२०१७ में देमोनेतिज़तीयोन या नोटबंदी का प्राथमिक आदर्श क्या था?

Share this question
WhatsApp_icon

1 Answers


मोदी ने अपने पहले कैबिनेट के फैसले में काले धन के उपयोग और परिसंचरण की जांच के लिए एक टीम को नियुक्त किया था। ९ नवंबर २०१६ को- सरकार ने ५०० और १००० रुपये बैंकनोट्स के बंध हो जाने कि घोषणा की। नोटेबंदी के पीछे आदर्श ये था कि देश भर में आतंकवादी गतिविधियों को वित्त-पोषित नकली धन और काले धन के उपयोग और परिसंचरण को रोक दिया जाए। सभी ५०० और १००० रुपये के बैंक नोट्स को इन्वैलिड घोषित करके- सरकार ने आर्थिक प्रणाली के बाहर रक्खे गए काले धन को नष्ट कर दिया। इस प्रक्रिया ने सभी बैंकनोटों को अमान्य घोषित करके कर चोरी से निपटने में भी मदद की। महात्मा गांधी सीरीज़ के 500 और 1000 रुपये के बैंकनोट्स को बंध करने की योजना को अंतिम घोषणा के 6 महीने पहले शुरू की गई थी और इसे इतना गोपनीय रखा गया था कि केवल 10 लोगों को इसके बारे में पता था।

992 listens . 42 upvotesShare this answer
WhatsApp_icon