hai Jahan Sunishchit Sinchai Nahi Hoti Hai Kali Mitti Pani Ko Barqarar Rakh Sakti Hai Jo Varsha Aadharit Fasalon Ko Ugaane Ke Liye Bahut Upayogee Gun Hai Mitti Ki Banawat Kapaas Ki Vriddhi Ke Liye Sahaayak Hai Isliye Kapaas Ugaane Ke Liye Kali Mitti Adhik Upayukt Hoti Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
कपास की खेती के लिए काली मिट्टी सर्वोत्तम होती है, भारत में दक्कन पठार में काली मिट्टी के कारण वहां कपास की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है। भारत में कपास की खेती मुख्य रूप से महाराष्ट्र, गुजरात और आंध्र प्रदेश में की जाती है। कपास एक महत्वपूर्ण नकदी फसल है। व्यावसायिक जगत में यह ‘श्वेत स्वर्ण’ के नाम से जानी जाती है। प्रदेश में कपास के अंतर्गत 5 लाख हे. क्षेत्रफल था जो घटकर 14 हजार हे. रह गया है। प्रदेश को लगभग 5 लाख रूई की गांठों की प्रतिवर्ष आवश्यकता है। प्रदेश में व्यापक स्तर पर कपास उत्पादन की आवश्यकता है।
Romanized Version
कपास की खेती के लिए काली मिट्टी सर्वोत्तम होती है, भारत में दक्कन पठार में काली मिट्टी के कारण वहां कपास की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है। भारत में कपास की खेती मुख्य रूप से महाराष्ट्र, गुजरात और आंध्र प्रदेश में की जाती है। कपास एक महत्वपूर्ण नकदी फसल है। व्यावसायिक जगत में यह ‘श्वेत स्वर्ण’ के नाम से जानी जाती है। प्रदेश में कपास के अंतर्गत 5 लाख हे. क्षेत्रफल था जो घटकर 14 हजार हे. रह गया है। प्रदेश को लगभग 5 लाख रूई की गांठों की प्रतिवर्ष आवश्यकता है। प्रदेश में व्यापक स्तर पर कपास उत्पादन की आवश्यकता है।Kapaas Ki Kheti Ke Liye Kali Mitti Sarvottam Hoti Hai Bharat Mein Dakkan Pathaar Mein Kali Mitti Ke Kaaran Wahan Kapaas Ki Kheti Bade Paimane Par Ki Jati Hai Bharat Mein Kapaas Ki Kheti Mukhya Roop Se Maharashtra Gujarat Aur Andhra Pradesh Mein Ki Jati Hai Kapaas Ek Mahatvapurna Nakadi Phasal Hai Vyavasayik Jagat Mein Yeh ‘shwet Swarn’ Ke Naam Se Jani Jati Hai Pradesh Mein Kapaas Ke Antargat 5 Lakh He Kshetrafal Tha Jo Ghatakar 14 Hazar He Rah Gaya Hai Pradesh Ko Lagbhag 5 Lakh Rooi Ki Ganthon Ki Prativarsh Avashyakta Hai Pradesh Mein Vyapak Sthar Par Kapaas Utpadan Ki Avashyakta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
कपास की खेती के लिए उत्तम मिट्टी बलुई, क्षारीय,कंकड़युक्त व जलभराव वाली भूमियां कपास के लिए अनुपयुक्त हैं। अन्य सभी भूमियों में कपास की सफलतापूर्वक खेती की जा सकती है। कपास एक महत्वपूर्ण नकदी फसल है। व्यावसायिक जगत में यह ‘श्वेत स्वर्ण’ के नाम से जानी जाती है। प्रदेश में कपास के अंतर्गत 5 लाख हे० क्षेत्रफल था जो घटकर 14 हजार हे० रह गया है। भूमि जलस्तर में कमी, कपास मूल्य में वृद्धि बेहतर फसल-सुरक्षा उत्पादन तकनीक, कपास-गेहूँ फसल चक्र हेतु अल्प अवधि की अधिक उपज देने वाली प्रजातियों का विकास, बिनौले को तेल व खली की व्यापक उपयोग, भारत सरकार द्वारा ‘काटन टेक्नालाजिकल मिशन’ की स्थापना आदि कपास की खेती हेतु अनुकूल परिस्थितियां है।
Romanized Version
कपास की खेती के लिए उत्तम मिट्टी बलुई, क्षारीय,कंकड़युक्त व जलभराव वाली भूमियां कपास के लिए अनुपयुक्त हैं। अन्य सभी भूमियों में कपास की सफलतापूर्वक खेती की जा सकती है। कपास एक महत्वपूर्ण नकदी फसल है। व्यावसायिक जगत में यह ‘श्वेत स्वर्ण’ के नाम से जानी जाती है। प्रदेश में कपास के अंतर्गत 5 लाख हे० क्षेत्रफल था जो घटकर 14 हजार हे० रह गया है। भूमि जलस्तर में कमी, कपास मूल्य में वृद्धि बेहतर फसल-सुरक्षा उत्पादन तकनीक, कपास-गेहूँ फसल चक्र हेतु अल्प अवधि की अधिक उपज देने वाली प्रजातियों का विकास, बिनौले को तेल व खली की व्यापक उपयोग, भारत सरकार द्वारा ‘काटन टेक्नालाजिकल मिशन’ की स्थापना आदि कपास की खेती हेतु अनुकूल परिस्थितियां है। Kapaas Ki Kheti Ke Liye Uttam Mitti Bluei Kshariye Kankadayukt V Jalabhrao Wali Bhumiyan Kapaas Ke Liye Anupayukt Hain Anya Sabhi Bhumiyon Mein Kapaas Ki Safaltaapurvak Kheti Ki Ja Sakti Hai Kapaas Ek Mahatvapurna Nakadi Phasal Hai Vyavasayik Jagat Mein Yeh ‘shwet Swarn’ Ke Naam Se Jani Jati Hai Pradesh Mein Kapaas Ke Antargat 5 Lakh He0 Kshetrafal Tha Jo Ghatakar 14 Hazar He0 Rah Gaya Hai Bhoomi Jalstar Mein Kami Kapaas Mulya Mein Vriddhi Behtar Phasal Suraksha Utpadan Takneek Kapaas Gehun Phasal Chakra Hetu Alp Avadhi Ki Adhik Upaj Dene Wali Prajatiyo Ka Vikash Binaule Ko Tel V Khali Ki Vyapak Upyog Bharat Sarkar Dwara ‘katan Teknalajikal Mishan’ Ki Sthapana Aadi Kapaas Ki Kheti Hetu Anukul Paristhiyaan Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kapaas Ki Kheti Ke Liye Uttam Mitti Kaun Si Hai ?, What Is The Best Soil For Cotton Cultivation? , Kapas Ki Kheti Ke Liye Upyukt Mitti, Kapas Ki Kheti Ke Liye Mitti, कपास की खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी, Dhan Ki Kheti Ke Liye Uttam Mitti Konsi Hai, Kapas Ki Kheti Ke Liye Kaun Si Mitti Upyukt Hai, Kapas Ki Kheti, कौन सी मृदा कपास की खेती के लिए उपयुक्त होती है, Kapas Ke Liye Upyukt Mitti, Kapas Ki Kheti Kaun Si Mitti Mein Hoti Hai, Kapas Ki Kheti In Gujarati

vokalandroid